इंसुलिन प्रतिरोध: लक्षण, कारण और प्रभाव – Insulin Resistance: Lakshan, Karan Aur Prabhav

Insulin resistance

इंसुलिन क्या है? Insulin Kya Hai?

हमारे द्वारा खाये गए भोजन को पचाने के लिए हमारा पाचन तंत्र विभिन्न हार्मोन रिलीज़ करता है। इन्ही में से एक इंसुलिन हार्मोन है, जो अग्न्याशय (पैनक्रियाज़) द्वारा जारी किया जाता है। अग्न्याशय से निकलने के बाद इंसुलिन के दो प्रमुख कार्य होते हैं। जब आप कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन करते हैं, तो यह कार्बोहाइड्रेट ग्लूकोज मॉलिक्यूल्स में टूट जाता है। इसके बाद ब्लड शुगर लेवल में वृद्धि के रूप में इंसुलिन पैनक्रियाज़ से निकलता है।

रक्त की कोशिकाओं में इंसुलिन रिसेप्टर्स होते हैं, जिसमें मौजूद ग्लूकोज मॉलिक्यूल्स खुद को इंसुलिन से जोड़ लेते हैं। यह उचित इस्तेमाल के लिए कोशिका के अंदर भेज दिए जाते हैं। कभी-कभी कोशिकाओं को उस समय ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए शुगर की ज़रूरत नहीं होती है।

ऐसे मामलों में इंसुलिन ग्लूकोज मॉलिक्यूल्स को मांसपेशियों की कोशिकाओं, फैट कोशिकाओं और लीवर में बाद में इस्तेमाल के लिए जमा करने के लिए भेजता है। बाद में इस्तेमाल के लिए जमा ग्लूकोज ग्लाइकोजन बन जाता है और जब कोई व्यक्ति भूखा रहता है या उपवास करता है, तो जमा कोशिकाओं से ग्लाइकोजन निकलता है।

इंसुलिन प्रतिरोध क्या है? Insulin Resistance Kya Hai?

कुछ मामलों में इंसुलिन रक्त में मौजूद ग्लूकोज पर प्रतिक्रिया नहीं करता है, जिससे ब्लड शुगर का लेवल बढ़ जाता है। यह इंसुलिन के लिए कोशिकाओं की कमजोर प्रतिक्रिया को दूर करने के लिए पैनक्रियाज़ से ज़्यादा मात्रा में इंसुलिन जारी करने का कारण बनता है और इस स्थिति को इंसुलिन प्रतिरोध कहते हैं। इंसुलिन प्रतिरोध मांसपेशियों, फैट और लीवर में जमा रूप में मौजूद ग्लूकोज का जवाब नहीं देता है।

मांसपेशियों, शरीर में फैट और लीवर में मौजूद कोशिकाएं इंसुलिन द्वारा भेजे गए संकेत को अनदेखा कर देती हैं। साथ ही यह ऊर्जा बनने के लिए रक्त कोशिकाओं द्वारा जमा ग्लूकोज को अवशोषित नहीं होने देती हैं। रक्तप्रवाह में मौजूद ग्लूकोज रक्त में जमा हो सकता है और ब्लड शुगर के लेवल को बढ़ा सकता है। यह डायबिटीज का कारण बनता है और लंबे समय तक रहने पर यह मोटापा, ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल और टाइप 2 डायबिटीज सहित शरीर में कई जटिलताओं को जन्म दे सकता है।

इंसुलिन प्रतिरोध के लक्षण – Insulin Resistance Ke Lakshan

शुरुआती अवस्था में इंसुलिन प्रतिरोध बीमारी के कोई संकेत और लक्षण नहीं दिखाता है। शरीर में इंसुलिन का उत्पादन बढ़ता है, क्योंकि ग्लूकोज और इंसुलिन के प्रति कोशिकाओं के प्रतिरोध में बढ़ोतरी होती है।

ऑन-सेट डिजीज

शुरुआती चरण में लक्षण विकसित नहीं होते हैं, क्योंकि इंसुलिन के ज़्यादा उत्पादन से ब्लड शुगर का स्तर बना रहता है। जैसे-जैसे समय बीतता है पैनक्रियाज़ खराब होने लगता है और ज़्यादा मात्रा में इंसुलिन का उत्पादन करने में सक्षम नहीं होता है, जिससे ब्लड शुगर के लेवल में वृद्धि होती है। ब्लड शुगर के लेवल में का बढ़ना आपका पहला लक्षण हो सकता है, जो इंसुलिन प्रतिरोध का संकेत दे सकता है। हाई ब्लड शुगर लेवल के साथ आपको प्यास लगना, बार-बार पेशाब आना और सिरदर्द जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं। 

आंखों की समस्या

प्रीडायबिटीज वाले लोगों में समय के साथ इंसुलिन रेजिस्टेंस विकसित हो जाता है, जिसके कारण उन्हें आंखों की रोशनी को लेकर परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे मामलों में धुंधली दृष्टि एक सामान्य लक्षण है और कुछ मामलों में इसे ओक्युलर रेटिनोपैथी के रूप में निदान किया जा सकता है। ओक्युलर रेटिनोपैथी उन मरीजों में एक आम आंखों की बीमारी है, जिनका ब्लड शुगर लेवल अनियंत्रित रहता है। अगर ब्लड शुगर के लेवल को लंबे समय तक अनियंत्रित छोड़ दिया जाए, तो यह स्थायी अंधेपन का कारण भी बन सकता है।

शारीरिक निदान

अगर आप अपने इंसुलिन प्रतिरोध विकसित होने के खतरे को जांचना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको अपनी कमर के आकार की जांच करनी होगी। अगर जांच में आपकी कमर का आकार 35 इंच (महिलाओं के लिए) और 40 इंच (पुरुषों के लिए) से ज़्यादा है, तो आपको इंसुलिन प्रतिरोध विकसित होने का ज़्यादा जोखिम हो सकता है। अगर आप किसी विशेष जातीयता से संबंधित हैं, जो बीमारी से जुड़ी हुई है या डायबिटीज का कोई पारिवारिक इतिहास है, तो इससे आपके इंसुलिन प्रतिरोध होने की संभावना ज़्यादा बढ़ सकती है।  

मेटाबॉलिक सिंड्रोम

मेटाबॉलिक सिंड्रोम भी इंसुलिन प्रतिरोध से जुड़ा एक लक्षण है। अगर आपको हाई ट्राइग्लिसराइड्स (150 या उससे ज़्यादा), लो हाई-डेंसिटी लिपोप्रोटीन, हाई ब्लड प्रेशर, हाई ब्लड प्रेशर लेवल और हाई फास्टिंग ब्लड शुगर लेवल है या आप इन लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए दवाएं लेते हैं, तो आपको इंसुलिन प्रतिरोध विकसित होने का ज़्यादा खतरा हो सकता है।

त्वचा का काला पड़ना

इंसुलिन प्रतिरोध के गंभीर मामलों में आपकी त्वचा का काला पड़ना इसके विकसित होने का अन्य लक्षण है, जो आपकी बाहों के नीचे, पीठ, कोहनी, घुटनों या पोर पर दिखाई दे सकता है। त्वचा के इस कालेपन या मलिनकिरण को एसेंथोसिस नाइग्रिकन्स कहते हैं, जो इंसुलिन प्रतिरोध का एक लक्षण है। त्वचा के इन क्षेत्रों में स्किन टैग या कई छोटे त्वचा विकास भी विकसित हो सकते हैं।

अन्य जटिलताएं

इंसुलिन प्रतिरोध शरीर में कई अन्य जटिलताओं को जन्म दे सकता है, जिससे दिल का दौरा, स्ट्रोक और ब्रेन अटैक जैसी दिल की बीमारी होने का खतरा बढ़ सकता है। अगर आपको मेटाबोलिक सिंड्रोम के साथ इंसुलिन प्रतिरोध है, तो आपको मूत्राशय (ब्लैडर), स्तन, कोलन, गर्भाशय ग्रीवा, अग्नाशय (पैनक्रियाज़), प्रोस्टेट और गर्भाशय जैसे कैंसर के विकास का सबसे ज़्यादा जोखिम होता है, जो ट्यूमर के विकास को भी बढ़ावा देता है।

इंसुलिन प्रतिरोध प्रभाव कम करने के तरीके

इस स्थिति का आंकलन करने के लिए कोई नैदानिक परीक्षण नहीं किया जा सकता, लेकिन उपलब्ध कई परीक्षण प्रीडायबिटिक स्थिति का आंकलन करने और इंसुलिन प्रतिरोध को रोकने के लिए किए जा सकते हैं।

आमतौर डॉक्टर पर फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज परीक्षण, ए1सी परीक्षण या ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस परीक्षण करते हैं। इनमें ए1सी परीक्षण पिछले तीन महीनों के ब्लड शुगर के लेवल को निर्धारित करता है, जबकि फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज परीक्षण और ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस परीक्षण वर्तमान स्थिति के आंकलन के लिए किया जाता है। इससे यह जानने में मदद मिलती है कि शरीर ग्लूकोज पर कैसे प्रतिक्रिया करता है।

इस परीक्षण में जिन लोगों के प्रीडायबिटीज होने का पता चलता है, उनमें 5 से 6 साल बाद इंसुलिन प्रतिरोध विकसित होने की संभावना होती है। ब्लड शुगर लेवल के समय पर नियंत्रण के लिए उचित कदम उठाकर इसे रोका जा सकता है। आपको अपने मोटापे के स्तर और बीमारी के लिए अपने परिवार के इतिहास की जांच भी करनी चाहिए। अगर आपको प्रीडायबिटीज या इंसुलिन प्रतिरोध का पता चला है, तो आप इसके प्रभाव को कम करने के लिए कुछ सुझावों का पालन कर सकते हैं, क्योंकि इस बीमारी का कोई स्थायी इलाज उपलब्ध नहीं है।

  • दवाएं

कई डॉक्टर अलग-अलग दवाओं का इस्तेमाल करते हैं, जिससे ब्लड शुगर के लेवल को सामान्य करने में मदद मिलती है। हालांकि, एफडीए इन दवाओं को इस तरह के उद्देश्य के लिए मान्य नहीं करता है। यह दवाएं सिर्फ आपके हेल्थ केयर प्रोवाइडर के लिखे गए प्रस्क्रिप्शन के तहत लेनी चाहिए। यह दवाएं लीवर द्वारा ग्लूकोज के उत्पादन को कम करती हैं और कोशिकाओं के प्रति इंसुलिन की संवेदनशीलता को बढ़ाती हैं।  

  • कीटोजेनिक आहार

एक आहार जो खासतौर से पेट के पास शरीर में फैट कम करने पर केंद्रित है, इंसुलिन संवेदनशीलता को सुधार में मदद कर सकता है। ऐसे उद्देश्य के लिए कीटोजेनिक आहार उपयुक्त होता है। यह आहार सुनिश्चित करता है कि आप शुगर या कार्बोहाइड्रेट वाले उत्पाद नहीं खा रहे हैं, जो बदले में इनसे बनने वाले ग्लूकोज की आपूर्ति को रोकता है। इसकी वजह से शरीर की चर्बी से जमा ग्लूकोज निकलता है और वजन में कमी आती है यानी शरीर की चर्बी कम होती है। कम कार्ब और शुगर वाले आहार लेने से ब्लड शुगर के लेवल को नियंत्रित करने और इंसुलिन प्रतिरोध के प्रभाव को कम करने में मदद मिल सकती है।  

  • रुक-रुक कर उपवास

रुक-रुक कर उपवास करने से शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध को सुधारने में मदद मिल सकती है। भोजन में कार्ब्स के कम सेवन से रक्तप्रवाह में ग्लूकोज की मात्रा कम हो जाती है। इसके लिए शरीर में फालतू इंसुलिन का उत्पादन ज़रूरी नहीं है। इस तरह के भोजन से पैनक्रियाज़ को ठीक होने और इंसुलिन संवेदनशीलता बढ़ाने का समय मिलता है। भोजन का यह तरीका रुक रुक कर उपवास (इंटरमिटेंट फास्टिंग) की तरह रही है, जो पैनक्रियाज़ को आराम देकर इंसुलिन के समान स्तर के साथ ग्लूकोज को बढ़ाता है। इसके कारण समय के साथ इंसुलिन प्रतिरोध का प्रभाव भी कम हो जाता है। लो कार्ब, हाई फैट और समय-समय पर रुक-रुक कर उपवास का तालमेल इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने का सबसे असरदार तरीका है।

  • सक्रिय जीवन शैली

शारीरिक गतिविधि या व्यायाम नियमित रूप से ऊर्जा के लिए शरीर में बनने वाले ग्लूकोज को जला देता है। शारीरिक गतिविधि में शामिल होने से यह सुनिश्चित होता है कि मांसपेशियों में मौजूद ग्लूकोज को ऊर्जा बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जो इंसुलिन के उत्पादन को कम करता है और पैनक्रियाज़ पर पड़ने वाले बोझ कम करता है। एक गतिहीन जीवन शैली होने से मांसपेशियों से ग्लूकोज का इस्तेमाल नहीं हो पाता है, जिसका नतीजा शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध की वृद्धि है।

  • तनाव मुक्त जीवन

अनियमित नींद और ज़्यादा तनाव भी इंसुलिन प्रतिरोध के लेवल को बढ़ाने का काम करते हैं। नींद की कमी ब्लड शुगर के लेवल को बढ़ाती है और इंसुलिन प्रतिरोध को खराब करती है। तनाव के कारण विकसित होने वाले ऐसी स्थिति को अनुकूली इंसुलिन प्रतिरोध (अडेप्टिव इंसुलिन रेजिस्टेंस) कहते हैं। यह तनाव और नींद की कमी के लिए थोड़े समय तक रहने वाले प्रभाव के रूप में हो सकता है और तनाव के स्तर में कमी के साथ ही उचित नींद पैटर्न उत्पन्न होने के बाद ठीक हो जाता है।

इंसुलिन प्रतिरोध का कोई स्थायी इलाज नहीं है, लेकिन अगर उचित आहार का सेवन और शारीरिक गतिविधि में भागीदारी दिखाई जाए, तो स्थिति में सुधार किया जा सकता है। रेगुलर ब्लड ग्लूकोज टेस्ट और सक्रिय जीवनशैली से आपके इंसुलिन प्रतिरोध स्तरों में बदलाव किया जा सकता है। आखिर में शरीर के उचित कार्यों के लिए इंसुलिन ज़रूरी है, क्योंकि यह ऊर्जा के उत्पादन में मदद करता है, लेकिन शरीर में इंसुलिन की बढ़ी मात्रा पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों का कारण बन सकती है।

इंसुलिन प्रतिरोध के कारण – Insulin Resistance Ke Karan

आमतौर पर इंसुलिन प्रतिरोध शरीर के ज़्यादा वजन (फैट), एक गतिहीन जीवन शैली और आनुवंशिकी के कारण होता है।

  • मोटापा

Obesity

पेट और कई अंगों के आसपास मौजूद मोटापा या शरीर में ज़्यादा फैट को आंत की चर्बी कहते हैं, जो इंसुलिन प्रतिरोध का एक प्रमुख कारण है। अगर आपकी कमर 40 इंच (पुरुष) और 35 इंच (महिला) है, तो आप इस बीमारी के शिकार हैं। आपके बॉडी मास इंडेक्स के सामान्य होने या नहीं होने से कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि शरीर में फैट की मौजूदगी ग्लूकोज के जमा होने के बारे में बताती है, जिसका इस्तेमाल ब्लड में ग्लूकोज लेवल गिरने पर किया जाना चाहिए।

शरीर में मौजूद ग्लूकोज तब जमा होता रहता है, जब इंसुलिन उस पर कार्य करने में सक्षम नहीं होता है, जिससे व्यक्ति का वजन बढ़ता है। यह शरीर में विकसित इंसुलिन प्रतिरोध के कारण होता है। शरीर में मौजूद फैट को शरीर में लंबे समय तक चलने वाली सूजन से भी जोड़ा गया है, जो इंसुलिन प्रतिरोध के लिए जिम्मेदार है और कई दिल से जुड़ी बीमारियों का कारण भी बन सकता है।

  • निष्क्रिय जीवन शैली

Inactive lifestyle in insulin resistance

एक निष्क्रिय या गतिहीन जीवन शैली शरीर में कई तरह की बीमारियों का कारण है। ऐसे में खुद को फिजिकल एक्टिविटी या किसी भी तरह की एक्सरसाइज़ में शामिल रखना जरूरी है। जब कोई शरीर शारीरिक गतिविधि में शामिल होता है, तो रक्त में मौजूद ग्लूकोज का अवशोषण ज़्यादा होता है और ब्लड शुगर लेवल बना रहता है। एक निष्क्रिय जीवनशैली आपके शरीर में होने वाले बदलाव का कारण बनती है, जिससे शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध हो सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि ऊर्जा की कम ज़रूरत के कारण बेलड सेल्स में ग्लूकोज का अवशोषण कम हो जाता है।

  • पीसीओएस

PCOS due to insulin resistance

पीसीओएस या पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम महिलाओं में एक ऐसी स्थिति है, जिसमें शरीर में इंसुलिन के उत्पादन की मात्रा बढ़ जाती है। इंसुलिन की यह बढ़ी हुई मात्रा कुछ समय में इंसुलिन प्रतिरोध को जन्म दे सकती है। पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं में इंसुलिन प्रतिरोध होने का खतरा ज़्यादा होता है।

  • स्टेरॉयड

कुछ लोगों की दवाओं में ज़्यादा मात्रा में स्टेरॉयड मौजूद होते हैं। वहीं कुछ लोग अपनी मर्जी से शरीर के कार्य को बढ़ाने के लिए स्टेरॉयड लेते हैं, लेकिन लंबे समय तक लगातार स्टेरॉयड का सेवन करने से हाई ब्लड शुगर की समस्या हो सकती है, जो आपके शरीर को इंसुलिन प्रतिरोधी बना सकता है। अगर ज़्यादा जटिलताएं उत्पन्न होती हैं, तो आप टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित हो सकते हैं।  

  • तनाव

Stress due to insulin resistance

लंबे समय तक तनाव और कम नींद भी शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध का कारण माना जाता है। यह शरीर में लंबे समय तक रहता है और हार्मोन कोर्टिसोल का उत्पादन करता है, जो स्टेरॉयड की तरह काम करता है। कार्बोहाइड्रेट और शुगर की मात्रा में बढ़ोतरी भी रक्त शर्करा के स्तर में बढ़ोतरी का कारण बन सकती है। समय के साथ यह इंसुलिन प्रतिरोध विकसित कर सकती है और अगर इसे अनियंत्रित छोड़ दिया जाए, तो डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।

  • अन्य कारण

बीमारी से जुड़े अन्य कारण और जोखिम कारक हैं, जिसमें गर्भकालीन डायबिटीज, स्वास्थ्य स्थिति, डायबिटीज का पारिवारिक इतिहास या आनुवंशिकी, धूम्रपान, जातीयता, 45 साल से ज़्यादा उम्र, हार्मोनल विकार, नींद की समस्याएं और एचआईवी दवाएं शामिल हैं।  

इंसुलिन प्रतिरोध के प्रभाव – Insulin Resistance Ke Prabhav

जब किसी में इंसुलिन प्रतिरोध विकसित होता है, तो शरीर ज़्यादा इंसुलिन का उत्पादन करके स्थिति से लड़ने के लिए तैयार होता है। इससे पैनक्रियाज़ की इंसुलिन पैदा करने वाली कोशिकाओं पर ज़्यादा दबाव पड़ता है, जिससे वह खराब हो जाती हैं। बीतते समय के साथ पैनक्रियाज़ की कोशिकाएं खराब हो जाती हैं और न्यूनतम इंसुलिन या बिल्कुल इंसुलिन का उत्पादन नहीं होता है, जो प्रीडायबिटीज या टाइप 2 डायबिटीज को जन्म देता है। इससे आपके लीवर और दिल की बीमारियां होने की संभावना भी बढ़ जाती है। शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध भी नॉन-अल्कोहोलिक फैटी लीवर बीमारी का कारण बन सकता है।

प्रीडायबिटीज एक ऐसी स्थिति है, जिसमें शरीर में ब्लड शुगर का लेवल सामान्य से ज़्यादा होता है, लेकिन इतना ज़्यादा नहीं होता कि डायबिटीज का निदान किया जा सके। प्रीडायबिटीज उन लोगों में होती है, जो इंसुलिन प्रतिरोध के शुरुआती चरण में हैं या जिन लोगों के पैनक्रियाज़ की कोशिकाएं बल्ड शगुर के लेवल को नियंत्रित रखने के लिए पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना रही हैं। अगर प्रीडायबिटीज का समय पर इलाज नहीं किया जाता और यह लंबे समय तक बनी रहे, तो इससे टाइप 2 डायबिटीज हो सकती है, क्योंकि शरीर में ब्लड शुगर का लेवल सामान्य मात्रा तक नहीं पहुंचता है।

मंत्रा केयर – Mantra Care 

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है, जो आपके किसी भी सवाल का जवाब देने और आपकी परेशानी से जुड़ी ज़्यादा जानकारी प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार है, ताकि आप जान सकें कि आपकी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छा इलाज कौन सा है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free