नसों में दबाव (मेराल्जिया पैरेस्थेटिका): लक्षण, कारण और उपचार – Meralgia Paresthetica: Lakshan, Karan Aur Upchar

नसों में दबाव (मेराल्जिया पैरेस्थेटिका)

Contents

नसों में दबाव (मेराल्जिया पैरेस्थेटिका) क्या है? Meralgia Paresthetica Kya Hai?

नसों में दवाब यानी मेराल्जिया पैरेस्थेटिका एक ऐसी स्थिति है, जिसमें किसी व्यक्ति को सुन्नपन, दर्द या जलन महसूस होती है। मेराल्जिया पैरेस्थेटिका में लोगों को जलने का यह अहसास ज़्यादातर अपनी बाहरी जांघ पर होता है। मेराल्जिया पैरेस्थेटिका का दूसरा नाम बर्नहार्ट-रोथ सिंड्रोम है, जो आमतौर पर पैरों में से एक की नसों पर बहुत ज़्यादा दबाव पड़ने के कारण होता है। खासतौर से यह दवाब लेटरल फेमोरल क्यूटनेस नर्व्स (एलएफसीएन) में देखा जाता है।

thigh pain

हालांकि, चिकित्सा विज्ञान में कुछ दवाएं और सर्जरी हैं, जिन्हें मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के इलाज में इस्तेमाल किया जा सकता है और इन्हें उपचार के सबसे सरल तरीकों में से एक माना जाता है। अगर आप उचित उपचार का पालन करते हैं, तो आप मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के लक्षणों और जोखिम को कम करके समय के साथ सामान्य हो सकते हैं।

मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के बारे में – Meralgia Paresthetica Ke Bare Mein

अगर आप इस समस्या का सामना कर रहे हैं, तो आपको बीमारी से संबंधित कुछ बिंदुओं के बारे में पता होना चाहिए। इनकी मदद से आप अपनी बीमारी का बेहतर तरीके से उपचार कर सकते हैं, जो इस प्रकार हैंः

शारीरिक विकलांगता

  1. इस बीमारी से पीड़ित लोगों को शरीर के संक्रमित हिस्से के किसी चीज के संपर्क में आने से संवेदनशीलता हो सकती है। इसके कारण आपको संक्रमित हिस्से में जलने जैसा महसूस होता है, जो बहुत दर्दनाक होता है।
  2. अगर समय के साथ यह स्थिति बिगड़ती है, तो डॉक्टर आपको सर्जरी की सलाह भी दे सकते हैं। ऐसे में आप उपचार में देरी नहीं कर सकते, क्योंकि यह दर्द गंभीर हो सकता है और समय बीतने के साथ कूल्हे और कमर के हिस्सों में फैल सकता है।

उपचार

  1. डॉक्टर कुछ इमेजिंग परीक्षणों के इस्तेमाल से दर्द अनुसंधान की विधि के साथ मेराल्जिया पैरास्थेटिका का निदान करते हैं। डॉक्टर प्रक्रिया को तेज करने की कोशिश करते हैं, ताकि किसी व्यक्ति को रिकवरी के लिए उचित उपचार और ओरल दवा मिल सके।
  2. अगर मरीज को डॉक्टरों से समय पर इलाज नहीं मिलता है, तो बीमारी संक्रमित हिस्से में तंत्रिका तंत्र (नर्व्स सिस्टम) को नुकसान पहुंचा सकती है। ऐसे मामलों को इस बीमारी का सबसे गंभीर रूप माना जाता है। 
  3. इस बीमारी के उपचार का उद्देश्य नसों में नुकसान पहुंचाने वाली प्रक्रिया को ठीक करना है। साथ ही उपचार से कमज़ोर करने वाली स्थितियों के प्रभाव को भी कम करने में मदद मिलती है।
lunges

मेराल्जिया पैरेस्थेटिका से बचाव

  1. यह बीमारी का निदान करने के लिए एक आसान प्रक्रिया है, जिसका मतलब है बीमारी का बेहतर तरीके से निदान। कई मामले ऐसे है, जहां घरेलू उपचार के इस्तेमाल से लोगों की रिकवरी की गई है और बीमारी को ठीक किया गया है।
  2. गंभीर रूप से प्रभावित लोगों को डॉक्टर से मदद की ज़रूरत होती है। ऐसे मामलों में पारंपरिक सर्जरी असुरक्षित है, जिनसे मरीजों का उचित उपचार नहीं किया जा सकता है।
  3. हल्के मामले में ओरल दवा और उपचार की मदद ली जा सकती है।

अगर आपके परिवार या प्रियजनों में कोई मेराल्जिया पैरेस्थेटिका की समस्या का सामना कर रहा है, तो आपको कुछ अन्य ज़रूरी बिंदुओं की जानकारी होना बहुत ज़रूरी है, जिनसे मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के लक्षणों का पता लगाकर इनका निदान किया जा सकता है। इन लक्षणों का ज़िक्र लेख के अगले हिस्से में किया गया है। 

मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के लक्षण – Meralgia Paresthetica Ke Lakshan

मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के लक्षण और संकेत बहुत सामान्य हैं और यह मेराल्जिया पैरेस्थेटिका वाले किसी व्यक्ति में आसानी से देखे जा सकते हैं। इन लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैंः

  1. जांघ के बाहरी हिस्से में तेज दर्द महसूस होना।
  2. पैर में झुनझुनी और पैरों का सुन्न होना, जिसकी नसों पर दबाव डाला जा रहा है।
  3. आंख के बाहरी हिस्से में जलन।
  4. गर्मी के प्रति उच्च संवेदनशीलता धारण करना।
  5. चलने या कुछ समय तक खड़े रहने के बाद भी पैर पर दबाव और तेज दर्द महसूस होना।

शुरुआत में यह बीमारी हल्के लक्षण दिखा सकती है, लेकिन समय पर निदान नहीं किये जाने से स्थिति ज़्यादा खराब हो सकती है। ऐसी स्थिति में किसी व्यक्ति के पैर में असहनीय दर्द हो सकता है, जो अपने आप गायब हो सकता है और बिना किसी कारण दोबारा वापस आ सकता है।

मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के कारण – Meralgia Paresthetica Ke Karan

हमारे शरीर में नसें संदेशवाहक की तरह काम करती हैं, जो संदेशों को मस्तिष्क तक ले जाती हैं। हर व्यक्ति में नसों का एक विशेष समूह होता है, जिसे हम संवेदी तंत्रिका (सेंसरी नर्व्स) कहते हैं। शरीर के कामकाज को उचित तरीके से करने के लिए नसें एक साथ काम करती हैं। इसके अलावा अगर किसी व्यक्ति में मेराल्जिया पैरेस्थेटिका का निदान किया जाता है, तो जांघ में काम करने वाली सबसे प्रभावी नसों को कूल्हे की हड्डियों के साथ-साथ जोड़ों के ज़रिए काम करने के लिए पूरी जगह नहीं मिलती है।

यहां कई अलग-अलग कारणों और जोखिम कारकों की एक सूची दी गई है, जिन्हें किसी व्यक्ति में मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के लिए जिम्मेदार माना जा सकता है। बीमारी के कारणों और जोखिम कारकों से संबंधित कुछ जानकारी इस प्रकार है:

  1. शरीर का वजन बिना वजह बढ़ने लगता है, जो आमतौर पर मोटापे का कारण बनता है।
  2. जब कोई व्यक्ति लंबे समय तक जुराब, बेल्ट और पैंट जैसे ज़्यादा तंग कपड़े पहनता है, तो इससे त्वचा पर तनाव पैदा होता है। यह तनाव नसों में दवाब का मुख्य कारण होता है, जो आखिर में बीमारी का एक बड़ा लक्षण बनता है।
  3. सीट बेल्ट की वजह से कार दुर्घटनाओं के दौरान कुछ चोटें लग सकती हैं और यह बीमारी का एक प्रमुख कारण हो सकता है।
  4. मेराल्जिया पैरेस्थेटिका उन लोगों में भी देखा जा सकता है, जो अपनी कमर पर बंदूकें और अन्य उपकरण जैसी भारी वस्तुएं जैसे पहनते हैं।
  5. डायबिटीज भी मेराल्जिया पैरेस्थेटिका का एक प्रमुख कारण हो सकता है, क्योंकि यह नसों को धीरे-धीरे नुकसान पहुंचाता है।

यह मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के कुछ सामान्य कारण हैं, लेकिन गर्भवती महिलाओं या ज़्यादा वजन वाले लोगों में यह स्थिति ज़्यादा गंभीर हो जाती है। ऐसे लोगों में बढ़ती उम्र के साथ लक्षण गंभीरता दिखाते हैं। ऐसे कई मामले हैं, जिनमें व्यक्ति के पैरों की लंबाई अलग-अलग होती है और मेराल्जिया पैरेस्थेटिका की यह स्थिति उनके लिए सबसे खराब है।

मेराल्जिया पैरेस्थेटिका का निदान – Meralgia Paresthetica Ka Nidan

diagnosis of meralgia

डॉक्टर हमेशा मेराल्जिया पैरेस्थेटिका का निदान करने के लिए लोगों को शारीरिक जांच कराने की सलाह देते हैं। इस जांच में डॉक्टर संक्रमित हिस्से को छूते हैं और उसी के हिसाब से जांच करने की कोशिश करते हैं।

न्यूरोलॉजिकल असामान्यताओं के बारे जानने के लिए डॉक्टर आपके पैर के साथ भी कुछ हलचल करने की कोशिश करते हैं। साथ ही वह आपके पिछले मेडिकल इतिहास के बारे में भी जानने की कोशिश करते हैं, ताकि वह इसके अनुसार स्थिति का निदान और जांच कर सके।

यहां कुछ चिकित्सा परीक्षणों की एक सूची दी गई है, जो डॉक्टर मरीजों को कराने की सलाह देते हैं, ताकि विकलांगता की स्पष्ट तस्वीर सामने आए। यह परीक्षण इस प्रकार हैंः

इमेजिंग परीक्षण

इमेजिंग परीक्षणों में डॉक्टर श्रोणि क्षेत्र (पेल्विक एरिया) में कूल्हे वाले हिस्से के अंदर देखने के लिए एक तस्वीर ले सकते हैं, जिससे उन्हें बीमारी के प्रमुख कारणों को जानने में मदद मिलती है। इससे वह अंदर रहने वाली किसी अन्य बीमारी की भी जांच कर सकते हैं। इन परीक्षणों में एक्स-रे, एमआरआई, सीटी-स्कैन और कई अन्य शामिल हैं।

इलेक्ट्रोमायोग्राफी (ईएमजी)

यह एक शारीरिक परीक्षण है, जिससे डॉक्टर को मेराल्जिया पैरेस्थेटिका का निदान करने में मदद मिलती है। इस परीक्षण में डॉक्टर आपके पैर के हिस्से में मांसपेशियों की इलेक्ट्रिकल एक्टिविटी को मॉनिटर करते हैं। इसके लिए वह एक पतली सुई इलेक्ट्रोड का इस्तेमाल करते हैं। अगर आपके लिए इस बीमारी का निदान किया जाता है, तो परीक्षण सामान्य होगा। इस परीक्षण से आपकी जांघ या पेल्विक एरिया में दर्द के अन्य कारणों का पता लगाने में मदद मिलती है।

तंत्रिका चालन परीक्षण

nerve conduction test

इस टेस्ट में डॉक्टर या लैब असिस्टेंट आपकी त्वचा पर इलेक्ट्रोड पैच लगाते हैं। यह परीक्षण नसों के लिए एक स्ट्रिंग ऑपरेशन की तरह है, क्योंकि इसमें डॉक्टर उन नसों के कामकाज का नक्शा बनाने की कोशिश करते हैं, जिनका मांसपेशियों के ऑपरेशन पर सीधा प्रभाव पड़ता है।

नसों को बंद करना

इस प्रक्रिया में मरीज की जांघ में एनेस्थीसिया की एक खुराक का इंजेक्शन लगाया जाता है। डॉक्टर इसके लिए एक ऐसा बिंदु चुनते हैं, जहां उनका एलएफसीएन संकुचित होना चाहिए। अगर मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के कोई लक्षण हैं, तो दर्द धीरे-धीरे गायब हो जाएगा।

रक्त परीक्षण

डायबिटीज के लक्षणों और संकेतों की जांच के लिए डॉक्टर आपको रक्त परीक्षण की सलाह दे सकते हैं। अगर डायबिटीज, हार्मोनल असंतुलन, विटामिन की कमी या एनीमिया से संपर्क के कोई लक्षण हैं, तो उपचार अन्य स्थितियों से अलग होगा। कभी-कभी मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के लक्षण आपके कूल्हे, कमर या श्रोणि क्षेत्र में अन्य समस्याओं के साथ दोहराते हैं। डॉक्टर को समस्या के बारे में विस्तार से बताएं, जिससे वह बेहतर तरीके से आपकी मदद कर सकें। यह एक ऐसा समय है जब आपको धैर्य और डॉक्टर के साथ सहयोग करने की ज़रूरत है।

मेराल्जिया पैरेस्थेटिका का उपचार – Meralgia Paresthetica Ka Upchar

मेराल्जिया पैरेस्थेटिका का उपचार

उपचार के साथ आगे बढ़ने का आखिरी उद्देश्य नसों पर कुछ राहत देना है, जिसे मेराल्जिया पैरेस्थेटिका द्वारा लक्षित किया जा रहा है। कई तरीकों का इस्तेमाल करके आप उपचार के साथ आगे बढ़ सकते हैं और नसों की रिकवरी में तेजी ला सकते हैं। इसके लिए आप कई उपायों का पालन कर सकते हैं, जैसेः

जीवनशैली में बदलाव

अगर किसी व्यक्ति में मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के हल्के लक्षण हैं, तो डॉक्टर उन्हें जीवनशैली में निम्नलिखित चीजों को शामिल करने की सलाह देंगे:

  1. संक्रमित क्षेत्र पर हीट पैड और बर्फ से सेंक करें।
  2. कुछ दिनों के लिए एस्पिरिन, एसिटामिनोफेन, नेप्रोक्सेन या इबुप्रोफेन जैसी दर्द निवारक दवाओं को दिनचर्या में शामिल करें।
  3. प्रबंधनीय व्यायाम करने की कोशिश करें, ताकि आपका वजन कम हो और रिकवरी तेजी से हो।
  4. ढीले-ढाले कपड़े पहनें और खासतौर से ऐसे कपड़े, जो आपके सामने वाले कूल्हे को कवर करते हों।

फिजिकल थेरेपी

फिजिकल थेरेपी सबसे अच्छे तरीकों में से एक है, जिसे आप खुद या किसी फिजिकल थेरेपिस्ट की मदद लेकर कर सकते हैं। आप कुछ ऐसे व्यायामों का अभ्यास कर सकते हैं, जिनसे आपके कूल्हों और श्रोणि क्षेत्र की संक्रमित नसों को खींचने और मजबूत करने में मदद मिलती है।

Physical Therapy

योगा सबसे बेहतर तरीकों में से एक है, जिसे आप फिजिकल थेरेपिस्ट के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा आप फोनोफोरेसिस को कोशिश भी कर सकते हैं, जिसमें अल्ट्रासाउंड की विधि का इस्तेमाल किया जाता है, ताकि आपका शरीर त्वचा के ज़रिए दी गई सभी दवाओं को अवशोषित कर सके। एक अन्य तरीका ट्रांसक्यूटेनियस इलेक्ट्रिकल नर्व स्टिमुलेशन (टीईएनएस) है। यह विधि पैड की मदद से इलेक्ट्रिकल इंपल्स देने में उपयोगी है, जिसे डॉक्टर दर्द को रोकने के लिए त्वचा पर इस्तेमाल करते हैं।

मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के लिए मौखिक दवाएं

अगर आप मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के गंभीर लक्षणों को महसूस कर रहे हैं, तो आप इन दवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं:

  1. कॉर्टिकोस्टेरॉइड की औषधीय खुराक है, जिसे डॉक्टरों द्वारा निर्धारित किया जाता है और इससे आपको सूजन कम करने में मदद मिलती है।
  2. नसों के दर्द से राहत पाने के लिए आप ट्राईसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट भी ले सकते हैं।
  3. नसों में दर्द के खिलाफ काम करने वाली कुछ दवाएं गबापेंटिन, फेनीटोइन या प्रेगबालिन हैं।

डॉक्टर द्वारा निर्धारित किए जाने के बाद ही आपको यह दवाएं लेनी चाहिए। इसके अलावा सुनिश्चित करें कि आप इन ओरल दवाओं की आदत नहीं बनाएं और सबसे ज़्यादा ज़रूरत पड़ने पर ही इनका सेवन करें। आपको मेराल्जिया पैरेस्थेटिका के बारे में इन सभी बातों को जानने की जरूरत है। ऐसे मामलों में सिर्फ डॉक्टर ही बेहतर उपायों की सलाह दे सकते हैं, जिससे आपको इस समस्या से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है।

मंत्रा केयर – Mantra Care 

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है, जो आपके किसी भी सवाल का जवाब देने और आपकी परेशानी से जुड़ी ज़्यादा जानकारी प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार है, ताकि आप जान सकें कि आपकी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छा इलाज कौन सा है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free