प्री-डायबिटीज: लक्षण, कारण और जटिलताएं – Pre-diabetes: Lakshan, Karan Aur Jatiltayein

प्री-डायबिटीज

प्री-डायबिटीज क्या है? Pre-Diabetes Kya Hai?

प्री-डायबिटीज की बीमारी हर साल कई लोगों को प्रभावित करती है। आमतौर पर प्री-डायबिटीज वाले मरीजों के लिए ज़रूरी उपचार मिलना बहुत मुश्किल है। यही कारण है कि लोगों में प्री-डायबिटीज का निदान करना कठिन हो सकता है। रक्त शर्करा की जांच के लिए किया जाने वाला प्री-डायबिटीज परीक्षण हमेशा सटीक नहीं होता है। कुछ मामलों में यह परीक्षण गलत नतीजे भी दे सकता है। इस लेख में आपको प्री-डायबिटीज से संबंधित ज़रूरी जानकारी देने की कोशिश की गई है। साथ ही आप जानेंगे कि यह कैसे काम करता है।

प्री-डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है, जिसमें रक्त शर्करा का स्तर सामान्य से ज़्यादा होता है। हालांकि, यह इतना ज़्यादा नहीं होता, कि इसे टाइप 2 डायबिटीज कहा जा सके। कुछ लोग इसका इलाज नहीं करते और अपने रक्त शर्करा को नियंत्रण में रखते हैं। यह बीमारी आपके टाइप 2 डायबिटीज या गर्भावस्था के दौरान डायबिटीज यानी गर्भकालीन डायबिटीज विकसित होने पर बढ़ सकती है। प्री-डायबिटीज के समय पर इलाज से टाइप 2 डायबिटीज, दिल की बीमारी और गुर्दे की समस्याओं से बचा जा सकता है।

लक्षण – Lakshan

प्री-डायबिटीज के लिए खुद कोई लक्षण नहीं होते हैं। डॉक्टरों के मुताबिक, प्री-डायबिटीज से पीड़ित लोगों को अक्सर थकान महसूस हो सकती है। हालांकि, किसी व्यक्ति को इसके लक्षण और संकेत महसूस करने में थोड़ा समय लग सकता है।

प्री-डायबिटीज के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:

  • अचानक से व्यक्ति का वजन घटने की शुरूआत।
  • ज़्यादा प्यास लगने के कारण बार-बार पेशाब आना।
  • धुंधली दृष्टि
  • शरीर के कुछ हिस्सों पर त्वचा का काला पड़ना प्री-डायबिटीज का अन्य लक्षण है। इन पीड़ित हिस्सों में गर्दन, बगल, कोहनी, घुटने और उंगलियां शामिल हैं।

कारण और जोखिम – Karan Aur Jokhim

अगर आपको निम्नलिखित में से कोई भी लक्षण दिखाई देते हैं, तो आपको प्री-डायबिटीज होने की ज़्यादा संभावना है:

  • अगर आपकी उम्र 45 साल से ज़्यादा है।
  • पुरुषों में कमर की माप लगभग 40 इंच से ज़्यादा और अगर आप एक महिला हैं, तो कमर की यह माप 35 इंच होनी चाहिए।
  • ज़्यादा फल या सब्ज़ियां खाने के बजाय रेड और प्रोसेस्ड मीट बार-बार खाएं। अक्सर मीठा पेय पिएं।
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च ट्राइग्लिसराइड्स और कम एचडीएल कोलेस्ट्रॉल इसके अन्य कारण हैं।
  • शारीरिक गतिविधियों में शामिल नहीं होना।
  • अगर आपको गर्भकालीन डायबिटीज है या आपने 9 पाउंड से ज़्यादा वजन वाले बच्चे को जन्म दिया है।
  • अगर आपको पीसीओएस है।
  • सोने के अनिश्चित कार्यक्रम वाले या स्लीप एपनिया से पीड़ित लोग।

कुछ लोग ऊपर बताई गई स्थितियों से पीड़ित होते हैं, जिन्हें डॉक्टर परीक्षण करवाने की सलाह दे सकते हैं। अगर आपके रक्त शर्करा का स्तर सामान्य नहीं है, तो इसके कई कारण हो सकते हैं, जैसेः

  • आपको कोई ऐसी बीमारी है, जो दिल को प्रभावित करती है।
  • आपके शरीर द्वारा इंसुलिन के लिए अच्छी तरह से प्रतिक्रिया नहीं करने के संकेत दिखाई देते हैं। इनमें कुछ हिस्सों में त्वचा का काला पड़ना शामिल है। जबकि, फोकस और एकाग्रता में परेशानी का सामना और सामान्य से ज़्यादा थकान या भूख लगना इसके अन्य लक्षणों में शामिल हैं।

जटिलताएं – Jatiltayein

प्री-डायबिटीज का सबसे गंभीर नतीजा टाइप 2 डायबिटीज का विकास है। बीमारी के अगले चरण यानी डायबिटीज की तरफ बढ़ने पर व्यक्ति कई समस्याओं से पीड़ित हो सकता है, जैसे-

  • उच्च रक्तचाप
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल
  • दिल की बीमारी
  • आघात
  • गुर्दे की बीमारी
  • चेतना की हानि
  • दृष्टि समस्याएं, जैसे दृष्टि की हानि या धुंधली दृष्टि
  • सर्जरी से अंगों को अलग करना

अगर किसी को प्री-डायबिटीज नहीं है, तो इसे साइलेंट हार्ट अटैक और व्यक्तियों की किडनी को गंभीर नुकसान का कारण कहा जाता है।

प्री-डायबिटीज के लिए आहार – Pre-Diabetes Ke Liye Diet

Diet for Pre-Diabetes

प्री-डायबिटीज से पीड़ित मरीजों के लिए कोई खास भोजन नहीं है। हालांकि, चार चीजें इसके निदान और उपचार में आपकी मदद कर सकती हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • चीनी कम खाएं, ज़्यादा प्रोटीन वाली सब्जियां खाएं, हर समय सोडे या जूस के बजाय पानी पिएं और ज़्यादा चलें।
  • भोजन में साबुत अनाज से बने ज़्यादा उत्पादों को शामिल करें।
  • सफेद ब्रेड, आलू और अन्य नाश्ते के अनाज जैसे कार्बोहाइड्रेट खाने से बचें।
  • मीठे पेय पदार्थों के बजाय कॉफी, पानी या चाय का सेवन करें।
  • मार्जरीन, पके हुए माल, तले हुए खाद्य पदार्थों के बजाय वनस्पति तेल, नट्स और बीजों में मौजूद स्वस्थ वसा चुनें।
  • अन्य प्रकार के भोजन जैसे मेवा या साबुत अनाज, चिकन, मछली और बीन्स भी आपके स्वास्थ्य के लिए बेहतर है।

निदान और जांच – Nidan Aur Janch

प्री-डायबिटीज के निदान के लिए डॉक्टर निम्नलिखित में से किसी एक परीक्षण की मदद ले सकते हैं-

  • फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज टेस्ट इस टेस्ट के लिए आपको 8 घंटे तक बिना भोजन किये रहना होता है। इसके बाद रक्त में शर्करा स्तर की जांच के लिए आपके खून का सैंपल लेकर प्रयोगशाला में भेजा जाता है। अगर नतीजों में रक्त शर्करा 100 मिलीग्राम/डीएल से कम है, तो इसे सामान्य माना जाता है। जबकि 100 और 125 मिलीग्राम/जीएल के बीच रक्त शर्करा का मतलब प्री-डायबिटीज है। अगर रक्त शर्करा का स्तर 125 से ज़्यादा आता है, तो आपके डायबिटीज से पीड़ित होने की सबसे ज़्यादा संभावना है।
  • ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट (ओजीटीटी)- टेस्ट आपके ग्लूकोज टॉलरेंस को यह जांच करके मापता है कि आपका शरीर कितनी जल्दी कार्बोहाइड्रेट को अवशोषित और चयापचय (मेटाबोलाइज़) करता है। पहले चरण में आपका फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज टेस्ट किया जाता है। फिर आपको कुछ मीठा खाने के दो घंटे बाद अन्य सैंपल लेकर उसकी जांच की जाती है। इस जांच के परिणाम हैं:
  1. अगर आपके रक्त शर्करा का स्तर सामान्य से ज़्यादा है, तो डायबिटीज विकसित होने की संभावना भी ज़्यादा है।
  2. दूसरे परीक्षण के बाद आपके रक्त शर्करा का स्तर 140 मिलिग्राम/डीएल या उससे कम है, तो डायबिटीज विकसित हो सकता है।
  3. 140 से ऊपर, लेकिन 200 मिलीग्राम/डीएल से कम रक्त शर्करा के स्तर का मतलब आपको प्री-डायबिटीज है।
  • ए1सी परीक्षण- ए1सी डायबिटीज वाले लोगों के लिए किया जाने वाला एक परीक्षण है। यह आपके रक्त में दो से तीन महीनों में औसत शर्करा के स्तर को मापता है। इससे आप जान सकते हैं कि डायबिटीज से पीड़ित लोगों में रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रण में है या नहीं। हालांकि, इसे प्री-डायबिटीज या डायबिटीज का निदान करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके कई परिणाम हो सकते हैं, जैसे:
  1. अगर यह 5.6 प्रतिशत या उससे कम है, तो सामान्य।
  2. 5.7 से 6.4 प्रतिशत है, तो प्री-डायबिटीज।
  3. 6.5 प्रतिशत या उससे ज़्यादा का मतलब है डायबिटीज

बच्चों में प्री-डायबिटीज की जांच

Testing Children with Pre-Diabetes 

मेडिकल कम्यूनिटी अभी प्री-डायबिटीज और वयस्कों के लिए इसके मतलब को समझने की कोशिश कर रही है। हालांकि, इसके बाद भी प्री-डायबिटीज से पीड़ित बच्चों, किशोरों और युवा वयस्कों पर ज़्यादा ध्यान दिया जाता है।

कुछ समय पहले तक प्री-डायबिटीज को अक्सर बचपन की बीमारी नहीं माना जाता था। इसको लेकर डॉक्टरों की एक राय थी। इसके मुताबिक, टाइप 2  डायबिटीज विकसित करने वाले लोग बचपन में प्री-डायबिटीज से पीड़ित रहे होंगे।

सभी मरीजों के लिए रक्त शर्करा के स्तर का इलाज एक जैसे तरीके से किया जाता है। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के अनुसार, दस साल और उससे ज़्यादा मोटापे वाले बच्चे में कई लक्षण हो सकते हैं। इनका पता लगाने के लिए परीक्षण किया जाना चाहिए:

  • अगर माता-पिता को डायबिटीज है, तो यह बच्चे को भी हो सकता है।
  • एक मां, जिसे बच्चे के जन्म के समय गर्भकालीन डायबिटीज था
  • इंसुलिन प्रतिरोध या इससे संबंधित बीमारियों के लक्षण, जैसे जन्म के समय कम वजन, उच्च रक्तचाप या पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम।
  • डायबिटीज के जोखिम वाले बच्चे का हर तीन साल में परीक्षण किया जाना चाहिए। अगर उनके परीक्षण परिणाम सामान्य हैं, तो उन्हें डॉक्टर से तीन साल में दोबारा जांच के लिए कहना चाहिए।

रोकथाम और उपचार – Roktham Aur Upchar

अगर आपको प्री-डायबिटीज है, तो आपके द्वारा इसे अब भी नियंत्रित किया जा सकता है। इसके लिए प्री-डायबिटीज की रोकथाम व्यक्ति का मुख्य उद्देश्य होना चाहिए। स्वस्थ भोजन करने और सक्रिय रहने से इस स्थिति को होने से रोका जा सकता है। इसके अलावा, कुछ दवाएं रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने में मदद कर सकती हैं।

प्री-डायबिटीज की रोकथाम के कुछ अन्य तरीके इस प्रकार हैं –

  • धूम्रपान बंद करें।
  • रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रित करें।
  • डायबिटीज के जोखिम वाले लोग अपने रक्त शर्करा के स्तर को कम करने के लिए मेटफॉर्मिन (ग्लूकोफेज) ले सकते हैं।

डॉक्टर को कब दिखाएं? Doctor Ko Kab Dikhayein?

When to See a Doctor?

अगर आपको कई सालों से प्री-डायबिटीज है, तो इसे सुधारना आपके लिए मुश्किल हो सकता है। इसके लिए आपको अपनी जीवनशैली और खानपान में बदलाव करना चाहिए, जिससे आपका शरीर फिर से स्वस्थ हो सके। अगर आपको डायबिटीज होने की संभावना है, तो अपने डॉक्टर से पूछें कि क्या आपको रक्त शर्करा परीक्षण करवाना चाहिए।

मंत्रा केयर – Mantra Care

मौजूदा समय में प्री-डायबिटीज की समस्या ज़्यादातर लोगों को प्रभावित कर रही है। इसे ज़्यादा गंभीर समस्या में बदलने से रोकने के लिए आप कई उपायों की मदद ले सकते हैं। इनमें स्वस्थ भोजन का सेवन और नियमित रूप से व्यायाम करना शामिल है।

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free