जल्द असर करने वाले (शॉर्ट एक्टिंग) इंसुलिन से डायबिटीज का उपचार – Short Acting Insulin Se Diabetes Ka Upcha Treatment?

शार्ट-एक्टिंग इंसुलिन

जल्द असर करने वाला (शॉर्ट एक्टिंग) इंसुलिन क्या है? Short Acting Insulin Kya Hai? 

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन क्या है

आमतौर पर जल्द असर करने वाले इंसुलिन (शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन) को डायबिटीज का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह इंसुलिन वर्ग खुराक के आधार पर इंजेक्शन के बाद तीन से छह घंटे तक रक्त शर्करा कम करता है। लंबे समय तक काम करने वाले इंसुलिन (लॉन्ग एक्टिंग इंसुलिन) को रोज़ाना एक या दो बार इंजेक्ट किया जाता है। जबकि, शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन ज़रूरत के हिसाब से भोजन या स्नैक्स को कवर करने के लिए लिया जा सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि इसमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा ज़्यादा होती है।

इंसुलिन अग्न्याशय द्वारा निर्मित एक हार्मोन है, जो भोजन से चीनी को ऊर्जा में बदलने में मदद करता है। इस उर्जा का इस्तेमाल शरीर द्वारा किया जाता है। डायबिटीज वाले लोगों में अग्न्याशय पर्याप्त इंसुलिन नहीं बनाते हैं। साथ ही कोशिकाएं इंसुलिन के लिए उचित प्रतिक्रिया नहीं देती हैं और रक्तप्रवाह से चीनी नहीं निकाल पाती है। इसके कारण रक्त में शर्करा बनती है, जो उच्च रक्त शर्करा स्तर का कारण बनती है। अनुपचारित छोड़ने से यह समय के साथ दिल, आंख, गुर्दे, तंत्रिकाओं और कई शारीरिक हिस्सों को गंभीर नुकसान पहुंचाती है।

डायबिटीज वाले लोगों को इंसुलिन लेने की ज़रूरत होती है, लेकिन सभी तरह के इंसुलिन समान नहीं होते हैं। इंसुलिन के दो मुख्य प्रकार हैंः लंबे समय तक काम करने वाला (लॉन्ग एक्टिंग) इंसुलिन और जल्द असर करने वाला (शॉर्ट एक्टिंग) इंसुलिन। लंबे समय तक काम करने वाला इंजेक्शन दिन में एक या दो बार काम करता है और 24 घंटे तक चलता है। मरीजों को भोजन और नाश्ते से पहले एक जल्द असर करने वाले इंसुलिन का इंजेक्शन लगाना चाहिए। कार्बोहाइड्रेट की मौजूदगी वाला यह इंसुलिन इंजेक्शन के बाद 3 से 6 घंटे तक रहता है। कई तरह के जल्द असर करने वाले इंसुलिन उपलब्ध हैं, जिनमें न्यूट्रल (एनपीएच), लेंटे, अल्ट्रालेंटे और डिटैमिर शामिल हैं।

शॉर्ट एक्टिंग इंसुलिन के कार्य – Short Acting Insulin Ke Karya

ग्लूकोज को कोशिकाओं में जाने के लिए इंसुलिन की ज़रूरत होती है, ताकि वह इसे ऊर्जा के लिए इस्तेमाल कर सकें। टाइप 1 डायबिटीज होने पर आपका शरीर ज़रूरी इंसुलिन बनाना बंद कर देता है। शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन इसे बदलकर काम करता है। इससे ग्लूकोज को कोशिकाओं में जाकर आपके रक्त शर्करा को कम करने में मदद मिलती है।

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन: शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन एक प्रकार का इंसुलिन ,है जो रक्त शर्करा को 3 से 6 घंटे तक कम करता है। इसे मरीजों में डायबिटीज का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जिन्हें इंसुलिन लेने की ज़रूरत होती है। हालांकि, वह इसे 24 घंटे नहीं लेना चाहते हैं। लॉन्ग एक्टिंग इंसुलिन की तरह रोज़ाना एक या दो बार लेने के बजाय शॉर्ट एक्टिंग इंसुलिन को ज़रूरत के अनुसार लिया जा सकता है। इस तरह का इंसुलिन कार्बोहाइड्रेट वाले भोजन और नाश्ते से पहले भी इंजेक्ट किया जाता है, जो 3 से 6 घंटे तक किसी व्यक्ति के शरीर में रहता है।

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन एक तरह का फास्ट-एक्टिंग इंसुलिन यानी जल्द असर करने वाला इंसुलिन है। यह शरीर में थोड़े समय के लिए ही रहता है, जिसे खाने के बाद या रात को सोने से पहले ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने के लिए लिया जाता है। शॉर्ट-टर्म या रैपिड-एक्टिंग इंसुलिन की शुरुआत लगभग आधे घंटे से होती है और यह लगभग 2.5 से 3 घंटे तक रहता है। यह इसे भोजन या नाश्ते के लिए आदर्श प्रकार का इंसुलिन बनाता है। इंसुलिन सभी लोगों पर अलग तरह से काम करता है, इसलिए कोई भी दवा लेने से पहले आपका अपने डॉक्टर से सलाह लेना ज़रूरी है। खासकर अगर यह आपके लिए नया है, क्योंकि उन्हें बेहतर अंदाजा होगा कि कौन-सी खुराक आपके लिए सबसे अच्छा काम करेगी।

लॉन्ग एक्टिंग और शॉर्ट एक्टिंग इंसुलिन में अंतर – Long Acting Aur Short Acting Insulin Mein Antar

शार्ट-एक्टिंग इंसुलिन

लॉन्ग एक्टिंग और शॉर्ट एक्टिंग इंसुलिन के बीच का प्रमुख अंतर उनके काम करने की समय अवधि है। लॉन्ग-एक्टिंग इंसुलिन 24 घंटे तक कवरेज देता है, जबकि शॉर्ट-एक्टिंग सिर्फ 3 से 6 घंटे तक चलता है। डायबिटीज से पीड़ित लोगों को इंसुलिन लेने की ज़रूरत होती है। हालांकि, सभी तरह के इंसुलिन एक जैसे नहीं होते हैं और अलग-अलग लोगों पर अलग प्रतिक्रिया करते हैं।

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन को हमेशा ब्लड शुगर लेवल मैनेज करने के लिए खाने से पहले या खाने के तुरंत बाद लिया जाता है। कई मामलों में इसे लॉन्ग एक्टिंग इंसुलिन (लेवेमीर) के साथ भी इस्तेमाल करते हैं। शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन आमतौर पर रोज़ाना इंसुलिन के तीन या ज़्यादा इंजेक्शन लेने वाले लोगों के लिए होता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि वह अन्य प्रकार के इंसुलिन की तुलना में कम समय में जल्द असर करते हैं। 1 प्रतिशत से कम उपयोगकर्ताओं को प्रभावित करने वाले सबसे आम दुष्प्रभाव होते हैं। इनमें निम्न रक्त शर्करा यानी हाइपोग्लाइसीमिया, एलर्जी प्रतिक्रियाएं, वजन बढ़ना, इंजेक्शन वाली जगहों पर सूजन, लालपन, जलन, खुजली और  वृषण दर्द (टेस्टिकुलर पेन) सहित त्वचा की समस्याएं शामिल हैं।

जहां आप इसे इंजेक्ट करते हैं, उसके आधार पर अवशोषण दर बदल जाती है। अगर आप इसे अपनी त्वचा के नीचे लेते हैं, तो जब आप इसे अपनी जीभ (सबलिंगुअल) के नीचे लेते हैं, तो इसकी तुलना में धीमी अवशोषण दर होती है। अगर आप तेजी से काम करने वाला इंसुलिन लेते हैं, तो आपको इसकी कम मात्रा लेनी होगी। आपको कभी भी इन दोनों इंसुलिन को एक साथ नहीं मिलाना चाहिए। डॉक्टर की मानें, तो दोनों तरह के इंसुलिन में अलग-अलग अवशोषण दर होती है। ऐसा करने से आपके शरीर में निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया) का जोखिम बढ़ सकता है।

शार्ट एक्टिंग इंसुलिन कब लें ? Short Acting Insulin Kab Lein?

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन की सलाह आमतौर पर प्रतिदिन तीन या उससे ज़्यादा इंजेक्शन लेने वाले लोगों के लिए दी जाती है। एक प्रतिशत से कम उपयोगकर्ताओं को प्रभावित करने वाले सबसे आम दुष्प्रभाव होते हैं, जिसमें निम्न रक्त शर्करा शामिल है। साथ ही एलर्जी प्रतिक्रियाएं जैसे इंजेक्शन वाली जगह पर सूजन और खुजली, वजन बढ़ना, त्वचा की समस्याएं जैसे इंजेक्शन वाली जगह पर लालपन और जलन या वृषण दर्द की समस्या हो सकती है। बिना डायबिटीज वाले मरीजों को ध्यान रखना चाहिए कि इंसुलिन इंजेक्शन आपके रक्त शर्करा स्तर को बढ़ाते हैं और कीटोन्स को कम करते हैं। यही कारण है कि इंसुलिन लेने वाले डायबिटीज के मरीजों को अपने कीटोन लेवल के बारे में पता होना चाहिए।

इस तरह के इंसुलिन का इस्तेमाल आपको सिर्फ ज़रूरत के अनुसार ही करना चाहिए। उदाहरण के लिए, अगर आप ऐसा भोजन कर रहे हैं, जिसमें सामान्य से ज़्यादा कार्बोहाइड्रेट सामग्री हो। डॉक्टर बताएंगे कि लॉन्ग एक्टिंग इंसुलिन की वर्तमान खुराक के आधार पर आपको कितना इंसुलिन लेना चाहिए। कई लोग इंसुलिन की डोज़ लेना भूल जाते हैं या इसे बहुत ज़्यादा इस्तेमाल करते हैं। ऐसे लोगों को डायबिटिक कीटोएसिडोसिस (डीकेए) की समस्या हो सकती हैं, जो आपके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है। अगर आपको खाने से पहले जल्दी से इंजेक्शन लेने की ज़रूरत है, तो सीरिंज से इंजेक्शन के बजाय इंसुलिन पेन इस्तेमाल करने की कोशिश करें।

शॉर्ट एक्टिंग इंसुलिन किसे नहीं लेना चाहिए?

एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल) जैसी दवाएं लेने के कारण इंसुलिन से एलर्जी वाले लोगों का लीवर खराब हो सकता है। डायबिटिक कीटोएसिडोसिस यानी डीकेए वाले लोगों को इस तरह का इंसुलिन नहीं लेने की सलाह दी जाती है। कुछ खास बीमारियों वाले मरीजों को भी शॉर्ट एक्टिंग इंसुलिन लेने से बचना चाहिए। जैसे हाइपोग्लाइसीमिया से अनजान, कम प्लेटलेट (गिनतीथ्रोम्बोसाइटोपेनिया), तेज तनाव प्रतिक्रिया, दिल की धड़कन रुकना, एक्टिव कैंसर, तेज सांस लेने में परेशानी, कोमा, शराब की नशा करने, अनुपचारित एसिडोसिस, डायबिटिक कोमा, इंसुलिन-डिपेंडेंट डायबिटिक मेलिटस (आईडीडीएम), रक्त में कम पोटेशियम , कीटोएसिडोसिस, किडनी या लीवर की बीमारी और गंभीर रूप से बीमार बाल मरीज।

सावधानी – Savdhani

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन इंजेक्शन लेने से पहले जांच लें कि यह फीका या धुंधला नहीं है। सुनिश्चित करें कि आप इंसुलिन का अप्रूव ब्रांड इस्तेमाल कर रहे हैं। एक अलग तरह के इंसुलिन पर स्विच करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करना ज़रूरी है। अपने पेट, ऊपरी जांघों या अपनी हाथ के पीछे एक हिस्से को चुनें और इंफेक्शन को रोकने के लिए इंजेक्शन वाली जगहों पर घुमाएं। सुई को 90° के कोण पर पकड़ें और तेज़ी से धक्का देकर अपनी त्वचा में डालें। एक बार सुई डालने के बाद प्लंजर को नीचे की तरफ धकेलें, ताकि इंसुलिन आपके शरीर में जा सके। सभी इंसुलिन का इंजेक्शन लगाने के बाद सुई को बाहर निकाल दें।

सिरिंज के साथ इंजेक्शन इस्तेमाल करते करते समय उन्हें ठंडी जगह पर स्टोर करें, लेकिन सीधे धूप में या रेफ्रिजरेटर के अंदर नहीं। इस तरह के इंसुलिन को नमी से दूर रखें और समाप्ति तिथि के बाद इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। बच्चों की पहुंच से शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन को दूर रखें, क्योंकि अनुचित तरीके से लिये जाने पर यह किसी भी व्यक्ति के लिए हानिकारक हो सकता है। अपनी सुई या सिरिंज को किसी के साथ साझा नहीं करना चाहिए। यह आपके और इंजेक्शन लगाने वाले व्यक्ति दोनों के लिए इंफेक्शन और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। इस्तेमाल की गई सुइयों को पंचर-प्रूफ शार्प कंटेनर में फेंक दें। अगर आपको इंसुलिन खरीदने में मदद चाहिए, तो अपने स्थानीय फार्मासिस्ट, डायबिडीज शिक्षक या प्राथमिक देखभाल चिकित्सक को कॉल करें। इंसुलिन आपूर्ति के लिए कवरेज के बारे में अपनी बीमा कंपनी से बात करने की कोशिश करें।

डॉक्टर से कब मिलें ? Doctor Se Kab Milein?

अगर आप ज़रूरत के मुताबिक यह इंसुलिन इस्तेमाल कर रहे हैं और रक्त शर्करा का स्तर बहुत कम (हाइपोग्लाइसीमिया) है, तो तुरंत डॉक्टर को बुलाए। ऐसे में आपकी डोज़ को एडजस्ट करने की ज़रूरत हो सकती है। इसके अलावा अगर यह इतना ज़्यादा है कि डायबिटिक कीटोएसिडोसिस (डीकेए) जैसी जटिलताएं होती हैं। इसमें शरीर बहुत ज़्यादा एसिड बनाता है और रक्त ज़्यादा अम्लीय हो जाता है, तो कोमा का संभिवत जोखिम रहता है।

डीकेए के लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

when to see your doctor

  • मतली और उल्टी
  • तेजी से सांस लेना
  • रूखी त्वचा
  • ज़्यादा प्यास और लगातार पेशाब आना
  • अचानक वजन कम होना

अगर आप कीटोएसिडोसिस के लक्षण या संकेत देखते हैं, जैसे भ्रम, उनींदापन, ज़्यादा प्यास लगना, लगातार पेशाब आना, जी मिचलाना, पेट दर्द, उल्टी, सांस लेने में कठिनाई, थकान और सोते समय सांस लेने में परेशानी (आपकी सांस के रंग में संभावित बदलाव के साथ), तो तुरंत चिकित्सा सहायता लें।

इंसुलिन कैसे लें? Insulin Kaise Lein?

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन का उपयोग

आमतौर पर शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन लेना कोई मुश्किल काम नहीं है। किसी व्यक्ति द्वारा इसे अपनी त्वचा या पेट में इंजेक्ट किया जा सकता है। कुछ लोग इसे लंबे समय तक काम करने वाले इंसुलिन के साथ मिलाते हैं और इसे एक इंजेक्शन के रूप में लेते हैं। हालांकि, सभी लोगों को ऐसा करने की सलाह नहीं दी जाती है। ऐसा करने से पहले आपको हमेशा अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

इंसुलिन की खुराक को मापने के लिए एक बहुत पतली सुई एक सिरिंज से जुड़ जाती है। हम इसका इस्तेमाल इंसुलिन की उचित खुराक यानी 0.1 मिली से 1 मिली तक मापने के लिए करते हैं। अपने इंजेक्शन को पूरा करना ज़रूरी है, क्योंकि इससे आपके रक्त में इंसुलिन लेवल को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। अगर आप अपने सभी इंजेक्शन को पूरा नहीं करते हैं, तो इससे बीमारी होने का जोखिम बढ़ जाता है। इसके कारण आपको उच्च रक्त शर्करा की समस्या हो सकती है, जो आपको अन्य बीमारियों जैसे आंख या गुर्दे की समस्याओं के विकास के लिए ज़्यादा जोखिम में डालती है।

इंसुलिन लेने का समय – Insulin Lene Ka Samay

what time of day should i take my dose

आप दिन में कभी भी इंसुलिन की डोज़ ले सकते हैं, लेकिन कुछ लोग दिन के दौरान भोजन को कवर करने में मदद के लिए डोज़ को बांटना पसंद करते हैं। इंसुलिन को इंजेक्शन लगाने के बाद काम शुरू करने में आमतौर पर लगभग 3 घंटे का समय लगता है। उपयोग के लिए किस प्रकार के इंसुलिन को निर्धारित किया जाता है, इसके आधार पर डॉक्टर आपको दूसरी खुराक लंच या डिनर में लेने की सलाह दे सकते हैं।

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन को आप भोजन के समय भी ले सकते हैं। इसके काम करने का समय 3 से 5 घंटे तक होता है। इसका मतलब है कि यह आपके खाने के बाद लगभग चार 4 या ज़्यादा घंटे तक चलेगा। शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन आपके शरीर में जाने के तरीके में बेसल और इंटरमीडिएट इंसुलिन से अलग होता है। शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन को खाने से पहले इंजेक्ट किया जाता है, जबकि अन्य प्रकार के इंजेक्शन रोज़ाना 2 बार इंजेक्शन के तौर पर लिए जाते हैं। अगर आपको डॉक्टर द्वारा इस तरह की दवा निर्धारित की गई है, तो उन्हें लेते समय ज़रूरी निर्देशों का सावधानी के साथ पालन करना सुनिश्चित करें।

ध्यान रखने वाली बातें – Dhyan Rakhne Wali Batein

Things To Consider Before Taking Insulin

इंसुलिन लेते समय आपको हमेशा इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि आप क्या खा रहे हैं। कुछ लोग इसे अच्छी तरह से सहन कर सकते हैं, जबकि कुछ लोग नहीं। सुनिश्चित करें कि आपको कौन-से खाद्य पदार्थ का सेवन करना चाहिए और क्या यह इंसुलिन लेने वालों के लिए अच्छे हैं।

इंजेक्शन लेने वाले ज़्यादातर लोग अभी भी स्पोर्ट्स एक्टिविटी में हिस्सा ले सकते हैं, लेकिन सुनिश्चित करें कि डॉक्टर को पहले से इसकी जानकारी हो। व्यायाम से कार्ब्स में उच्च इंसुलिन की अवशोषण दर प्रभावित हो सकती है। साथ ही व्यायाम से रक्त शर्करा के स्तर को कम किया जा सकता है। खासतौर से अगर आप अभी अपने इंजेक्शन के साथ शुरुआत कर रहे हैं।

इंसुलिन का इस्तेमाल करने से पहले आपको एक शारीरिक जांच करनी चाहिए। हालांकि, डॉक्टरों या विशेषज्ञों द्वारा सभी व्यक्तियों को इंसुलिन के इस्तेमाल को लेकर परामर्श करना ज़रूरी है। रक्त शर्करा के स्तर और इंसुलिन के किसी भी संभावित दुष्प्रभाव को मॉनिटर करने के लिए आपको नियमित जांच कराने की सलाह दी जाती है।

जेस्टेशनल डायबिटीज वाली गर्भवती महिलाओं को इंसुलिन लेते समय ज़्यादा सावधानी बरतनी चाहिए। आमतौर पर गर्भवती महिलाओं को शारीरिक संरचना में बदलाव से रोज़ाना बहुत कम मात्रा में (1 यूनिट से कम) शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन की ज़रूरत होती है। जबकि, कई गर्भवतियों को इसकी बिल्कुल ज़रूरत नहीं होती है।

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन का इस्तेमाल करना बहुत आसान है। हालांकि, कई चिकित्सीय तरीकों से किसी व्यक्ति को नियमित और प्रभावी ढंग इंजेक्शन लेने में परेशानी हो सकती है। कुछ लोग नियमित रूप से इंजेक्शन नहीं लेते हैं, जिससे उन्हें बीमारी को मैनेज करने और स्थिति को बिगड़ने से रोकने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

इंसुलिन के फायदे – Insulin Ke Fayde

डायबिटीज से पीड़ित ज़्यादातर लोग अपने रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित करने के लिए इंसुलिन लेते हैं। डायिबिटीज की अनिश्चितता और हाइपोग्लाइसीमिया या हाइपरग्लाइसीमिया के साथ उनके द्वारा महसूस किए जा सकने वाले दुष्प्रभावों के कारण यह एक चुनौती हो सकती है। इसके बाद भी कई लोगों के लिए इंसुलिन लेना फायदेमंद विकल्प साबित होता है। यह उनके लिए बिना किसी जटिलता के स्थिति को मैनेज करने का आसान तरीका है। इंसुलिन के इस्तेमाल से मिलने वाले कुछ सामान्य फायदों में शामिल हैं:

  • रक्त-शर्करा के स्तर का नियमितीकरण
  • स्वास्थ्य जटिलताओं का कम जोखिम
  • आसान- दैनिक इंजेक्शन या डोज़ गिनने की कोई ज़रूरत नहीं है।
  • किफायती- ज्यादातर लोगों के पास बीमा कवरेज होता है।

इंसुलिन लेने का एकमात्र नुकसान है, कि यह निम्न रक्त शर्करा स्तर का कारण बन सकता है। इससे कंपकंपी, भूख, नींद या भ्रम की समस्या हो सकती है। हालांकि, इंसुलिन की डोज़ बढ़ाकर या हर इंजेक्शन से पहले नाश्ता करके इस दुष्प्रभाव को आसानी से मैनेज किया जा सकता है।

इंसुलिन के नुकसान – Insulin Ke Nuksan

एक प्रतिशत से कम उपयोगकर्ताओं को प्रभावित करने वाले सबसे आम दुष्प्रभावों में निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया) और एलर्जी है। इनमें इंजेक्शन वाले हिस्से में सूजन, खुजली, वजन बढ़ना और त्वचा की समस्याओं में इंजेक्शन वाले हिस्से पर लालपन, जलन और टेस्टिकुलर दर्द शामिल है। हालांकि, बिना-डायबिटीज वाले मरीजों में इंसुलिन इंजेक्शन रक्त शर्करा स्तर को बढ़ाएंगे। वह आपके कीटोन्स भी कम करते हैं, इसीलिए डायबिटीज के मरीजों को इंसुलिन इस्तेमाल करने के लिए अपने कीटोन स्तर के बारे में पता होना चाहिए।

दुष्प्रभाव

डायबिटीज वाले लोगों को डॉक्टर से परामर्श के बाद ही इंसुलिन लेना चाहिए। इस प्रकार के इंसुलिन के दुष्प्रभावों में हाइपोग्लाइसीमिया, वजन बढ़ना और खून में कम पोटेशियम स्तर शामिल हैं। इनमें से कोई भी दुष्प्रभाव महसूस होने पर तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

निम्न रक्त शर्करा स्तर: इसे हाइपोग्लाइसीमिया भी कहते हैं, जिसमें रक्त शर्करा सामान्य से नीचे चली जाती है। यह चक्कर आना, भ्रम, उनींदापन या दौरे का कारण बन सकता है। अगर यह लगातार उच्च रहता है, तो यह इंजेक्शन लेने के तरीके में कोई समस्या से हो सकता है। ऐसे में चिकित्सक से परामर्श करें कि आपको इसकी खुराक कितनी बार लेनी है और जानें कि रक्त स्तर को रेगुलेट करने और ज़्यादा प्रभावी बनाने के लिए आप क्या कर सकते हैं।

वजन बढ़ना: इस तरह के इंसुलिन से भूख बढ़ना आम है, जिससे आपका वजन बढ़ सकता है।

रक्त में कम पोटेशियम स्तर: इसके लक्षणों में मतली, उल्टी, कमजोरी और मुंह के आसपास तनाव महसूस होने शामिल है।

इंजेक्शन वाली जगह पर खुजली या सूजन: उस जगह पर रंग काला पड़ने के साथ लालपन और दर्द हो सकता है, जहां इंसुलिन इंजेक्शन दिया गया था। यह आमतौर पर खराब आहार या इंजेक्शन लेने के बाद अपनी उचित देखभाल नहीं करने की वजह से होता है। हालांकि, यह लक्षण आमतौर पर अपने आप दूर हो जाते हैं। ऐसा नहीं होने पर किसी व्यक्ति को मदद के लिए किसी चिकित्सकीय पेशेवर से संपर्क करना चाहिए।

शॉर्ट-एक्टिंग इंसुलिन एक प्रकार का फास्ट-एक्टिंग इंसुलिन है और यह शरीर में थोड़े समय के लिए ही रहता है। इंसुलिन इंजेक्शन खाने के बाद या रात को सोने से पहले रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। शॉर्ट-टर्म या रैपिड-एक्टिंग इंसुलिन की शुरुआत लगभग आधे घंटे से होती है और 2.5 घंटे तक चलती है।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आपको या आपके परिवार में किसी व्यक्ति को डायबिटीज है और उनके लिए आप इंसुलिन उपचार के बारे में विचार कर रहे हैं, तो आज ही हमारे सबसे बेहतर अनुभवी विशेषज्ञों से मिलें।

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free