अंतःस्रावी तंत्र (एंडोक्राइन सिस्टम): हार्मोन और फंक्शन – Endocrine System: Hormones Aur Functions

endocrine system

अंतःस्रावी तंत्र (एंडोक्राइन सिस्टम) क्या है? Endocrine System Kya Hai?

अंतःस्रावी तंत्र (एंडोक्राइन सिस्टम) को हार्मोन सिस्टम के नाम से भी जाना जाता है, जो हार्मोन बनाने वाली कई ग्रंथियों से बना होता है और इसका काम हार्मोन्स को बनाना और निकालना है। हार्मोन्स को शरीर का केमिकल संदेशवाहक कहते हैं, क्योंकि कोशिकाओं के एक समूह से दूसरे समूह तक सूचना और निर्देश लेकर जाते हैं। इन हार्मोन्स के द्वारा शरीर के कई कार्य नियंत्रित होते हैं, जैसे:

  • सांस लेना
  • मेटाबॉलिज्म
  • रिप्रोडक्शन
  • संवेदी धारणा
  • चलना-फिरना
  • यौन विकास
  • विकास

हार्मोन एंडोक्राइन सिस्टम ग्लैंड द्वारा बनाए जाते हैं और शरीर के अलग-अलग ऊतकों को रक्तप्रवाह में भेजे जाते हैं। यह उन ऊतकों को संकेत भेजते हैं कि उन्हें क्या करना चाहिए। ग्रंथियों द्वारा सही मात्रा में हार्मोन का उत्पादन नहीं किये जाने से बीमारी को बढ़ावा मिलता है, जो जीवन में शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित कर सकता है। इन संकेतों से आपके शरीर को जानकारी मिलती है कि उन्हें क्या और कब करना है। हार्मोन अपने संदेशों को उन कोशिकाओं में लॉक करके भेजते हैं, जिन्हें वह टारगेट करते हैं, ताकि वह संदेश को प्रसारित कर सकें। इसके अलावा आपका एंडोक्राइन सिस्टम आपके रक्त में हार्मोन की मात्रा पर लगातार नज़र रखता है।

anatomy of endocrine systems

एंडोक्राइन सिस्टम ग्लैंड – Endocrine System Glands

ग्रंथि एक संरचना का हिस्सा है, जो शरीर में विशेष कार्य करने वाले पदार्थों का निर्माण और उत्पादन करती है। यह ग्रंथि दो प्रकार की होती हैं। एंडोक्राइन ग्रंथियां नलीहीन ग्रंथियां होती हैं और यह उन पदार्थों का उत्पादन करती हैं, जो रक्तप्रवाह में हार्मोन बनाती हैं। यह ग्रंथियां एंडोक्राइन सिस्टम का संरचनात्मक हिस्सा हैं।

अन्य प्रकार की ग्रंथि को एक्सोक्राइन ग्रंथि कहा जाता है, जैसे- पसीने की ग्रंथियां या लसीकापर्व (लिम्फ नोड्स)। यह ग्रंथियां हार्मोन का उत्पादन नहीं करती हैं, इसलिए इन्हें एंडोक्राइन सिस्टम की एक विशेषता के रूप में नहीं देखा जाता है। इस प्रकार यह अपने उत्पाद को एक नलिका के माध्यम से रिलीज़ करती हैं।

पैनक्रियाज़ और थायरॉयड ग्लैंड की तरह एंडोक्राइन सिस्टम ग्लैंड्स शरीर के आंतरिक हिस्से को स्क्रीन करने के लिए रक्तप्रवाह का इस्तेमाल करती हैं। यह हार्मोन नाम के पदार्थों के ज़रिए एक दूसरे के साथ संवाद करना है, जो रक्तप्रवाह में उत्पन्न होते हैं। एड्रिनल ग्रंथियां छोटी संरचनाएं हैं, जो प्रत्येक गुर्दे के शीर्ष बिंदु से जुड़ी होती हैं। मानव शरीर में दो एड्रिनल ग्रंथियां होती हैं, जो रक्त प्रवाह में हार्मोन केमिकल्स का उत्पादन करती हैं और यह हार्मोन मानव शरीर के कई हिस्सों को भी प्रभावित करते हैं।

एंडोक्राइन ग्रंथियां और हार्मोन – Endocrine Glands Aur Hormones

हार्मोन वह मॉलिक्यूल्स हैं जो कई ग्रंथियों द्वारा बनाए जाते हैं, जिनमें तंत्रिका संरचना, एंडोक्राइन ग्रंथि, एड्रिनल ग्रंथि, जननांग यानी वृषण और अंडाशय (गोनाड), नलीहीन ग्रंथि और अंतःस्रावी ग्रंथि (एंडोक्राइन ग्लैड) और बहिःस्रावी ग्रंथि (एक्सोक्राइन ग्लैंड) शामिल हैं।

एंडोक्राइन का मतलब है कि विशिष्ट उत्तेजनाओं के जवाब में इन ग्रंथियों की सेवा रक्त में इकाई मुक्त होती है। इन हार्मोन्स को रक्त के ज़रिए उनकी लक्षित कोशिकाओं तक लाया जाता है। कुछ हार्मोन में सिर्फ कुछ विशिष्ट लक्ष्य कोशिकाएं होती हैं, जबकि कई हार्मोन पूरे शरीर में अलग-अलग कोशिकाओं को प्रभावित करते हैं।

प्रत्येक एंडोक्राइन एरिया इकाई के लिए लक्ष्य कोशिकाओं को अंतःस्रावी के लिए कोशिका की सतह पर या कोशिका के अंदर छोटे मॉलिक्यूल्स यानी रिसेप्टर्स की मौजूदगी की खासियत होती है। एंडोक्राइन और उसके रिसेप्टर के बीच की संपर्क लक्ष्य सेल के अंदर ऑर्गेनिक केमिस्ट्री रिएक्शन का एक टारगेट करती है, जो आखिर में कोशिका के प्रदर्शन या गतिविधि को संशोधित करती है।

एंडोक्राइन सिस्टम के कार्य – Endocrine System Functions

एंडोक्राइन सिस्टम ग्लैड्स का प्रमुख कार्य रक्तप्रवाह में हार्मोन का स्राव करना है। हार्मोन केमिकल पदार्थ होते हैं, जो शरीर में गतिविधि से संबंधित हिस्से को प्रभावित करते हैं। हार्मोन हमारे शरीर के संदेशवाहक हैं, जो पूरे शरीर में गतिविधियों को नियंत्रित और नियोजन करते हैं।

  • हार्मोन उद्देश्य वाली जगह पर पहुंचने के बाद एक रिसेप्टर से जुड़ जाता है। यह एक चाबी के तरह है, जो एक प्रकार के लॉक में फिट हो जाते हैं। जब इसके रिसेप्टर में हार्मोन सुरक्षित होते हैं, तो यह एक संदेश भेजता है। यह उद्देश्य साइट की एक विशेष कदम का कारण बनता है। यह हार्मोन रिसेप्टर्स कोर के अंदर या कोशिका की सतह पर मौजूद हो सकते हैं।
  • आखिर में हार्मोन पूरी ग्रंथियों के काम को नियंत्रित करते हैं, जो विकास, सुधार, प्रसार और यौन विशेषताओं के रूप में अलग-अलग चक्रों को प्रभावित करता है। हार्मोन अतिरिक्त रूप से प्रभावित करते हैं कि शरीर उनका इस्तेमाल कैसे करता है। यह ऊर्जा को इकट्ठा करने के साथ ही द्रव की मात्रा को भी नियंत्रित करते हैं। इसके अलावा यह रक्त में कुछ मात्रा में लवण और शर्करा (ग्लूकोज) को नियंत्रित करता है। सीमित मात्रा में हार्मोन शरीर में ज़्यादा बड़ी प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर कर सकते हैं।
  • भले ही हार्मोन पूरे शरीर में प्रवाहित होते हैं, लेकिन प्रत्येक प्रकार के हार्मोन सिर्फ कुछ एंडोक्राइन सिस्टम ग्लैंड्स और ऊतकों को प्रभावित करते हैं। जबकि कुछ हार्मोन सिर्फ कुछ ग्रंथियों को ही प्रभावित करते हैं। इस प्रकार दूसरे हार्मोन पूरे शरीर को प्रभावित करते हैं। उदाहरण के लिए पिट्यूटरी ग्रंथि में निर्मित थायराइड-उत्तेजक हार्मोन, जो सिर्फ थायराइड ग्रंथि को प्रभावित करते हैं।

इसके अलावा थायराइड ग्रंथि में बनने वाला थायराइड हार्मोन पूरे शरीर की कोशिकाओं को प्रभावित करता है। यह कोशिकाओं के विकास को विनियमित करने के तौर पर ज़रूरी काम करता है। साथ ही इसमें नसों को नियंत्रित करना और कैलोरी बर्न करने की गति को प्रभावित करना शामिल है।

पैनक्रियाज़ के आइसलेट कोशिकाओं द्वारा स्रावित इंसुलिन पूरे शरीर में ग्लूकोज, प्रोटीन और फैट बनाने के काम को प्रभावित करता है। ज़्यादातर हार्मोन प्रोटीन से प्राप्त होते हैं, जबकि अन्य स्टेरॉयड कोलेस्ट्रॉल से मिलने वाला चिकना पदार्थ है।

एंडोक्राइन सिस्टम से जुड़ी स्वास्थ्य समस्या – Endocrine System Health Issue

कई तत्वों को एंडोक्राइन सिस्टम की समस्याओं का कारण माना जाता है। एंडोक्राइन समस्याओं के प्रकार और कारणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • एक्रोमेगली, ग्रोथ हार्मोन का ज़्यादा उत्पादन और प्रोलैक्टिनोमा, जो प्रोलैक्टिन हार्मोन का एक ज़्यादा उत्पादन है और पिट्यूटरी ग्रंथि को नुकसान पहुंचाता है।
  • एडिसन बीमारी और कुशिंग की स्थिति, एड्रिनल ग्रंथियों द्वारा उत्पादित हार्मोन के स्तर में बदलाव से संबंधित बीमारी।
  • डायबिटीज मेलिटस, जो अग्न्याशय द्वारा पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करने या शरीर द्वारा मौजूद इंसुलिन पर प्रतिक्रिया नहीं करने के कारण हो सकता है।
  • हाइपोथायरायडिज्म में आयोडीन की अनुपस्थिति जैसे पर्यावरणीय या पोषण संबंधी कारण हार्मोन उत्पादन को प्रभावित कर सकते हैं।
  • आनुवंशिक कारण एंडोक्राइन सिस्टम की समस्याओं का मुख्य कारण हो सकते हैं, जिनमें खासतौर से डायबिटीज और ऑटोइम्यून थायरायडिटिस या हाशिमोटो थायरायडिटिस जैसी कई प्रकार की समस्याएं शामिल हैं।
  • अति सक्रिय थायराइड (हाइपरथायरायडिज्म), अंडरएक्टिव थायराइड (हाइपोथायरायडिज्म), ग्रेव्स की बीमारी यानी एक प्रकार का हाइपरथायरायडिज्म, जिसके कारण ज़्यादा थायराइड हार्मोन उत्पादन होता है। हाशिमोटो थायराइडिसिस में हाइपोथायरायडिज्म के कारण एक ऑटोम्यून्यून बीमारी और बाद में थायराइड ग्रंथि से संबंधित समस्याएं होती है।
  • एंडोक्राइन समस्या के प्रमुख कारण के बाद इसे ट्यूमर ग्रंथि के विकास या ट्यूमर से जोड़ा जा सकता है।

हालांकि, कुछ मामलों में किसी खास एंडोक्राइन सिस्टम की समस्या का प्रमुख कारण पता कर पाना मुश्किल होता है। अक्सर, हार्मोन आपस में इंटरेक्ट करते हैं। किसी खास एंडोक्राइन समस्या के बुरे प्रभाव अस्पष्ट हो सकते हैं, लेकिन अगर आपको इस समस्या का अनुभव होता है, तो इसका चिकित्सा मूल्यांकन करना ज़रूरी है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि हार्मोन स्तर के तत्काल मूल्यांकन से हार्मोन असंतुलन के प्रमुख मूल कारण को जानना और उसे ठीक करना काफी आसान हो सकता है।

एंडोक्राइन सिस्टम डिसऑर्डर – Endocrine System Disorder

endocrine systems

एंडोक्राइन डिसऑर्डर ऐसी बीमारी है, जो शरीर की एंडोक्राइन ग्रंथियों से संबंधित होती है। एंडोक्राइन सिस्टम हार्मोन का उत्पादन करता है, जो बाहर भेजे जाने वाले रासायनिक संकेत हैं। यह रक्तप्रवाह के ज़रिए स्रावित होता है, जो हार्मोन प्रक्रियाओं को विनियमित करने में शरीर की मदद करते हैं, जिनमें भूख, सांस लेना, विकास, द्रव संतुलन, स्त्रीकरण (फेमिनीजेशन) और पौरूषीकरण (विरलाइजेशन) और वजन नियंत्रित करने जैसे कार्य शामिल हैं। एंडोक्राइन सिस्टम में कुछ ग्रंथियां होती हैं, जिसमें मस्तिष्क में पिट्यूटरी ग्रंथि और हाइपोथैलेमस, गुर्दे में एड्रिनल ग्रंथियां और गर्दन में थायराइड ग्रंथियों के अलावा अग्न्याशय, अंडाशय और अंडकोष शामिल हैं।

पेट, लीवर और पाचन ग्रंथियां अतिरिक्त रूप से पाचन से संबंधित हार्मोन का स्राव करती हैं। ज़्यादातक नियमित एंडोक्राइन समस्या अनुचित कामकाज से जुड़े हैं, जो पैनक्रियाज़ और पिट्यूटरी, थायराइड और एड्रिनल ग्रंथियों का हिस्सा है। एंडोक्राइन सिस्टम के विकारों के लिए आधुनिक उपचार सफल है, लेकिन एंडोक्राइन शिथिलता के गंभीर परिणाम दुर्लभ हैं। हालांकि, एंडोक्राइन विकारों का उपचार नहीं किये जाने से शरीर में कई जटिलताएं हो सकती हैं। जबकि आमतौर पर एंडोक्राइन विकारों के लिए अस्पताल में भर्ती होने की ज़रूरत नहीं होती है, लेकिन कभी-कभी यह गंभीर लक्षण पैदा कर सकते हैं। एंडोक्राइन विकार के लक्षण हल्के से लेकर न के बराबर हो सकते हैं, जिनके लक्षणों का आपके पूरे शरीर पर गंभीर प्रभाव हो सकता है। वहीं, कुछ विशिष्ट लक्षण प्रभावित एंडोक्राइन सिस्टम के विशेष भाग पर निर्भर करते हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care 

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है, जो आपके किसी भी सवाल का जवाब देने और आपकी परेशानी से जुड़ी ज़्यादा जानकारी प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार है, ताकि आप जान सकें कि आपकी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छा इलाज कौन सा है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free