ग्लूकोज: आपके ब्लड में शुगर – Glucose: Aapke Blood Mein Sugar

ग्लूकोज क्या है? Glucose Kya Hai?

ग्लूकोज को रक्त शर्करा (ब्लड ग्लूकोज) भी कहते हैं, जिसके लिए हमारे शरीरिक प्रणाली का ठीक से काम करना ज़रूरी है। अक्सर हमारा ग्लूकोज सही लेवल में होता है, जिस पर अक्सर हमारा ध्यान नहीं जाता है, लेकिन ग्लूकोज लेवल ज़्यादा होने पर आपको अस्वस्थ कार्य करने वाले प्रभावों का अहसास हो सकता है। असल में ग्लूकोज एक मोनोसेकेराइड है, जो कार्बोहाइड्रेट का सबसे आसान प्रकार है, जो दर्शाता है कि इसमें सिर्फ शुगर है। फ्रुक्टोज, गैलेक्टोज और राइबोज मोनोसैकराइड के उदाहरण हैं।

शरीर के पसंदीदा स्रोतों में से एक कार्बोहाइड्रेट और फैट हैं, जो शरीर में ईंधन के तौर पर कार्य करते हैं। इनमें ब्रेड, फल, सब्जियां और डेयरी उत्पाद सभी ग्लूकोज के अच्छे स्रोत हैं, लेकिन ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए शरीर को भोजन की ज़रूरत होती है। आपको जीवित रखने के लिए ऊर्जा की ज़रूरत होती है, जिसके लिए ज़रूरी है कि कई अन्य चीजों की तरह उर्जा प्रदान करने वाले खाद्य पदार्थों का अच्छी मात्रा में सेवन किया जाए। अस्वस्थ खाने या अनियंत्रित ग्लूकोज लेवल लंबे समय तक चलने वाली बीमारी का कारण बन सकता है, जिसके नतीजे खतरनाक हो सकते हैं।

ग्लूकोज की ज़रूरत – Glucose Ki Zarurat

हमारे शरीर की हर कोशिका को ऊर्जा की ज़रूरत होती है। यह उन मैटाबॉलिज्म कार्यों को पूरा करती है, जो हमें जीवित रखते हैं। ग्लूकोज एक छोटी साधारण शुगर है, जिसका इस्तेमाल मस्तिष्क, मांसपेशियों, अलग-अलग शारीरिक अंगों और ऊतकों के लिए ऊर्जा के प्रमुख स्रोत के तौर पर किया जाता है।

यह शरीर में ग्लाइकोप्रोटीन और ग्लाइकोलिपिड्स जैसे बड़े संरचनात्मक मॉलिक्यूल्स एक घटक है। हमारा शरीर में इन स्तरों को मज़बूती से नियंत्रित किया जाता है, लेकिन असामान्य रूप से उच्च या निम्न स्तर का गंभीर परिणाम हो सकता है। हालांकि, कुछ अन्य कारक भी गंभीर समस्याओं का कारण बन सकते हैं।

दिमाग के लिए फ्यूल विकसित करना

आमतौर पर ग्लूकोज मस्तिष्क के लिए उर्जा की सभी ज़रूरतों को पूरा करता है। हमारे मस्तिष्क को इसकी उच्च ऊर्जा मांगों और इसे बनाए रखने में असमर्थता के कारण ग्लूकोज की निरंतर आपूर्ति की ज़रूरत होती है। ब्लड शुगर में बड़ी कमी को रोकने के लिए शरीर में कई प्रणालियां मौजूद हैं। शरीर में ब्लड शुगर की कमी को हाइपोग्लाइसीमिया के नाम से भी जाना जाता है। हालांकि, ऐसा होने पर यानी बल्ड शुगर की कमी के कारण मस्तिष्क की कार्यप्रणाली में रूकावट आ सकती है। सिरदर्द, चक्कर आना, भ्रम, ध्यान की कमी, चिंता, चिड़चिड़ापन, बेचैनी, धीमी आवाज और खराब तालमेल सभी सामान्य हाइपोग्लाइसीमिया मस्तिष्क लक्षण हैं। इसके अलावा ब्लड शुगर में तेज और गंभीर कमी से दौरे और कोमा हो सकते हैं।

मांसपेशियों के लिए फ्यूल विकसित करना

आमतौर पर स्केलेटल मसल शरीर के कुल वजन का 30 से 40 प्रतिशत हिस्सा होती हैं। हालांकि यह लिंग, उम्र और फिटनेस लेवल के आधार पर अलग होता है। पढ़ने की गतिविधि के दौरान स्केलेटल मसल्स बहुत ज़्यादा ग्लूकोज का उपभोग करती हैं। मस्तिष्क के विपरीत स्केलेटल मसल्स, ब्लड शुगर को ग्लाइकोजन के रूप में जमा करती हैं, जो शारीरिक व्यायाम के दौरान ग्लूकोज प्रदान करने के लिए जल्द टूट जाती है।

टिशू और अंगों के लिए फ्यूल का काम करना

शरीर में अलग-अलग अंगों और ऊतकों (टिशू) द्वारा कई प्रकार के ईंधन का इस्तेमाल किया जा सकता है। मस्तिष्क और स्केलेटल मसल्स के अलावा अन्य ज़रूरी अंग और ऊतक ऊर्जा के प्राथमिक या एकमात्र स्रोत के तौर पर ग्लूकोज का इस्तेमाल करते हैं। इन अंगों और उत्तकों में आंखों का कॉर्निया, लेंस, रेटिना, लाल और सफेद रक्त कोशिकाएं और अन्य उत्तक शामिल हैं। छोटी आंत की कोशिकाएं भोजन से ग्लूकोज इकट्ठा करने और उसे रक्तप्रवाह में भेजने के लिए जिम्मेदार होती हैं। यह बड़े पैमाने पर ऊर्जा के स्रोत के रूप में ग्लूटामाइन का इस्तेमाल करता है। यह उन अंगों और ऊतकों के लिए ज़्यादा ग्लूकोज मुक्त करता है, जो ज़्यादा शुगर पर निर्भर होते हैं।

मानव शरीर में ग्लूकोज – Human Body Mein Glucose

आमतौर पर हमारा शरीर दिन में कई बार ग्लूकोज को पचाता है। हमारे द्वारा खाए गए भोजन से शरीर तुरंत ग्लूकोज बनाने की प्रक्रिया शुरू कर देता है। इस प्रक्रिया की शुरुआत हमारा शरीर अग्न्याशय (पैनक्रियाज़) की मदद से एंजाइम को तोड़ कर करता है। अग्न्याशय का कार्य इंसुलिन जैसे हार्मोन उत्पन्न करना है, जो हमारे शरीर में ग्लूकोज मैनेज करने के लिए ज़रूरी है। जब भी हम कुछ खाते हैं, तो हमारा शरीर बढ़ते ब्लड शुगर लेवल से निपटने के लिए अग्न्याशय को इंसुलिन रिलीज करने का संकेत देते हैं।

how human body deals with glucose?

कुछ लोग अपने अग्न्याशय के कार्य पर भरोसा नहीं कर सकते, क्योंकि कई बार अग्न्याशय उस तरह से इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता, जैसा उसे करना चाहिए, जिसके कारण डायबिटीज विकसित हो सकती है। इस स्थिति में लोगों को शरीर में ग्लूकोज को पचाने और मैनेज करने के लिए बाहरी मदद यानी इंसुलिन इंजेक्शन की ज़रूरत होती है। इंसुलिन प्रतिरोध डायबिटीज का एक अन्य कारण है, जिसमें लीवर शरीर में इंसुलिन को पहचानने में असमर्थ रहता है और ज़्यादा मात्रा में ग्लूकोज का उत्पादन करता है।

ब्लड शुगर के लेवल को बनाए रखने के लिए लीवर एक ज़रूरी अंग है, क्योंकि यह ग्लूकोज को इकट्ठा करने में मदद करता है और ज़रूरत के हिसाब से ग्लूकोज का उत्पादन करता है। जब शरीर पर्याप्त इंसुलिन नहीं बनाता है, तो शरीर में जमा वसा से मुक्त फैटी एसिड निकलते हैं। कीटोएसिडोसिस इसके कारण होने वाली एक ऐसी ही स्थिति है। कीटोन्स इसमें फैट के टूटने पर लीवर से उत्पादित अपशिष्ट उत्पाद होते हैं, जो ज़्यादा में होने पर हानिकारक हो सकते हैं।

सामान्य ग्लूकोज लेवल क्या है? Normal Glucose Level Kya Hai? 

ब्लड शुगर लेवल शारीरिक प्रणाली में ग्लूकोज की मात्रा के आधार पर सामान्य (नॉर्मल), उच्च (हाई) या निम्न (लो) हो सकता है। यह हमेशा रक्तप्रवाह में मौजूद रहने वाली एक साधारण शुगर है। जब कोई उपवास करता है, खाता है या खा चुका होता है, तो सामान्य ब्लड शुगर लेवल की निगरानी करना संभव है।

जो वयस्क डायबिटीज से पीड़ित नहीं हैं, आमतौर पर उपवास के दौरान उनका ब्लड शुगर लेवल 100 मिलीग्राम/डीएल होता है, जो सामान्य ब्लड शुगर का लेवल होता है। जबकि, जिन लोगों को डायबिटीज नहीं है, खाने के दो घंटे बाद उनका सामान्य स्तर 90 से 110 मिलीग्राम/डीएल होता है।

आपके ब्लड शुगर लेवल को नॉर्मल रेंज में बनाए रखना ज़रूरी है, क्योंकि इससे आपके शरीर को सही और स्वस्थ रूप से कार्य करने में मदद मिलती है। ऐसे में डायबिटीज के मरीजों को अपने ब्लड शुगर लेवल की कड़ी निगरानी करनी चाहिए। खाने से पहले ब्लड शुगर की एक सुरक्षित रेंज 90 से 130 मिलीग्राम/डीएल है, लेकिन एक या दो घंटे के बाद यह 180 एमजी/डीएल से कम होनी चाहिए। ब्लड शुगर लेवल में बदलाव के लिए कई कारणों को जिम्मेदार माना जा सकता है, जिसके कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं:

ब्लड ग्लूकोज लेवल की जांच कैसे करें? Blood Glucose Level Check Kaise Karein?

डायबिटीज वाले लोगों को नियमित रूप से अपने ग्लूकोज लेवल की जांच करवाने की सलाह दी जाती है, जिसके तहत डायबिटीज वाले ज़्यादातर लोगों ने ब्लड शुगर की रीडिंग लेने को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लिया है। साधारण ब्लड टेस्ट सबसे आम तकनीकों में से एक है, जिसे घर पर ग्लूकोज की जांच करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसमें एक छोटी सुई की मदद ली जाती है, जिसे लैंसेट कहते हैं। इसे उंगली पर चुभाया जाता है और एक टेस्ट स्ट्रिप पर रखकर रक्त की एक बूंद ली जाती है। स्ट्रिप को ब्लड शुगर मीटर में डाला जाता है, जो ब्लड में शुगर की मात्रा को मापता है। ज्यादातर मामलों में यह रीडिंग प्रदान करने में बीस सेकंड से भी कम समय लेता है।

जांच करने का समयबिना डायबिटीज वाले लोगों का ब्लड शुगर लेवलडायबिटीज वाले लोगों का ब्लड शुगर लेवल
खाने से पहले100 एमजी./डीएल. से कम80 से 130 एमजी./डीएल.
खाने के 1 से 2 घंटे बाद140 एमजी./डीएल. से कम180 एमजी./डीएल. से कम
3 महीने की अवधि में जिसे ए1सी टेस्ट से माप सकते हैं5.7 प्रतिशत से कम180 एमजी./डीएल. से कम

हाई ग्लूकोज वाले खाद्य पदार्थ – High Glucose Food

हमारे द्वारा खाया गया भोजन शरीर में जाकर ऊर्जा में बदल जाता है। हमें ग्लूकोज, प्रोटीन और फैट से ऊर्जा और कैलोरी मिलती है। हालांकि, कार्बोहाइड्रेट हमारी ऊर्जा का प्राथमिक स्रोत है, लेकिन शरीर में जाने के बाद यही कार्बोहाइड्रेट ग्लूकोज में बदल जाता है, जो एक प्रकार की शुगर है। कई खाद्य पदार्थों में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और फैट सभी मौजूद होते हैं। हमारा शरीर कितनी तेजी से भोजन को ग्लूकोज में बदलने का काम करता है, जो हमारे द्वारा खाए जाने वाले सभी भोजन की मात्रा से प्रभावित होता है।

Food high in glucose

कई प्रकार के खाद्य पदार्थ हमारे ब्लड शुगर लेवल को प्रभावित करते हैं, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

कार्बोहाइड्रेट

ब्रेड, चावल, पास्ता, आलू, सब्जियां, फल, चीनी, दही और दूध में कार्बोहाइड्रेट शामिल हैं। हमारा शरीर हमारे द्वारा उपभोग किए जाने वाले सभी कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज में बदल देता है, लेकिन खाने के एक या दो घंटे के अंदर इसका हमारे ब्लड शुगर लेवल पर तत्काल प्रभाव पड़ता है।

प्रोटीन 

मछली, मांस, पनीर और पीनट बटर सभी प्रोटीन के स्रोतों में शामिल हैं। हालांकि, हमारा शरीर प्रोटीन के कुछ हिस्से को ग्लूकोज में बदल देते हैं। इसका ज़्यादातर भाग रक्तप्रवाह में छोड़ने के बजाय हमारे लीवर में जमा हो जाता है और प्रोटीन के सेवन से ब्लड शुगर लेवल पर मामूली असर होता है।

वसा (फैट)

वसा के स्रोतों में मक्खन, सलाद ड्रेसिंग, एवोकाडो और जैतून का तेल सभी शामिल हैं। हम 10 प्रतिशत से कम वसा का उपभोग करते हैं, जिसे हमारा शरीर ग्लूकोज में बदल देता है। वसा में शुगर धीरे-धीरे पच जाती है, जिससे ब्लड शुगर में कोई बढ़ोतरी नहीं होती है। भले ही वसा ज़्यादा ग्लूकोज प्रदान नहीं करता है, लेकिन एक ज़्यादा वसा वाला आहार इस बात को प्रभावित कर सकता है कि हमारा शरीर कितनी जल्दी कार्बोहाइड्रेट को पचाता है। वसा कार्बोहाइड्रेट को पचने से रोकती है, जिससे ब्लड शुगर का लेवल देर से बढ़ता है। इसकी वजह से खाने के कई घंटे बाद ब्लड शुगर का लेवल बढ़ सकता है।

कुछ लोगों के लिए देर से होने वाली यह प्रतिक्रिया सदमे का कारण बन सकती है। सोने से पहले उच्च वसा वाले खाने के बाद किसी व्यक्ति की ब्लड शुगर लेवल की रीडिंग सामान्य के आसपास हो सकती है। हालांकि, अगली सुबह उसकी ब्लड शुगर 200 से ज़्यादा हो सकती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि भोजन में मौजूद कार्ब्स शरीर को पचने में पूरी रात लगा देते हैं। ऐसे में ध्यान रखना ज़रूरी है कि प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और थोड़ा सी वसा के साथ संतुलित भोजन खाने से ब्लड शुगर लेवल को बहुत ज़्यादा या बहुत जल्द रोकने में मदद मिल सकती है।

ग्लूकोज के नुकसान – Glucose Ke Nuksan

अगर इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो लंबे समय तक बहुत ज़्यादा ब्लड शुगर होने से यह स्वास्थ्य संबंधी गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकता है। हाई ब्लड शुगर यानी हाइपरग्लेसेमिया रक्त धमनियों को नुकसान पहुंचाता है, जो ज़रूरी अंगों में रक्त पहुंचाते हैं। यह दिल की बीमारी, स्ट्रोक, किडनी की बीमारी, दृष्टि संबंधी समस्याओं और तंत्रिका संबंधी समस्याओं के जोखिम को भी बढ़ा सकता है। बच्चों या किशोरों में शायद ही कभी यह समस्याएं दिखाई देती हैं, जिन्हें अभी कुछ वर्षों से यह बीमारी है। हालांकि, डायबिटीज वाले वयस्कों में यह समस्याएं हो सकती हैं। यह खासतौर से तब होता है, जब उनके डायबिटीज को असरदार तरीके से नियंत्रित नहीं किया जाता है ।

एक बार जब हम अपने हाई ब्लड शुगर लेवल को कम करने के लक्ष्य को निर्धारित कर लेते हैं, तो आपकी डायबिटीज हेल्थ केयर टीम आपके द्वारा निर्धारित किए गए लक्ष्य को हासिल करने में आपकी मदद करती है। आमतौर पर एक सिंगल हाई ब्लड शुगर लेवल का माप चिंता का कारण नहीं होती है, लेकिन डायबिटीज वाले लोगों को इस पर ध्यान देने की ज़रूरत होती है। ऐसे में आपको अपनी इंसुलिन या डाइट प्लान में बदलाव की ज़रूरत हो सकती है। हालांकि, कभी-कभी इंसुलिन पंप के काम नहीं करने के कारण आपको समस्या हो सकती है। इसके लिए ज़रूरी है कि किसी भी स्थिति में अपने ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने के लिए जल्द से जल्द चिकित्सा सहायता लेना सुनिश्चित करें।

ब्लड ग्लूकोज लेवल के अस्थिर होने पर क्या करें?

इंसुलिन आपके बढ़े हुए ब्लड शुगर लेवल को कम करने में मदद करता है। अक्सर ब्लड शुगर के बहुत हाई लेवल को डायबिटीज वाले व्यक्ति के लिए चेतावनी माना जाता है, जिसके लिए सिंथेटिक इंसुलिन के इस्तेमाल की ज़रूरत हो सकती है। कम गंभीर परिस्थितियों में शारीरिक गतिविधि से भी आपके लेवल को कम करने में मदद मिल सकती है।

जब ग्लूकोज का स्तर 70 मिलीग्राम/डीएल से नीचे गिर जाता है, तो इसे गंभीर रूप से कम माना जाता है। इस बीमारी का दूसरा नाम हाइपोग्लाइसीमिया है, जो डायबिटीज के मरीजों के लिए काफी खतरनाक हो सकता है। जब डायबिटीज के मरीज अपना प्रस्क्रिप्शन लेना भूल जाते हैं, तो यह स्थिति हाइपोग्लाइसीमिया का कारण बन सकती है। इसके अलावा इसका अन्य कारण लोगों द्वारा जरूरत से कम खाने का सेवन और जरूरत से ज्यादा व्यायाम करना है। ग्लूकोज का स्तर बढ़ाना खाना खाने या जूस पीने जितना आसान हो सकता है।

आप कुछ गोलियां किसी फार्मेसी से भी ले सकते हैं, जिसे ओवर-द-काउंटर के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। आमतौर पर इनका सेवन डायबिटीज के मरीजों द्वारा किया जाता है। कई मामलों में लो ब्लड शुगर की वजह से हमारे सोचने समझने की शक्ति का नुकसान हो सकता है, जिसके लिए चिकित्सा सहायता लेना ज़रूरी है।

मंत्रा केयर – Mantra Care 

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है, जो आपके किसी भी सवाल का जवाब देने और आपकी परेशानी से जुड़ी ज़्यादा जानकारी प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार है, ताकि आप जान सकें कि आपकी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छा इलाज कौन सा है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free