मधुमेह (डायबिटीज) के कारण और उपचार – Diabetes Ke Karan Aur Upchar

मधुमेह के कारण

मधुमेह (डायबिटीज) क्या है? Diabetes Kya Hai?

मधुमेह

आमतौर पर मधुमेह (डायबिटीज) के कई कारण कई गंभीर बीमारियां पैदा हो सकती हैं। सामान्य व्यक्ति का शरीर ऊर्जा के लिए ग्लूकोज का इस्तेमाल करता है। मधुमेह की स्थिति में शर्करा (ग्लूकोज) का ऊर्जा स्रोत के तौर पर इस्तेमाल करने की यह क्षमता प्रभावित हो सकती है। ज़्यादातर मामलों में मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति के शरीर में रक्त शर्करा स्तर या ब्लड ग्लूकोज लेवल बढ़ जाता है, जिसे उच्च रक्त शर्करा या हाइपरग्लाइसीमिया के नाम से भी जाना जाता है। यह समस्या एक ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया से कोशिकाओं में इंसुलिन उत्पादन या इंसुलिन प्रतिरोध की कमी की वजह से हो सकती है और आगे चलकर यह कई गंभीर समस्याओं का कारण बन सकती है।

डाक्टरों का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति मधुमेह से पीड़ित है, तो उसे अन्य गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं होने का खतरा रहता है। इनमें दिल की बीमारी और अंधेपन जैसी बीमारी शामिल होती हैं। अगर इस बीमारी का उचित तरीके से इलाज नहीं किया जाता है, तो यह ज़्यादा गंभीर रूप ले सकती है। यही कारण है कि मधुमेह वाले लोगों को अपना ज़्यादा ध्यान रखने और विशेष सावधानियों का पालन करने की सलाह दी जाती है। स्वस्थ भोजन का सेवन और नियमित रूप से व्यायाम ऐसे उपाय हैं, जिससे आपको रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

मधुमेह के लक्षण – Diabetes Ke Lakshan

ऐसे कई लक्षण और संकेत हैं, जिनके ज़रिए आप आसानी से टाइप 1 या टाइप 2 मधुमेह (डायबिटीज) के होने का पता लगा सकते हैं। इनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  • लगातार पेशाब आना
  • बार-बार प्यास लगना
  • बिना वजह वजन घटना
  • थकान का अनुभव होना
  • सुस्ती का अहसास

बताए गए लक्षणों की निगरानी यह जानने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप मधुमेह से पीड़ित हैं या नहीं। इन लक्षणों में किसी भी बदलाव पर ध्यान देते हुए समय-समय पर एआईसी, एफबीएस और एचबीएआईसी जैसे चिकित्सा जांचों की मदद से अपना रक्त शर्करा परीक्षण करना हर किसी व्यक्ति के लिए बहुत ज़रूरी है।

मधुमेह के कारण – Diabetes Ke Karan

मधुमेह के कारण

मधुमेह के कुछ संभावित कारण हैं, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

जीन

आमतौर पर कई कारणों से किसी व्यक्ति को मधुमेह की समस्या हो सकती है, लेकिन कई मामलों में डॉक्टरों द्वारा जीन को मधुमेह के विकास का प्रमुख कारण माना जाता है। इसकी वजह से किसी व्यक्ति में मधुमेह के अलावा कई बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है।

इंसुलिन

इंसुलिन

इंसुलिन कुछ लोगों में मधुमेह के विकास का अन्य प्रमुख कारण हो सकता है, लेकिन टाइप 2 मधुमेह वाले लोग इससे होने वाले जोखिम से बिल्कुल सुरक्षित हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों का शरीर अपने आप इंसुलिन बनाता है। इससे पता चलता है कि उन्हें दवा या सप्लीमेंट जैसे बाहरी स्रोत की ज़रूरत नहीं है। अगर आप ठीक से खाना नहीं खाते हैं, तो आपका अग्न्याशय पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना पाता है, जिससे आपको कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं। हाल के कुछ शोध से पता चलता है कि अगर उच्च रक्त शर्करा के स्तर से होने वाले कोमा को अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो यह चार वयस्कों में से एक के टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित होने का कारण हो सकता है।

उम्र

उम्र का बढ़ना इसका अन्य प्रमुख कारण है। डॉक्टरों की मानें, तो बढ़ती उम्र के साथ ही आपके मधुमेह से पीड़ित होने का जोखिम भी बढ़ जाता है। इस बीमारी में आपकी उम्र एक अहम भूमिका निभाती है, जो युवा लोगों की तुलना में बुजुर्ग लोगों को ज़्यादा प्रभावित कर सकती है। यही कारण है कि आपकी उम्र जितनी ज़्यादा होगी, आपको मधुमेह होना उतना ही आसान होगा। यह आपकी उम्र और जीवनशैली की वजह से हो सकता है, जिसमें आपकी आहार संबंधी आदतें भी शामिल हैं।

वातावरण

वातावरण और खराब खान-पान के कारण किसी भी व्यक्ति में मधुमेह का विकास हो सकता है। प्रदूषण और अलग-अलग रसायनों जैसे पर्यावरणीय कारक मधुमेह की बीमारी का कारण बन सकते हैं।

आहार

Dietशोध बताते हैं कि आपका आहार आपके मधुमेह से पीड़ित होने या नहीं होने का एक अन्य कारण  माना जाता है। इस स्थिति में आपके लिए यह देखना ज़रूरी हो जाता है कि आप रोजाना क्या खाते या पीते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि आपकी आहार से जुड़ी आदतें इस बीमारी के विकसित होने में अहम भूमिका निभा सकती हैं। हालांकि, इसे वयस्कों और बच्चों में अंधेपन का सबसे प्रमुख कारण माना जाता है।

व्यायाम की कमी

नियमित रूप से व्यायाम नहीं करने के कारण आपके टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित होने की संभावना बढ़ जाती है। कुछ स्रोतों के अनुसार यह 50 प्रतिशत से ज़्यादा हो सकता है। यह एक अहम कारक है, जिसके लिए डॉक्टर आपको ज़्यादा सावधानी बरतने और खास ध्यान देने की सलाह देते हैं। आहार और व्यायाम आमतौर पर सबसे बेहतर वजन कम करने के उपाय हो सकते हैं और इससे रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करके मधुमेह की समस्या से बचने में मदद मिल सकती है। कई मामलों में यह आपके इंसुलिन उत्पादन का स्तर भी प्रभावित कर सकता है, जो मोटापे से होने वाले पूर्व मधुमेह से पूर्ण विकसित टाइप 2 मधुमेह में विकास से जुड़ा हुआ है।

अन्य कारण – Anya Karan

मधुमेह से जुड़े अन्य कारण इस प्रकार हैं-

पारिवारिक इतिहास

Family History

मधुमेह या डायबिटीज के विकास में पारिवारिक इतिहास एक ज़रूरी भूमिका निभाता है। ऐसा इसलिए कहा जाता है, क्योंकि आनुवंशिकी यह निर्धारित करती है कि किसी व्यक्ति में टाइप 1 या 2 मधुमेह विकसित हो सकता है या नहीं। कुछ शोधों से पता चलता है कि ऐसे मामलों में पारिवारिक इतिहास एक प्रमुख कारक हो सकता है, जो आपके मधुमेह के विकास में ज़रूरी भूमिका निभाने का काम करता है।

दवाएं

कुछ स्रोतों के अनुसार, स्टेरॉयड जैसी कई ऐसी दवाएं हैं, जो इंसुलिन उत्पादन के स्तर को प्रभावित करने में योगदान कर सकती हैं। इसका मतलब है कि उन्हें पूर्व मधुमेह (प्रीडायबिटीज) से पूर्ण विकसित टाइप 1 मधुमेह के विकास से जोड़ा जा सकता है। आमतौर पर ऐसा तब देखने को मिलता है जब किसी व्यक्ति के द्वारा समय के साथ बहुत ज़्यादा स्टेरॉयड का सेवन किया जाता है।

धुम्रपान

Smokingधूम्रपान को आपकी सेहत के लिए कई तरह से हानिकारक हो सकता है और यह टाइप 2 मधुमेह का आम कारण बनता है। कई बार यह अन्य बीमारियों के विकास में योगदान कर सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि धूम्रपान आमतौर पर इंसुलिन प्रतिरोध का कारण बनता है, जिससे आपके शरीर में दिल की बीमारी, स्ट्रोक, कैंसर और अन्य बीमारियां होने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। यह पूरे शरीर में रक्त के प्रवाह को प्रभावित करने का कम करता है, जिससे मधुमेह से संबंधित जटिलताएं पैदा हो सकती हैं। इन जटिलताओं में नसों में नुकसान यानी न्यूरोपैथी और पैरों या टागों में खराब सर्कुलेशन से होने वाला इंफेक्शन शामिल हैं और कई बार इसके कारण अंगों को अलग करना भी पड़ सकता है।

तनाव

तनाव को मधुमेह के अन्य गंभीर कारण के तौर पर देखा जाता है, जिससे आपके शरीर में तनाव हार्मोन जारी हो सकते हैं। यह कोर्टिसोल जैसे होते हैं, जो कोशिकाओं को इंसुलिन के लिए प्रतिरोधी बनाने का काम करते हैं। इस स्थिति वाले व्यक्ति के शरीर द्वारा ग्लूकोज का इस्तेमाल ऊर्जा के लिए ईंधन के तौर पर नहीं किया जाता है। इससे आपको इंसुलिन प्रतिरोध की समस्या हो सकती है।

कैफीन

कैफीन

कैफीन का सेवन भी मधुमेह के प्रमुख कारणों में से एक हो सकता है, इसीलिए मधुमेह वाले लोगों को डॉक्टर कैफीन के बहुत ज़्यादा सेवन से परहेज़ करने की सलाह देते हैं। यह खासतौर से तब है, जब आपको पहले से ही इस बीमारी के होने का खतरा ज़्यादा है या आप मधुमेह के मरीज हैं। कैफीन का सेवन अग्न्याशय के काम को प्रभावित कर सकता है, जिससे अग्न्याशय के लिए आपकी मांसपेशियों और अन्य ऊतकों के लिए ज़रूरी पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन करना कठिन हो जाता है। यह ठीक से काम करने और आपके रक्तप्रवाह से पर्याप्त चीनी लेने की उनकी क्षमता के लिए है, ताकि वह पूरी क्षमता से प्रदर्शन कर सकें।

उच्च रक्तचाप

उच्च रक्तचाप को हाइपरटेंशन भी कहते हैं, जिससे टाइप 2 मधुमेह होने की संभावना बढ़ जाती है। इससे उच्च रक्तचाप वाले लोगों में अक्सर दिल से संबंधित जटिलताओं का विकास होता है, जिनमें दिल की धड़कन रुकना भी शामिल है और यह मधुमेह के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक हो सकता है। उच्च रक्तचाप आपके शरीर में इंसुलिन के काम को प्रभावित करता है, जिससे छोटी रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचता है। उच्च रक्तचाप की वजह से ऊतक मर सकते हैं, जिससे व्यक्ति के शरीर से अंगों को अलग करना पड़ सकता है।

भारी धातु विषाक्तता (मेटल टॉक्सिसिटी)

इसमें भारी धातुओं से ज़हरीली सिगरेट पीने का जोखिम शामिल है। उदाहरण के लिए- कैडमियम या आर्सेनिक वाला भोजन करना। इन्हें आप प्रदूषित जगहों में उगा सकते हैं, जहां भारी धातुओं जैसे, कीटनाशकों वाली फसलों पर उर्वरकों का इस्तेमाल किया जाता है। यह सीसा, पारा या अन्य जहरीले रसायन हैं, जिनका उपयोग अक्सर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए किया जाता है। इसमें उन दांतों वाले डॉक्टर के कार्यालय शामिल हैं, जो 5 प्रतिशत पारा या ज़्यादा मिली-जुली सिल्वर अमलगम फिलिंग इस्तेमाल करते हैं। जब यह आपके शरीर में जाता है, तो ज़हर बन जाता है और कोशिकाओं के मरने का कारण बन सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह मृत कोशिकाओं के डीएनए और आरएनए को नुकसान पहुंचाता है। यह आपके पूरे शरीर में होता है और इससे आपको कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, जिनमें मधुमेह जैसी कुछ पुरानी स्वास्थ्य स्थितियां शामिल हैं।

खाद्य असहिष्णुता

Food Intoleranceखाद्य पदार्थ के प्रति आपकी असहिष्णुता टाइप 2 मधुमेह के विकास में योगदान कर सकती है। यह खासतौर से तब होता है, जब वह पाचन तंत्र या शरीर में कहीं और सूजन पैदा करते हैं। इससे मेटाबॉलिज्म में बदलाव हो सकते हैं, जो इंसुलिन संचारण के तरीके को प्रभावित करते हैं। यह एक बहुत ही कम निदान वाली स्थिति है, जिसमें ज़्यादातर डॉक्टर इसके बारे में नहीं जानते हैं। इसीलिए, इस प्रक्रिया पर बहुत ज़्यादा शोध की ज़रूरत है। कभी-कभी अपने आहार से इन खाद्य पदार्थों को खत्म करने से उच्च रक्त शर्करा के स्तर से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है। यह टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों की भी मदद करता है।

मोटापा

मोटापे वाले लोगों के शरीर में अतिरिक्त चर्बी मौजूद होती है, जिससे टाइप 2 मधुमेह के विकास की संभावना बढ़ जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह स्थिति शरीर में इंसुलिन के काम करने के तरीके को प्रभावित करती है, जिससे उच्च रक्त शर्करा की समस्या हो सकती है। यह शरीर में बहुत ज़्यादा ग्लूकोज बनने की वजह से होती है और इससे दिल की बीमारी, उच्च रक्तचाप या स्ट्रोक आदि का खतरा बढ़ जाता है। मोटों लोगों में अक्सर मेटाबोलिक सिंड्रोम का विकास होता है, जिनमें कई जोखिम कारक शामिल हैं और इन्हीं में मोटापे की समस्या भी शामिल है। यह उच्च कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स से जुड़ा है, जो एक ही समय में इंसुलिन प्रतिरोध के लक्षण भी दिखा सकता है।

मधुमेह के जोखिम – Diabetes Ke Jokhim 

मधुमेह के जोखिम

मधुमेह के लिए कुछ संभावित जोखिम इस प्रकार हैं:

अग्न्याशय की चोट

अग्न्याशय यानी पैनक्रियाज में चोट लगना मधुमेह के लिए एक संभावित जोखिम कारक हो सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि अग्न्याशय इंसुलिन स्राव के लिए जिम्मेदार होता है। चोट लगने से इसके काम करने का तरीका प्रभावित होता है, जिससे मधुमेह हो सकता है।

इंसुलिन प्रतिरोध

इंसुलिन प्रतिरोध का जल्द निदान नहीं किया जाए, जो यह मधुमेह का एक संभावित जोखिम कारक हो सकता है। ऐसे मामलों में रक्त शर्करा (ब्लड ग्लूकोज) का उच्च स्तर होता है, जो इंसुलिन प्रतिरोध के कारण मांसपेशियों या वसा कोशिकाओं में अवशोषित नहीं हो पाता है। इससे शरीर को बीटा कोशिकाओं से ज़्यादा इंसुलिन उत्पादन की ज़रूरत होती है, जिससे शर्करा को अवशोषित करने में मदद मिलती है। इसके कारण बीटा-सेल रिसेप्टर्स की संख्या में बढ़ोतरी होती है। हालांकि, कुछ समय बाद जब बीटा कोशिकाओं द्वारा सभी क्षमता तक पहुंच जाती है, तो वह अपने काम में कमी करना शुरू कर देते हैं। इससे अग्न्याशय के ऊतक मर जाते हैं और आखिर में यह टाइप 2 मधुमेह में बदल जाता है।

पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज (पीसीओडी)

पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज को पीसीओडील के नाम से भी जाना जाता है। पीसीओजी के कारण अंडाशय ज़्यादा मात्रा में एण्ड्रोजन का उत्पादन करना शुरू कर देते हैं और कभी-कभी यह इंसुलिन प्रतिरोध का मुख्य कारण बनता है। इस स्थिति में अतिरिक्त एण्ड्रोजन उत्पादन सेक्स हार्मोन, एलएच और एफएसएच को रिलीज होने से रोकता है। ऐसे में पीसीओएस की वजह से बढ़े हुए टेस्टोस्टेरोन के साथ एस्ट्रोजन का स्तर कम हो जाता है।

किडनी की बीमारी

मधुमेह समय के साथ आपकी किडनी को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे किडनी की बीमारी होने का जोखिम बढ़ जाता है। इसके अलावा, अगर आपका मधुमेह अनुपचारित या अनियंत्रित रहता है, तो इससे पुरानी किडनी में खराबी की समस्या हो सकती है। इसके लिए आपको जल्द से जल्द किडनी ट्रांसप्लांट करवाने की ज़रूरत होती है।

गर्भावस्था के दौरान समस्याएं

कुछ मामलों में गर्भकालीन मधुमेह (जेस्टेशनल डायबिटीज) के लक्षण शुरुआती अवस्था में पाए जाते हैं। इससे गर्भावस्था के दौरान मैक्रोसोमिया जैसी समस्याएं पैदा हो सकती हैं। इनमें जन्म के समय सामान्य से ज़्यादा वजन, प्रीक्लेम्पसिया, गर्भपात और मृत जन्म शामिल हैं।

सिर की चोट

सिर की चोट के लिए मधुमेह एक संभावित जोखिम कारक हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि मधुमेह के दौरान किसी का तंत्रिका तंत्र खराब हो सकता है, जिससे मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है। इसके कारण खराब संज्ञानात्मक कार्य होता है और इस तरह की दुर्घटना होने की संभावना बढ़ जाती है, जिससे सिर पर चोट लगती है।

दिल की बीमारी

टाइप 1 मधुमेह (डायबिटीज) या टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित लोगों में दिल की बीमारियों से जुड़े उच्च जोखिम होते हैं। इनमें उच्च रक्तचाप, मोटापा यानी ज़्यादा वजन शामिल हैं, जिससे आपका कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ जाता है। इसके अलावा कई अन्य कारक समय के साथ मधुमेह की जटिलताओं को बढ़ाने में योगदान करते हैं। इससे आपके लिए बाद के चरणों में बिना किसी दुष्प्रभाव के इलाज करना कठिन हो जाता है, क्योंकि मधुमेह के लिए ज़्यादातर दवाएं ठीक नहीं होती हैं।

मनोवैज्ञानिक क्षति

टाइप 1 या टाइप 2 मधुमेह वाले लोग समय के साथ अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित नहीं कर पाते हैं। इससे उनमें नसों में नुकसान (न्यूरोपैथी) की समस्या विकसित होती है और यह मनोवैज्ञानिक क्षति का कारण बन सकता है, जो अवसाद और चिंता से मिलते-जुलते हैं। यह आपके मस्तिष्क की कोशिकाओं के अंदर होने वाले बदलावों की वजह से होता है। यह उन्हें संकेत देता है कि आप सामान्य से ज़्यादा तनाव महसूस कर रहे हैं। यह शरीर के अन्य अंगों जैसे पाचन तंत्र आदि को भी प्रभावित करता है, जिससे आपको आगे कई गंभीर जटिलताएं होती हैं।

मधुमेह का उपचार – Diabetes Ka Upchar

मधुमेह का उपचार

मधुमेह को एक गंभीर बीमारी माना जाता है, जिसका कोई इलाज नहीं है, क्योंकि वैज्ञानिकों के पास बीटा कोशिकाओं को बहाल करने का कोई तरीका नहीं है। कुछ बीमारियां अक्सर इन कोशिकाओं को नष्ट कर देती हैं, जिसका इलाज डॉक्टर सर्जरी की मदद से कर सकते हैं। मधुमेह के उपचार का प्राथमिक लक्ष्य रक्त शर्करा के स्तर को कम करना और सामान्य सीमा के अंदर बनाए रखना है, जिससे मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता है।

आधुनिक चिकित्सा मरीजों को नियमित जांच और महंगी दवाओं के सही इस्तेमाल से स्थिति को सफलतापूर्वक नियंत्रित करने में मदद करती है। हांलाकि, इसे आहार, व्यायाम, इंसुलिन पंप या इंसुलिन इंजेक्शन की मदद से भी नियंत्रित किया जा सकता है। दुनिया भर में लाखों लोगों को प्रभावित करने वाले इस पुराने विकार को नियंत्रित करने में एक स्वस्थ जीवन शैली भी सफलता में बहुत योगदान देती है।

निष्कर्ष – Nishkarsh

मधुमेह और उच्च रक्त शर्करा (हाइपरग्लाइसीमिया) की समस्या कई अलग-अलग कारकों का नतीजा है। इनमें आनुवंशिकी, मोटापा, शारीरिक गतिविधि की कमी या ज़्यादा चीनी वाला आहार शामिल हैं, जो टाइप 2 मधुमेह के विकास में प्रमुख जोखिम कारक हैं। जीवनशैली में बदलाव इस बीमारी को विकसित होने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका है, जैसे संतुलित मात्रा में स्वस्थ भोजन और नियमित रूप से व्यायाम करना। मधुमेह वाले लोगों को इसका पता चलते ही स्वस्थ्य दिनचर्या का पालन करने की सलाह दी जाती है। यह रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने का बेहतर तरीका है, जिससे इस पुरानी स्थिति से होने वाली जटिलताओं से बचने में मदद मिलती है। इस ब्लॉग के ज़रिए आपको मधुमेह के कारण और इससे जुड़ी ज़रूरी जानकारी देने की कोशिश की गई है, जिससे आप मधुमेह से बच सकते हैं और रक्त शर्करा को नियंत्रित कर सकते हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free