ब्लड शुगर कम होना (हाइपोग्लाइसीमिया) – Low Blood Sugar (Hypoglycemia)

Low blood sugar (hypoglycemia)

लो ब्लड शुगर क्या है? Low Blood Sugar Kya Hai? 

हाइपोग्लाइसीमिया को लो ब्लड शुगर या लो ब्लड ग्लूकोज लेवल भी कहा जाता है जो ब्लड में ग्लूकोज के लेवल में कमी के कारण होता है। जब हम कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन का सेवन करते हैं, तब कार्ब्स ग्लूकोज अणुओं में टूट जाते हैं जो ब्लड में एनर्जी पैदा करने के लिए तब कोशिकाओं द्वारा अवशोषित होते हैं। ग्लूकोज आपके शरीर का ऊर्जा स्रोत है। जिन लोगों को डायबिटीज़ है, उन्हें अक्सर हाइपोग्लाइसीमिया होने का खतरा होता है क्योंकि उन्हें नॉर्मल ब्लड शुगर के लेवल को बनाए रखने के लिए अपनी डाइट से कुछ मात्रा में कार्बोहाइड्रेट को कम कर देना चाहिए। जिन लोगों को दूसरी स्वास्थ्य समस्याएं हैं, उन्हें शायद ही कभी लो ब्लड शुगर लेवल मिल सकता है।

आपकी डायबिटीज़ की दवा के कारण भी हाइपोग्लाइसीमिया हो सकता है। हो सकता है कि दवा की मदद से उत्पादित इंसुलिन उस आहार से मेल न खाए जो आप ले रहे हैं जिससे ब्लड शुगर लो हो सकता है। डायबिटीज़ की दवा के प्रभाव से मेल खाने के लिए उचित मात्रा में कार्बोहाइड्रेट लेना ज़रूरी है। टाइप 1 डायबिटीज़ वाले लोगों को हाइपोग्लाइसीमिया होने का ज़्यादा खतरा होता है। जब आपका शुगर लेवल सामान्य से नीचे गिर जाता है, तो इसके लिए तत्काल उपचार की ज़रूरत होती है। अलग-अलग लोगों के लिए ब्लड शुगर का लेवल अलग-अलग हो सकता है। कुछ के लिए सामान्य हो सकता है और दूसरों के लिए कम होगा। आमतौर पर 70एमजी/डीएल से कम को लो ब्लड शुगर लेवल के रूप में माना जाता है, लेकिन कोई भी उपचार करने से पहले आपको अपने हेल्थ केयर या डॉक्टर से जांच करवानी चाहिए।

लो ब्लड शुगर के लक्षण – Low Blood Sugar Ke Lakshan 

शरीर में मौजूद हाइपोग्लाइसीमिया की प्रतिक्रिया हर व्यक्ति में अलग-अलग होती है और लक्षण भी अलग-अलग हो सकते हैं। लक्षण पहले हल्के दिखाई दे सकते हैं और अगर इन्हें बिना उपचार के छोड़ दिया जाए, तो ये गंभीर लक्षणों में बदल सकते हैं।

लो ब्लड शुगर के हल्के लक्षण

इसके हल्के लक्षणों में चिड़चिड़ापन या कांपना, पसीना आना, भूख लगना, बार-बार सिरदर्द होना, धुंधली दृष्टि, ज़्यादा थकान, चक्कर आना, भटकाव, पीला होना, घबराहट होना, ध्यान केंद्रित करने में परेशानी का सामना करना, अनियमित और तेज़ दिल की धड़कन, मितली, नींद आना और भद्दापन शामिल है।

लो ब्लड शुगर के गंभीर लक्षण

अगर आपको दौरे पड़ते हैं और आप बेहोश रहते हैं, तो यह हाइपोग्लाइसीमिया की गंभीर स्थिति का संकेत हो सकता है। कुछ लोगों में रोना, बुरे सपने आना, ज़्यादा पसीना आना, जागने के बाद थकान और उलझन महसूस होना जैसे लक्षण भी दिखाई देते हैं। ये लक्षण आमतौर पर रात के समय दिखाई देते हैं जब व्यक्ति सो रहा होता है। 

Severe symptoms of low blood sugar

लो ब्लड शुगर लेवल में एपिनेफ्रीन का रोल – Low Blood Sugar Level Mein Epinephrine Ke Role 

ब्लड में शुगर की कम मात्रा भी हार्मोन एपिनेफ्रीन रिलीज होने का कारण बनती है जिसे फाइट या फ्लाइट हार्मोन भी कहा जाता है। एपिनेफ्रीन तब निकलता है जब मस्तिष्क को शरीर में किसी खतरे या तनावपूर्ण स्थिति का आभास होता है। इस हार्मोन रिलीज से हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षण होते हैं जैसे कि चिंतित होना, तेज़ धड़कन, ज़्यादा पसीना और शरीर में झुनझुनी या सनसनी। जैसे-जैसे रक्त शर्करा का स्तर गिरता रहता है, यह रक्त में मौजूद ग्लूकोज के प्रवाह में बाधा उत्पन्न करता है।

अगर ग्लूकोज की उचित मात्रा मस्तिष्क तक नहीं पहुंच पाती है, तो यह मस्तिष्क के कामकाज को रोक सकता है और दौरे, बेहोशी और धुंधली दृष्टि के साथ-साथ भटकाव की भावना के रूप में प्रकट हो सकता है। बहुत ही दुर्लभ स्थितियों में अगर ब्लड शुगर का लेवल कम हो जाता है और समय पर इलाज नहीं किया जाता है, तो इससे मरीज़ की मृत्यु हो सकती है या वह कोमा में भी जा सकता है।

लो ब्लड शुगर की मॉनिटरिंग

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप जिन लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, वह लो ब्लड शुगर लेवल के कारण हैं, जितनी जल्दी हो सके अपने शुगर के लेवल को मॉनिटर करना है। अगर आपके पास ब्लड शुगर लेवल चेक करने वाली मशीन नहीं है, तो हाइपोग्लाइसीमिया का इलाज करें और नोट करें कि आपकी हालत में कोई बदलाव आया है या नहीं। अगर कोई सुधार नहीं दिखता है, तो आगे के इलाज के लिए नजदीकी किसी हेल्थ केयर प्रोवाइडर या डॉक्टर के पास जाएं।

लो ब्लड शुगर के कारण – Low Blood Sugar Ke Karan

शुगर लेवल कम होने के कई कारण होते हैं लेकिन यह उन लोगों के लिए आम है जिन्हें टाइप 1 डायबिटीज या टाइप 2 डायबिटीज है। एक औसत व्यक्ति को हर हफ्ते लो ब्लड शुगर के लेवल के दो एपिसोड का सामना करना पड़ सकता है जो अन्य लक्षणों के साथ हो सकता है। लो ब्लड शुगर के एपिसोड हो सकते हैं जिनमें लक्षण प्रकट नहीं हो सकते हैं। लो ब्लड शुगर के लेवल का सबसे आम कारण इंसुलिन का उच्च स्तर, अनुचित आहार और अत्यधिक शारीरिक गतिविधि है।

इंसुलिन इंजेक्शन

डायबिटीज़ मरीज़ों को इंसुलिन इंजेक्शन या दवाओं के रूप में दिया जा रहा है। डायबिटीज़ के मरीज़ों के शरीर में इंसुलिन की मात्रा कम हो जाती है। इंसुलिन भोजन से ग्लूकोज के अवशोषण में ऊर्जा उत्पादन करने के लिए कोशिकाओं तक पहुंचने और अन्य सेल गतिविधियों को पूरा करने में मदद करता है। इंसुलिन की कमी के कारण रक्तप्रवाह में ग्लूकोज का संचय रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि का कारण बन सकता है। यह सुनिश्चित करने के लिए इंसुलिन इंजेक्शन दिया जाता है कि उनका ब्लड शुगर का लेवल सामान्य स्तर से न बढ़े।

गलत प्रकार के इंसुलिन का इंजेक्शन लगाने, इंसुलिन की अधिक मात्रा या त्वचा में इंजेक्शन लगाने के बजाय सीधे मांसपेशियों में इंसुलिन का इंजेक्शन लगाने से ब्लड शुगर का लेवल कम हो सकता है। अगर दवा लेने के बाद आप अपने डाइट प्लान के अनुसार खाना नहीं खाते हैं या सामान्य से अधिक व्यायाम करते हैं, तो इससे ब्लड शुगर लेवल गिर सकता है। पैनक्रियाज़ की एक चिकित्सा स्थिति भी शरीर में अधिक मात्रा में इंसुलिन का उत्पादन कर सकती है जिससे ब्लड शुगर कम हो सकती है। यह स्थिति आमतौर पर पैनक्रियाज़ में ट्यूमर के गठन के कारण होती है या इंसुलिन का उत्पादन करने वाली कोशिकाएं बड़ी हो जाती हैं जिससे इंसुलिन की अतिरिक्त मात्रा निकल जाती है।

खाने की आदत

हाइपोग्लाइसीमिया आपके आहार में कुछ पोषक तत्वों की कमी या भोजन छोड़ने के कारण हो सकता है। कुछ मामलों में भोजन में ऐसे उत्पाद होते हैं जो ब्लड शुगर कम होने का कारण बनते हैं। इस प्रकार के हाइपोग्लाइसीमिया को रिएक्टिव या पोस्टप्रांडियल हाइपोग्लाइसीमिया माना जाता है। और यह उन लोगों में हो सकता है जिनके पेट की सर्जरी हुई है। कार्बोहाइड्रेट आपकी डाइट का एक ज़रूरी कॉम्पोनेंट है और जब ये छोटे मॉलिक्यूल्स में टूट जाते हैं, तो ये ब्लडस्ट्रीम में ग्लूकोज छोड़ते हैं।

डायबिटीज़ के मरीज़ के आहार में मौजूद कार्बोहाइड्रेट की उच्च मात्रा हाइपोग्लाइसीमिया में वृद्धि का कारण बन सकती है लेकिन अगर आहार में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा काफी कम है, तो यह लो ब्लड शुगर लेवल का कारण बन सकता है।

ब्लड में कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण की सुविधा के लिए डाइट प्लान में अन्य पोषक तत्वों की भी उचित मात्रा होनी चाहिए। फैट और फाइबर जैसे अन्य पोषक तत्वों की संख्या में बदलाव कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण की दर को प्रभावित कर सकता है जिससे रक्त शर्करा के स्तर में कमी आ सकती है। हाइपोग्लाइसीमिया तब भी हो सकता है जब आपने लंबे समय से कुछ नहीं खाया हो या खाना छोड़ रहे हों।

इनमें मौजूद भोजन और पोषक तत्वों के सेवन के अनुसार इंसुलिन की डोज़ को कंट्रोल करना चाहिए। डाइट में कार्बोहाइड्रेट की कम मात्रा के लिए इंसुलिन की एक छोटी डोज़ और इसके विपरीत होना ज़रूरी है। बिना पर्याप्त भोजन किए बहुत ज़्यादा शराब पीने से भी आपके शरीर के ब्लड शुगर के लेवल को नियंत्रित करने में कठिनाई होती है। शराब के सेवन से गंभीर हाइपोग्लाइसीमिया हो सकता है।

शारीरिक गतिविधि की कमी

ब्लड शुगर के लेवल को अच्छा बनाए रखने के लिए शारीरिक गतिविधि ज़रूरी है। एक्टिव लाइफस्टाइल जीने से डायबिटीज़ के मरीज़ों को अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने और इसे बढ़ने से रोकने में मदद मिलती है। डायबिटीज़ के रोगियों के लिए प्रतिदिन कुछ मात्रा में व्यायाम या शारीरिक गतिविधि आवश्यक है लेकिन अगर वे अचानक से अपनी शारीरिक गतिविधि बढ़ा देते हैं, तो यह ब्लड शुगर लेवल में कमी का कारण बनता है। व्यायाम की तीव्रता, अवधि और समय ऐसे कारक हैं जो लो ब्लड शुगर का कारण बनते हैं। केवल व्यायाम करना और पर्याप्त भोजन न करना भी व्यायाम के 24 घंटों के भीतर हाइपोग्लाइसीमिया का कारण बनता है।

अन्य कारण

लीवर की कुछ गंभीर बीमारियां (हेपेटाइटिस या सिरोसिस) हाइपोग्लाइसीमिया का कारण बन सकती हैं। किडनी डिसऑर्डर भी हाइपोग्लाइसीमिया के लिए जिम्मेदार हैं क्योंकि दवाओं का उत्सर्जन उचित तरीके से नहीं हो सकता है जो रक्त में मौजूद ग्लूकोज को प्रभावित कर सकता है और ग्लूकोज के साथ दवाओं के संचय का कारण बन सकता है। लंबे समय तक भुखमरी या एनोरेक्सिया की स्थिति भी रक्त शर्करा के स्तर में कमी का कारण बनती है।

कुछ बीमारियों से हार्मोन की कमी हो जाती है जो ग्लूकोज उत्पादन के नियमन के लिए जिम्मेदार होते हैं और हाइपोग्लाइसीमिया का कारण बन सकते हैं। जैसे ही लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत हाइपोग्लाइसीमिया का इलाज किया जाना चाहिए। अगर इसका समय पर उपचार नहीं किया जाता है, तो यह गंभीर परिस्थितियों में दौरे और चेतना के नुकसान का कारण बन सकता है। कुछ मामलों में इससे व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है। वयस्कों में इससे मनोभ्रंश और चक्कर आ सकता है।

लो ब्लड शुगर के लिए खाना – Low Blood Sugar Ke Liye Food 

अगर आपको लो ब्लड शुगर के लक्षण महसूस हो रहे हैं, तो लेवल चेक करें और अलग-अलग ब्लड शुगर लेवल के हिसाब से अलग-अलग खाद्य पदार्थ हैं जिनका सेवन आप कर सकते हैं।

  • सामान्य से ज़्यादा ब्लड शुगर के लिए भोजन

अगर आपके ब्लड शुगर का लेवल सामान्य से ऊपर है लेकिन आप हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो आपको नैचुरल पीनट बटर खाना चाहिए जिसमें कोई अतिरिक्त चीनी नहीं है। बिना चीनी के शुद्ध पीनट बटर फैट और प्रोटीन से भरा होता है जो रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाए बिना हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षणों को ठीक करने में मदद करता है। आप क्रैकर्स जैसे स्टार्च युक्त खाद्य पदार्थों के साथ पीनट बटर का सेवन कर सकते हैं। क्रैकर्स में मौजूद स्टार्च की मात्रा रक्त शर्करा के स्तर को थोड़ा बढ़ा सकती है और मक्खन में मौजूद फैट और प्रोटीन रक्त शर्करा के स्तर में अचानक वृद्धि को रोकेंगे। जिससे ब्लड शुगर लेवल का सही संतुलन बना रहता है।

  • हाइपोग्लाइसीमिया के लिए भोजन

अगर आपका ब्लड शुगर लेवल 50 से 70एमजी/डीएल तक गिर जाता है, तो आपको किशमिश, केला, अंगूर, खजूर, सेब की चटनी और अनानास का सेवन करना चाहिए। इन फलों में चीनी की अच्छी मात्रा होती है लेकिन इनमें फाइबर भी मौजूद होता है जिससे शुगर का स्तर धीरे-धीरे बढ़ता है। ये खाद्य पदार्थ हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षणों को कम करते हुए रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावी ढंग से बढ़ाएंगे।

  • ब्लड शुगर के लेवल में भारी गिरावट के लिए भोजन

अगर आपका ब्लड शुगर लेवल 55 एमजी/डीएल से कम हो जाता है, तो अंगूर का रस या कुछ मात्रा में शहद या मेपल सिरप लें। उच्च मात्रा में कार्ब्स और न्यूनतम मात्रा में फैट, प्रोटीन और फाइबर वाले तरल पदार्थ का सेवन हाइपोग्लाइसीमिया के लिए अच्छा है। अगर आपको गंभीर हाइपोग्लाइसीमिया है, तो अंगूर के रस का सेवन करें क्योंकि इसमें सबसे ज़्यादा मात्रा में कार्बोहाइड्रेट मौजूद होता है। उपर्युक्त भोजन का सेवन करने से पहले आपको अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर से परामर्श लेना चाहिए और अपने हेल्थ इंस्ट्रक्टर के साथ सही डाइट प्लान तैयार करना चाहिए।

लो ब्लड शुगर के लिए एक्शन प्लान – Low Blood Sugar Ke Liye Action Plan

ब्लड शुगर लेवल की जांच 

अगर आप लो ब्लड शुगर लेवल का अनुभव करते हैं, तो ब्लड शुगर के लेवल को तुरंत मापना ज़रूरी हो जाता है। अगर आपका शुगर लेवल 70एमजी/डीएल से कम है, तो इसे हाइपोग्लाइसीमिया माना जाएगा लेकिन हर दूसरे व्यक्ति के लिए यह नंबर अलग होता है जिसे डॉक्टर चेक करके उसकी पुष्टी करते हैं। 

Testing blood sugar level

15-15 नियम

इस नियम में अगर आपका शुगर लेवल कम है, तो आपको लगभग 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट लेने की ज़रूरत है और फिर 15 मिनट तक इंतजार करना होगा ताकि यह ब्लड शुगर लेवल पर काम कर सके। अगर रक्त शर्करा के स्तर में कोई वृद्धि नहीं होती है, तो आपको शुगर का लेवल सामान्य होने तक इस स्टेप को दोहराना होगा।

15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट के लिए आप आधा कप संतरे का रस (शुद्ध), आधा कप नियमित सोडा, 1 टीस्पून चीनी, शहद या मेपल सिरप पानी में घोलकर, 5 से 6 जेली बीन्स या गमी बियर, 1 टीस्पून केक फ्रॉस्टिंग, 2 टीस्पून किशमिश, आधा कप सेब की चटनी या 4 ग्लूकोज की गोलियों का सेवन कर सकते हैं। अगर आपको डायबिटीज़ है, तो डॉक्टर द्वारा बताई गई आपको ग्लूकोज की गोलियां लेनी चाहिए।

इनमें से किसी एक खाद्य पदार्थ का सेवन करने के बाद अगर 15 मिनट के बाद आपका शुगर लेवल 100एमजी/डीएल तक पहुंच गया है, तो आपको इस प्रक्रिया को दोहराने की जरूरत नहीं है लेकिन यदि नहीं, तो आपको उस लेवल तक पहुंचने तक प्रक्रिया को दोहराने की आवश्यकता है।

15-15 rule

प्रोटीन का उपभोग

जब आपका ब्लड शुगर वापस सामान्य हो जाता है, तो शुगर के लेवल को सामान्य रखने के लिए कुछ मात्रा में प्रोटीन का होना ज़रूरी है। यह हैम या टर्की के साथ सैंडविच खाने या किसी दूसरे प्रोटीन युक्त भोजन खाने से प्राप्त किया जा सकता है।

ज़रूरी सावधानियां

अगर फिर भी आपका ब्लड शुगर लेवल नॉर्मल नहीं होता है, तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाने की ज़रूरत है। आपके पास एक किट होना ज़रूरी है जिसमें आपका एक्शन प्लान, ग्लूकोज टैबलेट और ग्लूकोज मीटर हो ताकि अगर आप अपनी मदद करने में सक्षम नहीं हैं, तो आपके परिवार का कोई सदस्य उस एक्शन प्लान को पढ़कर आपकी मदद कर सकता है। अपने परिवार के सदस्यों को इस स्थिति के बारे में सिखाना और गंभीर परिस्थितियों में ग्लूकागन शॉट लगाने का तरीका बताना भी ज़रूरी है।

ग्लूकागन शॉट इसलिए लिया जाता है ताकि लीवर जमा ग्लूकोज को छोड़ सके और ब्लड शुगर के लेवल को स्वाभाविक रूप से सामान्य स्तर पर लाया जा सके। जब आवश्यक हो तो चिकित्सा सहायता लें नहीं तो लंबे समय तक निम्न शर्करा स्तर अपरिवर्तनीय क्षति का कारण बन सकता है और कुछ मामलों में यह मृत्यु का कारण भी बन सकता है।

ब्लड शुगर का कम होना (हाइपोग्लाइसीमिया) – Low Blood Sugar (Hypoglycemia) 

अक्सर ऐसा होता है कि जिन लोगों को हाइपोग्लाइसीमिया होता है उनमें लो ब्लड शुगर के कोई लक्षण नहीं होते या उनकी तीव्रता इतनी हल्की होती है कि उन्हें पता ही नहीं चलता। इस स्थिति को हाइपोग्लाइसीमिया अनअवेयरनेस के रूप में जाना जाता है। जिन लोगों की यह स्थिति होती है, वे अक्सर खुद को निम्न रक्त शर्करा के लक्षणों को पहचानने में असमर्थ पाते हैं और इसे बिना उपाचर के ही छोड़ देते हैं।

यह लो ब्लड शुगर के लेवल की जटिलताओं के जोखिम को बढ़ा सकता है और एक डॉक्टर को शुगर के लेवल को नॉर्मल करने के लिए मुश्किल में डाल सकता है। ऐसे लोगों को ज़्यादा देखभाल की ज़रूरत होती है ताकि वे उचित उपचार के लिए लक्षणों को आसानी से और जल्दी पहचान सकें।

Hypoglycemia unawareness

लो ब्लड शुगर के बारे में पता न होने पर क्या करें?

अगर आप हाइपोग्लाइसीमिया से अनजान है, तो ग्लूकोज मॉनिटरिंग डिवाइस हमेशा अपने पास रखें। यह मशीन दिन और रात के अलग-अलग अंतराल पर नियमित रूप से ब्लड शुगर के लेवल की जांच करती है। इसमें एक अलार्म होता है, जो तब बंद हो जाता है जब आपका शुगर लेवल काफी कम हो जाता है। अगर आपका नींद के दौरान शुगर लेवल कम हो जाता है, तो यह आपको नींद से जगा भी सकती है।

अगर आप कई हफ्तों तक हाइपोग्लाइसीमिया से बचने का प्रबंधन करते हैं, तो आप उन शुरुआती चेतावनी संकेतों को पुनः प्राप्त कर सकते हैं जो आपका शरीर शुगर लेवल लो होने पर होने पर देता है। यह शरीर को निम्न रक्त शर्करा के स्तर के प्रति प्रतिक्रिया को फिर से सीखने में सक्षम करेगा। कुछ मामलों में आपको उच्च मात्रा में ए1सी मिल सकता है लेकिन यह रक्त शर्करा के स्तर में एक अस्थायी वृद्धि है।

लो ब्लड शुगर के लिए सावधानियां – Low Blood Sugar Ke Liye Savdhaniyan 

जिन लोगों को हाइपोग्लाइसीमिया है उन्हें हमेशा अपने शरीर के शुरुआती संकेतों पर ध्यान देना चाहिए। बचाव के लिए आप निम्नलिखित चीज़ें कर सकते हैं, जैसे- 

  • अपने ब्लड शुगर लेवल की नियमित रूप से दिन और रात के अलग-अलग अंतरालों पर जाँच करें।
  • अच्छी डाइट लें जिसमें पर्याप्त मात्रा में कार्बोहाइड्रेट हो।
  • ज़्यादा कार्बोहाइड्रेट भी खराब हो सकते हैं क्योंकि वे शुगर के स्तर में वृद्धि करते हैं इसलिए सही मात्रा में कार्ब्स का सेवन ज़रूरी है।
  • शारीरिक गतिविधि से पहले और बाद में अपने रक्त शर्करा के स्तर की जाँच करें और तदनुसार अपने कार्बोहाइड्रेट के सेवन को समायोजित करें। आमतौर पर व्यायाम के बाद और रात के समय जब आप सो रहे होते हैं, तो शुगर का लेवल कम हो जाता है।
  • हाइपोग्लाइसीमिया को रोकने के लिए अपनी दवाओं, डाइट प्लान, व्यायाम और इंसुलिन की डोज़ को संतुलित करने के बारे में अपने हेल्ध केयर प्रोवाइडर से सीखें।

किसी भी बीमारी और डायबिटीज़ का सही मैनेजमेंट हाइपोग्लाइसीमिया से जटिलताओं के जोखिम को कम कर सकता है।

मंत्रा केयर – Mantra Care 

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है, जो आपके किसी भी सवाल का जवाब देने और आपकी परेशानी से जुड़ी ज़्यादा जानकारी प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार है ताकि आप जान सकें कि आपकी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छा इलाज कौन सा है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free