प्रीडायबिटीज: लक्षण, निदान और रोकथाम – Prediabetes: Lakshan, Nidan Aur Roktham

प्रीडायबिटीज: लक्षण

प्रीडायबिटीज क्या है? Prediabetes Kya Hai? 

डायबिटीज एक बढ़ती हुई समस्या है और टाइप 1, टाइप 2 डायबिटीज सहित प्रीडायबिटीज को इसका सबसे आम प्रकार माना जाता है। ऐसे में आपके लिए प्रीडायबिटीज परीक्षणों के बारे में जानना बहुत ज़रूरी है। इनसे लक्षण शुरू होने से पहले ही डायबिटीज का पता लगाने में आपकी मदद कर सकते हैं। इस लेख में आप जानेंगे कि इस गंभीर बीमारी को भविष्य में विकसित होने से कैसे रोका जा सकता है।

आमतौर पर प्रीडायबिटीज तब होती है, जब रक्त शर्करा का स्तर सामान्य से ज़्यादा  होता है, लेकिन यह इतना ज़्यादा नहीं होता कि डायबिटीज कहा जा सके। प्रीडायबिटीज वाले लोगों को अक्सर शुरुआत में किसी प्रकार के लक्षण महसूस नहीं होते हैं। हालांकि, यह बीमारी समय के साथ किसी व्यक्ति के शरीर में कई जटिलताओं का कारण बन सकती है। इनमें दिल की बीमारी, गुर्दे की समस्याएं और नसों में नुकसान से संबंधित समस्याएं शामिल हैं। अगर आपको पूरी तरह से डायबिटीज नहीं है, तो भी यह समस्याएं विकसित हो सकती हैं।

प्रीडायबिटीज क्या है

इस स्थिति वाले लोगों में रक्त शर्करा (ब्लड शुगर) का स्तर सामान्य से ज़्यादा होता है। हालांकि, इसका स्तर बहुत ज़्यादा नहीं होता है, इसलिए इसे पूरी तरह से डायबिटीज नहीं माना जा सकता है। एक आंकड़े के मुताबिक, लगभग 93 मिलियन अमेरिकी आबादी प्रीडायबिटीज से पीड़ित है। इनमें से ज़्यादातर लोग ऐसे हैं, जिन्हें इसके होने की जानकारी तक नहीं है। प्रीडायबिटीज, टाइप 2 डायबिटीज, दिल की बीमारी, स्ट्रोक और यहां तक कि कैंसर के विकास के लिए आपके जोखिम को बढ़ाता है। असल में, प्रीडायबिटीज वाले लोगों में दिल का दौरा या स्ट्रोक की संभावना उन लोगों के मुकाबले पांच गुना ज़्यादा होती है, जिन्हें यह नहीं होता है।

प्रीडायबिटीज के लक्षण – Prediabetes

यह निर्धारित करना बहुत आसान है कि आप प्रीडायबिटीज से पीड़ित हैं या नहीं। हालांकि, अन्य लोग निम्नलिखित लक्षणों की पहचान करके प्रीडायबिटीज का पता लगा सकते हैंः

थकान और सुस्ती

यह प्रीडायबिटीज के सबसे आम लक्षणों में से एक माना जाता है। सामान्य गतिविधियों या काम में रुचि की कमी के साथ आप लगातार सुस्ती और थकान महसूस कर सकते हैं। इसके अलावा, ऊर्जा की कमी भी लोगों को अच्छा स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए नियमित तौर पर व्यायाम करने से रोकती है। अगर आप नियमित रूप से पर्याप्त शारीरिक गतिविधि नहीं करते हैं, तो इसके कारण आपका वजन बढ़ सकता है। ज़्यादा शारीरिक वजन किसी व्यक्ति में प्रीडायबिटीज और डायबिटीज के जोखिम को बढ़ावा देता है।

धुंधली दृष्टि

अगर आप डायबिटीज विकसित कर रहे हैं, तो यह आपकी आंखों के देखने के तरीके को बदल देगा। ऐसी स्थिति में सामान्य गतिविधियां करते समय आपको चीजें धुंधली दिखाई देती हैं, जैसे किताब पढ़ना या कंप्यूटर पर खेलना। धुंधली दृष्टि की समस्या डायबिटीज के प्रकारों से आपकी आंखों पर पड़ने वाले प्रभाव के कारण हो सकती है। ऐसे में लक्षण दिखाई देते ही आपको तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है, ताकि आप समय पर प्रीडायबिटीज या डायबिटीज की जांच और निदान करवा सकें।

ज़्यादा प्यास लगना

अनियंत्रित प्रीडायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज का एक अन्य सामान्य लक्षण प्यास का बढ़ना या ज़्यादा प्यास लगना है। ऐसे में पानी पीने के बाद भी आपको दिन भर लगातार प्यास लग सकती है।

बार-बार पेशाब आना

रक्त शर्करा का उच्च स्तर बार-बार पेशाब आने का कारण बन सकता है। यह खासतौर से तब होता है, जब आप रात में जब आप सो रहे होते हैं। यही कारण है कि शरीर द्वारा ग्लूकोज नहीं निकाला जा सकता है, इसलिए यह पेशाब के ज़रिए आपके शरीर से बाहर निकालना शुरू कर देता है। इस स्थिति में आपको वॉशरूम का ज़्यादा बार इस्तेमाल करने की ज़रूरत पड़ सकती है, खासकर रात के समय या दिन के दौरान।

बार-बार संक्रमण

उच्च रक्त शर्करा का स्तर इम्यून सिस्टम को नुकसान पहुंचा सकता है, जिससे आप वायरस और इंफेक्शन के प्रति ज़्यादा संवेदनशील हो जाते हैं। अगर आपको बिना किसी अन्य कारण के अक्सर सर्दी और फ्लू हो जाता है, तो आपके डायबिटीज से पीड़ित होने की संभावना है। हालांकि, अगर आपको नीचे बताए गये लक्षण दिखाई देते हैं, तो यह प्रीडायबिटीज या टाइप 2 डायबिटीज भी हो सकता है:

  • वजन घटना, जो व्यायाम से जुड़ा नहीं है।
  • अगर आपको देर से और आसानी से नहीं भरने वाले घाव हैं।

अगर आप इनमें से किसी भी लक्षण को नियमित रूप से महसूस करते हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए, क्योंकि कई बार यह किसी बीमारी से संबंधित शुरुआती संकेत हो सकता है।

वजन बढ़ना

वजन बढ़ना प्रीडायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज का अन्य सबसे आम लक्षण है, खासकर अगर यह अचानक होता है। आप देख सकते हैं कि आपके कपड़े सामान्य से ज़्यादा टाइट होते जा रहे हैं या आप हर समय फूला हुआ महसूस करते हैं। यह स्थिति आपके स्वास्थ्य में गड़बड़ी की पहचान है। अगर बिना किसी कारण के आपका वजन बढ़ रहा है, तो कई बार यह डायबिटीज का शुरुआती संकेत हो सकता है।

कामेच्छा में वृद्धि

कुछ लोगों का मानना है कि कम सेक्स ड्राइव प्रीडायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज का लक्षण है। अध्ययन बताते हैं कि अनियंत्रित प्रीडायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज के कई मरीजों ने यौन गतिविधियों में रुचि बढ़ाई है। हालांकि, यह अक्सर निराशा और चिंता का कारण बनता है, क्योंकि वह इसके पीछे के कारण से अनजान होते हैं। अगर आप यौन रुचि या गतिविधि में किसी तरह का बदलाव देखते हैं, तो आप डायबिटीज से पीड़ित हो सकते हैं। आमतौर पर  यह बदलाव के लिए किसी अन्य स्पष्टीकरण के बिना हो सकता है। ऐसे में ज़रूरी है कि आप इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करना सुनिश्चित करें।

प्रीडायबिटीज के कारण

एक व्यक्ति को उच्च रक्त शर्करा हो सकता है, लेकिन यह डायबिटीज नहीं है। यह प्रीडायबिटीज हो सकती है और इसका सही कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है। हालांकि, कुछ चीजें इसे होने की ज़्यादा संभावना बनाती हैं। इन्हीं में से एक है मोटापा और पर्याप्त व्यायाम नहीं करना। प्रीडायबिटीज से जुड़ी अन्य सामान्य स्थितियों में उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल और मेटाबोलिक सिंड्रोम शामिल हो सकते हैं।

प्रीडायबिटीज का निदान  – Prediabetes Ka Nidan

प्रीडायबिटीज का निदान

ऐसे कई परीक्षण हैं, जो प्रीडायबिटीज का निदान कर सकते हैं, जैसे:

हीमोग्लोबिन ए1सी टेस्ट:

पहला हीमोग्लोबिन ए1सी परीक्षण है, जो ग्लाइकेटेड हीमोग्लोबिन (एचबीए) और एस्टिमेटेड एवरेज ग्लूकोज (ईएजी) के स्तर को दिखाता है। एचबीए तब बनता है, जब हीमोग्लोबिन प्लाज्मा ग्लूकोज से जुड़ जाता है और ईएजी पिछले तीन महीनों में रक्त शर्करा के स्तर का अंदाज़ा लगाता है।

फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज टेस्ट:

किसी व्यक्ति के डायबिटीज से पीड़ित होने या नहीं होने का पता लगाने के लिए फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज टेस्ट एक सामान्य तरीका है। इस परीक्षण से पहले आपको आठ घंटे तक कुछ खाने के लिए मना किया जाता है, लेकिन तब आप थोड़ा पानी पी सकते हैं। यह परीक्षण आपको बताता है कि क्या किसी को टाइप 2 डायिबिटीज है, क्योंकि रक्त शर्करा का उच्च स्तर आपके शरीर के लिए अच्छा नहीं है। डॉक्टरों के मुताबिक, आईएफजी का स्तर 100 और 125 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर के बीच होना चाहिए।

ग्लूकोज टॉलरेन्स टेस्ट (जीटीटी):

रक्त शर्करा के स्तर को मापने का अन्य सबसे बेहतर तरीका ओरल ग्लूकोज टॉलरेन्स टेस्ट है। यह परीक्षण 75 ग्राम ग्लूकोज वाले पेय पीने और फिर हर घंटे उनके रक्त शर्करा के स्तर की जांच करके किया जाता है। फास्टिंग प्लाज्मा का 200 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर से ज़्यादा स्तर आईएफजी का एक संकेत है, जो डायबिटीज का शुरुआती लक्षण है।

रोकथाम – Roktham

Prevention of prediabetes

टाइप 2 डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है, जिससे आप स्वस्थ वजन पर रहकर और व्यायाम करके बच सकते हैं या इसे रोक सकते हैं। इसके लिए ज़रूरी है कि आप ऐसा आहार लें, जिसमें वसा कम और कार्बोहाइड्रेट ज़्यादा हो। अलग-अलग आयु समूहों और लिंगों के लिए अलग मात्रा में शारीरिक गतिविधि की ज़रूरत होती है, लेकिन सामान्य नियम हर हफ्ते 150 से 200 मिनट के बीच करना है।

डायबिटीक मरीजों के लिए आहार में संतुलित खाद्य पदार्थ होना ज़रूरी है, जिसमें सब्जियां, साबुत अनाज और फल शामिल हैं। इनमें स्वस्थ वसा वाले खाद्य पदार्थ के लिए आप जैतून का तेल या मछली में पाए जाने वाले ओमेगा 3 फैटी एसिड जैसे सैल्मन और टूना का सेवन कर सकते हैं। हालांकि, कैल्शियम का सेवन बढ़ाते हुए सोडियम का सेवन सीमित करना भी ज़रूरी है, क्योंकि दोनों ही किसी व्यक्ति में इंसुलिन प्रतिरोध को बढ़ा सकते हैं।

अन्य कारक जो प्रीडायबिटीज के जोखिम को कम करने के लिए पाए गए हैं, उनमें हल्की शराब का सेवन, धूम्रपान बंद करना और किसी के आदर्श वजन से कम से कम 30 पाउंड कम होना शामिल है। डायबिटीज या प्रीडायबिटीज वाले लोगों के लिए चिकित्सा उपचार लेना भी ज़रूरी है, जिनसे जरूरत पड़ने पर रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

सीडीसी का कहना है कि 84 मिलियन अमेरिकी वयस्क प्रीडायबिटीज से पीड़ित हैं। उन्होंने अभी तक डायबिटीज विकसित नहीं किया है, लेकिन वह भविष्य में इसे विकसित कर सकते हैं।

निष्कर्ष – Nishkarsh

लेख में आपको नए प्रीडायबिटीज परीक्षणों के बारे में बताया गया है। हालांकि, यह जानना बहुत ज़रूरी है कि आपके परिवार का स्वास्थ्य इतिहास क्या है और किस प्रकार की चिकित्सा समस्याएं हो सकती हैं। साथ ही इसे होने से रोकने के लिए आप क्या कदम उठा सकते हैं। अगर आपको लगता है कि यह आपके परिवार के किसी सदस्य के लिए समस्या हो सकती है, तो आज ही अपने डॉक्टर से परामर्श करना सुनिश्चिक करें।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free