निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया) आहार की ज़रूरत – Low Blood sugar (Hypoglycemia) Diet Ki Zarurat

Fasting Blood Sugar

निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया) आहार क्या है? Low Blood Sugar (Hypoglycemia) Diet Kya Hai?

निम्न रक्त शर्करा या लो ब्लड शुगर का अन्य नाम हाइपोग्लाइसीमिया है। हाइपोग्लाइसीमिया एक ऐसी बीमारी है, जिससे ज़्यादातर लोग पीड़ित हैं। यही कारण है, जो बहुत से लोग जानना चाहते हैं कि डायबिटीज या निम्न रक्त शर्करा होने पर क्या खाना चाहिए? डॉक्टर आमतौर पर ऐसे लोगों को निम्न रक्त शर्करा आहार योजना यानी हाइपोग्लाइसीमिया डाइट प्लान का पालन करने की सलाह देते हैं। इससे आपको हाइपोग्लाइसीमिया के गंभीर नतीजों से बचने में मदद मिल सकती है। साथ ही यह हाइपोग्लाइसीमिया का जोखिम कम करने के लिए भी काफी असरदार है।

बहुत बार ऐसा होता है कि हम काम में व्यस्त होने की वजह से भोजन के लिए समय निकालना भूल जाते हैं। कई लोगों को लगता है कि यह उन्हें प्रभावित नहीं करता है, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। अगर कोई प्रभावित व्यक्ति भोजन छोड़ता है, तो उसका शरीर कांपने लगता है और व्यक्ति बेचैन हो जाता है। इसके अलावा ऐसी स्थिति में उसका सिर हल्का और निर्भर हो जाता है। यह सभी आफ्टर-इफेक्ट हाइपोग्लाइसीमिया के शुरुआती लक्षण हैं। ऐसी स्थिति में हमें अपने शारीरिक स्वास्थ्य पर नज़र रखने की सबसे ज़्यादा ज़रूरत है। कुछ संकेतों से हम जान सकते हैं कि हमारे रक्त शर्करा का स्तर लगातार गिर रहा है।

शारीरिक लक्षणों के दिखते ही रक्त शर्करा के स्तर की जांच करना सबसे पहला कदम है। अगर यह काफी कम पाया जाता है, तो आप मीठा खाने का विकल्प चुन सकते हैं। हालांकि, इसके साथ ही आपको दवाओं पर ध्यान देना चाहिए।

निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया) आहार की ज़रूरत – Hypoglycemia Diet Ki Zarurat

किसी व्यक्ति के शरीर का सर्वोत्तम ऊर्जा स्तर शरीर में मौजूद ग्लूकोज की मात्रा पर निर्भर करता है। ब्लड शुगर फास्टिंग के मामले में रक्त शर्करा स्तर की सामान्य सीमा 70 मिलीग्राम/डीएल. से 99 मिलीग्राम/डीएल. तक होती है। अगर आप बार-बार भोजन करने के बाद हर 2 से 3 घंटे में अपने रक्त शर्करा स्तर की जांच करते हैं, तो इस दौरान आपका शर्करा का स्तर 140 मिलीग्राम/डीएल तक कम हो सकता है।

अगर आपको महसूस होता है कि आपका रक्त शर्करा का स्तर नीचे जा रहा है, तो आप तुरंत कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन का सेवन कर सकते हैं। यह कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन आपके निम्न रक्त शर्करा स्तर को संतुलित करके इसे फिर से बढ़ा सकता है। एक बार इसकी मदद से अपने शर्करा के स्तर को सामान्य करने के बाद आप बेहतर महसूस करते हैं।

हाइपोग्लाइसीमिया की समस्या सबसे ज़्यादा डायबिटीज वाले लोगों में देखी जाती है। यह उन लोगों के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है, जो समय पर दवा नहीं लेते हैं। जबकि बिना डायबिटीज वाले लोगों के लिए हाइपोग्लाइसीमिया कई अन्य चिकित्सा चिंताओं का कारण हो सकता है, जिसमें धुंधली दृष्टि, चिंता, भ्रम की स्थिति और चेतना की कमी शामिल हैं। ऐसे कई सुधार के तरीके हैं, जो कम से कम समय में रक्त शर्करा का स्तर वापस सामान्य करने में आपकी मदद करते हैं।

निम्न रक्त शर्करा आहार अनुकूलित करने के तरीके – Hypoglycemia Diet Optimize Karne Ke Tareeke

Ways to optimize hypoglycemia diet

कई बार आपको दिनभर अपने रक्त शर्करा के स्तर में उतार-चढ़ाव महसूस होता है। ऐसे में आपके लिए सबसे उपयुक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करना बहुत ज़रूरी है, ताकि रक्त फिर से सामान्य गति से नियंत्रित हो सके। इस लेख में कुछ खाद्य पदार्थों की चर्चा की गई है, जिनसे आपको रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रित करने में मदद मिलेगी। इसके लिए आपको कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन सीमित मात्रा में करना होता है, जैसे:

  • सेब, केला या संतरा जैसे फल
  • अंगूर, अधिमानतः संख्या में 15
  • सूखा आलूबुखारा
  • किशमिश, लगभग 2 बड़े चम्मच
  • ग्रेनोला (आधे कप की सलाह दी जाती है)
  • आधा बैगल

बताए गए सभी खाद्य पदार्थ रक्त शर्करा के स्तर को संतुलित रखते हैं, जिनमें बेहतर मात्रा में कार्ब्स होते हैं। हालांकि, रक्त शर्करा को दोबारा स्थिर करने के लिए कार्बोहाइड्रेट की सबसे अच्छी मात्रा 15 ग्राम है, लेकिन डायबिटीज और बिना डायबिटीज वाले मामलों में डॉक्टर लोगों को एक अलग हाइपोग्लाइसीमिया आहार चार्ट का पालन करने की सलाह देते हैं।

डायबिटिक के लिए हाइपोग्लाइसीमिया डाइट – Diabetics Ke Liye Hypoglycemia Diet

दवा और शारीरिक व्यायाम की भारी खुराक के बाद पर्याप्त भोजन करना बहुत ज़रूरी है, क्योंकि ऐसा नहीं करने से स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जिसकी वजह से आपको अस्पताल भी जाना पड़ सकता है। हाइपोग्लाइसीमिया डाइट चार्ट बनाने के लिए आप 15-15 नियम का पालन कर सकते हैं। इस विधि के लिए तरल या ठोस रूप में कार्बोहाइड्रेट की 15 ग्राम मात्रा लें और 15 मिनट तक इंतज़ार करें। जब आप 15 मिनट बाद दोबारा अपने रक्त शर्करा स्तर की जांच करते हैं, तो आप देखेंगे कि यह अभी भी 70 मिलीग्राम/डीएल. है।

एक बार फिर 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट की सर्विंग लें और अपने रक्त शर्करा स्तर की दोबारा से जांच करें। 15 मिनट के बाद 15 ग्राम कार्ब्स लेने की इस प्रक्रिया को बार-बार दोहराएं, जब तक कि रक्त शर्करा का स्तर कम से कम 70 मिलीग्राम/डीएल. तक न हो जाए। अब आप उन खाद्य पदार्थों के बारे में जानना चाहेंगे, जिनमें आपकी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट पाए जाते हैं।

15 ग्राम कार्ब्स वाले खाद्य पदार्थ की सूची 

15 grams carbs 

यहां उन खाद्य पदार्थों के बारे में बताया गया है, जिनसे आप 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट प्राप्त कर सकते हैं:

  1. चीनी, शहद या गुड़ जैसी चीनी वाली चीजों का एक बड़ा चम्मच
  2. आधा कप जूस या नियमित सोडा
  3. बाजार में मिलने वाली कैंडीज़ का लेबल पढ़ें और उसके हिसाब से कैंडीज़ खाकर 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट प्राप्त करें।
  4. ग्लूकोज या ग्लूकॉन-डी की गोलियां

निम्न रक्त शर्करा स्तर के मामले में इन खाद्य पदार्थों को ज़्यादा मात्रा में नहीं खाने की सलाह दी जाती है। यह उतार-चढ़ाव अप्रत्याशित हैं, जिसकी वजह से कुछ ही समय में आपकी रक्त शर्करा स्तर का बढ़ सकता है।

गैर डायबिटिक के लिए हाइपोग्लाइसीमिया डाइट – Non Diabetics Ke Liye Hypoglycemia Diet

अगर आप लंबे समय तक भोजन नहीं करते हैं, तो इससे भी शर्करा स्तर प्रभावित होने की संभावना है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि उचित तरीके से काम के लिए शरीर को ऊर्जा की ज़रूरत होती है और हमारे शरीर में ऊर्जा का मुख्य स्रोत शर्करा यानी ग्लूकोज है। अगर आप लंबे समय तक नहीं खाते हैं, तो रक्त शर्करा में भारी गिरावट आ सकती है। आमतौर पर ऐसा तब होता है, जब आप उपवास करते हैं।

इस स्थिति को रिएक्टिव हाइपोग्लाइसीमिया कहा जाता है, जिसमें प्रभावित व्यक्ति को डॉक्टर से मदद की ज़रूरत हो सकती है। इसके अलावा यह स्थिति तब हो सकती है, जब आप पास्ता या पिज्जा जैसे बहुत सारे खाद्य पदार्थ ज़्यादा मात्रा में खाते हैं। यह बड़ी मात्रा में इंसुलिन छोड़ते हैं और हमारा शरीर इतनी बड़ी मात्रा में इंसुलिन से एक बार में निपटने के लिए पूरी तरह प्रतिरक्षित नहीं है। ऐसे लोगों को अपना हाइपोग्लाइसीमिया आहार चार्ट बनाने की ज़रूरत है, क्योंकि एक स्वस्थ आहार चार्ट स्थिति सामान्य करने में आपकी मदद कर सकता है।

आहार युक्तियां – Dietary Tips 

अगर आप रक्त शर्करा का स्तर ज़्यादा नीचे जाने से रोकना चाहते हैं, तो आप नीचे दिए आहार से संबंधित सुझावों का इस्तेमाल कर सकते हैं, जिनसे आपको तेज दर्द और दबाव को रोकने में भी मदद मिलती है।

स्वस्थ खाने की आदतों का पालन करें

आप भोजन में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, विटामिन और खनिज जैसे सभी पोषक तत्वों को शामिल कर सकते हैं। इन्हें हम फलों, सब्ज़ियों, दूध और कई अन्य खाद्य पदार्थों से प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप अपने भोजन में चीनी शामिल कर रहे हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप इसे ज़्यादा से ज़्यादा मात्रा में लें। जबकि खाद्य पदार्थों में प्रोटीन की उचित मात्रा जोड़ने से आपको स्थायी ऊर्जा मिलेगी। इस तरह आप संतुलित आहार के नियमों को ध्यान में रखते हुए अपने भोजन की योजना बना सकते हैं।

पूरे दिन के भोजन को अंतराल में बांट लें

सुनिश्चित करें कि आप अपने पूरे दिन के भोजन को 3 से 4 घंटे के निश्चित अंतराल में बांट लें। इससे आपको पूरे दिन अपनी ऊर्जा का स्तर बनाए रखने में मदद मिल सकती है। अगर आप काम कर रहे हैं, तो आपको अपने भोजन की योजना इस तरह से बनानी चाहिए कि आपको कभी भी थकान महसूस न हो। इसके लिए आप सुबह करीब 9 बजे भारी नाश्ते के साथ दूध का सेवन करें।

दोपहर का भोजन लगभग 1 या 1:30 बजे करें, जबकि शाम का खाना आप शाम 4 से 5 बजे के बीच एडजस्ट कर सकते हैं। रात 8:30 बजे के करीब हल्का डिनर करने और जल्दी सोने से शरीर को आपके द्वारा खाए गए भोजन से ऊर्जा निकालने के लिए समय मिलता है। इस तरह से आप हाइपोग्लाइसेमिक आहार के सभी मानदंडों को ध्यान में रखते हुए अपने भोजन को पूरे दिन के लिए आसानी से बांट कर सकते हैं। मोटापे जैसी अन्य समस्याओं से बचने के लिए सुनिश्चित करें कि आप हल्के भोजन का सेवन करें।

कॉफी के सेवन से बचें या उसे सीमित करें

कुछ लोगों को दिन में 4 से 5 बार चाय या कॉफी पीने की आदत होती है। यह आपके शरीर को कैफीन देने का एक गलत तरीका है। कैफीन एक ऐसी दवा के रूप में काम करता है, जिसकी आदत लग सकती है। कई बार इतना नशीला हो जाता है कि सुबह एक कप चाय या कॉफी के बिना उठना आपके लिए बहुत मुश्किल हो जाता है। अपनी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए आप इसे एक गिलास जूस से बदल सकते हैं। एक गिलास जूस या गुनगुना पानी आपको दिन भर तरोताजा रखता है। चाय या कॉफी का एक अन्य विकल्प दूध है और प्रोटीन से भरपूर यह विकल्प आपको स्वस्थ रखने में भी मदद करता है।

बार-बार शराब पीने से बचें

शराब एक अन्य कारक है, जो आपके हाइपोग्लाइसेमिक आहार में गड़बड़ी पैदा कर सकती है। जो लोग शराब कभी-कभी कुछ स्नैक्स के साथ लेते हैं, उनके रक्त शर्करा के स्तर पर इसका कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है। हालांकि, अगर आप इसे बिना किसी स्नैक्स के पूरी तरह से ले रहे हैं, तो आपके स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालती है। इसके कारण कई स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती हैं, जिनमें लीवर की सूजन और लीवर खराब होना, शराब पर शारीरिक और भावनात्मक निर्भरता, रक्त में अनियमित इंसुलिन का स्तर और कई अन्य शामिल हैं, जिनके बारे में जानना सभी के लिए बहुत ज़रूरी है।

आपके हाइपोग्लाइसेमिक आहार में होने वाली गड़बड़ी भी एक प्रमुख कारण है, जो रक्त शर्करा के स्तर पर सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है। इससे बचने के लिए आपको एक दिन में अपने खाने का ध्यान रखना चाहिए, जिसमें आप उन पोषक तत्वों का ट्रैक रिकॉर्ड रख सकते हैं, जो आप अपने शरीर को दे रहे हैं।

अगर आप डायबिटीज से पीड़ित नहीं है, तो भी लंबे समय तक भोजन नहीं करने से आपके रक्त शर्करा स्तर में उतार-चढ़ाव आ सकता है। कम ऊर्जा के स्तर, खाली पेट या शर्करा के स्तर में उतार-चढ़ाव के कारण परेशान करने वाले लक्षण हाइपोग्लाइसीमिया की नकल कर सकते हैं। हालांकि, ऐसा करके आप खुद को सबसे खराब स्थिति में आने से बचा सकते हैं।

अगर आप हाइपोग्लाइसीमिया आहार में गड़बड़ी के कारण कोई भी लक्षण महसूस करते हैं, तो डॉक्टर से तुरंत परामर्श करें। साथ ही डाइट चार्ट में बदलाव करवाएं और अपनी दवाएं समय पर लें। इन उपायों का पालन करके आप अपने शरीर को कई बीमारियों से दूर रख सकते हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care 

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है, जो आपके किसी भी सवाल का जवाब देने और आपकी परेशानी से जुड़ी ज़्यादा जानकारी प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार है, ताकि आप जान सकें कि आपकी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छा इलाज कौन सा है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free