कम थायराइड बनना (हाइपोथायरायडिज्म): लक्षण, कारण और उपचार – Kam Thyroid Banana (Hypothyroidism): Lakshan, Karan Aur Upchar

कम थायराइड बनना (हाइपोथायरायडिज्म) क्या है? Kam Thyroid Banana (Hypothyroidism) Kya Hai?

hypothyroidismआमतौर पर कम थायराइड बनना एक ऐसी स्थिति है, जहां थायराइड ग्रंथि पर्याप्त थायरोक्सिन हार्मोन का उत्पादन नहीं करती है। चिकित्सीय भाषा में इस स्थिति को हाइपोथायरायडिज्म के नाम से जाना जाता है। जब भी थायराइड की बात आती है, तो हम कम (हाइपो) और ज्यादा (हाइपर) थायराइड बनने सहित दोनों के संबंध में बात करते हैं। हाइपो का मतलब कम है और हाइपर मतलब है ज्यादा। अगर आपका थायराइड ठीक से काम कर रहा है, तो यह दोनों के बीच एक आदर्श संतुलन में होता है। हालांकि, आपके पास कोई स्पष्ट लक्षण नहीं होना चाहिए, क्योंकि अगर आपके पास हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण हैं, तो आपके एंडोक्राइन सिस्टम में कुछ गड़बड़ हो सकती है। ऐसे में आपको डॉक्टर से परामर्श करने की ज़रूरत हो सकती है, क्योंकि किसी भी बीमारी पर चिकित्सकीय ध्यान देने से उसे बढ़ने से रोका जा सकता है।

हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण

हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण

आपके पास मौजूद कम थायराइड बनने के कई लक्षण आपके शारीर में अलग-अलग समस्याएं पैदा कर सकते हैं, जैसेः

शारीरिक समस्याएं

कम थायराइड बनना यानी हाइपोथायरायडिज्म के सबसे आम लक्षणों में थकान का अनुभव, वजन के बढ़ने या वजन कम होने जैसी समस्याएं शामिल है। फिर भले ही आपने अपने आहार और व्यायाम की दिनचर्या में किसी तरह का बदलाव नहीं किया हो। महिलाओं में बालों का झड़ना खासतौर से खोपड़ी के बालों का पतला होना और पूरे शरीर में महीन बालों में बढ़ोतरी के कारण पीला दिखना शामिल हैं।

ठंड के प्रति असहिष्णुता

हाइपोथायरायडिज्म का एक अन्य सामान्य लक्षण ठंड के प्रति असहिष्णुता है। इस स्थिति वाले लोग अन्य लोगों की तुलना में गर्म मौसम के प्रति असहज होते हैं। कई बार ठंडे हाथ और पैर इस बात का संकेत हो सकते हैं कि उनके पास थायराइड फंक्शन कम है। खासकर ऐसा तब होता है, अगर उनमें कोई अन्य लक्षण मौजूद नहीं हैं। हाइपोथायरायड के मरीजों को अक्सर उनकी आवृत्ति के आधार पर उनकी अपेक्षा से कहीं ज़्यादा गर्मी महसूस होती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि जब उनका थायराइड फंक्शन कम होता है, तो शरीर का तापमान नियमन सिस्टम ठीक से काम नहीं करता है।

बालों का झड़ना

बालों का झड़ना पैच में हो सकता है और अक्सर खोपड़ी के दोनों किनारों पर होता है। ऐसे लोगों के बाल समय के साथ अपने आप पतले हो जाते हैं और यह तब तक होता है, जब तक कि यह पूरी तरह से गायब नहीं हो जाते।

खुजली और पपड़ी वाली त्वचा

खुजली और पपड़ी वाली त्वचा कम थायराइड फंक्शन का एक अन्य आम संकेत है। आमतौर पर सूखे या खुजलीदार चकत्ते की मौजूदगी भी इस बात का संकेत हो सकती है कि आपको हाइपोथायरायडिज्म की समस्या है। वह अक्सर आपके घुटनों और कोहनी के पीछे के क्रीज के साथ-साथ आपके शरीर के अन्य हिस्सों जैसे आपके कान या कमर के आसपास होते हैं।

खराब मेटाबॉलिज्म

थायराइड फंक्शन आपके मेटाबॉलिज्म का मुख्य रेगुलेटर है। मेटाबोलिक प्रक्रियाओं में धीरे-धीरे धीमा होने से वजन बढ़ने में योगदान हो सकता है। इसका मतलब है कि थायराइड की समस्या वाले किसी भी व्यक्ति के लिए अपने आहार की निगरानी करना बहुत ज़रूरी है। साथ ही उन्हें एक स्वस्थ जीवन शैली भी सुनिश्चित करनी चाहिए। अगर आपको लगता है कि आप हाइपोथायरायडिज्म या एक कम सक्रिय थायराइड से पीड़ित हो सकते हैं, तो ऐसे में सबसे पहला कदम उचित निदान के लिए अपने डॉक्टर से मिलना है।

हाइपोथायरायडिज्म का कारण

हाइपोथायरायडिज्म का कारण

हाइपोथायरायडिज्म थायराइड के बहुत कम हार्मोन उत्पादन की वजह से होता है। इसके सटीक कारण अलग हो सकते हैं, लेकिन कई सामान्य कारक इस स्थिति में योगदान करते हैं। ऐसे ही कुछ उदाहरणों में शामिल हैं:

  • आनुवंशिकी
  • हाशिमोटो जैसी ऑटोइम्यून बीमारी
  • रेडिएशन एक्सपोजर
  • गर्दन के हिस्से में सर्जरी
  • लिथियम कार्बोनेट जैसी कुछ दवाएं
  • भोजन में आयोडीन की कमी

हाइपोथायरायडिज्म का निदान

हाइपोथायरायडिज्म का निदान

डॉक्टर थायराइड-उत्तेजक हार्मोन यानी टीएसएच के स्तर को मापने के लिए रक्त परीक्षण के ज़रिए हाइपरथायरायडिज्म का निदान करते हैं।

टीएसएच, टी3 और टी4

Diagnosis Of Hypothyroidismडॉक्टर एक टीएसएच परीक्षण की मदद से थायरोट्रोपिन के स्तर को मापते हैं। यह आपकी पिट्यूटरी ग्रंथि से थायराइड हार्मोन के उत्पादन और रिलीज को ट्रिगर करता है। हाइपोथायरायडिज्म का निदान होने के बाद आमतौर पर मरीजों के लिए हार्मोन थायरोक्सिन यानी टी-चार और ट्राईआयोडोथायरोनिन यानी टी-तीन के सिंथेटिक संस्करण निर्धारित किए जाते हैं। हालांकि, यह ध्यान रखना ज़रूरी है कि डॉक्टर थायराइड ग्रंथि की बायोप्सी के ज़रिए हाइपोथायरायडिज्म का निदान कर सकते हैं। इससे गांठ और बढ़ोतरी जैसे बदलावों की जांच की जाती है। घेंघा यानी बढ़ी हुई थायराइड ग्रंथि, थायराइड के अंदर गांठ या गुठली और हाशिमोटो की बीमारी जैसी ऑटोइम्यून बीमारियां इसके सामान्य लक्षणों में शामिल हैं, जो हाइपोथायरायडिज्म के निदान का एक सामान्य कारण हो सकती हैं।

हाइपोथायरायडिज्म का उपचार

इस समस्या का उपचार थायराइड हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का इस्तेमाल करके किया जाता है। आमतौर पर मरीज़ टी-चार या टी-तीन के सिंथेटिक संस्करणों वाली एक दैनिक गोली लेते हैं। इसके अलावा उन्हें हर कुछ हफ्तों में इन हार्मोनों के साथ एक इंजेक्शन निर्धारित किया जाता है। कई महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान थायराइड की समसया का निदान होता है। ऐसे में डॉक्टर बच्चे को जन्म दोष विकसित करने से बचाने के लिए थायरोक्सिन की ज्यादा खुराक लिख सकते हैं। कुछ मरीज़ लंबे समय तक हार्मोन में होने वाले बदलाव को लेकर परेशान हो सकते हैं। इसके लिए उन्हें  अपने डॉक्टर से हाइपोथायरायडिज्म के प्राकृतिक उपचार के बारे में पूछना चाहिए।

हाइपोथायरायडिज्म को नियंत्रित करने के उपाय

आमतौर पर हाइपोथायरायडिज्म की समस्या को नियंत्रित करने के उपायों का उद्देश्य निदान या उपचार को बदलना नहीं है। हालांकि, जब तक चिकित्सा की मांग नहीं की जाती है, तब तक यह अस्थायी राहत ज़रूर प्रदान कर सकते हैं। हाइपोथायरायडिज्म के लिए एक प्राकृतिक उपचार आयोडीन और केल्प की खुराक का इस्तेमाल करना है। हालांकि, मरीजों को इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि यह हाइपो या हाइपरथायरायडिज्म के साथ ही एक ज्यादा सक्रिय थायराइड ग्रंथि के इलाज में डॉक्टर द्वारा निर्धारित एंटी-थायराइड दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकते हैं।

थायराइड फंक्शन पर मरीज के आहार का भी बड़ा प्रभाव पड़ता है। इसलिए यह सुनिश्चित करना ज़रूरी है कि वह आयरन और जिंक जैसे पर्याप्त पोषक तत्वों का सेवन कर रहे हैं। इनमें से कुछ में सिंथेटिक हार्मोन को गोलियों, नेज़ल स्प्रे या इंजेक्शन में मौखिक रूप से लेना शामिल है। हाइपोथायरायडिज्म के इलाज का सबसे ज़रूरी हिस्सा इससे जुड़े लक्षणों को समझना है। साथ ही आपके लिए यह जानना भी बहुत ज़रूरी है कि इस स्थिति को ठीक से प्रबंधित करने के लिए कौन से उपचार उपलब्ध हैं।

सावधानियां

हाइपोथायरायडिज्म के मामले में आपको कुछ एहतियाती उपाय करने चाहिए। इसमें शामिल हैंः

  • अपने थायराइड स्तर की निगरानी के लिए आपको नियमित जांच करवाना बहुत ज़रूरी है।
  • साथ ही आपको दवा की खुराक डॉक्टर के बताए समय के अनुसार एडजस्ट करनी चाहिए।

इसके अलावा एक अन्य संकेत हाइपोथायरायडिज्म से मिलता-जुलता है और हाइपरथायरायडिज्म के निदान का कारण बन सकता है। इनमें भूख लगना, थकान का अनुभव और चिंता या तनाव में बढ़ोतरी के बावजूद अचानक वजन कम होना शामिल है। इसके अलावा किसी की आंखें उभरी हुई, दिल की गति बढ़ना, दस्त और अस्वस्थ होने की सामान्य भावना भी हो सकती है। अगर डॉक्टर आपके हाइपरथायरायडिज्म की समस्या का निदान करते हैं या आपको थायराइड की बीमारी के अलावा कोई अन्य समस्या होने का संदेह है, तो निदान और उपचार के लिए तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श करना सुनिश्चित करें।

किसी व्यक्ति के शरीर में आयोडीन की कमी स्थिति का सबसे आम कारण मानी जाती है। इसके कारण आपकी थायराइड ग्रंथि में कुछ एंजाइमों का उत्पादन बाधित होता है। यह एंजाइम आपके शरीर में होने वाले अलग-अलग काम को रेगुलेट करने में ज़रूरी भूमिका निभाते हैं। हाइपोथायरायडिज्म निदान के मामले में बरती जाने वाली सावधानियों में आपकी जीवनशैली और आहार में कुछ बदलाव करना शामिल है। उदाहरण के लिए, आयोडीन वाला नमक या समुद्री शैवाल जैसे आयोडीन वाले खाद्य पदार्थ खाने के बजाय, आपको केल्प जैसे ज्यादा प्राकृतिक स्रोतों का विकल्प चुनना चाहिए। यह एक प्रकार का खाद्य समुद्री शैवाल है, जिसमें आयोडीन की उच्च मात्रा भी मौजूद होती है।

उपचार के लिए जीवनशैली में बदलाव

अगर डॉक्टरों द्वारा आपके हाइपोथायरायडिज्म का निदान किया गया है, तो कई ज़रूरी सावधानियां बरतना बहुत ज़रूरी है।इससे आप लक्षणों को ज्यादा बढ़ने से रोक सकते हैं। ऐसे कुछ तरीके हैं, जिनसे थायराइड की दवाएं अन्य दवाओं और सप्लीमेंट्स के साथ खराब तरीके से इंटरैक्ट करती हैं। इसलिए, डॉक्टर के दवा में कोई बदलाव करने या नया तरीका बताने से पहले किसी भी दवा या सप्लीमेंट्स के बारे में बताना सुनिश्चित करें, जिनका आपके द्वारा सेवन किया जा रहा है। अगर आपके पारिवार में किसी भी प्रकार की थायराइड की बीमारी का इतिहास है, तो आपको खासतौर से सावधान रहने की ज़रूरत है। यह निदान को कठिन बना सकता है, जिससे समय के साथ लक्षण भी खराब हो सकते हैं।

धूम्रपान से परहेज

धूम्रपान से परहेज अक्सर डॉक्टर आपको जीवनशैली में बदलाव की सलाह देते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि कुछ आदतें हाइपोथायरायडिज्म को ज्यादा खराब कर सकती हैं या इसके अटैक को ट्रिगर कर सकती हैं। इस स्थिति में आपको सबसे पहले धूम्रपान से परहेज करना चाहिए। ऐसे इसलिए ज़रूरी है, क्योंकि यह आदत थायराइड के मुद्दों को पहले के मुकाबले खराब करती है और निदान को ज्यादा कठिन बना देती है। इसके अलावा आपको शराब जैसी किसी भी तरह की लत से भी बचना चाहिए, क्योंकि इससे आपका मेटाबॉलिज्म खराब हो सकता है।

आयोडीन सेवन का अनुकूलन करें

आयोडीन सेवन का अनुकूलन करेंआपको इस बात का खासतौर से ध्यान रखना चाहिए कि आप प्रतिदिन कितनी आयोडीन का सेवन कर रहे हैं। वयस्कों के लिए अनुशंसित सेवन किशोर और गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए प्रति दिन 150 माइक्रोग्राम (एमसीजी) है। पुरुषों के लिए यह राशि घटकर 290 एमसीजी हो जाती है। अगर आप बहुत ज्यादा समुद्री शैवाल खा रहे हैं, तो आपके द्वारा अपने सेवन की निगरानी करना बहुत ज़रूरी हो जाता है। साथ ही प्रतिदिन बहुत ज्यादा आयोडीन का सेवन करने वाले लोगों को इससे निदान और उपचार में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

वजन में उतार-चढ़ाव को ट्रैक करें

weight gainहाइपोथायरायडिज्म वाले लोग अक्सर अपने आहार या व्यायाम की दिनचर्या में बदलाव नहीं करने के बावजूद वजन बढ़ने की शिकायत करते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि उनका मेटाबॉलिज्म धीमा हो गया है, जिससे उनका शरीर कम कैलोरी बर्न कर पाता है। इस स्थिति वाले लोगों में हाइपोथायरायडिज्म का निदान करना कठिन हो जाता है, जो लक्षणों को खराब कर सकता है। अगर इसका ठीक से इलाज नहीं किया जाए, तो यह जटिलताओं का कारण भी बन सकता है।

यह सावधानियां आपको हाइपोथायरायडिज्म निदान से जुड़े मामले में बरतनी चाहिए। लोगों का मानना है कि आयोडीन में उच्च खाद्य पदार्थ खाना थायराइड वाले लोगों के लिए बुरा होता है। एक शोध के अनुसार, आपको बहुत ज्यादा समुद्री शैवाल, केल्प या अन्य खाद्य पदार्थ खाने से बचना चाहिए, जिनमें आयोडीन होता है। विशेषज्ञों की मानें, तो बीमारी के हाइपो डायग्नोसिस जैसी कोई चीज नहीं होती है। जब निदान की बात आती है, तो यह सिर्फ दो प्रकार होते हैं: हाइपर और हाइपोथायरायडिज्म।

प्रत्येक मानव शरीर को जीवन भर स्वस्थ और सक्रिय रहने के लिए कुछ प्रोटीनों की ज़रूरत होती है। हालांकि, अगर इन प्रोटीनों का स्तर बहुत ज्यादा कम है, तो शरीर ठीक से काम नहीं कर सकता है। ऐसा तब होता है, जब कोई व्यक्ति कम थायराइड बनना यानी हाइपोथायरायडिज्म (अंडरएक्टिव थायराइड) से पीड़ित होता है।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपरटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Try MantraCare Wellness Program free