डायबिटिक रेटिनोपैथी: लक्षण, कारण और उपचार – Diabetic Retinopathy: Lakshan, Karan Aur Upchar

डायबिटिक रेटिनोपैथी

Contents

डायबिटिक रेटिनोपैथी क्या है? Diabetic Retinopathy Kya Hai?

डायबिटीज से होने वाली आंखों की बीमारी को डायबिटिक रेटिनोपैथी कहा जाता है। यह बीमारी आंख के पिछले हिस्से यानी रेटिना में को नुकसान पहुंचाती है। इससे रेटिना में प्रकाश के प्रति संवेदनशील ऊतक की रक्त वाहिकाएं डैमेज हो जाती हैं। शुरुआत में डायबिटिक रेटिनोपैथी के कोई लक्षण या दृष्टि संबंधी मामूली समस्याएं नहीं होती हैं, लेकिन कई बार यह लोगों में अंधेपन का प्रमुख कारण बन सकती है। डॉक्टरों के मुताबिक, टाइप 1 या टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित सभी व्यक्ति इस बीमारी को विकसित कर सकते हैं। हालांकि, डायबिटीज के मरीजों में डायबिटिक रेटिनोपैथी विकसित होने की संभावना ज़्यादा होती है। इसके अलावा, आंखों की यह बीमारी अनियंत्रित रक्त शर्करा स्तर वाले लोगों को प्रभावित भी कर सकती है।

डायबिटिक रेटिनोपैथी के लक्षण – Diabetic Retinopathy Ke Lakshan 

आंखों की इस बीमारी के शुरुआती चरणों में आप कई लक्षणों औंर संकेतों का अनुभव कर सकते हैं। इनमें शामिल हैं:

  • धुंधली दृष्टि
  • दृष्टि हानि
  • अस्थिर दृष्टि
  • दृष्टि में काले तार
  • दृष्टि में अंधेरा और खाली क्षेत्र

डायबिटिक रेटिनोपैथी के प्रकार – Diabetic Retinopathy Ke Prakar

डायबिटिक रेटिनोपैथी के प्रकार

नॉन प्रोलिफरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी (एनपीडीआर)

नॉनप्रोलिफरेटिव शब्द इस तथ्य की जानकारी देता है कि डायबिटिक रेटिनोपैथी के शुरुआती चरणों में आंख नई रक्त वाहिकाओं का उत्पादन नहीं करती है। विशेषज्ञों की मानें, तो रेटिनोपैथी की शुरुआत में डैमेज रक्त वाहिकाएं अक्सर आंखों में रक्त और तरल पदार्थ का रिसाव करती हैं। जबकि, कुछ स्थितियां मैक्युला या रेटिना के केंद्र में सूजन का कारण भी बन सकती हैं। इसका नतीजा मैक्यूलर एडीमा नाम की स्थिति में होता है। हल्के, मध्यम और गंभीर एनपीडीआर सहित डायबिटिक रेटिनोपैथी बीमारी के मुख्य तीन चरण होते हैं, लेकिन ज़्यादा गंभीर होने पर यह दूसरे प्रकार या चौथे चरण यानी प्रोलिफरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी की स्थिति में भी पहुंच सकता है।

प्रोलिफरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी (पीडीआर)

यह डायबिटीज से होने वाली रेटिनोपैथी का वह चरण है, जिसमें रेटिना के अंदर नई रक्त वाहिकाओं का विकास होने लगता है। आमतौर पर इसे प्रोलिफरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी यानी पीडीआर के तौर पर जाना जाता है। इसे एडवांस्ड रेटिनोपैथी भी कहते हैं, क्योंकि यह असामान्य नई रक्त वाहिकाएं अक्सर आंख के बीच में विकसित होती हैं। नई रक्त वाहिकाओं के विकास से बने निशान ऊतक के कारण रेटिना आखिर में आपकी आंख के पीछे से अलग हो सकती है। अगर नई रक्त वाहिकाएं आंख से तरल पदार्थ के सामान्य प्रवाह में रुकावट डालती हैं, तो नेत्रगोलक में दबाव बन सकता है। इसके अलावा, नसों पर तरल पदार्थ बनने से ग्लूकोमा हो सकता है, जो आपकी आंखों से दिमाग (ऑप्टिक तंत्रिका) तक तस्वीरें पहुंचाता है।

डायबिटिक रेटिनोपैथी के कारण – Diabetic Retinopathy Ke Karan

रेटिना में रक्त आपूर्ति की कमी से बहुत ज़्यादा शर्करा आपकी छोटी रक्त वाहिकाओं में रुकावट पैदा कर सकती है। रेटिना को पोषण देने वाली वाहिकाओं में रुकावट से आंख नई रक्त वाहिकाएं बनाने की कोशिश करती है। हालांकि, यह नई रक्त वाहिकाएं ठीक से विकसित नहीं होती हैं, जिससे इनमें रिसाव होने का खतरा होता है। डायबिटीज की वजह से किसी व्यक्ति को उच्च रक्त शर्करा की समस्या हो सकती है, जो आगे चलकर डायबिटिक रेटिनोपैथी का कारण बनती है। डॉक्टरों का कहना है कि रक्त में बहुत ज़्यादा शर्करा आपके रेटिना को नुकसान पहुंचा सकती है। रेटिना प्रकाश का पता लगाता है और आपकी आंख के पीछे ऑप्टिक नर्व के ज़रिए दिमाग को संकेत भेजता है। डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारी आपके शरीर में रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाती है, जिससे डायबिटिक रेटिनोपैथी और अन्य जटिलताएं पैदा हो सकती हैं। 

डायबिटिक रेटिनोपैथी के चरण – Diabetic Retinopathy Ke Charan

डायबिटीज के मरीजों में डायबिटीज संबंधी रेटिनोपैथी और डायबिटिक मैकुलर एडिमा यानी डीएमई जैसी न्यूरोवास्कुलर समस्याओं का संभावित खतरा होता है। हालांकि, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह टाइप 1 या टाइप 2 डायबिटीज सहित किस डायबिटीज के प्रकार से पीड़ित हैं। डायबिटिक रेटिनोपैथी एक प्रकार की आंखों की बीमारी है, जो ज़्यादातर डायबिटीज से पीड़ित लोगों को प्रभावित करती है। आमतौर पर यह तब होती है, जब उच्च रक्त शर्करा उनके रेटिना की छोटी रक्त वाहिकाओं को डैमेज कर देती है।

इसकी वजह से डायबिटीज के मरीजों को धुंधली दृष्टि और दृष्टि हानि सहित कई अन्य लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है। कई बार यह स्थिति अपरिवर्तनीय दृष्टि हानि का कारण बन सकती है, इसलिए डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए बार-बार आंखों की जांच करवाना ज़रूरी है। इस तरह वह बीमारी का जल्द निदान और इसकी प्रोग्रेस को आसानी से नियंत्रित कर सकते हैं। नॉन प्रोलिफरेटिव और प्रोलिफरेटिव सहित इसके दो प्रकार हैं। नॉनप्रोलिफरेटिव बीमारी का शुरुआती चरण है, जबकि प्रोलिफरेटिव बीमारी का एक एडवांस टाइप है।

माइल्ड नॉनप्रोलिफरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी

माइल्ड एनपीडीआर

यह डायबिटिक रेटिनोपैथी का पहला चरण है, जो रेटिना की रक्त वाहिकाओं में सूजन के छोटे हिस्सों की खासियत है। सूजन वाले इन हिस्सों को माइक्रो एन्यूरिज्म है। इस बिंदु पर तरल पदार्थ की थोड़ी मात्रा रेटिना में लीक हो सकती है, जिससे मैक्युला में सूजन हो सकती है, जो केंद्र के पास रेटिना का एक हिस्सा है।

मॉडरेट नॉनप्रोलिफरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी

मॉडरेट एनपीडीआर

छोटी रक्त वाहिकाओं की सूजन उचित पोषण को रोकते हुए रेटिना को रक्त की आपूर्ति में रुकावट डालने लगती है। इसके कारण मैक्युला रक्त और अन्य तरल पदार्थों से ब्लॉक हो जाता है।

सिवियर नॉनप्रोलिफरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी

सिवियर एनपीडीआर

रेटिना की रक्त वाहिकाओं का एक बड़ा हिस्सा ब्लॉक हो जाता है, जिससे इस हिस्से में रक्त प्रवाह काफी कम हो जाता है। इस स्तर पर शरीर को रेटिना में नई रक्त वाहिकाओं का विकास शुरू करने के लिए संकेत मिलते हैं।

प्रोलिफरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी

पीडीआर

इस चरण में बीमारी उस बिंदु तक आगे बढ़ जाती है, जहां रेटिना में नई रक्त वाहिकाएं बनने लगती हैं। इससे द्रव का रिसाव बहुत ज़्यादा होता है, क्योंकि बनने वाली नई रक्त वाहिकाएं आमतौर पर कमजोर होती हैं। यह कई तरह की दृष्टि समस्याओं का कारण बनती हैं, जिसमें धुंधलापन, दृष्टि हानि और अंधापन भी शामिल है।

डायबिटिक रेटिनोपैथी के जोखिम – Diabetic Retinopathy Ke Jokhim

आमतौर पर डायबिटीज वाले लोगों में डायबिटिक रेटिनोपैथी विकसित होने का जोखिम ज़्यादा हो सकता है। इसकी वजह से कई स्थितियां पैदा हो सकती हैं, जैसे:

डायबिटिक रेटिनोपैथी की जटिलताएं – Diabetic Retinopathy Ki Jatiltayein

डायबिटीज से होने वाली रेटिनोपैथी मरीजों में गंभीर जटिलताओं को जन्म दे सकती है। हालांकि, इसमें रेटिना के अंदर असामान्य रक्त वाहिकाओं के बढ़ने सहित कई अन्य जटिलताएं भी शामिल हैं, जैसे:

विट्रियस हेमरेज

नई रक्त वाहिकाएं आपकी आंख के केंद्र को भरने वाली पारदर्शी, जेली जैसी सामग्री में प्रवाहित हो सकती हैं। अगर इसकी मात्रा कम है, तो आप सिर्फ काले धब्बे यानी फ्लोटर्स भी देख सकते हैं। इस स्थिति में रक्त कांच के गुहा (विट्रियस कैविटी) को भर सकता है और ज़्यादा गंभीर मामलों में आपकी दृष्टि को अस्पष्ट कर सकता है।

विट्रियस हेमरेज

ज्यादातर मामलों में एक विट्रियस हेमरेज के कारण स्थायी दृश्य हानि नहीं होती है। चार हफ्ते या महीनों के अंदर आंख में मौजूद खून साफ हो जाता है। जब तक आपका रेटिना घायल नहीं हो जाता, तब तक आपकी आंखों की रोशनी अपने उचित अवस्था तक ठीक हो जाएगी।

 

 

रेटिना अलग होना (रेटिनल डिटैचमेंट)

रेटिनल डिटैचमेंट

डायबिटिक रेटिनोपैथी असामान्य रक्त वाहिकाओं से जुड़ी होती है. जो निशान ऊतक के विकास को उत्तेजित करती है। यह रेटिना को आंख के पिछले हिस्से से दूर खींच सकता है, जिससे आपकी दृष्टि में तैरते धब्बे, उज्जवल चमक या गंभीर दृष्टि हानि भी हो सकती है।

ग्लूकोमा

ग्लूकोमा

नई रक्त वाहिकाएं आपकी आंख के सामने वाले हिस्से यानी आईरिस में बन सकती हैं। यह आंख से तरल पदार्थ के सामान्य प्रवाह में रुकावट पैदा कर सकती हैं, जिससे आपकी आंखों में दबाव बनने लगता है। यह दबाव आंख की नसों को नुकसान पहुंचाता है, जो आपकी आंखों से आपके दिमाग तक तस्वीरें पहुंचाती है।

अंधापन

blindness

डायबिटिक रेटिनोपैथी, मैक्यूलर एडिमा और ग्लूकोमा जैसी गंभीर बीमारियों के कारण दृष्टि हानि हो सकती है। डॉक्टरों की मानें, तो ठीक से इलाज नहीं करने या अनुपचारित छोड़ दिए जाने पर यह स्थिति मरीजों में अंधेपन का कारण बन सकती है, जिससे उनकी परेशानी ज़्यादा बढ़ जाती है।

डायबिटिक रेटिनोपैथी का निदान  – Diabetic Retinopathy Ka Nidan

आमतौर पर आंखों की जांच के दौरान डॉक्टर कई तरीकों की मदद से यह पता लगा सकते हैं कि आपको डायबिटिक रेटिनोपैथी है या नहीं। हालांकि, निम्नलिखित उपायों को डायबिटिक रेटिनोपैथी का निदान करने के लिए ज़्यादा बेहतर माना जा सकता है।

  • पुतली का फैलाव: आपकी आंखों में किसी भी बदलाव या नई रक्त वाहिकाओं की जांच के लिए डॉक्टर आपकी पुतलियों को फैलाते हैं। इस तरह वह उभरे हुए या अलग हुए रेटिना की भी जांच करते हैं।
  • फ्लोरेसिन एंजियोग्राम: अगर आपको डीएमई यानी डायबिटिक मैक्यूलर एडिमा या गंभीर डायबिटिक रेटिनोपैथी है, तो यह परीक्षण आपके डॉक्टर को इसका पता लगाने में मदद कर सकता है। इससे डॉक्टर यह जान सकते हैं कि आपकी कोई रक्तवाहिका लीक हो रही है या डैमेज है। डॉक्टर आपको आपके हाथ की नस में फ्लोरोसेंट डाई का एक शॉट देंगे,जिसकी मदद से वह आपके रेटिना में रक्त वाहिकाओं की छवियों को देख पाते हैं। डाई आपकी आंखों तक पहुंचने के बाद डॉक्टर को किसी भी बड़ी समस्या का पता लगाने में मदद करती है।

डायबिटिक रेटिनोपैथी का उपचार – Diabetic Retinopathy Ka Upchar

ज़्यादातर डॉक्टरों द्वारा डायबिटिक रेटिनोपैथी का उपचार अक्सर बीमारी की अवस्था और बीमारी की तेजी के आधार पर निर्धारित किया जाता है। अगर जल्दी पता चल जाए, तो रेटिनल डैमेज से पहले रक्त शर्करा नियंत्रण एकमात्र चिकित्सीय विकल्प हो सकता है। हालांकि, डॉक्टर यह सुनिश्चित करने के लिए आपकी आंखों की जांच जारी रखते हैं, ताकि बीमारी ज़्यादा खराब न हो जाए।

अगर नॉन प्रोलिफरेटिव चरण में आपकी आंखों को थोड़ा नुकसान हुआ है, तो आप निम्नलिखित उपचारों की मदद ले सकते हैं:

  • लेजर सर्जरी: इस प्रक्रिया में फोटोकोएग्यूलेशन का इस्तेमाल करना शामिल है। यह एक तरह की लेजर सर्जरी है, जो असामान्य रक्त वाहिकाओं और रेटिना में सूजन को कम करने में मदद करती है।
डायबिटिक रेटिनोपैथी का उपचार
  • आंखों के लिए दवाएं: यह आंखों में दिया जाने वाला एक स्टेरॉयड इंजेक्शन है, जो सूजन को कम करता है और नई रक्त वाहिकाओं को बनने से रोकता है। इसके अलावा एंटी-वीईजीएफ दवा मैक्युला में सूजन को कम करने और दृष्टि बढ़ाने में मदद करती है। यह संभावित रूप से आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है, क्योंकि दोनों उपचार डॉक्टरों द्वारा आंखों में इंजेक्शन के तौर पर दिए जाते हैं।
medications for eyes
  • विट्रेक्टोमी: अगर आपके पास प्रोलिफरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी है, तो आपको विट्रेक्टोमी सर्जरी की ज़रूरत हो सकती है। इस सर्जरी से रेटिना और विट्रियस यानी आंख के केंद्र में एक जेली जैसे पदार्थ का इलाज किया जाता है। इसमें निशान ऊतक, रक्त या तरल पदार्थ और विट्रियस जेल के कुछ हिस्सों को सर्जरी के दौरान हटाया जा सकता है, ताकि प्रकाश की किरणें रेटिना पर ठीक से फोकस कर सकें। आपको बता दें कि रेटिना या रेटिना डिटैचमेंट में ट्रैक्शन का इलाज एक ही समय में किया जा सकता है।
विट्रेक्टोमी

डायबिटिक रेटिनोपैथी से बचाव  – Diabetic Retinopathy Se Bachav

डायबिटिक रेटिनोपैथी को हमेशा रोका नहीं जा सकता है। हालांकि, अगर आप नियमित रूप से आंखों की जांच, रक्त शर्करा का प्रबंधित स्तर, रक्तचाप पर नियंत्रण और दृष्टि संबंधी समस्याओं की जल्द देखभाल करते हैं, तो आपको गंभीर दृष्टि हानि से बचने में मदद मिल सकती है। आपको बता दें कि डायबिटिक रेटिनोपैथी हमेशा दृष्टि हानि का कारण नहीं बनती है। इसीलिए, इसकी जटिलताओं को रोकने के लिए अपने डायबिटीज का प्रबंधन करना आपके लिए बेहद ज़रूरी है। अगर आपको डायबिटीज की बीमारी है, तो आप नीचे दिए तरीकों से डायबिटिक रेटिनोपैथी का जोखिम कम कर सकते हैं:

डायबिटीज का प्रबंधन

  • स्वस्थ भोजन का सेवन करें और व्यायाम को अपने दिन का नियमित हिस्सा बनाएं।
  • हर हफ्ते कम से कम 150 मिनट की हल्की एरोबिक गतिविधि करने का लक्ष्य रखें,। इनमें चलना या डांस करना शामिल हैं।
  • अपनी डायबिटीज की दवा या इंसुलिन के निर्देशों का बेहतर तरीके से पालन करें।

रक्त शर्करा स्तर की निगरानी

  • आपको अपने रक्त शर्करा के स्तर को दिन में कई बार जांचने और रिकॉर्ड करने की ज़रूरत हो सकती है। अगर आप बीमार या तनावग्रस्त हैं, तो आपको इसकी ज़्यादा बार जांच भी करनी पड़ सकती है।
  • अपने डॉक्टर से पूछें कि आपको कितनी बार अपने रक्त शर्करा का परीक्षण करना चाहिए।

ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन टेस्ट की जानकारी

  • ग्लाइकोसिलेटेड हीमोग्लोबिन परीक्षण पिछले दो से तीन महीनों में आपके औसत रक्त शर्करा के स्तर को मापता है। आमतौर पर इसे हीमोग्लोबिन ए1सी परीक्षण के नाम से भी जाना जाता है।
  • मधुमेह वाले अधिकांश व्यक्तियों के लिए A1C का लक्ष्य इसे लगभग 7% रखना है।

रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण

  • आप संतुलित भोजन का सेवन, बार-बार व्यायाम करना और वजन घटाने जैसे उपायों का पालन कर सकते हैं। इससे आपको रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी नियंत्रित रखने में मदद मिलती है।
  • कभी-कभी ज़रूरत पड़ने पर आप दवा का सेवन भी कर सकते हैं।

धूम्रपान से परहेज़

  • डायबिटिक रेटिनोपैथी सहित डायबिटीज से होने वाली अन्य समस्याओं के विकास की संभावना में धूम्रपान का मुख्य योगदान होता है।
  • धूम्रपान छोड़ने की कोशिश करें। इसके लिए आप अपने डॉक्टर से कुछ ज़रूरी सुझाव भी ले सकते हैं।

दृष्टि में बदलाव पर नज़र

  • अगर आपकी आंखों की रोशनी अचानक बदल जाती है या धुंधली और धब्बेदार हो जाती है, तो जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से परामर्श करना सुनिश्चित करें।
  • इसके अलावा अपने नेत्र विशेषज्ञों को बार-बार होने वाले आंखों में बदलाव के बारे में सूचित रखें।

डॉक्टर से कब मिलें? Doctor Se Kab Milein?

दृष्टि हानि से बचने का सबसे अच्छा तरीका आपके डायबिटीज को बेहतर तरीके से नियंत्रित रखना है। अगर आपकी दृष्टि में कोई बदलाव आता है, तो डायबिटीज होने पर सालाना आंखों की जांच के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें। अगर आपको गर्भावस्था से पहले या गर्भावस्था के दौरान डायबिटीज यानी गर्भकालीन (जेस्टेशनल) डायबिटीज है, तो इस स्थिति में आपको डायबिटिक रेटिनोपैथी होने की संभावना ज़्यादा होती है। इसके अलावा अचानक दृष्टि में बदलाव या धुंधली या धब्बेदार दृष्टि की समस्या होने पर आपको तुरंत अपने आंखों के डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free