डायबिटीज संबंधी पैर (डायबिटिक फूट) की समस्या: लक्षण और उपचार – Diabetic Foot Problem: Lakshan Aur Upchar

डायबिटीज संबंधी पैर की समस्या

डायबिटीज संबंधी पैर (डायबिटिक फूट) की समस्या क्या है? Diabetic Foot Kya Hai?

आमतौर पर डायबिटीज संबंधी पैर की समस्या डायबिटीज से होने वाली गंभीर जटिलता है। इसमें समय के डायबिटिक मरीजों में रक्त प्रवाह की कमी हो जाती है। रक्त प्रवाह की कमी से डायबिटीज की बीमारी वाले व्यक्ति को आगे चलकर पैरों में सुन्नपन महसूस होने लगता है। नसों में नुकसान को इस समस्या का मुख्य कारण माना जाता है। ऐसी स्थिति वाले व्यक्ति के किसी भी शारीरिक हिस्से में नसों में खराबी हो सकती है। हालांकि, आपके पैरों और टांगों की नसें ज्यादातर प्रभावित होने वाले हिस्से हैं।

कुछ लक्षण इस समस्या में योगदान करते हैं, जैसे बार-बार होने वाला इंफेक्शन, धीमी उपचार शक्ति और कमजोर इम्यून सिस्टम। कई मामलों में छोटे कट और खरोंच भी इसके कारण होने वाली गंभीर जटिलताओं का रूप ले सकते हैं। अक्सर डायबिटीज संबंधी समस्या में घाव, विकृति और इंफेक्शन ज़्यादा आसानी से विकसित हो जाते हैं। लगभग 15 प्रतिशत संभावना है कि एक डायबिटीज से पीड़ित मरीज अपने जीवन में किसी बिंदु पर डायबिटीज संबंधी पैर की समस्या विकसित कर सकते हैं।

पैरों पर डायबिटीज का प्रभाव – Pairon Par Diabetes Ka Prabhav

अगर आपको लंबे समय से डायबिटीज है और आप उच्च रक्त शर्करा स्तर यानी हाइपरग्लाइसीमिया से पीड़ित हैं, तो यह आपके पैरों में होने वाली कई गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकता है।

डायबिटीज की वजह से होने वाली कई समस्याएं आपके पैर को प्रभावित कर सकती हैं, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

डायबिटिक न्यूरोपैथी

diabetic neuropathy

यह डायबिटीज के कारण होने वाला नसों में नुकसान है, जिसे डायबिटिक न्यूरोपैथी के नाम से जाना जाता है। यह एक प्रकार की नसों में खराबी है, जो आपके डायबिटीज से पीड़ित होने पर शरीर में होती है। इसमें रक्त शर्करा के स्तर (ब्लड शुगर लेवल) में बार-बार उतार-चढ़ाव देखा जाता है, जो पूरे शरीर की नसों पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। यह ज़्यादातर हमारे पैरों और टागों को प्रभावित करता है। डायबिटिक न्यूरोपैथी के मामले में नसों के खराब होने की संभावना उम्मीद से ज़्यादा होती है।

डायबिटीज से पीड़ित मरीज के लिए डायबिटिक न्यूरोपैथी से निपटना एक जटिल स्थिति हो सकती है। ऐसा इसलिये है, क्योंकि वह पहले से ही डायबिटीज में अल्सर और त्वचा की दरारों आदि का सामना कर रहा होता है। डायबिटीज से पीड़ित लगभग 50 प्रतिशत लोगों को समय के साथ यह समस्या विरासत में मिलती है। डायबिटिक न्यूरोपैथी से खुद को बचाने का एकमात्र तरीका है कि आप अपने रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित रखने की कोशिश करें और स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं। साथ ही आपको यह देखना चाहिए कि आप क्या और कितनी मात्रा में खाते हैं।

परिधीय संवहिनी रोग (पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज)

डायबिटीज आपके शरीर में रक्त के प्रवाह को भी प्रभावित करता है। पूरे शरीर में खराब रक्त प्रवाह या खराब रक्त परिसंचरण की इस स्थिति को परिधीय संवहनी रोग या पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज कहा जाता है। अच्छे रक्त प्रवाह की कमी की वजह से आपके घावों, कटने और चोटों को ठीक करना बहुत कठिन हो जाता है। इसलिए, अगर आपको कोई ऐसा इंफेक्शन है, जो उपचार के बाद भी खराब रक्त प्रवाह के कारण ठीक नहीं हो रहा है, तो यह अल्सर या गैंग्रीन में विकसित हो सकता है। यह गंभीर स्थितियां हैं, जिनमें प्रभावित हिस्से के ऊतक रक्त की कमी की वजह से मर जाते हैं।

कॉलस

डायबिटीज वाले लोगों के पैर में कॉलस बहुत आसानी से और ज़्यादा तेज़ी से विकसित होते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि आपके पैर के नीचे दबाव ज्यादा होता है। अगर आप इसे अनुपचारित छोड़ देते हैं, तो यह मोटी परतें बनाने के बाद टूट जाते हैं और अल्सर के रूप में दिखाई देते हैं।

अन्य समस्याएं

डायबिटीज से होने वाली पैरों की कुछ अन्य समस्याएं इस प्रकार हैं:

कॉर्न्स

corns

कॉर्न्स पैर की उंगलियों में बिल्डअप टिश्यू या कठोर त्वचा होते हैं, खासतौर से पैर में अंगूठे के बोनी वाले हिस्से के पास या उनके बीच। कई बार यह जूते पहनने पर पैर की उंगलियों में होने दबाव या घर्षण का नतीजा भी हो सकते हैं। नहाने के बाद आपके पैर की उंगलियों के बीच की नमी भी कार्न्स का कारण बन सकती है।

फफोले

blisters

यह अक्सर तब बनते हैं, जब किसी खास हिस्से को बार-बार रगड़ा जाता है। आपके जूते इसका मुख्य कारण हो सकते हैं। टाइट फिटिंग वाले जूते या बिना मोजे के जूते पहनने से भी यह फफोले आपके पैरों में उत्पन्न हो सकते हैं।

पैर के अंगूठे की सूजन (बुनियन)

Bunions

आमतौर पर हाई हील्स फुटवियर पहनने वाले लोग इस समस्या से ज्यादा पीड़ित होते हैं। इस स्थिति में आपका सबसे बड़ा पैर का अंगूठा आपके दूसरे पैर की उंगलियों की तरफ मुड़ जाता है। यह वो हिस्सा है, जहां आपका सबसे बड़ा पैर का अंगूठा जुड़ता है और यह सख्त हो सकता है।

रूखी त्वचा

Dry skin

नमी की कमी के कारण किसी व्यक्ति की त्वचा में दरारें आ जाती हैं। और इनके ज़रिए कीटाणु आपकी त्वचा में आसानी से अंदर आ जाते हैं।

 

 

अंदर की तरफ बढ़े हुए नाखून

Ingrown nails

कभी-कभी ऐसा होता है, कि नाखून के किनारे आपकी त्वचा पर उग आते हैं। नाखून का किनारा कई बार आपकी त्वचा में चला जाता है, जिससे त्वचा में लालपन, दर्द, सूजन और इंफेक्शन हो सकता है। अंदर की तरफ मुड़े हुए नाखून के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं:

  • जूतों का दबाव
  • गलत तरीके से काटे गए नाखून
  • पैर की उंगलियों का आपस में मिलना
  • दौड़ने, चलने या एरोबिक्स करने जैसी गतिविधियों से पैरों में लगने वाली चोट।

लक्षण – Lakshan

डायबिटीज संबंधी पैर की समस्याओं के लक्षण और संकेतों में निम्नलिखित हैं:

  • पैरों का सुन्न होना
  • दर्द
  • झुनझुनी
  • महसूस होने की भावना में कमी
  • लालपन
  • त्वचा का काला पड़ना
  • सूजन

डायबिटीज संबंधी पैरों की समस्या के कुछ गंभीर लक्षण डायबिटिक फुट अल्सर में बदल जाते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • त्वचा या पैरों के नाखून में बदलाव
  • द्रव या मवाद निकलना
  • बदबू

इन लोगों में डायबिटीज संबंधी इस बीमारी की चपेट में आने की संभावना ज़्यादा होती है:

  • नसों में नुकसान (न्यूरोपैथी) खराब रक्त प्रवाह वाले लोगों में इसके होने की ज़्यादा संभावना होती है।
  • अगर आपने अपने रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित किया है।
  • आपका मोटापा।
  • उच्च रक्तचाप या उच्च कोलेस्ट्रॉल वाले व्यक्ति।

निदान  – Nidan 

डायबिटीज संबंधी पैर की समस्या का निदान करने के लिए विशेषज्ञ इस प्रक्रिया का इस्तेमाल कर सकते हैं, जैसे:

  • क्या आप अपने रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में सक्षम हैं।
  • विशेषज्ञों द्वारा मरीज से लक्षणों के बारे में पूछना।
  • प्रभावित हिस्से जैसे पैर की उंगलियों, पैर या टांगों की जांच करना।
  • अलग-अलग तरह के उपकरणों का इस्तेमाल करके संवेदना या छूने के अहसास की जांच करना।

अगर मरीज डायबिटीज के अल्सर या छाले की सीमा तक पहुंच गये हैं, तो डॉक्टर यह करेंगे:

  • लालपन, सूजन, गर्मी, त्वचा का काला पड़ना और त्वचा के निर्वहन जैसे संकेतों का पता लगाना।
  • त्वचा से ज़्यादा गहरी स्थितियों की जांच करने के लिए एक्स-रे या एमआरआई जैसे कुछ परीक्षण लिखना।
  • इंफेक्शन के प्रकार का पता लगाने के लिए त्वचा के निर्वहन का एक सैंपल लेना।

जटिलताएं – Jatiltayein

डायबिटीज संबंधी पैर की समस्या अपने आप में डायबिटीज से होने वाली सबसे गंभीर जटिलताओं में से एक हैं। समय के साथ आगे चलकर यह बीमारी कई अन्य जटिलताएं भी पैदा करती है, जैसे:

फोड़ा

Abscess

यह मूल रूप से पस या मवाद का संचय है। जब इंफेक्शन आपकी हड्डियों या ऊतकों तक पहुंचता है, तो मवाद विकसित होता है। आमतौर पर फोड़े को हटाकर इसका इलाज किया जाता है। हालांकि, कुछ गंभीर मामलों में डॉक्टर को हड्डी या ऊतक को हटाने की ज़रूरत भी पड़ सकती है।

गैंग्रीन

Gangrene

उच्च रक्त शर्करा का स्तर उन रक्त वाहिकाओं को प्रभावित करता है, जो आपकी उंगलियों को रक्त की आपूर्ति करती हैं। इसकी वजह से वहां मौजूद ऊतक सूखकर मर जाते हैं। डॉक्टरों द्वारा गैंग्रीन का उपचार अक्सर ऑक्सीजन आपूर्ति चिकित्सा या सर्जरी के माध्यम से प्रभावित हिस्से को हटाकर किया जाता है।

विकृतियां

Deformities

यह मूल रूप से नसों में नुकसान या खराबी है, जो मांसपेशियों को कमजोर बनाती है। इसके कारण किसी व्यक्ति को निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं:

  • पैर की उंगलियों में गांठ
  • क्लॉ फीट
  • प्रॉमिनेंट मेटाटार्सल हैड
  • पेस कावुस

चारकोट फूट

चारकोट फूट एक दुर्लभ, लेकिन घातक स्थिति है, जो पेरिफेरल न्यूरोपैथी वाले लोगों में हो सकती है। खासतौर से यह उन लोगों को होती है, जिन्हें डायबिटीज है। चारकोट से पैर और टखने की हड्डियां, जोड़ और कोमल ऊतक सभी प्रभावित होते हैं। इसके कारण पैर या टखने की हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और टूट सकती हैं या कई बार जोड़ हिल सकते हैं।

अंगों को अलग करना

आप इस स्थिति को बीमारी का आखिरी स्टेज मान सकते हैं। खराब रक्त परिसंचरण और नसों में खराबी की वजह से मरीज प्रभावित हिस्से की बिगड़ती स्थिति को महसूस करने में सक्षम नहीं होता है। कई बार यह इतनी ज़्यादा गंभीर हो जाती है कि अंगों को अलग करने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं बचता है।

उपचार – Upchar

इसमें कोई संदेह नहीं है कि डायबिटीज संबंधी पैरों की समस्या का उपचार घाव की गंभीरता पर निर्भर करता है। हालांकि, इसका उपचार सर्जरी और बिना सर्जरी के भी किया जा सकता है।

बिना सर्जरी के उपचार

सबसे पहले डॉक्टर किसी भी प्रकार की सर्जरी किए बिना डायबिटीज से संबंधित पैर की समस्या का इलाज करने की कोशिश करेंगे।

कुछ बिना सर्जरी वाले तरीकों में शामिल हैं:

  • घावों को साफ रखना और साफ कपड़े पहनना।
  • पैर की उंगलियों पर बढ़ते गैंग्रीन पर कड़ी नज़र रखना।
  • कास्ट बूट या टोटल कॉन्टैक्ट कास्ट या कोई अन्य स्थिरीकरण उपकरण पहनना।

सर्जरी से उपचार

जब बिना सर्जरी से किए गए उपचार मदद नहीं करते हैं या अपेक्षित नतीजे नहीं देते हैं, तो डॉक्टर सर्जिकल उपचार का सुझाव देते हैं, जिसमें शामिल हो सकते हैं:

  • मृत ऊतक को हटाना।
  • खराब हिस्से, एक पैर के अंगूठे से लेकर पैर के एक हिस्से या नीचे के पैर और आखिर में घुटने के ऊपर भी अंगों को अलग करना।
  • प्रभावित हिस्से में रक्त के प्रवाह को बहाल करने के लिए धमनी बाईपास।
  • रक्त वाहिकाओं को खुला रखने के लिए एंडोवास्कुलर सर्जरी।

स्वस्थ पैरों के लिए टिप्स – Healthy Foot Ke Liye Tips

  • अपने पैर को एक दिन के लिए भी अनियंत्रित न छोड़ें। आपको कटने और चोटों से बचने की ज़रूरत है। सूजन, लालपन, फफोले, कॉर्न्स या कॉलस होने पर शुरु में ही जांच की जानी चाहिए। पैरों के निचले हिस्से की जांच के लिए किसी की मदद ले सकते हैं। इसके लिए आप एक शीशे का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • हर दिन अपने पैर धोएं और इसके लिए आप गर्म पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं। हालांकि, अपने पैर को कभी भिगोना नहीं चाहिए। साथ ही पैरों को धोकर उन्हें पूरी तरह से सुखाना और लोशन लगाना न भूलें।
  • ज़रूरत पड़ने पर अपने पैर के नाखूनों को ट्रिम करें। कटने की वजह बनने के लिए उन्हें लंबे समय तक बढ़ने के लिए समय का इंतज़ार न करें।
  • डायबिटीज के अनुकूल जूते और मोजे का इस्तेमाल करें। अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो जूते और मोजे की खरीदारी करते समय आपको थोड़ा ज़्यादा सावधान रहने की ज़रूरत है। टो बॉक्स में ज़्यादा गहराई और पूरी कवरेज वाले जूते चुनें।
  • कभी भी नंगे पैर बाहर न निकलें। हालांकि, जब आप घर के अंदर हों तब भी आपको नंगे पैर नहीं चलना चाहिए।
  • व्यायाम करते समय अपने पैरों पर दवाब न डालें।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free