ज्यादा थायराइड बनना (हाइपरथायरायडिज्म): लक्षण, कारण और उपचार – Jyada Thyroid Banana (Hyperthyroidism): Lakshan, Karan Aur Upchar

हाइपरथायरायडिज्म

ज्यादा थायराइड बनना (हाइपरथायरायडिज्म) क्या है? Jyada Thyroid Banana (Hyperthyroidism) Kya Hai?

हाइपरथायरायडिज्म क्या है

ज्यादा थायराइड बनना या हाइपरथायरायडिज्म एक ऐसी स्थिति है, जिसमें थायराइड ग्रंथि बहुत कम मात्रा में थायरोक्सिन हार्मोन का उत्पादन करती है। इसके कारण वजन घटने, तेज नब्ज और तेज दिल की धड़कन जैसे कई लक्षण पैदा हो सकते हैं। डॉक्टरों की मानें, तो दवाओं की मदद से इस स्थिति का इलाज संभव है। इससे आपको थायराइड का असंतुलित स्तर नियंत्रित करने में भी मदद मिल सकती है। हालांकि, सबसे पहले आपके लिए हाइपरथायरायडिज्म और इसके लक्षणों के बारे में जानना ज़रूरी है। साथ ही आपको हाइपरथायरायडिज्म के कारणों और इसके लिए उपलब्ध उपचारों की भी पर्याप्त जानकारी होनी चाहिए। लेख के माध्यम से आप इन्हीं बातों के बारे में जानेंगे, जिससे आपको हाइपरथायरायडिज्म और इससे संबंधित जटिलताओं से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है।

हाइपरथायरायडिज्म के लक्षण 

हाइपरथायरायडिज्म का निदान

हाइपरथायरायडिज्म के लक्षणों में शामिल हैं:

  • बढ़ी हुई दिल की गति (टैचीकार्डिया)- कई बार लोग अपनी बढ़ी हुई दिल की धड़कन के बारे में बताते हैं। यह स्थिति आमतौर पर हाइपरवेंटीलेटिंग कर रहे लोगों के साथ देखने को मिलती है। जब उनकी सांसें बहुत तेज हो जाती हैं, तो उन्हें अपना दिल नियंत्रण से बाहर महसूस होने लगता है। इसका मतलब है कि एक व्यक्ति बहुत बेचैन और उत्साहित है।
  • धड़कन- इसमें कई बार आपका दिल अनियमित रूप से धड़कता है।
  • चिंता- डॉक्टरों के मुताबिक, किसी व्यक्ति को हाइपरथायरायडिज्म की समस्या अक्सर चिंता की वजह से होती है। जब लोग चिंतित महसूस करते हैं, तो इस दौरान उनकी हथेलियां पसीने से तर हो सकती हैं। वह कांपने लगते हैं और उनके चेहरे पर पीलापन आ जाता है। इसके साथ ही उनका दिल तेजी से धड़कने लगता है और उन्हें डर के साथ असहज होने का अहसास होता है।
  • वजन कम होना- इस समस्या वाले व्यक्ति का वजन सामान्य रूप से खाने के बावजूद कम होने लगता है।
  • अनिद्रा- अगर कोई व्यक्ति हाइपरथायरायडिज्म से पीड़ित है, तो उसे अनिद्रा यानी नींद नहीं आने की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
  • मांसपेशियों की कमजोरी और थकान- हाइपरथायरायडिज्म वाले ज़्यादातर लोगों को मांसपेशियों की कमजोरी और थकान की समस्या होती है।

अन्य लक्षण

  • मल त्याग में बढ़ोतरी- इस मामले में व्यक्ति के शरीर में जारी प्रक्रियाओं के कारण वह ज्यादा बार बाथरूम जाते हैं और अपनी सारी अतिरिक्त ऊर्जा से छुटकारा पाने की कोशिश करते हैं। ऐसा खासतौर से तब होता है, जब वह किसी के जीवन में कोई ज़रूरी बदलाव करते हैं।
  • हड्डी का पतला होना- इसमें लोगों की हड्डियां बहुत नाजुक हो जाती हैं। साथ ही उन्हें ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या का सामना भी करना पड़ सकता है।
  • बालों का झड़ना- हाइपरथायरायडिज्म के कारण शरीर में कुछ बदलाव होने लगते हैं, जिससे आपको बालोंं के झड़ने की समस्या होती है।
  • आंख का उभार- अगर किसी की आंखें बहुत बड़ी हैं, तो इसे हर समय खुला रहने के रूप में बताया जा सकता है।
  • दिल से जुड़ी समस्याएं- आपका दिल उम्मीद से ज्यादा तेज धड़कना शुरू कर देता है। व्यक्ति को दिल की धड़कन बढ़ने के साथ ही सीने में दर्द का भी अनुभव हो सकता है।
  • पाचन से संबंधित समस्याएं- इसमें व्यक्ति को दस्त या पेट से संबंधित अन्य समस्याएं होती हैं।
  • उच्च रक्तचाप या हाइपरटेंशन- मरीज को उच्च रक्तचाप या हाइपरटेंशन का अनुभव हो सकता है। यह किसी के दिल, गुर्दे और मस्तिष्क को अन्य चीजों के अलावा नुकसान पहुंचा सकता है।

हाइपरथायरायडिज्म के कारण

हाइपरथायरायडिज्म कई बीमारियों और स्थितियों के कारण हो सकता है। इनमें ग्रेव्स की बीमारी और हाशिमोटो का थायरायडिटिस जैसी समस्याएं शामिल हैं।

यह सभी हाइपरथायरायडिज्म के सामान्य लक्षण हो सकते हैं।
Causes Of Hyperthyroidism

  • थकान का अनुभव
  • चिड़चिड़ापन महसूस होना
  • भूख बढ़ने के बावजूद वजन का कम होना

इस स्थिति से पीड़ित महिलाओं को में बालों के झड़ने की समस्या हो सकती है। इसके अलावा उनके मासिक धर्म चक्र में बदलाव के साथ ही कंपकंपी या पसीना आने जैसे अन्य शारीरिक प्रभाव होना आम है।

थायरॉयड ग्रंथि का अनियमित बढ़ना (घेंघा)

goiter

हाइपरथायरायडिज्म भी घेंघा का एक परिणाम हो सकता है। इसमें आपकी थायराइड ग्रंथि बढ़ने के साथ ही कठोर हो जाती है, जो आमतौर पर दर्द रहित होती है और स्पर्श करने पर गर्म लग सकती है। हालांकि, अगर आपके पास इसके कोई लक्षण मौजूद हैं, तो आपको बिना देर किए अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। इन लक्षणों में निगलने या सांस लेने में परेशानी, आवाज में खराश या गला बैठना, खांसी और ठंड के लक्षण शामिल हैं, जो आसानी से दूर नहीं होते हैं।

ग्रेव्स ऑप्थाल्मोपैथी

Graves' Ophthalmopathy

जिन लोगों को हाइपरथायरायडिज्म की बीमारी है, वह इसके कारण ग्रेव्स ऑप्थाल्मोपैथी का अनुभव कर सकते हैं। आमतौर पर यह तब होता है, जब आपकी आंखों के आसपास की मांसपेशियों में सूजन आने से आंखें तनावग्रस्त हो जाती हैं। ऐसे में आपकी आंखें उनकी सॉकेट से बाहर निकल सकती हैं। इसके साथ ही आपकी आंखें लाल होने के साथ-साथ बहुत चिड़चिड़ी भी हो सकती हैं। डॉक्टरों के मुताबिक, व्यक्ति को हाइपरथायरायडिज्म की समस्या दो तरह से होती है, जैसे- अगर किसी की थायराइड ग्रंथि थायरोक्सिन नाम के हार्मोन का बहुत ज्यादा करती है या बहुत कम उत्पादन कर रही है, तो उन्हें यह समस्या हो सकती है। अगर आप किसी भी मामले में तुरंत इस बीमारी का इलाज नहीं करते हैं, तो हाइपरथायरायडिज्म आपके लिए कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है।

हाइपरथायरायडिज्म के प्रभाव

हाइपरथायरायडिज्म से पीड़ित लोग भी तेज दिल की गति को महसूस कर सकते हैं। यह अक्सर तब होता है, जब किसी की नाड़ी सामान्य से ज्यादा तेजी से धड़कती है। ऐसे में उनके दिल की धड़कन अनियमित हो सकती है, जिससे उनके दिल की धड़कन सामान्य गति की तुलना में तेज़ हो जाती है। संभावना है कि यह एक या दो बीट भी छोड़ सकती है।

गर्मी के प्रति असहिष्णुता

हाइपरथायरायडिज्म सिर्फ आपके शरीर को ही प्रभावित नहीं करता है, बल्कि यह आपके शरीर में गर्मी के प्रति असहिष्णुता भी पैदा कर सकता है। खासतौर से यह तब होता है, जब आप बेहद गर्म महसूस करते हैं। यह स्थिति कई लोगों के लिए इस विकार को बहुत असहज कर सकती है, जिन्हें हर दिन इन लक्षणों का सामना करना पड़ता है।

तेज दिल की धडकन

इसके अलावा दिल की धड़कन तेज़ होने से भी आपको गंभीर समस्याएं होती है। इसका मतलब यह है कि आपको अपना दिल तेजी से धड़कने का अहसास हो सकता है। यह उन लोगों के लिए स्वाभाविक रूप से बहुत चिंता का कारण हो सकता है, जो दिन-प्रतिदिन इन लक्षणों को महसूस कर रहे हैं।

हल्की कंपकंपी

इस विकार के साथ और भी कई चीजें होती हैं, जो इसके साथ-साथ चलती हैं, जैसे कि हल्की कंपकंपी का अहसास। यह उनके हाथों में एक बहुत ही ध्यान देने वाली कंपन है। कई बार यह अस्थिरता हाइपरथायरायडिज्म के प्रभाव से पीड़ित लोगों के लिए पीने या खाने जैसे सरल कार्यों को कठिन बना सकती है।

उभरी हुई आंख

हाइपरथायरायडिज्म की समस्या से प्रभावित कई ऐसे मरीज भी होते हैं, जो उभरी हुई आंखों या एक्सोफथाल्मोस से पीड़ित होते हैं। ऐसा अक्सर तब होता है, जब आपकी आंखों की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं। यह उन्हें इस तरह से बाहर की तरफ उभारने का कारण बनता है, जो इस स्थिति से पीड़ित लोगों के लिए काफी ध्यान देने वाला लक्षण हो सकता है। यह खासतौर से तब होता है, जब उन्होंने अपने जीवन में पहले कभी इसका अनुभव नहीं किया है।

इस समस्या वाले ऐसे कई अन्य व्यक्ति हैं, जिन्हें इस बात का सटीक अंदाजा नहीं है कि यह स्थिति अनुभव होने का प्रमुख कारण क्या हो सकते हैं। ऐसे में यह पता लगाना उनके लिए वास्तव में कठिन बात हो सकती है। खासकर तब, जब आप यह सोचते हैं कि आपका जीवन कैसा था। इन दवाओं का सेवन करने या किसी अन्य प्रकार के उपचार का अनुभव करने से पहले और बाद में डॉक्टर से परामर्श लेना ज़रूर सुनिश्चित करें।

हाइपरथायरायडिज्म का निदान

हाइपरथायरायडिज्म का निदान

डॉक्टरों द्वारा हाइपरथायरायडिज्म का निदान आमतौर पर टीएसएच यानी थायराइड-उत्तेजक हार्मोन के स्तर को मापकर किया जाता है। यह आपकी पिट्यूटरी ग्रंथि में उत्पन्न होता है और आपके थायराइड को ज्यादा हार्मोन का उत्पादन करने के लिए उत्तेजित करता है।  अक्सर यह देखा गया है कि हाइपरथायरायडिज्म सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है। इनमें वह बच्चे भी शामिल हैं, जो ज्यादा सक्रिय थायराइड की समस्या से पीड़ित माताओं से पैदा हुए हैं।

हालांकि, मौजूदा समय में बहुत से लोग उन मामलों के बारे में नहीं जानते हैं, जिसमें इसके लक्षण वयस्कता तक दिखाई नहीं देते हैं। यही कारण है कि इसे साइलेंट थायरायडिटिस के नाम से भी जाना जाता है। इसका मतलब यह है कि इससे पीड़ित मरीज को हाइपरथायरायडिज्म की बीमारी के कोई स्पष्ट लक्षण नहीं दिखाई देते हैं, लेकिन इसके बावजूद उनमें जटिलताओं का विकास होता है। डॉक्टरों द्वारा ज्यादा थायराइड बनने यानी हाइपरथायरायडिज्म का इलाज दवाओं के साथ या थायराइड ग्रंथि को हटाकर किया जा सकता है। आमतौर पर भविष्य की किसी भी जटिलता को रोकने के लिए यह हमेशा बेहद ज़रूरी होता है। इसके अलावा लक्षणोंके नज़र आते ही हाइपरथायरायडिज्म की बीमारी का इलाज करना हमेशा आपके लिए बेहतर होता है।

हाइपरथायरायडिज्म का उपचार

thyroid medication

हाइपरथायरायडिज्म की बीमारी एक चिकित्सा स्थिति है, जो आपके शरीर में बहुत ज्यादा थायराइड हार्मोन होने की वजह से होती है। हाइपरथायरायडिज्म के सामान्य लक्षणों में बेचैनी, दिल की गति में बढ़ोतरी, भूख बढ़ने के बावजूद वजन कम का होना और मांसपेशियों में कमजोरी आदि शामिल है। इस बीमारी के मुख्य कारणों में ग्रेव्स की बीमारी या एक प्रतिरक्षा प्रणाली विकार शामिल है, जिसकी वजह से किसी व्यक्ति के शरीर में थायराइड हार्मोन (हाइपरथायरायडिज्म) का ज़रूरत से ज्यादा उत्पादन होता है। हाइपरथायरायडिज्म के अन्य संभावित कारणों में थायरायडिटिस यानी आपके थायराइड ग्रंथि की सूजन शामिल है। इसके साथ ही टॉक्सिक एडेनोमा, जो थायराइड में कोशिकाओं की एक सौम्य बढ़ोतरी है। अक्सर देखा जाता है कि यह किसी व्यक्ति के शरीर में बहुत ज्यादा थायरोक्सिन यानी टी-चार या टी-तीन का उत्पादन करती है। साथ ही सबस्यूट (डी कर्वेन) थायरॉयडिटिस भी इसका संभावित कारणों में शामिल हो सकते हैं।

उपचार में बदलाव

बीमारी का उपचार करने के लिए अलग-अलग विकल्प मौजूद हैं। हालांकि, अगर हाइपरथायरायडिज्म परजीवी या बैक्टीरिया से इंफेक्शन जैसी किसी अन्य बीमारी के साथ होता है, तो इलाज उस अन्य स्थिति के साथ किया जाएगा।

  • अगर ग्रेव्स की बीमारी और टॉक्सिक एडिनोमा के कुछ मामलों का इलाज किया जाए और दवा ठीक से काम नहीं करे, तो आपकी थायराइड ग्रंथि के सभी या कुछ हिस्सों को हटाने के लिए सर्जरी करनी पड़ सकती है। थायराइड ग्रंथि ज्यादा सक्रिय होने से आपको हाइपरथायरायडिज्म होता है और थायरोक्सिन हार्मोन बहुत ज्यादा (टी-चार या टी-तीन) और ट्राईआयोडोथायरोनिन (टी-तीन) छोड़ती है।
  • हाइपरथायरायडिज्म के प्रकार के आधार पर लक्षण अलग-अलग होते हैं। इनमें दिल की धड़कन बढ़ना, अनिद्रा, महिलाओं में मासिक धर्म का बदलना, भूख और खाने के बावजूद वजन घटना, बार-बार मल त्याग या दस्त शामिल हैं।
  • ग्रेव्स की बीमारी से हाइपरथायरायडिज्म होने वाले लोगों की थायराइड ग्रंथि अल्ट्रासाउंड परीक्षा के दौरान बढ़ सकती है।
  • थायरोटॉक्सिकोसिस के कुछ मामलों में डॉक्टर अन्य स्थितियों के परीक्षण से भी इसका कारण नहीं जान पाते हैं। ऐसे में वह थायराइड स्कैन से ग्रंथि का आकार और इसके काम देखते हैं।
  • उपचार में थायराइड फंक्शन को रोकने वाली दवाएं शामिल हैं। यह एंटी-थायराइड दवाएं या थायराइड हार्मोन (रेडियोधर्मी आयोडीन थेरेपी) का उत्पादन कम करती हैं।
  • बुजुर्ग महिलाओं में ज्यादा आम इस स्थिति से तेज दिल की धड़कन, चिंता, वजन घटने और उभरी हुई आंखों की समस्या होती है।
  • डॉक्टर दवा या सर्जरी से हाइपरथायरायडिज्म के प्रकार का इलाज करते हैं।
  • कुछ मामलों में हाइपरथायरायडिज्म जन्म से होता है, जिसमें  बच्चे ज्यादा सक्रिय थायराइड ग्रंथि के साथ पैदा होते हैं।
  • शुरुआती जीवन में थायराइड हार्मोन ज़रूरी है। यह विकास और मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करने वाले मस्तिष्क को ठीक से विकसित करता है।
  • कुछ मामलों में डॉक्टर प्रोपीलिथियोरासिल (पीटीयू) दवा की सलाह देते हैं।

जीवनशैली संबंधी उपचार से हाइपरथायरायडिज्म में सुधार

हाइपरथायरायडिज्म का निदान होने पर बेहतर तरीके से जीने के तरीके हैं, जैसे:

Lifestyle Remedies To Cure Hyperthyroidism

  • स्वस्थ खाना खाएं।
  • तनाव को प्रबंधित करें।
  • पर्याप्त नींद लें।
  • नियमित रूप से व्यायाम करें।

हाइपरथायरायडिज्म के लिए यह कुछ जीवनशैली से संबंधित उपचार हैं। इसके इस्तेमाल से आपको इस स्थिति का इलाज करने में काफी मदद मिल सकती है।

निष्कर्ष

ज्यादा थायराइड बनना या हाइपरथायरायडिज्म एक ऐसी स्थिति है, जो किसी व्यक्ति में कई अलग-अलग कारकों की वजह से हो सकती है। इसके लक्षणों में तेज दिल की धड़कन, बुखार, सांस की तकलीफ और वजन घटना शामिल हैं। आमतौर पर हाइपरथायरायडिज्म का उपचार इसके कारणों पर निर्भर करता है। हाइपरथायरायडिज्म से आपको घेंघा यानी गर्दन में सूजन और उभरी हुई आंखें और दोहरी दृष्टि जैसी आंखों की समस्याएं भी हो सकती हैं। ग्रेव्स की बीमारी, थायरायडिटिस के दौरान होने वाली सूजन, थायराइड ग्रंथि के कैंसरयुक्त ट्यूमर, बहुत ज्यादा थायरोक्सिन दवा का सेवन करना या मस्तिष्क में सूजन के साथ सिर की चोट से पीड़ित होने जैसे कई कारक हाइपरथायरायडिज्म के कारणों में शामिल हैं।

आमतौर पर  हाइपरथायरायडिज्म के इलाज में एमियोडेरोन, लिथियम कार्बोनेट और एंटी-एरिदमिक दवा प्रोपेफेनोन जैसी कुछ दवाओं का इस्तेमाल किया जाता है। अगर आप हाइपरथायरायडिज्म से पीड़ित हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। ज्यादा थायराइड बनने यानी हाइपरथायरायडिज्म की समस्या किसी भी उम्र के पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित कर सकती है। आमतौर पर 20 के दशक के आखिर और 50 के दशक की शुरुआत के बीच वाले लोगों को यह ज्यादा प्रभावित करता है। हालांकि, पुरुषों की तुलना में महिलाओं में हाइपरथायरायडिज्म होने की संभावना नौ गुना ज्यादा होती है।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपरटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Try MantraCare Wellness Program free