डायबिटीज की दवाएं: कार्य और नुकसान – Diabetes Drugs/Medication: Karya Aur Nuksan

diabetes drugs

Contents

टाइप 2 डायबिटीज की दवाएं – Type 2 Diabetes Ki Drugs/Medication

आमतौर पर डायबिटीज की दवाएं आपके रक्त शर्करा का स्तर (ब्लड शुगर लेवल) कम कर सकते हैं, जिसके लिए मौजूद समय में कई विकल्प मौजूद हैं। डायबिटीज के कारण मरीज को उच्च रक्त शर्करा स्तर (हाइपरग्लाइसीमिया) सहित कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। डायबिटीज जैसी गंभीर स्वास्थ्य स्थिति से पीड़ित व्यक्ति के शरीर में अग्न्याशय ठीक से काम नहीं करता है। इससे उनका अग्नाशय इंसुलिन का कम उत्पादन करता है या बिल्कुल नहीं करता, जिससे आपको डायबिटीज और अन्य बीमारियां हो सकती हैं।

टाइप 2 डायबिटीज की दवाएं

टाइप 1 डायबिटीज में शरीर आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन से बनने वाले ग्लूकोज को संसाधित करने के लिए इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर सकता है। जबकि, टाइप 2 डायबिटीज में अग्न्याशय द्वारा इंसुलिन का उत्पादन किया जाता है, लेकिन इसके बावजूद आपको इंसुलिन प्रतिरोध की समस्या का सामना करना पड़ता है। डायबिटीज वाले व्यक्ति को शरीर में होने वाली इन बीमारियों से बचने के लिए डायबिटीज की कुछ दवाएं लेने की सलाह दी जाती है। इन दवाओं की मदद से आपका रक्त शर्करा का स्तर सामान्य बना रहता है।

डायबिटीज के अलग-अलग प्रकारों के आधार पर विशेषज्ञ आपको इंसुलिन की खुराक और दवाएं लेने की सलाह देते हैं। आपको बता दें कि ज़्यादातर टाइप 2 डायबिटीज की दवाएं रक्त में शर्करा स्तर को कम करने में आपकी मदद करती हैं। इनमें ज़्यादातर ओरल दवाएं शामिल हैं। हालांकि, कई बार टाइप 2 डायबिटीज के कुछ मामलों में इंसुलिन की खुराक लेना ज़रूरी होता है। रक्त में ग्लूकोज के स्तर को कम करने के लिए अलग-अलग तरह की दवाएं अलग काम करती हैं और ऐसी ही कुछ दवाओं की जानकारी आपको इस लेख में दी गई है।

अल्फा ग्लूकोसिडेस अवरोधक (इनहिबिटर) – Alpha Glucosidase Inhibitors

Alpha-glucosidase inhibitorsयह डायबिटीज की उन दवाओं में से एक है, जो सीधे स्टार्च वाले भोजन पर काम करती हैं और उन्हें टूटने से रोकती हैं। यह गोलियां अक्सर टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों द्वारा ली जाती हैं। इसके अलावा मौजूदा समय में टाइप 2 डायबिटीज के निदान वाले ज़्यादातर मरीजों के लिए यह दवा निर्धारित की गई है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि हाल ही में टाइप 2 डायबिटीज के निदान वाले मरीजों में भोजन के बाद रक्त शर्करा का स्तर अचानक बढ़ जाता है।

अल्फा-ग्लूकोसिडेज़ इनहिबिटर के तहत डायबिटीज की दो दवाएं हैं:

  1. एकरबोस (प्रीकोस)
  2. मिग्लिटोल (ग्लाइसेट)

अल्फा-ग्लूकोसिडेज़ इनहिबिटर के कार्य

यह दवा शरीर में ब्रेड, आलू और पास्ता जैसे स्टार्च वाले खाद्य पदार्थों को टूटने से रोकती है। ऐसे में भोजन का अवशोषण शरीर में धीमा हो जाता है और रक्त शर्करा का स्तर अचानक बढ़ने से रुक जाता है। आमतौर पर, दवा ए1सी परीक्षण के नतीजों पर सकारात्मक प्रभाव के लिए जानी जाती है। ए1सी पिछले दो से तीन महीनों के औसत रक्त शर्करा के स्तर की जांच करने वाला परीक्षण है। शोध में देखा गया है कि अल्फा-ग्लूकोसिडेज़ में ग्लूकोज लेवल को 0.5 से 0.8 प्रतिशत तक कम करने की क्षमता होती है।

अल्फा-ग्लूकोसिडेस इनहिबिटर के नुकसान

कुछ लोग प्रिस्क्रिप्शन के हिसाब से दवाएं नहीं लेते हैं या ज़रूरत से ज़्यादा दवाओं का सेवन करते हैं। ऐसे लोगों को निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया) का सामना करना पड़ सकता है।

इसके अलावा आप इन दुष्प्रभावों से गुजर सकते हैं:

  • गैस बनना
  • दस्त
  • पेट खराब होना
  • पेट दर्द

इन दुष्प्रभावों से बचने के लिए डॉक्टर दवा की छोटी या कम खुराक से शुरूआत करने की सलाह देते हैं और धीरे-धीरे इन दवाओं की खुराक बढ़ाते हैं।

अल्फा-ग्लूकोसिडेज़ इनहिबिटर की ज़रूरत

निम्नलिखित समस्याओं वाले लोगों को डायबिटीज की यह दवा नहीं लेने की सलाह दी जाती है:

  • अल्सरेटिव कोलाइटिस, क्रोहन रोग या सूजन संबंधी कोई अन्य बीमारी
  • आंतों की रुकावट
  • पाचन संबंधी विकार
  • डायबिटिक कीटोएसिडोसिस

इन बीमारियों वाले लोगों को एकरबोस नहीं लेनी चाहिए:

  • बड़ी आंत में अल्सर वाले लोग
  • लीवर सिरोसिस की समस्या वाले लोग
  • गर्भवती महिलाएं

बिगुआनाइड के कार्य – Biguanides Ke Karya

बिगुआनाइड के कार्य

बिगुआनाइड्स मेटफॉर्मिन का एक प्रकार है, जिसका इस्तेमाल डायबिटीज की बीमारी का इलाज करने के लिए किया जाता है। इससे लीवर में शर्करा के उत्पादन को रोककर रक्त शर्करा का स्तर बनाए रखने में मदद मिलती है। इसका सेवन करने वाले किसी व्यक्ति के शरीर में आंतें शर्करा का कम अवशोषण करती हैं। डॉक्टरों द्वारा यह दवा अन्य डायबिटीज की दवाओं के साथ निर्धारित की जाती है।

दवा से होने वाले अन्य फायदे हैं:

  • यह दवा दिल की बीमारी का जोखिम कम करती है।
  • इस दवा का सेवन करने से आपको संभावित वजन घटाने में मदद मिल सकती है।

बिगुआनाइड के नुकसान

समय के साथ बिगुआनाइड्स का इस्तेमाल कई बीमारियों की वजह बन सकता है, जैसे:

  • विटामिन बी12 की कमी
  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल इन्टॉलरेंस
  • लैक्टिक एसिड बनना
  • दस्त

बिगुआनाइड की ज़रूरत

अध्ययनों से पता चलता है कि निम्नलिखित बीमारियों वाले लोगों को डायबिटीज की इन दवाओं का सेवन नहीं करना चाहिए

  • एडवांस किडनी की बीमारी वाले लोगों को बिगुआनाइड का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • अगर आप बहुत ज़्यादा शराब पीते हैं, तो आपको बिगुआनाइड के सेवन से परहेज़ करना चाहिए।
  • इसके अलावा व्यायाम या कोई अन्य शारीरिक गतिविधि के दौरान डिहाइड्रेशन की समस्या वाले लोगों को यह दवा नहीं लेने की सलाह दी जाती है।
  • गर्भवती महिलाओं को हमेशा यह दवा लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

बाइल एसिड सीक्वेस्ट्रेंट (बीएएस) – Bile Acid Sequestrants (BASs)

बाइल एसिड सीक्वेस्ट्रेंट

पित्त अम्ल अनुक्रमक (बाइल एसिड सीक्वेस्ट्रेंट यानी) एक दवा है, जिसका इस्तेमाल मानव शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने के लिए किया जाता है। हालांकि, यह दवा डायबिटीज वाले लोगों के शरीर में रक्त में शर्करा स्तर कम करने में भी मदद करती है। डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति के शरीर में यह दवा अक्सर कोलेस्ट्रॉल और खासतौर से एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाती है।

बाइल एसिड सीक्वेस्ट्रेंट (बीएएस) के कार्य

बीएएस डायबिटीज की दवा है, जिससे आपको एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम करने में मदद मिलती है। यह पित्त एसिड और पाचन तंत्र में एसिड के साथ बंधकर काम करती है, जिससे पित्त एसिड मल में उत्सर्जित होता है। ऐसे में कम उपस्थिति और लीवर में पित्त अम्ल की वापसी की वजह से लीवर नुकसान का सामना करने के लिए इसका ज़्यादा उत्पादन करना शुरू कर देता है। लीवर इसे पित्त अम्ल में बदलने के लिए ज़्यादा कोलेस्ट्रॉल का इस्तेमाल करता है, जिससे शरीर में कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम होता है।

पित्त अम्ल अनुक्रमक (बीएएस) के नुकसान

बाइल एसिड सिक्वेस्ट्रेंट यानी बीएएस शरीर में अवशोषित नहीं होते हैं, इसलिए शरीर के अंगों को प्रभावित करने वाले उनके दुष्प्रभाव नहीं होते हैं।

इसके कुछ सामान्य दुष्प्रभावों में शामिल हैं:

  • गैस बनना और पेट फूलना (ज़्यादा गैस पास होना)
  • कब्ज
  • पेट में दर्द
  • सूजन
  • उल्टी
  • दस्त
  • वजन घटना
  • पेट में जलन
  • पित्ताशय की पथरी

मेग्लिटिनाइड्स – Meglitinides

यह ऐसी दवाएं हैं, जो उन लोगों के लिए बेहतर काम करती हैं, जिनके खाने का कोई निश्चित समय नहीं होता है और वह लगातार भोजन नहीं कर पाते हैं। डायबिटीज की यह दवाएं खाने के बाद रक्त शर्करा को कम करने का काम करती हैं। इनका इस्तेमाल व्यक्तिगत रूप से या कुछ अन्य दवाओं के साथ भी किया जा सकता है।

मेग्लिटिनाइड्स की दवाओं में शामिल हैं:

  • प्रैंडिन (रेपैग्लिनाइड)
  • स्टारलिक्स (नेटग्लिनाइड)

मेग्लिटिनाइड्स के कार्य

अगर टाइप 2 डायबिटीज की समस्या से पीड़ित हैं, तो आपका अग्न्याशय पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है। जबकि, इसी बीमारी वाले कुछ लोगों का शरीर अग्न्याशय द्वारा उत्पादित इंसुलिन को ठीक से इस्तेमाल नहीं कर पाता है। ऐसे किसी भी मामले में व्यक्ति के शरीर में रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है। मेग्लिटिनाइड्स रक्त में मौजूद ग्लूकोज को संसाधित करने के लिए ज़्यादा इंसुलिन का उत्पादन करती है। साथ ही इससे आपको रक्त शर्करा का स्तर कम करने में भी मदद मिलती है।

मेग्लिटिनाइड्स के नुकसान

आमतौर पर लोग इस दवा को आसानी से सहन कर लेते हैं, लेकिन कुछ मामलों में दुष्प्रभाव सामान्य से लेकर गंभीर तक होते हैं, जैसे:

  • निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया) और इसके लक्षण (पसीना, कंपकंपी, आलस और भ्रम)
  • बिना वजह वजन बढ़ना

यह ध्यान रखना ज़रूरी है कि अगर आप बिना खाना खाए इस दवा का सेवन करते हैं, तो इससे रक्त शर्करा का स्तर गंभीर रूप से कम हो सकता है। यह किसी भी व्यक्ति के लिए कई तरह के जोखिम पैदा करता है।

सल्फोनिलयूरिया – Sulfonylureas

सल्फोनिलयूरिया

दवाओं के इस वर्ग में कुछ दवाएं आती हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • डायबीटा, ग्लायनेस या माइक्रोनेज (ग्लाइबराइड या ग्लिबेंक्लामाइड)
  • अमरील (ग्लिमेपाइराइड)
  • डायबीनीज (क्लोरप्रोपामाइड)
  • टॉलिनेज (टोलाज़ामाइड)
  • टॉलब्यूटामाइड

सल्फोनिलयूरिया के कार्य

यह शरीर को ज़्यादा इंसुलिन का उत्पादन करने में मदद करते हैं। इन्हें इंसुलिन सेक्रेटागॉग के नाम से भी जाना जाता है। अग्न्याशय में मौजूद प्रोटीन के एक चैनल के साथ सल्फोनीलुरेस का संयोजन होता है। यह अग्न्याशय में बीटा कोशिकाओं को ट्रिगर करती है, जिससे इंसुलिन ज़्यादा मात्रा में रिलीज होता है। अगर आपका रक्त शर्करा का स्तर तेजी से बढ़ता है या एचबीए1सी नतीजे 6.5 प्रतिशत से ज़्यादा हैं, तो आपको सल्फोनिलयूरिया लेने से काफी मदद मिल सकती है।

सल्फोनिलयूरिया के नुकसान

डायबिटीज की इस दवा से कई दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

इनमें दुष्प्रभावों में शामिल हैं:

  • निम्न रक्त शर्करा के लक्षण, जैसे- पसीना, चक्कर आना, भ्रम या घबराहट
  • ज़्यादा भूख लगना
  • वजन बढ़ना
  • त्वचा संबंधी समस्याएं
  • पेट खराब होना
  • पेशाब का गहरे रंग

टाइप 1 डायबिटीज या डायबिटीज कीटोएसिडोसिस वाले लोगों को सल्फोनीलयूरिया नहीं लेनी चाहिए। साथ ही किडनी या लीवर की समस्या वाले मरीज इस दवा का इस्तेमाल करने के लिए उपयुक्त नहीं हैं।

एसजीएलटी2 इनहिबिटर – SGLT2 Inhibitors

एसजीएलटी2 इनहिबिटर

इस दवा को ग्लिफ्लोज़िन भी कहा जाता है। सोडियम-ग्लूकोज ट्रांसपोर्ट प्रोटीन 2 यानी एसजीएलटी2 अवरोधक से टाइप 2 डायबिटीज का इलाज किया जाता है। यह वजन घटाने, रक्तचाप और रक्त में कोलेस्ट्रॉल के लेवल पर उनके सकारात्मक प्रभावों के लिए भी जानी जाती है। इसके अलावा एसजीएलटी2 अवरोधक स्ट्रोक और दिल के दौरे का जोखिम कम करने के साथ ही गुर्दे की बीमारी की प्रोग्रेस को धीमा करती है।

एसजीएलटी2 इनहिबिटर के नुकसान

आमतौर पर, एसजीएलटी2 अवरोधक किसी व्यक्ति द्वारा सेवन के लिए पूरी तरह से सुरक्षित होते हैं।

कुछ मामलों में इसके साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जैसे:

  • पेशाब के रास्ते में इंफेक्शन (यूटीआई)
  • यीस्ट इंफेक्शन
  • डायबिटिक कीटोएसिडोसिस
  • हाइपोग्लाइसीमिया
  • निम्न रक्तचाप

इसके अलावा कुछ गंभीर दुष्प्रभावों में शामिल हैं:

  • जननांग यानी जेनिटल इंफेक्शन (नेक्रोटाइज़िंग फासिसाइटिस और फोरनियर गैंग्रीन)
  • हड्डी का टूटना
  • किडनी की चोट/बीमारी
  • अंगों को अलग करना

टाइप 1 डायबिटीज की दवाएं – Type 1 Diabetes Ki Medication 

टाइप 1 डायबिटीज

टाइप 1 डायबिटीज में इंसुलिन का उत्पादन करने की क्षमता काफी प्रभावित होती है। ऐसे मरीजों के उपचार का मुख्य उद्देश्य इंसुलिन का उत्पादन करना है, जिससे शरीर की कोशिकाओं द्वारा ग्लूकोज के अवशोषण के लिए इंसुलिन मिलता है। इस स्थिति में टाइप 1 डायबिटीज से पीड़ित मरीजों के सामने विकल्प बचता है कि वह कृत्रिम (आर्टिफिशियल) इंसुलिन की खुराक पर निर्भर रहें। आपको एक दिन में इंसुलिन की कितनी मात्रा और खुराक की ज़रूरत है, यह टाइप 1 डायबिटीज में इंसुलिन की कमी पर निर्भर करता है। जब यह काम करना शुरू करता है, तो इसकी शुरुआत के आधार पर वर्गीकृत कई विकल्प उपलब्ध हैं। यह सबसे बड़े प्रभाव का समय क्या है और यह कितने समय तक रहता है, जैसे कारकों पर आधारित है।

जल्द असर करने वाले (शॉर्ट-एक्टिंग) इंसुलिन

जल्द असर करने वाले इंसुलिन (शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन) को न्यूट्रल इंसुलिन भी कहा जाता है। इन्हें आमतौर पर भोजन से पहले लेने की सलाह दी जाती है। यह 30 मिनट के अंदर काम करना शुरू कर देते हैं, जिसका 3 घंटे का सबसे बड़ा प्रभाव पड़ता है और यह प्रभाव 4 से 12 घंटे तक रहता है। दिखने में इंसुलिन का रंग साफ होता है।

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन के उदाहरण हैं:

  • ह्यूमेलिन आर
  • नोवोलिन आर

तेजी से असर करने वाले (रैपिड-एक्टिंग) इंसुलिन

तेजी से असर करने वाले इंसुलिन (रैपिड-एक्टिंग इंसुलिन) व्यक्ति के अग्न्याशय में उत्पादित इंसुलिन की तरह ज़्यादा है। इस इंसुलिन की शुरुआत 5 से 30 मिनट की होती है और यह 30 मिनट से 30 घंटे के बीच सबसे बड़ी प्रभाव के साथ काम करते हैं। आमतौर पर यह 3 से 5 घंटे तक चलता है।

रैपिड-एक्टिंग इंसुलिन के उदाहरण हैं:

  • एस्पार्ट (नोवोलॉग, फ्लेक्सपेन, फियास्प)
  • ग्लुलिसिन (एपिड्रा)
  • लिस्प्रो (ह्यूमालॉग)

देर से असर करने वाले (इंटरमीडिएट-एक्टिंग) इंसुलिन

इस प्रकार के इंसुलिन में कुछ ऐसे पदार्थ होते हैं, जो उन्हें लंबे समय तक काम करने में मदद करते हैं। यह पदार्थ इंसुलिन की उपस्थिति को थोड़ा क्लाउडी बनाते हैं। अगर इसकी शुरूआत बात करें, तो यह लगभग 60 से 90 मिनट बाद काम करना शुरू कर देता है। इसकी उच्चतम प्रभावशीलता की अवधि 4 से 12 घंटे के बीच है और यह साढ़े 14 घंटे तक चलता है।

इंटरमीडिएट-एक्टिंग इंसुलिन के उदाहरण हैं:

  • ह्यूमेलिन एन,
  • नोवोलिन एन (इंसुलिन एनपीएच)

लंबे समय तक असर करने वाले (लॉन्ग-एक्टिंग) इंसुलिन

ऐसा कहा जाता है कि इसकी अवधि की कोई सीमा नहीं है, यानी इस इंसुलिन का पीक टाइम नहीं है और यह 24 घंटे तक काम करता है। हालांकि, इंसुलिन इंजेक्शन लगाने के बाद अगले 3 से 4 घंटों में यह ठीक से काम करना शुरू कर देता है। लैंटस और लेवेमीर लंबे समय तक काम करने वाले इंसुलिन के दो उदाहरण हैं।

अल्ट्रा लॉन्ग-एक्टिंग इंसुलिन: इसका भी कोई पीक टाइम नहीं होता है। यह अगले 6 घंटों में काम करना शुरू कर देता है और 24 घंटे या 42 घंटे तक रहता है।

लंबे समय तक काम करने वाले इंसुलिन के उदाहरण हैं:

  • तौजेओ
  • ट्रेसिबा

डायबिटीज की दवाओं की ओरल कॉम्बिनेशन थेरेपी

आप प्रिस्क्रिप्शन के हिसाब से लेख में बताई गई दवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप इन्हें अलग से या दूसरी दवाओं के साथ ले सकते हैं। उदाहरण के लिए, सल्फोनील्यूरिया के साथ एक बिगुआनाइड का इस्तेमाल किया जाता है। दवाओं को एक-साथ लेने से रक्त शर्करा के स्तर को काफी आसानी से कम किया जा सकता है। हालांकि, यह दवाएं ज़्यादा खर्चीली होती हैं और साइड इफेक्ट का जोखिम भी बढ़ाती हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free