डायबिटीज की आहार योजनाओं में कार्ब्स की गणना के फायदे – Diabetic Diet Plans Mein Carb Counting Ke Fayde

कार्ब्स की गणना

डायबिटीज आहार योजनाओं में कार्ब्स की गणना – Diabetic Diet Plans Mein Carbs Counting

कार्ब्स की गणना

डायबिटिक लोगों के लिए कार्ब्स की गणना करना बेहद ज़रूरी है, क्योंकि इससे उनके खाने में कार्बोहाइड्रेट की संख्या पर नज़र रखने में मदद मिलती है। कार्ब्स की गणना करना एक बेहतर तरीका है, जिससे डायबिटीज से पीड़ित लोगों के शरीर में रक्त शर्करा का स्तर बना रहता है। आमतौर पर कार्बोहाइड्रेट के दो मुख्य प्रकार हैंः शर्करा और स्टार्च। उचित तरीके से कार्ब्स की गणना करने के लिए आपको पता होना चाहिए कि किन खाद्य पदार्थों में यह कार्ब्स होते हैं और ग्राम प्रति सेवारत आकार क्या हैं। साथ ही आपको इस बात की जानकारी भी होनी चाहिए कि आप हर रोज़ या भोजन में कितने सर्विंग्स खा सकते हैं।

डायबिटीज से पीड़ित मरीजों के लिए कार्ब्स की गणना का अन्य प्रमुख कारण यह है कि हर भोजन या दिन में सही मात्रा में कार्ब्स खाने से उनके रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। कार्ब्स की गणना करने के लिए कई जानकारी ज़रूरी होती है, जैसे किन खाद्य पदार्थों में कार्ब्स होते हैं या सर्विंग साइज में कितने ग्राम हैं और आपको रोज़ाना कितनी सर्विंग खानी चाहिए।

आपके लिए यह जानना ज़रूरी है, क्योंकि शर्करा, स्टार्च या वसा की ज़्यादा मात्रा वाले खाद्य पदार्थ रक्त शर्करा का स्तर बनाए रखने के लिए ज़रूरी इंसुलिन की मात्रा को प्रभावित करते हैं। उदाहरण के लिए, अगर आप एक चम्मच जेली खाते हैं, जिसमें 15 ग्राम कार्ब्स के अलावा कोई अन्य खाद्य पदार्थ नहीं होता है। आपके लिए निर्धारित सर्विंग के आधार पर आपको ज़्यादा इंसुलिन लेने की ज़रूरत हो सकती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि इसमें मौजूद शर्करा आपके रक्त शर्करा स्तर को प्रभावित कर सकती है।

टाइप 1 डायबिटीज – Type 1 Diabetes

टाइप 1 डायबिटीज एक ऑटोइम्यून बीमारी है, जिसके कारण किसी व्यक्ति में इंसुलिन की कमी हो सकती है। आमतौर पर डायबिटीज के इस प्रकार में  इंसुलिन का इंजेक्शन इसतेमाल करने की ज़रूरत होती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि इस स्थिति में अग्न्याशय (पैनक्रियाज़) पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाता है या पूरी तरह से किसी भी उत्पादन करने की क्षमता खो चुका है। टाइप 1 डायबिटीज का सबसे आम रूप किशोर-शुरुआत (जुवेनाइल-ऑनसेट) है। यह बच्चों और किशोरों में इंसुलिन का उत्पादन करने वाली कोशिकाओं यानी बीटा कोशिकाओं को नष्ट करके प्रभावित करता है।

यह टाइप 2 डायबिटीज की तुलना में कम आम है, लेकिन शरीर में शर्करा को तोड़ने के लिए इंसुलिन इंजेक्शन की ज़रूरत होती है। इसीलिए, अच्छे रक्त शर्करा नियंत्रण के लिए ज़्यादा कार्बोहाइड्रेट की ज़रूरत होती है। एक आहार विशेषज्ञ यह निर्धारित करने में आपकी मदद कर सकते हैं कि आपको हर भोजन और नाश्ते में कितने कार्ब्स खाने चाहिए। डॉक्टर आपके लैब से मिलने वाले नतीजों के आधार पर भी यह जानकारी दे सकते हैं। टाइप 1 डायबिटीज वाले ज़्यादातर लोगों को हर भोजन में 45 से 60 ग्राम कार्बोहाइड्रेट खाने की ज़रूरत होती है। अगर ज़रूरी हो, तो स्नैक्स जैसे खाने में आप लगभग 15 से 30 ग्राम कार्ब्स का सेवन कर सकते हैं।

टाइप 2 डायबिटीज – Type 2 Diabetes

टाइप 1 डायबिटीज की तरह ही टाइप 2 डायबिटीज भी एक ऑटोइम्यून बीमारी है, लेकिन इसके लिए इंसुलिन के इंजेक्शन लेना ज़रूरी नहीं है, क्योंकि इसमें अग्न्याशय कुछ स्तर के इंसुलिन का उत्पादन कर सकता है। हालांकि, रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने के लिए यह पर्याप्त नहीं है। टाइप 2 डायबिटीज के लिए कई अन्य अलग-अलग योगदान कारक हैं। इसीलिए, आपको इंसुलिन इंजेक्शन की ज़रूरत है या नहीं, इसका निर्धारण करने से पहले इसे ध्यान में रखा जाना चाहिए।

डायबिटीज वाले किसी भी व्यक्ति के लिए कार्ब्स की गणना करके उनका रक्त शर्करा स्तर नियंत्रित किया जा सकता है। टाइप 2 डायबिटीज, डायबिटीज का सबसे आम प्रकार है, जिसमें आपके शरीर द्वारा पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन या इसका प्रभावी ढंग से इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। अगर आप टाइप 2 डायबिटीज के मरीज हैं और इंसुलिन का उत्पादन करते हैं, लेकिन शरीर इंसुलिन प्रतिरोधी बन गया है, तो आपको अपने आहार को मॉनिटर करने और रोज़ाना हल्की मात्रा में कार्बोहाइड्रेट खाने की ज़रूरत होगी। अगर आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं, तो स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपको कार्बोहाइड्रेट के ग्राम गिनने की सलाह दे सकते हैं।

कार्ब्स की गणना के फायदे – Carbs Counting Ke Fayde

कार्ब्स के फायदे

आप किसी खाद्य लेबल को देखकर पता लगा सकते हैं, क्योंकि हर सर्विंग में प्रति सर्विंग कुल ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है। भोजन और नाश्ते में आपको कितने कार्ब ग्राम खाने चाहिए, यह जानने से आप पूरे दिन अपने भोजन के सेवन को ट्रैक कर सकते हैं। इससे आपको रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य श्रेणी में बनाए रखने में मदद मिलती है।

नए आहार के निर्देशों के साथ कार्बोहाइड्रेट की गणना करना ज़्यादा ज़रूरी हो सकता है। अगर कोई व्यक्ति वजन घटाने की कोशिश कर रहा है और ज़्यादा वजन नहीं है, तो स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञ उस व्यक्ति को कार्बोहाइड्रेट गिनने की सलाह देते हैं। टाइप 2 डायबिटीज वाले लोग अक्सर कार्बोहाइड्रेट की गिनती करके अपने रक्त शर्करा को नियंत्रित करते हैं। हालांकि, अगर टाइप 1 वाले लोग किसी भी इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पा रहे हैं, तो उन्हें भी यह करने की सलाह दी जा सकती है। कार्बोहाइड्रेट के सेवन पर नज़र रखने से आपको अच्छा स्वास्थ्य बनाए रखने में मदद मिल सकती है, फिर भले ही आप डायबिटीज के मरीज हैं या वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं। कार्ब्स की गिनती के लिए आपको यह पता होना चाहिए कि किन खाद्य पदार्थों में कार्ब्स होते हैं।

कार्ब्स की मात्रा – Carbs Ki Matra

कार्ब्स की ज़्यादा मात्रा आपके रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावित कर सकती है, इसीलिए आपके लिए यह जानना ज़रूरी है कि डायबिटीज से पीड़ित मरीज को कितने कार्ब्स खाने चाहिए। कार्बोहाइड्रेट को एक संख्यात्मक मान दिया जाता है जो इस बात पर आधारित होता है कि भोजन परोसने में कितने ग्राम कार्बोहाइड्रेट मौजूद हैं। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन की सलाह के अनुसार, डायबिटीज से पीड़ित किसी व्यक्ति को हर रोज़ 45 से 60 ग्राम प्रति भोजन कार्बोहाइड्रेट का सेवन करना चाहिए, जो लगभग तीन से पांच ब्रेड स्लाइस के बराबर है। एडीए का कहना है कि डायबिटीज वाले लोगों को प्रति स्नैक लगभग 15 से 20 ग्राम कार्बोहाइड्रेट खाने चाहिए और इन्हें पूरे दिन बराबर बांटना सबसे अच्छा है।

हर भोजन और नाश्ते में आपको कितने कार्ब्स लेने चाहिए, यह पूरी तरह से आपके डायबिटीज के प्रकार, दवाओं, उम्र और वजन पर निर्भर करता है। अगर आप वजन घटाने वाले आहार का पालन कर रहे हैं, तो कार्बोहाइड्रेट की गिनती तब तक नहीं की जानी चाहिए, जब तक आपके डॉक्टर इसकी सलाह न दें। हालांकि, डायबिटीज वाले लोगों को कार्बोहाइड्रेट की गिनती करने से मदद मिल सकती है, जिससे उनके लिए वजन कम करना बहुत आसान होता है। आपको कार्बोहाइड्रेट की गिनती से फायदा होगा या नहीं, यह निर्धारित करने के लिए अपने द्वारा खाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट की संख्या पर नज़र रखने की कोशिश करें।

कार्ब्स के प्रकार – Carbs Ke Prakar

कार्ब्स के प्रकार

कार्ब्स की गिनती करना एक बेहतर आहार रणनीति है और आमतौर पर रक्त शर्करा को नियंत्रित करने, वजन घटाने को बढ़ावा देने और डायबिटीज वाले लोगों में मूड को स्थिर करने के तरीके के तौर पर इसकी सलाह दी जाती है। उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थों की सेवन को सीमित करके और कम जीआई खाद्य पदार्थों की मात्रा बढ़ाकर आप रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य रख सकते हैं।

ग्लूकोज कार्बोहाइड्रेट का सबसे सरल रूप है, जो कई कोशिकाओं के लिए ऊर्जा का प्राथमिक स्रोत है। कार्बोहाइड्रेट को दो प्रकारों में बांटा जाता है: सरल (मोनोसेकेराइड और डिसैकराइड) और जटिल (पॉलीसेकेराइड)। ग्लूकोज, गैलेक्टोज और फ्रुक्टोज सरल कार्बोहाइड्रेट के उदाहरण हैं। जटिल कार्बोहाइड्रेट ज़्यादा आम हैं और स्टार्च, अनाज, सब्जियां, नट, फलियों और फलों में पाए जाते हैं। जटिल कार्बोहाइड्रेट में सैकड़ों या हजारों ग्लूकोज मॉलिक्यूल्स होते हैं, जो एक पॉलीसेकेराइड श्रृंखला में एक साथ जुड़े होते हैं। इस तरह जटिल कार्ब्स में साधारण कार्ब्स की तुलना में ज़्यादा ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) मौजूद होता है, क्योंकि ग्लूकोज के रूप में अवशोषित होने से पहले उन्हें पाचन तंत्र की मदद से तोड़ा जाता है।

कार्ब्स गिनने के तरीके – Carbs Counting Ke Tarike

भोजन में कार्बोहाइड्रेट सामग्री की जानकारी एक खाद्य लेबल दी जाती है। एक कार्बोहाइड्रेट गिनती आहार योजना कम कार्ब, उच्च कार्ब या हल्की कार्ब योजनाओं में से एक का पालन कर सकती है। जनवरी 2005 में पेश किए गए नए खाद्य लेबल पर कार्ब्स को मापने की विधि ग्राम से कुल कार्बोहाइड्रेट के ग्राम में बदली जा चुकी है।

कार्बोहाइड्रेट के कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं:

  • चीनी
  • फ्रुक्टोज
  • लैक्टोज
  • सुक्रोज
  • शहद
  • माल्टोस
  • सिरप
  • स्टार्च

हालांकि, कई डाइटर्स वजन कम करने के लिए कार्ब्स की गिनती कर रहे हैं, लेकिन डायबिटीज के मरीजों को यह भी ध्यान रखना चाहिए कि वह हर दिन कितने कार्ब्स खाते हैं। एक रिमाइंडर के तौर पर, कार्बोहाइड्रेट सिर्फ मीठे स्वाद वाले खाद्य पदार्थों में नहीं होते हैं। कार्ब्स लगभग सभी खाद्य पदार्थों में पाए जाते हैं, क्योंकि यह शरीर के लिए ईंधन का मुख्य स्रोत माने जाते हैं। इसके अलावा, कार्बोहाइड्रेट में आहार फाइबर और अन्य पोषक तत्व होते हैं, जिनकी शरीर को ज़रूरत होती है।

परोसने का आकार

परोसने का आकार भोजन के ग्लाइसेमिक इंडेक्स को प्रभावित कर सकता है। ग्लाइसेमिक इंडेक्स इस बात का माप देता है कि किसी विशेष भोजन का सेवन करने के दो घंटे बाद आपका रक्त शर्करा स्तर कितना होगा। इसमें 100 शुद्ध ग्लूकोज और 70 जटिल कार्बोहाइड्रेट के बराबर मात्रा होगी।

कुल कार्बोहाइड्रेट के ग्राम

भोजन में कार्बोहाइड्रेट के कुल ग्राम की मात्रा प्रति सर्विंग कैलोरी की संख्या को प्रति सर्विंग ग्राम से गुणा करके और 100 या एक सौ से विभाजित करके निकाली जाती है। उदाहरण के लिए, अगर आपके पास 20 कार्ब्स पर तीन सर्विंग्स हैं, तो आपका कुल ग्राम 60 होगा।

ऊपर दी गई जानकारी कुछ सामान्य खाद्य पदार्थों और उनके ग्लाइसेमिक इंडेक्स, प्रति सेवारत कार्बोहाइड्रेट के कुल ग्राम और 100 में से रैंकिंग देती है।

कम कार्बोहाइड्रेट वाला भोजन

खाद्य पदार्थों को चार समूहों में बांटा जा सकता है:

  1. कम कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थ (प्रति सर्विंग 20 ग्राम से कम)
  2. हल्के कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थ (प्रति सर्विंग 20 से 50 ग्राम)
  3. उच्च कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थ (प्रति सेवारत 50 से 100 ग्राम)
  4. बहुत ज़्यादा कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थ (प्रति सेवारत 100 ग्राम से ज़्यादा)

हमारे आहार में कार्बोहाइड्रेट शरीर के लिए ईंधन के मुख्य स्रोत हैं, जो परिपूर्णता, मेटाबोलिक हेल्थ, मनोदशा का स्थिरीकरण और स्थिर रक्त शर्करा के अहसास को बढ़ाते हैं। कार्ब्स की गणना आपके कार्बोहाइड्रेट सेवन और रक्त शर्करा का स्तर प्रबंधित करने का एक अच्छा तरीका है।

डायबिटीज में कार्ब्स की गिनती का ध्यान रखना ज़रूरी है। कई खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट आपके शरीर को ऊर्जा प्रदान करते हैं। हालांकि, टाइप 1 या टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में यह पता लगाना मुश्किल हो सकता है कि हर भोजन में कितना कार्बोहाइड्रेट खाना उचित है। कुछ कार्ब्स रक्त शर्करा के स्तर को तेजी से बढ़ाते हैं, इसीलिए किसी भी जोखिम से बचने के लिए आपको इसकी ज़्यादा मात्रा लेने से बचना चाहिए।

कार्बोहाइड्रेट कई स्रोतों से मिलते हैं, जैसे ब्रेड, अनाज और डेयरी उत्पाद। इनमें से कुछ खाद्य पदार्थ खाने से आपका रक्त शर्करा स्तर तेजी से बढ़ सकता है। कार्बोहाइड्रेट की गिनती मॉनिटर करने के लिए डायबिटीज मरीजों खाद्य पदार्थों का सावधानी से चुनाव करना चाहिए। साथ ही ध्यान रखना चाहिए कि हर भोजन या नाश्ते में वह कितने कार्बोहाइड्रेट खा सकते हैं।

कई कार्बोहाइड्रेट युक्त खाद्य पदार्थ डायबिटीज के मरीजों के लिए अच्छे होते हैं, जैसे फल और सब्जियां। जबकि ब्रेड, अनाज और पास्ता जैसे अनाज डायबिटीज वाले मरीजों के लिए समस्या पैदा कर सकते हैं। इनमें मौजूद ज़्यादा फाइबर रक्त शर्करा स्तर पर उनका प्रभाव धीमा कर देता है, इसलिए डायबिटीज के मरीजों को कम कार्ब वाले स्नैक्स खाने चाहिए।

मंत्रा केयर – Mantra Care

डायबिटीज वाले लोगों को कार्ब्स की गिनती करना आहार की योजना बनाने और रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में फायदेमंद हो सकता है। कार्बोहाइड्रेट की गिनती करने में कठिनाई हो सकती है, इसलिए सहायता के लिए आप अपने डॉक्टर या पंजीकृत आहार विशेषज्ञ से सलाह ले सकते हैं।

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free