ए1सी परीक्षण: ज़रूरत और सीमाएं – A1C Test: Zarurat Aur Seemayen

A1C: All You Need To Know

ए1सी परीक्षण क्या है? A1C Test Kya Hai?

ए1सी परीक्षण रक्त शर्करा स्तर की जांच करने के लिए सबसे बेहतर तरीका है, जिसे आमतौर पर दो से तीन महीने की अवधि में किया जाता है। डॉक्टरों द्वारा ए1सी परीक्षण का उपयोग रक्त शर्करा का औसत स्तर नापने के लिए किया जाता है। अगर आपका ए1सी लेवल ऊंचा है, तो यह आपके डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए कुछ बदलाव करने का सही समय हो सकता है। साथ ही आप इसकी मदद से आप अंधेपन या गुर्दे की बीमारी जैसी जटिलताएं विकसित होने का जोखिम भी कम कर सकते हैं।

इसके अलावा, पिछले दो से तीन महीनों में आपका औसत रक्त शर्करा स्तर नापने के लिए एक रक्त परीक्षण ग्लाइकेटेड हीमोग्लोबिन है। यह आपके रक्तप्रवाह में लाल रक्त कोशिकाओं में मौजूद ग्लूकोज को नापता है। साथ ही यह जांच करता है कि आपकी कोशिकाओं में इसका कितना निर्माण हुआ है। अगर आपके शरीर में रक्त शर्करा का स्तर बहुत ज़्यादा है, तो यह कई डायबिटीज से संबंधित जटिलताओं का कारण बन सकता है, जिनमें आपकी धमनियों में प्लाक का निर्माण शामिल है। इससे पंजों और उंगलियों में नसों के खराब होने, दिल की बीमारी, गुर्दे की बीमारी, अंधेपन और कई अन्य समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है।

अगर आपका इंडेक्स स्कोर बहुत ज़्यादा है, तो समय के साथ कोशिकाओं में ग्लूकोज की मात्रा भी बहुत ज़्यादा होगी। डॉक्टरों के अनुसार, डायबिटीज मरीजों के लिए लक्ष्य सूचकांक सात प्रतिशत से कम होना चाहिए। हालांकि, कुछ संगठन साढ़े छह से साढ़े सात प्रतिशत से ज़्यादा कम लक्ष्य की सलाह देते हैं, जबकि सामान्य स्तर चार से पांच प्रतिशत या लगभग 100 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर के बीच होता है। यह प्री-डायबिटीज का पता लगाने में मदद कर सकता है, जो डायबिटीज का जोखिम बढ़ाने वाली स्थिति है।

ए1सी परीक्षण की ज़रूरत – A1C Test Ki Zarurat 

आमतौर पर इस परीक्षण का इस्तेमाल स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं द्वारा किया जाता है, जिससे उन्हें प्री-डायबिटीज का पता लगाने में मदद मिल सकती है। वह आपको टाइप 2 डायबिटीज से बचने या जीवनशैली में बदलाव और बीमारी को ट्रैक करके जटिलताएं कम करने के लिए उपचार विकल्पों की सलाह देते हैं। अगर आपके पास डायबिटीज या प्री-डायबिटीज के जोखिम कारक हैं, तो परीक्षण के लिए अपने चिकित्सक से संपर्क करें।

ए1सी से डायबिटीज और प्री-डायबिटीज की जांच – A1C Se Diabetes Aur Pre-diabetes Ki Janch

How does the Test Determine Pre-diabetes and Diabetes

ए1सी परीक्षण से स्वास्थ्य पेशेवरों को टाइप 2 डायबिटीज और प्री-डायबिटीज के निदान में मदद मिलती है। हालांकि, ए1सी परीक्षण के लिए ब्लड सैंपल लेने से पहले आपको उपवास करने की ज़रूरत नहीं है, इसीलिए इसे दिन के किसी भी समय लिया जा सकता है।

गर्भावस्था में ए1सी परीक्षण की ज़रूरत

प्रारंभिक गर्भावस्था के दौरान उच्च जोखिम वाले व्यक्तियों में अनियंत्रित डायबिटीज की जांच के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञ ए1सी का इस्तेमाल करते हैं। गर्भावस्था की शुरुआत में परीक्षण किसी महिला के गर्भवती होने से पहले के समय के आधार पर मूल्य दिखा सकते हैं। ए1सी परीक्षण पिछले तीन महीनों में आपके औसत रक्त शर्करा के स्तर को दर्शाता है।

अगर आपको पहले कभी गर्भकालीन (जेस्टेशनल) डायबिटीज था, तो आपको अपने बच्चे के जन्म के 12 हफ्ते बाद तक डायबिटीज का परीक्षण नहीं करना चाहिए। अगर मौजूदा समय में भी आपके रक्त शर्करा का स्तर ज़्यादा है, तो आपको टाइप 2 डायबिटीज हो सकता है, फिर भले ही आपका रक्त शर्करा का स्तर सामान्य हो। इसकी वजह से भविष्य में आपके टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित होने का खतरा बढ़ जाता है, इसीलिए हर तीन साल में आपको यह जांच करवानी चाहिए।

ए1सी परीक्षण के फायदे – A1C Test Ke Fayde

आपकी स्वास्थ्य देखभाल टीम का एक सदस्य आपके हाथ की किसी नस में एक सुई डालता है या ए1सी परीक्षण के दौरान ब्लड सैंपल लेने के लिए आपकी उंगली में एक पिन चुभोता है। इसके बाद नस से खून इकट्ठा करके विश्लेषण के लिए एक प्रयोगशाला में भेजा जाता है। ए1सी परीक्षण के नतीजों की तुलना आपके रक्त शर्करा स्तर से की जाती है, जिनकी जांच के समय संभावित रूप से जांच की गई थी। अगर आप ज़्यादा प्यास और भूख, ज़्यादा थकान, कमजोरी, मितली, उल्टी, धुंधली दृष्टि या बार-बार पेशाब आने जैसे लक्षण महसूस करते हैं और उच्च ए1सी होने के अलावा कोई अन्य बीमारी नहीं है, तो आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

ए1सी परीक्षण के नतीजों से अलग-अलग निदान संभव है?

जी हां, डायबिटीज से पीड़ित कुछ व्यक्तियों के रक्त में ग्लूकोज़ का नाप होता है, जो ए1सी परीक्षण नहीं होने पर बीमारी को दर्शाता है। एक विपरीत स्थिति में रक्त ग्लूकोज परीक्षण डायबिटीज का संकेत दे सकता है, जब ए1सी परीक्षण नहीं होता है। परीक्षण के नतीजों में इन अंतरों के कारण स्वास्थ्य देखभाल विशेषज्ञ परीक्षण को निदान करने से पहले दोहराते हैं, जिससे मरीज़ में डायबिटीज का जोखिम या डायबिटीज होने और नहीं होने का निर्धारण करने में मदद मिलती है।

ए1सी परीक्षण में नंबरों का मतलब – A1C Test Mein Numbers Ka Meaning

What do the Numbers on the Test Mean?

जब संख्या की बात आती है, तो कोई भी वन-साइज़-फिट-ऑल लक्ष्य काम नहीं करता है। ए1सी लक्ष्य स्तर किसी व्यक्ति की उम्र और अन्य मानदंडों के आधार पर अलग हो सकते हैं और आपका लक्ष्य दूसरों से अलग हो सकता है। डायबिटीज वाले ज़्यादातर व्यक्तियों का उद्देश्य सात प्रतिशत से कम ए1सी है।

ए1सी परीक्षण के नतीजे बाद में प्रतिशत के रूप में बदल जाते हैं, इसलिए पिछले दो से तीन महीनों में आपका रक्त शर्करा का स्तर जितना ज़्यादा रहा है, उतना अच्छा है। निम्नलिखित मानदंडों के आधार पर निदान के लिए ए1सी परीक्षण का इस्तेमाल किया जा सकता है:

  • आपका ए1सी लेवल 5.7 के बीच और 6.5 प्रतिशत से कम है, जो दर्शाता है कि यह प्री-डायबिटीज की सीमा में है।
  • आपका ए1सी स्तर 6.5 प्रतिशत या उससे ज़्यादा होने का मतलब है,कि आपका रक्त शर्करा का स्तर डायबिटीज की सीमा में है।

ए1सी परीक्षण कितना सटीक है? A1c Test Kitna Precise Hai?

ए1सी परीक्षण के नतीजे कई बार दोहराने के बाद पहले माप से ज़्यादा या कम हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, पिछले अध्ययन के आधार पर एक ही ब्लड सैंपल के साथ दोहराए जाने वाले परीक्षण पर 6.8 प्रतिशत का ए1सी 6.4 से 7.2 प्रतिशत की सीमा में दिया जा सकता है, जबकि दूसरा परीक्षण हमेशा पहले माप के कम से कम एक महीने बाद लिए गए अलग ब्लड सैंपल पर किया जाना चाहिए।

ए1सी परीक्षण से डायबिटीज का निदान – A1C Test Se Diabetes Ka Nidan

समय के साथ ग्लूकोज नियंत्रण को मॉनिटर करने के लिए ए1सी परीक्षण का इस्तेमाल किया जाता है। यह स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को बताता है कि आप अपने डायबिटीज को कितनी अच्छी तरह प्रबंधित कर रहे हैं और क्या रक्त शर्करा के स्तर में कुछ समस्याएं हो सकती हैं। इसके साथ ही आपका शरीर सामान्य रूप से ग्लूकोज को कैसे संभालता है। आमतौर पर आपको निदान के बाद एक साल तक हर तीन महीने में ए1सी परीक्षण करवाना चाहिए। जबकि, किसी भी इंसुलिन इंजेक्शन को जारी रखते हुए हर तीन से छह महीने में एक अन्य साल के लिए और फिर उसके बाद सालाना जांच करवाने की सलाह दी जाती है। अगर आप अपने चिकित्सा लक्ष्यों को प्राप्त नहीं कर रहे हैं, तो आपके स्वास्थ्य सेवा प्रदाता आपके ए1सी की ज़्यादा बार जांच कर सकते हैं।

स्व-निगरानी और ए1सी परीक्षण

Self-Monitoring and A1c

ब्लड ग्लूकोज मीटर या किसी अन्य उपकरण के साथ घर पर स्व-निगरानी (सेल्फ-मॉनिटरिंग) करना आपकी उपचार योजना का हिस्सा है। इसके लिए आपकी स्वास्थ्य देखभाल टीम निर्देश देती है कि आपको अपने रक्त शर्करा स्तर की जांच कब और कितनी बार करनी है। एक सेल्फ- मॉनिटरिंग डिवाइस द्वारा प्रति डेसीलीटर चीनी में मिलीग्राम (मिलीग्राम/डीएल) या मिलिमोल चीनी में प्रति लीटर (एमएमओएल/एल) रक्त शर्करा के स्तर के बारे में बताया जाता है। यह नाप आपके द्वारा परीक्षण के समय आपके रक्त शर्करा के स्तर को दर्शाती है। नतीजतन, आपने आखिरी बार कब खाया, इसके आधार पर पूरे दिन में कुछ अलग होती है।

उदाहरण के लिए, अगर आपका रक्त शर्करा का स्तर रात के खाने से पहले 100 मिलीग्राम/डीएल और खाने के एक घंटे बाद 120 मिलीग्राम/डीएल है, तो इस रिपोर्ट में 120 की रीडिंग उपयोग में होगी। 115 का नतीजा 105 की वैल्यू से ज़्यादा हाल के उच्च रक्त शर्करा के स्तर का संकेत दे सकता है, क्योंकि यह मापता है कि पिछले कुछ घंटों में क्या हो रहा है। जबकि 100 मिलीग्राम/डेसीलीटर या उससे कम का नतीजा सामान्य होगा।

101 और 126 के बीच रीडिंग दर्शाती है कि आपका रक्त शर्करा प्री-डायबिटीज की सीमा में है, इसलिए आपको टाइप 2 डायबिटीज के विकास को रोकने के लिए जीवनशैली में बदलाव करना होगा, जिसके लिए आपको स्वास्थ्य देखभाल टीम से मदद की ज़रूरत होगी। अगर आपका परीक्षण 126 से 200 की वैल्यू दिखाता है, तो इसका मतलब है कि आपके रक्त शर्करा का स्तर टाइप 1 डायबिटीज की सीमा में है। इस स्थिति में आपकी स्वास्थ्य देखभाल टीम को आपकी उपचार योजना को तेज करने और ज़्यादा बारीकी से निगरानी करने की ज़रूरत होगी।

201 मिलीग्राम/डीएल या इससे ज़्यादा के परिणाम का मतलब है कि आप टाइप 2 डायबिटीज़ से पीड़ित हैं, क्योंकि यह समय के साथ लगातार उच्च रक्त शर्करा का संकेत देता है। अगर ऐसा है, तो आपकी स्वास्थ्य देखभाल टीम एक उपचार योजना विकसित करने के लिए आपके साथ काम करेगी, जिसमें दवा और जीवनशैली में बदलाव शामिल हैं।

स्व-निगरानी से मदद

स्व-निगरानी से आप अपनी खाने की आदतों, व्यायाम का स्तर और दैनिक उपचार उद्देश्यों का आंकलन कर सकते हैं। यह इस बात पर नज़र रखने में भी मदद करता है कि आप अपने ए1सी लक्ष्य को पूरा कर रहे हैं या नहीं। अगर आपका लक्ष्य सात प्रतिशत से कम का एआईसी बनाए रखना है, तो आपका रक्त शर्करा का स्तर औसतन 154 मिलीग्राम/डीएल यानी 8.6 मिलिमोल/लीटर से नीचे होना चाहिए।

ए1सी तीन महीने की अवधि में रक्त शर्करा के स्तर को नापता है, जो डायबिटीज मैनेज करने के लिए एक ज़रूरी बेंचमार्क है। यह दर्शाता है कि आपका ग्लूकोज पर कितना नियंत्रण है और आप कितनी बार जांच कर रहे हैं। जो मरीज़ 100 मिलीग्राम/डीएल या 5 एमएमओएल/ली से नीचे के औसत स्तर को बनाए रखने के लिए काम करते हैं, वह आमतौर पर कम जटिलताओं का अनुभव करते हैं और डायबिटीज से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं के विकास के जोखिम को कम करते हैं।

ए1सी परीक्षण की सीमाएं – A1c Test Ki Limitations

ए1सी परीक्षण अलग-अलग कारकों से प्रभावित हो सकता है, जिससे होने वाली स्थितियों के कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं:

  • गर्भावस्था
  • ज़्यादा मात्रा में खून की कमी
  • खून चढ़ाना
  • एनीमिया (एक प्रकार की बीमारी, जिसमें लाल रक्त कोशिकाएं कम हो जाती है)
  • हीमोग्लोबिन वेरिएंट

ऑक्सीजन-ट्रांसपोर्टिंग हीमोग्लोबिन प्रोटीन का सबसे लगातार रूप हीमोग्लोबिन ए है। प्रोटीन में अतिरिक्त वेरिएंट की उपस्थिति के कारण दोषपूर्ण ए1सी परीक्षण परिणाम हो सकते हैं। अफ्रीकी, भूमध्यसागरीय या दक्षिण पूर्व एशियाई वंश वाले व्यक्तियों में हीमोग्लोबिन के प्रकार होने की संभावना ज़्यादा होती है। अगर आपके पास हीमोग्लोबिन का प्रकार है, तो डायबिटीज के निदान और निगरानी के लिए आपके परीक्षण को एक विशेष प्रयोगशाला में भेजने की ज़रूरत हो सकती है।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन (एडीए) द्वारा दी गई के अनुसार, डायबिटीज वाले लोगों को 7 प्रतिशत या उससे कम के ए1सी स्तर के लिए कोशिश करनी चाहिए। यह दिल की बीमारी और स्ट्रोक जैसी गंभीर जटिलताओं को रोकने का सबसे अच्छा तरीका है। कुछ लोगों के लिए यह दवा के बिना प्राप्त किया जा सकता है, जबकि अन्य को भोजन योजना और शारीरिक गतिविधि प्रबंधन और इंसुलिन थेरेपी की ज़रूरत होगी। अगर आपको टाइप 2 डायबिटीज है, तो डॉक्टर यह निर्धारित करने में आपकी मदद कर सकते हैं कि आपकी स्थिति के लिए कौन-सा उपचार विकल्प सबसे प्रभावी है। हालांकि, अगर एक योजना काम नहीं करती है, तो निराश न हों क्योंकि रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने के कई तरीके हैं।

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है, जो आपके किसी भी सवाल का जवाब देने और आपकी परेशानी से जुड़ी ज़्यादा जानकारी प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार है, ताकि आप अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जान सकें।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free