डायबिटीज संबंधी गुर्दे की बीमारी (डायबिटिक नेफ्रोपैथी): लक्षण और उपचार – Diabetic Kidney Disease (Diabetic Nephropathy): Lanshan Aur Upchar

DKD and Diabetic Nephropathy

डायबिटीज संबंधी गुर्दे की बीमारी क्या है? Diabetic Kidney Disease Kya Hai?

डायबिटीज संबंधी गुर्दे की बीमारी एक गंभीर समस्या है और हर दस में से एक डायबिटीज का मरीज गुर्दे की बीमारी से पीड़ित है। आमतौर पर इसे डायबिटिक नेफ्रोपैथी भी कहा जाता है। डायबिटिक नेफ्रोपैथी गुर्दे की बीमारी है, जो डायबिटीज संबंधी जटिलताओं की वजह से होती है। डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति में यह बीमारी गुर्दे को उम्मीद से ज़्यादा नुकसान पहुंचाती है। गुर्दे पर डायबिटीज के प्रभाव को समझने के लिए आपको सबसे पहले यह जानना होगा कि किडनी आपके शरीर में क्या काम करती है। इस लेख के माध्यम से आप डायबिटीज संबंधी गुर्दे की बीमारी से जुड़ी कई ज़रूरी बातें जानेंगे। 

गुर्दे के काम – Kidney Ke Kaam

किडनी का सबसे पहला और महत्वपूर्ण काम आपके खून से अपशिष्ट और अतिरिक्त पानी को फिल्टर करना है। शरीर में कुल रक्त का आठ लीटर दिन में 20 से 25 बार किडनी से होकर गुजरता है, जिसका मतलब है कि किडनी 24 घंटे में 180 लीटर रक्त को फिल्टर करती है।

गुर्दे के काम

हमारे शरीर में गुर्दे 3 प्रमुख कामों के लिए भी जिम्मेदार हैं, जैसे:

  • द्रव स्तर को विनियमित (रेगुलेट) करना।
  • विटामिन और खनिजों के पास होने का ट्रैक रिकॉर्ड रखना।
  • शरीर में हार्मोनल डिस्क्रेशन और बैलेंस तैयार करना।

गुर्दे की बीमारियों के प्रकार – Kidney Diseases Ke Prakar

डायबिटीज से होने वाली गुर्दे की बीमारियों के कुछ प्रकार निम्नलिखित हैं-

पुरानी गुर्दे की बीमारी

Chronic Kidney Disease

यह गुर्दे की सबसे आम बीमारियों में से एक है, जिसका प्रमुख कारण उच्च रक्तचाप है, जिसे हाई ब्लड प्रेशर के नाम से भी जाना जाता है। निरंतर रक्त प्रसंस्करण गुर्दे में से एक प्रमुख है और उन्हें हर मिनट रक्त की कुल मात्रा से लगभग 20 प्रतिशत कम काम करने की ज़रूरत होती है। यही कारण है कि रक्त प्रवाह में उच्च दबाव को गुर्दे के लिए खतरनाक माना जाता है। खासतौर से ग्लोमेरुली के लिए, जिसकी कार्यात्मक इकाई गुर्दे हैं।

गुर्दे की पथरी

Kidney Stone

हम कई तरह का खाना खाते हैं और इनसे हमारे शरीर को खनिज और अन्य पदार्थ मिलते हैं। यह रक्त से गुर्दे में जमा हो जाते हैं और छोटे ठोस कण बनाते हैं, जिन्हें गुर्दे की पथरी (किडनी स्टोन) कहा जाता है। कम गंभीर मामलों में डॉक्टर मरीज को ज़्यादा मात्रा में पानी पीने की सलाह देते हैं, ताकि पथरी पेशाब के ज़रिए बाहर निकल जाए। हालांकि, पथरी के आकार के आधार पर डॉक्टर यह भी सुझाव देते हैं कि आप अपने गुर्दे से पथरी को संचालित करते हुए निकालें।

ग्लोमेरुली में चोट या सूजन (ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस)

ग्लोमेरुली में चोट या सूजन

ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस बीमारियों का एक समूह है, जो खून को फिल्टर करने वाले गुर्दे के हिस्से को घायल कर देता है। यह अक्सर ग्लोमेरुली के नाम से जाना जाता है, जिसे नेफ्रैटिस और नेफ्रोटिक सिंड्रोम भी कहा जाता है। जब गुर्दा घायल हो जाता है, तो यह शरीर में अपशिष्ट और अतिरिक्त तरल पदार्थ से छुटकारा नहीं पा सकता है। अगर बीमारी जारी रहती है, तो आपके गुर्दे पूरी तरह से काम करना बंद कर सकते हैं, जिसकी वजह से गुर्दे खराबी हो सकते हैं।

पॉलीसिस्टिक गुर्दे की बीमारी

पॉलीसिस्टिक गुर्दे की बीमारी

आमतौर पर किडनी सिस्ट या किडनी अल्सर कोई नुकसान नहीं पहुंचाते हैं, लेकिन पॉलीसिस्टिक गुर्दे की बीमारी एक ज़्यादा गंभीर स्थिति है। कम शब्दों में कहें, तो यह एक आनुवंशिक विकार है, जो गुर्दे की सतह पर या उसके अंदर विकसित होता है।

पेशाब के रास्ते में इंफेक्शन

पेशाब के रास्ते में इंफेक्शन

यह आपके यूरिनरी सिस्टम के किसी भी हिस्से में हो सकता है, जिसका मुख्य कारण कुछ बैक्टीरियल इन्फेक्शन हैं। हालांकि, यह दो सबसे आम भागों में यह होता है मूत्राशय (ब्लैडर) और मूत्रमार्ग (यूरेथ्रा)।

आमतौर पर इसे कुछ आसान उपचारों की मदद से ठीक किया जा सकता है। अनुपचारित छोड़ दिये जाने पर इंफेक्शन गुर्दे में फैल सकता है, जो गुर्दों में खराबी का कारण भी बन सकता है।

 

डायबिटीज का गुर्दे पर प्रभाव – Diabetes Ka Kidney Par Effect

अगर किसी व्यक्ति को डायबिटीज है, तो यह गुर्दे पर भी प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है। पहले ही डायबिटीज से पीड़ित मरीज के तीन आंतरिक अंग मुख्य रुप से प्रभावित होंगे, जैसे:

  • रक्त वाहिकाएं
  • तंत्रिका प्रणाली
  • पेशाब का रास्ता

रक्त वाहिकाएं हमारे पूरे शरीर में दौड़ती हैं, जिसका गुर्दे से बहुत गहरा संबंध होता है। यह गुर्दे की फ़िल्टरिंग इकाइयों के तौर पर काम करती हैं। रक्त वाहिकाओं के काम में किसी भी तरह की रुकावट से गुर्दे खराब हो सकते हैं, जो एक घातक स्थिति है। डायबिटीज के लिए रक्त शर्करा स्तर में उतार-चढ़ाव रक्त वाहिकाओं को संकीर्ण बनाता है। यह उनके काम में रुकावट डालता है, जिससे पूरे शरीर में रक्त और ऑक्सीजन की आपूर्ति कम हो जाती है। इस तरह आपके शरीर में उच्च रक्तचाप और रक्त वाहिकाओं के नुकसान का खतरा बढ़ जाता है।

डायबिटीज का गुर्दे पर प्रभाव

अलग-अलग हिस्सों में संदेश भेजने और लेने की प्रक्रिया को विनियमित करने के लिए तंत्रिका तंत्र पूरे शरीर में फैला हुआ है। ऐसे में डायबिटीज गुर्दे की नसों को बड़ा नुकसान पहुंचा सकती है, क्योंकि उच्च रक्त शर्करा स्तर से रक्त वाहिकाओं को चोट पहुंचती है। डायबिटीज के कारण आपकी नसों को होने वाले नुकसान से यह आपके मस्तिष्क से संदेश लेने में असमर्थ हो सकती हैं।

उदाहरण के लिए, अगर तंत्रिकाएं आपके मस्तिष्क को एक भरे हुए मूत्राशय के बारे में संदेश नहीं भेज पाती हैं, तो इससे पड़ने वाला दबाव आपके गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकता है। डायबिटीज को पेशाब के रास्ते में इंफेक्शन, यौन संबंधी बीमारी और मूत्राशय से जुड़ी कई अन्य समस्याओं का एक प्रमुख कारण है। अगर मूत्राशय में पेशाब ज़्यादा समय तक रहता है, तो पेशाब में मौजूद बैक्टीरिया की वजह से पेशाब के रास्ते में अलग-अलग तरह के इंफेक्शन हो सकते हैं। इसका शरीर के संवेदी कामकाज पर भी गलत असर हो सकता है।

डायबिटिक नेफ्रोपैथी क्या है? Diabetic Nephropathy Kya Hai? 

डायबिटिक नेफ्रोपैथी

डायबिटीज से होने वाली बीमारी यानी डीकेडी को डायबिटिक नेफ्रौपेथी भी कहते हैं। यह एक गंभीर पुरानी बीमारी है, जो मानव शरीर से अपशिष्ट को निकालने के लिए किडनी को खराब कर देती है। डायबिटीज के 25 प्रतिशत मरीजों को यह बीमारी आपने पूर्वजों से विरासत में मिलती है। अगर वह स्वस्थ जीवन शैली का पालन नहीं करते हैं, तो स्थिति ज़्यादा गंभीर हो सकती है। डायबिटिक नेफ्रोपैथी का दूसरा नाम किडनी डायबिटीज है। इसका सबसे खतरनाक नतीजा आपकी किडनी फेल होना है, जिसे किडनी की बीमारी का आखिरी चरण (एंड-स्टेज किडनी डिजीज) भी कहा जाता है।

डायबिटिक नेफ्रोपैथी के चरण – Diabetic Nephropathy Ke Stages

ग्लोमेरुलर फिल्ट्रेशन रेट यानी जीएफआर के आधार पर डीकेडी या डायबिटिक नेफ्रोपैथी को 4 चरणों में बांटा गया हैं। जीएफआर कुछ और नहीं, बल्कि सबसे ज़रूरी काम है यानी इसमें आपके गुर्दे रक्त को फिल्टर करते हैं। आमतौर पर, एक सामान्य शरीर में किडनी का जीएफआर 100 प्रतिशत होता है, लेकिन डायबिटिक किडनी डिजीज में किडनी के काम कम हो जाते हैं।

इसके 4 चरण इस प्रकार हैं:

पहला चरण बीमारी बीमारी की कोमल अवस्था है, जहां उपचार के ज़रिए गुर्दे को उनके समुचित कार्य के लिए ठीक किया जा सकता है। इस स्तर पर जीआरएफ 90 प्रतिशत से ऊपर होता है।

दूसरा चरण गुर्दे का कम नुकसान है, जिसका जीएफआर 60 प्रतिशत है। इस स्तर पर डॉक्टर गुर्दे की बीमारी का निदान नहीं करते हैं।

तीसरे चरण में जीएफआर 15 से 60 प्रतिशत होता है और तब गुर्दे की बीमारी का निदान किया जाता है।

अगर जीएफआर 15 प्रतिशत से नीचे चला जाता है, तो यह गुर्दे के पूरी तरह से खराब होने की स्थिति होती है। आमतौर पर इसे डायबिटिक नेफ्रोपैथी का चौथा चरण कहा जाता है।

लक्षण – Lakshan

कई बार शुरुआती अवस्था में आपको डायबिटिक नेफ्रोपैथी के लक्षणों का पता नहीं चल पाता है। हालांकि, अगर एक बार बीमारी बाद के चरणों में पहुंच जाए, तो लक्षण काफी स्पष्ट और दिखाई देने वाले होते हैं। डायबिटीज संबंधी किडनी की बीमारी से पीड़ित होने पर आपको कुछ लक्षणों का अनुभव हो सकता है, जैसे:

  • अनियंत्रित रक्तचाप
  • पेशाब में ज़्यादा प्रोटीन
  • आपके शरीर के कुछ हिस्सों में सूजन (पैर, टखने, हाथ या आंखें)
  • पेशाब करने की इच्छा बढ़ जाना
  • थकान
  • खुजली
  • मतली और उल्टी
  • भूख में कमी
  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि किडनी की बीमारी के लक्षण सिर्फ डीकेडी के लिए प्रमुख नहीं हैं। बल्कि, आप कुछ अन्य बीमारियों में भी यह लक्षण देख सकते हैं।

कारण – Karan

अगर आप बीमारी के मामलों की संख्या को देखें, तो उनमें से दो-तिहाई निम्न कारणों से होते हैं:

  • डायबिटीज (उच्च रक्त शर्करा): 20 साल की उम्र से पहले डायबिटीज का विकास आपको अन्य की तुलना में विरासत में मिल सकता है, जो डायबिटीज नेफ्रोपैथी के विकास की संभावना भी बढ़ा सकता है।
    उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन): अनियमित रक्तचाप या उच्च रक्तचाप होना डायबिटीज संबंधी किडनी की बीमारी के सबसे सामान्य कारणों में से एक है।
  • ज़्यादा वजन: उच्च बॉडी मांस इंडेक्स (बीएमआई) होना भी डायबिटीज नेफ्रोपैथी का एक बड़ा कारण हो सकता है। आमतौर पर यह अन्य बीमारियों के साथ आता है, जिनमें मोटापा, उच्च रक्तचाप और दिल से जुड़ी समस्याएं शामिल हैं।

इसके कुछ अन्य कारणों में शामिल हैं:

  • पायलोनेफ्राइटिस: यह किडनी के इंफेक्शन को फिर से जीवित करता है
  • वेसिकौरेटेरल: यह एक ऐसी स्थिति है, जो पेशाब को आपकी किडनी में इकट्ठा करने का काम करती है।
  • बढ़े हुए प्रोस्टेट, किडनी की पथरी और कैंसर: यह समस्याएं पेशाब के रास्ते में लगातार रुकावट पैदा करती हैं।
  • ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस: यह सूक्ष्म रक्त वाहिकाओं का गुच्छा होता है, जो रक्त को फिल्टर करने और शरीर के अपशिष्ट पदार्थ को बाहर निकालने का काम करता है। आमतौर पर गुर्दे की फ़िल्टरिंग इकाइयों को ग्लोमेरुली कहा जाता है।

जोखिम – Jokhim

डीकेडी के जोखिम को बढ़ाने में ज़्यादा योगदान देने वाले कारक हैं:

  • कुछ समुदाय, जैसे अफ्रीकी-अमेरिकी, मूल अमेरिकी या एशियाई अमेरिकी।
  • अनुवांशिक
  • बुढ़ापा
  • किडनी में संरचना में खराबी
  • मोटापा
  • धूम्रपान
  • दिल से संबंधित बीमारी

जटिलताएं – Jatiltayein

किडनी की बीमारी आपके शरीर के लगभग सभी अंगों को खराब करने की क्षमता रखती है, जिससे होने वाले नुकसान में शामिल हैं:

  • अंतिम चरण की किडनी की बीमारी (ईएसआरडी)
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) में कमी
  • द्रव प्रतिधारण की वजह से फेफड़े, हाथ और पैरों में सूजन
  • कमजोर हड्डियां और हड्डियों का टूटना
  • उच्च रक्तचाप
  • खून की कमी (एनीमिया)
  • नपुंसकता
  • सेक्स ड्राइव में कमी
  • कम प्रजनन क्षमता
  • गर्भावस्था की जटिलताएं (मां और भ्रूण, दोनों के लिए जोखिम)
  • आपके केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में नुकसान

बचाव – Bachav

डायबिटीज संबंधी किडनी की बीमारी के विकास का जोखिम कम करने के लिए आप निम्नलिखित काम कर सकते हैं:

  • डायबिटीज को नियंत्रित करें: अगर आपका डायबिटीज पर बेहतर नियंत्रित है या आप उच्च रक्त शर्करा स्तर को ठीक से प्रबंधित कर रहे हैं, तो गुर्दे की बीमारी विकसित होने की संभावना कम होती है।
  • रक्तचाप का प्रबंधन: आपकी रक्त शर्करा का स्तर सामान्य के करीब होना बहुत ज़रूरी है, क्योंकि उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने से गुर्दे की बीमारियों में बहुत ज़्यादा योगदान होता है।
  • ओवर-द-काउंटर दवाओं से सावधान रहें: मांसपेशियों में ऐंठन या सिरदर्द होने पर लोग अक्सर दर्द निवारक दवाएं लेते हैं, जैसे- एस्पिरिन, एडविल और मोट्रिन। हालांकि, इस तरह की बिना पर्चे वाली दर्द निवारक दवाएं आपको नुकसान पहुंचा सकती हैं। ऐसे में आपको दवाओं के पैकेज पर दिए निर्देशों को ध्यान से पढ़ना चाहिए। अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो इस तरह की दवाएं लेने से आपकी स्थिति पहले से ज़्यादा बदतर स्थिति हो सकती है।
  • वजन को प्रबंधित करना: ज़्यादा वजन यानी मोटापा आपकी शारीरिक स्थितियों और किसी भी काम के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। ज़्यादा वजन उन प्रमुख कारकों में से एक है, जो लगभग हर बीमारी का कारण है। इसके लिए दैनिक आधार पर कुछ वजन घटाने की गतिविधियां शामिल करना और कम कैलोरी का सेवन ध्यान में रखना ज़रूरी है। सुनिश्चित करें कि आप जितनी कैलोरी ले रहे हैं, उतनी कैलोरी बर्न कर रहे हैं।
  • धूम्रपान से परहेज़: सिगरेट पीना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। धुम्रपान आपके गुर्दे को नुकसान पहुंचाता है। अगर आपको पहले से गुर्दे की कोई बीमारी है, तो आपको धूम्रपान छोड़ने के तरीकों की मदद लेनी चाहिए। इसके लिए आप सहायता समूह परामर्श सहित कुछ दवाएं ले सकते हैं, जिससे आपको धूम्रपान छोड़ने में मदद मिल सकती है।

उपचार – Upchar

डायबिटीज से होने वाली किडनी की बीमारी के इलाज का कोई स्थायी समाधान नहीं है। हालांकि, कई तरीकों से आप किडनी में सूजन को कम कर सकते हैं, जिससे आपको रक्त शर्करा का स्तर कम करने में मदद मिलती है। अगर आपकी किडनी की स्थिति समय के साथ खराब होती जा रही है और आप किडनी की बीमारी के आखिरी स्टेज में पहुंच जाते हैं, तो डॉक्टर आपको डायलिसिस जैसे उपचारों की सलाह दे सकते हैं। इसके अलावा आप कई विकल्पों की मदद ले सकते हैं, जैसे-

दवाएं

डॉक्टर द्वारा बताई गई इंसुलिन की खुराक के इस्तेमाल करने और रक्त शर्करा का स्तर सामान्य के करीब बनाए रखने से आपको डायबिटिक नेफ्रोपैथी में मदद मिल सकती है। अगर आपके पास किडनी की बीमारी का पारिवारिक इतिहास है, तो आपको डॉक्टर से अपॉइंटमेंट लेना चाहिए। साथ ही खुद को बीमारी से बचाने के लिए पूरी सावधानी बरतनी चाहिए।

डायलिसिस

कुछ गंभीर मामलों में यह बीमारी समय के साथ ज़्यादा खराब हो जाती है और मरीज ईएसआरडी यानी अंतिम चरण की किडनी की बीमारी से पीड़ित हो सकता है। ऐसे में मरीज के सामने डायलिसिस या किडनी ट्रांसप्लांट सहित दो ही विकल्प बचते हैं। ऐसे में सिर्फ डॉक्टर आपको बीमारी के इलाज का सही तरीका बता सकते हैं।

आहार और जीवन शैली में बदलाव से डायबिटीज या मोटापे की समस्या को कम किया जा सकता है। इस स्थिति में मरीजों के सामने वजन कम करने उपाय ही एकमात्र विकल्प हैं, जो आपके स्वास्थ्य और शरीर के काम को बेहतर बनाने में मदद करता है। आप पहले से हो चुके नुकसान को पूरी तरह से खत्म नहीं कर सकते हैं, लेकिन यह ज़रूर सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपकी किडनी में कोई परेशानी न हो।

स्वस्थ गुर्दे के उपाय – Healthy Kidneys Ke Upay

नीचे कुछ प्रमुख बिंदु दिए गए हैं, जो मुट्ठीभर आकार जितनी किडनी को स्वस्थ रख सकते हैं।

  1. फिटनेस और सक्रियता
  2. सामान्य के करीब रक्त शर्करा का स्तर
  3. रक्तचाप के स्तर को मॉनिटर करना
  4. बहुत सारे तरल पदार्थ पीने की आदत
  5. स्वस्थ बीएमआई के लिए अपने वजन की निगरानी
  6. धूम्रपान से परहेज़
  7. ओवर द काउंटर गोलियों के सेवन बचाव
  8. किडनी की नियमित जांच

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free