नसों में नुकसान (न्यूरोपैथी): प्रकार, कारण और उपचार – Neuropathy: Prakar, Karan Aur Upchar

नसों में नुकसान- प्रकार, कारण और उपचार

नसों में नुकसान क्या है? Neuropathy Kye Hai?

नसों में नुकसान

न्यूरोपैथी को आमतौर पर नसों में नुकसान के नाम से जाना जाता है और यह डायबिटीज से होने वाला सबसे आम प्रकार का तंत्रिका विकार है। न्यूरोपैथी एक ऐसी स्थिति है, जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र के बाहर की नसों को प्रभावित करती है। यह आपकी पांच इंद्रियों, जैसे छूना, सूंघना, स्वाद, दृष्टि या सुनने की क्षमता में से किसी एक को प्रभावित कर सकती है। न्यूरोपैथी दर्द को अक्सर झुनझुनी, जलन या तेज चुभने जैसे दर्द के तौर पर बताया जाता है। इस स्थिति में आप अपने हाथों और पैरों में सुन्नता या कमजोरी भी महसूस कर सकते हैं। डॉक्टर बताते हैं कि न्यूरोपैथी अलग-अलग प्रकार की होती है।

यह समस्या केंद्रीय तंत्रिका तंत्र के बाहर की नसों को प्रभावित करती है, जो बहुत दर्दनाक और कमज़ोर करने वाली हो सकता है। न्यूरोपैथी के अलग-अलग प्रकार लोगों को अलग तरह से प्रभावित करते हैं। प्रदर्शित होने वाले लक्षणों से डायबिटिक न्यूरोपैथी का निदान किया जाता है, लेकिन इसका निदान करने के लिए एक भी परीक्षण नहीं है। इसके कुछ सबसे सामान्य कारण है, जिनमें डायबिटीज, एचआईवी / एड्स, शराब का हद से ज़्यादा सेवन, ल्यूपस या दाद जैसे ऑटोइम्यून विकार, बी 12 जैसे विटामिन की कमी और इंफेक्शन शामिल हैं।

न्यूरोपैथी के प्रकार – Neuropathy Ke Prakar

अलग-अलग तरह की न्यूरोपैथी कई अलग कारणों से होती है, जिनका सभी का व्यक्ति पर कुछ बुरा प्रभाव पड़ सकता है। डायबिटिक न्यूरोपैथी भी न्यूरोपैथी के इन्हीं कारणों में से एक है, जो डायबिटीज मेलिटस का प्रमुख कारण है। एक अन्य प्रकार दबाव-प्रेरित न्यूरोपैथी है, जो किसी व्यक्ति द्वारा उच्च रक्तचाप या रक्त प्रकार ए महसूस करने पर होती है। विटामिन की कमी की वजह से पेरिफेरल न्यूरोपैथी हो सकती है, जबकि टाइफाइड बुखार से व्यक्ति को गुइलेन-बैरे सिंड्रोम विकसित हो सकता है। इसके अलावा कई अन्य तरीकों से भी यह स्थिति विकसित हो सकती है। हालांकि, इस विकार की प्रकृति के कारणों को जानना मुश्किल है। इसके उचित निदान के लिए आपको न्यूरोपैथी के प्रकारों की जानकारी होना बेहद ज़रूरी है।

डायबिटिक न्यूरोपैथी

डायबिटिक न्यूरोपैथी

न्यूरोपैथी का एक प्रकार डायबिटिक न्यूरोपैथी है, जो टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों को ज़्यादा प्रभावित करती है। यह नसों में नुकसान की खासियत है और ज़्यादातर पैरों में देखने को मिलती है। जैसे ही किसी व्यक्ति में उच्च रक्त शर्करा (हाइपरग्लाइसीमिया) का स्तर शुरू होता है, तो उसमें इन लक्षणों की शुरूआत हो सकती है। यह दस साल से ज़्यादा समय तक प्रकट नहीं हो सकती है।

यह सुनिश्चित करने का कोई बेहतर तरीका नहीं है कि आप डायबिटिक न्यूरोपैथी विकसित करेंगे या नहीं। हालांकि, जिन लोगों का पारिवारिक इतिहास बार-बार इंफेक्शन का होता है, उनमें इस बीमारी के होने का खतरा ज़्यादा होता है। डायबिटिक न्यूरोपैथी के विकास में योगदान देने वाले अन्य कारकों में पंद्रह वर्षों से ज़्यादा समय तक टाइप 1 डायबिटीज होना और इंसुलिन इंजेक्शन के साथ उपचार लेना शामिल हैं। डायबिटीज के कारण होने वाली न्यूरोपैथी समय के साथ डायबिटीज मेलिटस की वजह बनती है, जो नसों में खराबी है। इसके लक्षणों में सुन्नता और झुनझुनी संवेदनाएं, फोर्टिन का संकेत, पैर गिरना, न्यूरोपैथिक दर्द और गतिभंग (अटाक्सिया) शामिल हैं।

पेरिफेरल न्यूरोपैथी

पेरिफेरल न्यूरोपैथी

पेरिफेरल तंत्रिका तंत्र को नुकसान में अक्सर संवेदी और मोटर लक्षण दोनों शामिल होते हैं। नुकसान वाले हिस्से के आधार पर इसके संकेत और लक्षण अलग होते हैं, लेकिन इसमें जलन या झुनझुनी सनसनी, शरीर के अलग-अलग हिस्सों का सुन्न होना, सहज बिजली के झटके जैसी भावनाएं और दर्द शामिल हो सकते हैं।

न्यूरोपैथी के लक्षण – Neuropathy Ke Lakshan

इसके लक्षण शरीर में कहीं भी दर्द, पूरे शरीर में झुनझुनी का अहसास होना, शरीर के किसी भी हिस्से का सुन्न हो जाना, स्पर्श करने के लिए ज़्यादा संवेदनशीलता शामिल हैं। खासतौर पर शरीर के कुछ हिस्सों पर, शरीर पर कहीं भी मांसपेशियों में ऐंठन, मांसपेशियों में कमजोरी खासकर पैरों और पंजों में। धुंधली दृष्टि का अहसास इसका एक अन्य लक्षण है। जबकि, इसके अन्य लक्षण शरीर के कुछ हिस्सों में कम सजगता या कंपन को महसूस करने की क्षमता का कम होना है।

न्यूरोपैथी के कारण होने वाले लक्षणों को अक्सर इस तरह बताया जाता है-

  • झुनझुनी
  • जलन
  • तेज चुभन का दर्द
  • आपके हाथों और पैरों में सुन्नता या कमजोरी

इस बीमारी के कुछ सबसे आम उपचारों में एंटीडिप्रेसेंट, एंटीकॉन्वेलेंट्स, ओपिओइड और सामयिक एनेस्थेटिक्स जैसी दवाएं, शारीरिक चिकित्सा और सर्जरी शामिल हैं। यह एक गंभीर स्थिति है, जो किसी को कभी भी प्रभावित कर सकती है। इस कमजोर करने वाली बीमारी के बारे में जानकारी होना सभी के लिए ज़रूरी है। पेरिफेरल न्यूरोपैथी एक ऐसी स्थिति है जो हाथों या पैरों की नसों को प्रभावित करती है और इससे यह सुन्न या दर्दनाक हो जाती हैं।

न्यूरोपैथी शब्द अक्सर नसों में दर्द के साथ एक दूसरे के स्थान पर इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन यह तकनीकी रूप से उचित नहीं है। यह बीमारी सुन्नता और दर्द का कारण बनती है, जबकि नसों में दर्द आमतौर पर तेज चुभन यानी असहनीय छुरा घोंपने जैसे दर्द की वजह बनता है।

न्यूरोपैथी के कारण – Neuropathy Ke Karan

अक्सर यह गंभीर बीमारी या डायबिटीज जैसे विकार के कारण होती है। डायबिटिक न्यूरोपैथी इसका सबसे आम रूप है। न्यूरोपैथी वाले डायबिटीज के मरीजों को अक्सर पुराना दर्द महसूस होता है। हालांकि, न्यूरोपैथी वाले कोई भी व्यक्ति आमतौर पर अपनी बेचैनी को दर्दनाक या पिन और सुई जैसी संवेदनाओं के तौर पर बताते हैं। यह संवेदना किसी व्यक्ति के शरीर में कई हिस्सों पर हल्के से लेकर तेज होती है। आमतौर पर यह रात में आराम करने या सोते समय बदतर होती है। कई मरीज अपने हाथों और पैरों में दर्द या सुन्नता से परेशान होते हैं। पेरिफेरल न्यूरोपैथी के लक्षण अन्य स्थितियों या चिकित्सा समस्याओं की तरह लगते हैं, इसीलिए निदान के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करना सुनिश्चित करें।

हालांकि, इसके सबसे आम कारणों में डायबिटीज, शराब, विटामिन की कमी, गुर्दे में खराबी, एचआईवी/एड्स या कैंसर की कुछ दवाओं से उपचार, सीसा और आर्सेनिक जैसे विषैले पदार्थों से संपर्क है, जिसके लिए कीमोथेरेपी और विकिरण चिकित्सा इस्तेमाल की जाती है। कैंसर के उपचार में सिस्टेमेटिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस, ऑटोइम्यून हेपेटाइटिस, सिकल सेल बीमारी या अन्य आनुवंशिक विकारों का इलाज किया जाता है, जिससे हेमोलिटिक एनीमिया या रक्त में ऑक्सीजन का निम्न स्तर होता है।

कुछ दवाएं न्यूरोपैथी का कारण बन सकती हैं, जिसमें कोलेस्ट्रॉल कम करने वाली दवाएं (स्टैटिन), कैंसर कीमोथेरेपी और डायबिटीज की दवाओं के कुछ वर्ग हैं, जैसे मेटफॉर्मिन या ग्लूकोफेज और अन्य ओरल हाइपोग्लाइसेमिक एजेंट। यह दवाएं ले रहे लोगों को लक्षणों के बारे में डॉक्टर से चर्चा करनी चाहिए। न्यूरोपैथी वाले लोगों को अन्य चिकित्सीय स्थितियां भी हो सकती हैं, जैसे उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन), थायराइड विकार, ल्यूपस या सीलिएक रोग। न्यूरोपैथी के लक्षण इसके प्रकार और शरीर के प्रभावित हिस्से के आधार पर अलग हो सकते हैं। जबकि, इसके कुछ प्रकारों की वजह से आपको सुन्नता या झुनझुनी का अहसास भी हो सकता है।

जोखिम – Jokhim

risk factors

न्यूरोपैथी के कुछ जोखिम कारक डायबिटीज, गुर्दे काखराब होना और गुर्दे की पथरी हैं। इसके अन्य कारक विटामिन बी 12, विटामिन बी 1, कैल्शियम की कमी और एल्यूमीनियम विषाक्तता की कमी हैं, जो न्यूरोपैथी का कारण बन सकते हैं।

डायबिटिक न्यूरोपैथी का सबसे आम कारण डायबिटीज है, जो लंबे समय तक शरीर में छोटी रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है। खासतौर रूप से उन तंतुओं के साथ, जो तंत्रिका कोशिकाओं को ऑक्सीजन पहुंचाते हैं। अगर इन रक्त वाहिकाओं में नुकसान होता है या यह खत्म हो जाती हैं, तो तंत्रिका कोशिकाओं को कम ऑक्सीजन पहुंचाई जाएगी और यही समस्या न्यूरोपैथी का कारण बनती है। समय के साथ पैरों में डायबिटीज के घाव, छाले और अल्सर पैदा करती है। न्यूरोपैथी का एक अन्य लक्षण यह है कि जब कोई छोटा घाव या छाला होता है, तो कोई व्यक्ति नोटिस नहीं कर सकता, क्योंकि यह नसों में नुकसान यानी पैरों में होने वाली दर्द प्रतिक्रिया को रोकती है।

गुर्दे में खराबी वाले लोग भी न्यूरोपैथी से पीड़ित हो सकते हैं। गुर्दे की बीमारी यह प्रभावित करती है कि अपशिष्ट, नमक और पानी को हटाकर गुर्दे कितनी अच्छी तरह रक्त को साफ करते हैं। यह कुछ रसायनों के स्तर को भी प्रभावित करता है जो तंत्रिका आवेगों को ले जाते हैं, जैसे सोडियम और पोटेशियम। यह बदलाव मांसपेशियों को प्रभावित करके न्यूरोपैथी का कारण बन सकते हैं, जिससे हाथों और पैरों में भावनाओं में कमी आती है।

गुर्दे की पथरी नसों और मांसपेशियों सहित शरीर के कई अंगों के सभी कार्य को प्रभावित करती है। गुर्दे की पथरी वाले व्यक्ति को हाथों में झुनझुनी या जलन, पैरों में ऐंठन, मांसपेशियों में कमजोरी और संतुलन बनाए रखने में कठिनाई का अनुभव हो सकता है।

बचाव  – Bachav

द ब्रेन फाउंडेशन के अनुसार, किसी व्यक्ति को न्यूरोपैथी बीमारी तब हो सकती है, जब उसके शरीर में न्यूरॉन्स को नुकसान पहुंचा हो। जरूरी नहीं कि आप जीवनशैली में बदलाव करके इस बीमारी से बच सकते हैं। हालांकि, आप स्वस्थ खाने, पर्याप्त व्यायाम करने और ज़्यादा शराब के सेवन से परहेज़ करके भी इस बीमारी को रोकने की कोशिश कर सकते हैं। कई लोग यह जानना चाहते हैं कि वह अपनी बीमारी को पहले से ज़्यादा बिगड़ने से कैसे रोक सकते हैं। इसके लिए आप अपने डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं।

नीचे तीन तरीकों की जानकारी दी गई है,  जिनसे आप अपनी न्यूरोपैथी को ज़्यादा बदतर होने से रोक सकते हैं।

हेल्दी खाएं

eat healthyस्वस्थ भोजन करने से आपको न्यूरोपैथी सहित ज़्यादातर बीमारियों से बचने में मदद मिल सकती है। विटामिन और खनिजों की उचित मात्रा का सेवन करने के लिए बहुत सारे पत्तेदार साग और अन्य सब्जियां खाना सुनिश्चित करें। अगर आपको सब्जियां पसंद नहीं हैं, तो फल भी आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकते हैं। ऐसे में ज़्यादा से ज़्यादा प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचें, क्योंकि इन खाद्य पदार्थों में आमतौर पर आपके शरीर को संभालने के लिए बहुत ज़्यादा सोडियम और चीनी होती है। इसके अलावा, डेयरी उत्पादों से बचने की कोशिश करें, जब तक कि वह उच्च कैल्शियम सामग्री के कारण बिना दही या खट्टा क्रीम न हों।

नियमित रूप से व्यायाम करें

व्यायाम न्यूरोपैथी को दूर करने में भी आपकी मदद करता है। यह आपके परिसंचरण में मदद करता है, जिससे आपके शरीर में पोषक तत्वों को उस जगह भेजना आसान हो जाता है, जहां उन्हें जाने की ज़रूरत होती है। यह आदत आपको विषैले पदार्थों को दूर ले जाती है, जो एक ही स्थान पर लंबे समय तक रहने की अनुमति देने पर नुकसान पहुंचा सकती हैं। साथ ही, व्यायाम से आपको स्वस्थ रहने में भी मदद मिलती है, क्योंकि आपके सक्रिय रहने से आपका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।

शराब का सीमित सेवन करें

शराब आपके शरीर में न्यूरॉन्स को नुकसान पहुंचाने के लिए जानी जाती है। यहां तक कि हफ्ते में एक दिन पीने से भी आपके दिमाग की तंत्रिका कोशिकाओं को कुछ स्थायी नुकसान हो सकता है, इसलिए कोशिश करें कि नियमित रूप से शराब नहीं पिएं और हो सके तो शराब का सेवन छोड़ने की कोशिश करें। कुछ लोगों को मानना है कि उनके लिए इन उपायों का पालन करना अच्छा हो सकता है, जिससे न्यूरोपैथी को बहुत ज़्यादा गंभीर होने से बचाया जा सकता है। अगर आप नसों में नुकसान को अपने दैनिक जीवन को प्रभावित करने से रोकने के बारे में लेकर परेशान हैं, तो इन तीन चरणों का पालन करने से आपको कुछ राहत मिल सकती है।

न्यूरोपैथी एक जटिल बीमारी है, जो आपके शरीर में न्यूरॉन्स को नुकसान पहुंचा सकती है। इसे रोकने के लिए आप कई चीजें कर सकते हैं, लेकिन आपके लिए यह ध्यान रखना ज़रूरी है कि सिर्फ जीवनशैली में बदलाव करके इस बीमारी को रोका नहीं जा सकता है। अगर आप इसे रोकना चाहते हैं, तो स्वस्थ भोजन और नियमित व्यायाम करने के साथ ही आपको ज़्यादा शराब पीने से बचना चाहिए। इससे आपको किसी भी तरह की गंभीर न्यूरोपैथी से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है।

निदान – Nidan

न्यूरोपैथी के लक्षण पैदा करने वाली गंभीर स्थिति का ठीक से निदान किया जाना ज़रूरी है, क्योंकि इसका उपचार किया जा सकता है। दिमाग में न्यूरोट्रांसमीटर को प्रभावित करने वाली दवाओं से मरीज को न्यूरोपैथिक दर्द से राहत मिल सकती है। उदाहरण के लिए, ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट्स और एंटीसेज़्योर दवाएं। न्यूरोपैथी के कई मामलों में डायबिटीज इस स्थिति में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। अकेले संयुक्त राज्य अमेरिका में डायबिटीज 20 मिलियन से ज़्यादा लोगों को प्रभावित करता है, जो न्यूरोपैथी के सभी मामलों में 75 से 80 प्रतिशत के लिए जिम्मेदार है। बढ़ती उम्र के कारण मामलों की संख्या में बढ़ोतरी जारी है, जिससे लोगों को डायबिटीज और उम्र से संबंधित अन्य बीमारियों के विकास का उच्च जोखिम रहता है।

संवेदी तंत्रिकाओं में नुकसान का कारण डायबिटीज के मरीजों में लंबे समय तक उच्च ग्लूकोज स्तर का नतीजा है, जिससे पैरों में दर्द और संवेदी हानि होती है। एक तरह से कार्डियोवैस्कुलर व्यायाम डायबिटीज से पीड़ित मरीजों में रक्त वाहिकाओं के काम को सुधारने में मदद कर सकता है, जिससे रक्त शर्करा का स्तर बेहतर ढंग से नियंत्रित किया जा सकता है। चूहों पर किये गए एक अध्ययन के मुताबिक, जो नियमित रूप से दौड़ते थे, उनके गतिहीन समकक्षों की तुलना में स्वस्थ संवेदी तंत्रिकाएं थीं। व्यायाम करने वाले डायबिटीज के मरीज अपने ग्लूकोज स्तर को कम करने और एंजाइम गतिविधि को बढ़ाने में सक्षम थे। यह ऊर्जा के लिए तंत्रिका कोशिकाओं में ग्लूकोज को मेटाबोलाइज करने में मदद करता है। इस तरह का इसके निदान से न्यूरोपैथिक लक्षणों को कम किया जा सकता है।

न्यूरोपैथी का उपचार – Neuropathy Ka Upchar

Neuropathy Treatment

इसके लिए कोई मौजूदा उपचार नहीं हैं, हालांकि, न्यूरोपैथी के इलाज में मदद करने के तरीके हैं। न्यूरोपैथिक इलाज में मदद के लिए भरपूर आराम करें और पूरे दिन हाइड्रेटेड रहने की कोशिश करें। आपको उन खाद्य पदार्थों से बचने की कोशिश करनी चाहिए, जिनमें संरक्षक होते हैं और नमकीन खाद्य पदार्थों का सेवन सीमित करते हैं। शराब से दूर रहें, क्योंकि यह आपके शरीर में पानी की कमी (डिहाइड्रेशन) कर देगी और। ऐसे में आपके गुर्दे को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है, जिससे आपकी गुर्दे की बीमारी पहले से ज़्यादा खराब हो सकती है। साथ ही अगर आपको डायबिटीज है, तो आपको अपने ब्लड शुगर की रोजाना निगरानी करनी चाहिए।

न्यूरोपैथी से पीड़ित होने पर अपने रक्तचाप पर निज़र रखें। अगर रक्तचाप सामान्य से ज़्यादा है, तो यह गुर्दे की बीमारी या डायबिटीज का संकेत हो सकता है, इसीलिए आपको डॉक्टर से सलाह लेना ज़रूरी है। न्यूरोपैथी के लक्षणों का आसान इलाज आरामदायक जूते पहनना और अपने पैरों को हर समय साफ रखना है। अगर आपको कोई घाव या छाले हैं, जो इंफेक्शन को फैलने से रोकने के लिए इनका ख्याल रखना ज़रूरी है। अगर ऐसा होता है, तो सर्जरी ही इन्हें हटाने का एकमात्र समाधान हो सकती है। सर्जरी सहित कई उपचार मौजूद हैं, लेकिन न्यूरोपैथी का कोई इलाज नहीं है। हालांकि, लक्षणों को दूर करने के लिए कई उपचारों की मदद ले सकते हैं।

न्यूरोपैथिक दर्द के लिए पहला दृष्टिकोण आमतौर पर रूढ़िवादी है, जैसे भौतिक चिकित्सा, एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाएं लेना, या टॉपिकल एजेंटों का इस्तेमाल। ज़्यादा आक्रामक उपचार में चुंबकीय क्षेत्र, अल्ट्रासाउंड या विद्युत धाराओं का इस्तेमाल करना शामिल हो सकते हैं। हालांकि, यह अक्सर सिर्फ थोड़े समय के समाधान होते हैं और बीमा के अंतर्गत नहीं आते हैं। अगर रूढ़िवादी उपचार से मदद नहीं मिलती है, तो अगला कदम आमतौर पर सर्जरी है।

क्या न्यूरोपैथी मौत का कारण बनती है?

न्यूरोपैथी वाले लोगों की मौत का मुख्य कारण दिल की बीमारी है। ऐसा तब हो सकता है जब वह उठते हैं और इधर-उधर घूमते हैं, जिसे आमतौर पर एम्बुलेटरी समस्या कहा जाता है। यह तब होती है जब आप लेटने से लेकर खड़े होने तक जाते हैं। हालांकि, मौत का एक अन्य कारण आपका बेहोश होना है, क्योंकि यह मांसपेशियों में कमजोरी और ऐंठन का कारण बनता है और यह आपके संतुलन को प्रभावित करता है। अगर कोई खुला घाव है, जो अक्सर डायबिटीज से पीड़ित लोगों में होता है, तो इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है।

न्यूरोपैथी वाले ज़्यादातर लोग डायबिटीज जैसी अन्य स्वास्थ्य स्थितियों से भी पीड़ित हैं। अगर इन दोनों बीमारियों का इलाज नहीं किया जाए, तो यह गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती हैं। इसका एक मुख्य जोखिम यह है कि डायबिटीज से पीड़ित लोगों में गुर्दे की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। अगर इन बीमारियों का सही समय पर इलाज न मिले, तो यह दिल से संबंधित समस्याओं, इंफेक्शन, गुर्दे में खराबी या पैर के अल्सर का कारण बन सकते हैं, जिससे कई बार अंग खराब हो जाते हैं, जिन्हें अलग करने के लिए सर्जरी की ज़रूरत पड़ती है।

मंत्रा केयर – Mantra Care

न्यूरोपैथी डायबिटीज से होने वाली गंभीर जटिलता हो सकती है। अगर आप न्यूरोपैथी या डायबिटीज का इलाज ढूंढ रहे हैं, तो आज ही हमारी टीम से संपर्क करें।

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free