बढ़ी हुई भूख (पॉलीफैगिया/हाइपरफैगिया): लक्षण, कारण और उपचार – Badhi Hui Bhookh (Polyphagia/Hyperphagia): Lakshan, Karan Aur Upchar

Polyphagia/ Hyperphagia/Increased Hunger: Diabetes Symptom

Contents

बढ़ी हुई भूख (पॉलीफैगिया/हाइपरफैगिया) – Badhi Hui Bhookh (Polyphagia/Hyperphagia)

भूख के अहसास को आमतौर पर लोग अनदेखा करते हैं या इस पर ध्यान नहीं देते। हालांकि, बढ़ी हुई भूख अक्सर किसी गंभीर समस्या का संकेत हो सकती है। भूख कई प्रकार की होती है, लेकिन बढ़ी हुई भूख को अक्सर पॉलीफैगिया या हाइपरफैगिया नाम से जाना जाता है। जब आपका पेट हर 2 से 4 घंटे के बाद खाली हो जाता है, तो भोजन करने की एक सामान्य इच्छा होती है, लेकिन पॉलीफैगिया इससे बिल्कुल अलग है। पॉलीफैगिया एक चिकित्सा शब्द है और विशेषज्ञ इसका इस्तेमाल बढ़ी हुई भूख या ज़्यादा भूख लगने की समस्या के लिए करते हैं। डॉक्टरों के मुताबिक, यह डायबिटीज के मुख्य लक्षणों और संकेतों में से एक है। बढ़ी हुई भूख ज़्यादा कसरत या किसी अन्य ज़ोरदार गतिविधि की प्रतिक्रिया है। हालांकि, कई बार अवसाद और तनाव के स्तर में बढ़ोतरी भी बढ़ी हुई भूख या ज़्यादा भूख लगने की समस्या पैदा करते हैं।

डायबिटीज के 3 पी – Diabetes Ke 3 P

डायबिटीज के तीन पी इस प्रकार हैं:

बढ़ी हुई भूख डायबिटीज के तीन पी में से एक है, जिसके लिए पॉलीफैगिया या हाइपरफैगिया, ज़्यादा प्यास लगने के लिए पॉलीडिप्सिया और बार-बार या लगातार पेशाब आने के लिए पॉल्यूरिया शब्द इस्तेमाल किया जाता है। यह तीनों ही डायबिटीज के प्रमुख लक्षण माने जाते हैं।

ज़्यादा प्यास लगने के अन्य कारणों में शामिल हैं:

  • पानी की कमी (डिहाइड्रेशन)
  • गुर्दे की नलियों में ज़्यादा ग्लूकोज जाने की वजह से बार-बार पेशाब आने की समस्या (ऑस्मोटिक ड्यूरेसिस)
  • मानसिक स्वास्थ्य विकार (साइकोजेनिक पॉलीडिप्सिया)

बार-बार पेशाब आने के अन्य कारण हैं:

  • गर्भावस्था
  • कैल्शियम का उच्च स्तर (हाइपरकैल्सीमिया)
  • मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे
  • मूत्रवर्धक (ड्यूरेटिक्स) जैसी दवाओं का सेवन
  • गुर्दे की बीमारी
  • मूत्रमेह (डायबिटीज इन्सिपिडस)

बढ़ी हुई भूख के लक्षण – Polyphagia Ke Lakshan

पॉलीफैगिया का मुख्य लक्षण असामान्य तरीके से भोजन करना है, जिसमें सामान्य तौर पर खाने से भूख नहीं मिटती है। अगर आप ज़्यादा कसरत या व्यायाम नहीं करते हैं और इसके बावजूद आपको हर समय खाने का मन करता है, तो अपने डॉक्टर से परामर्श लेना सुनिश्चित करें।

बढ़ी हुई भूख के कारण – Polyphagia Ke Karan

बढ़ी हुई भूख या पॉलीफैगिया के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं:

डायबिटीज

Diabetes 

बढ़ी हुई भूख (पॉलीफैगिया) डायबिटीज का मुख्य लक्षण हो सकता है। ऐसे में आपके द्वारा खाये जाने वाले भोजन को शरीर ग्लूकोज में बदल देता है। यह तब इंसुलिन नामक एक हार्मोन का इस्तेमाल करता है, ताकि उत्पादित ग्लूकोज को आपके रक्तप्रवाह से कोशिकाओं में पहुंचाया जा सके। इस तरह कोशिकाएं सामान्य शारीरिक काम के लिए ग्लूकोज को ऊर्जा के तौर पर इस्तेमाल करती हैं।

डायबिटीज या टाइप 1 डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति का शरीर इंसुलिन का उत्पादन करने में सक्षम नहीं होता है या शरीर उत्पादित इंसुलिन का ठीक से इस्तेमाल करने में असमर्थ होता है। यही कारण है कि आपके द्वारा खाए गए भोजन से बदलने वाला ग्लूकोज रक्तप्रवाह में ज़्यादा समय तक बना रहता है। इसे आपका शरीर पेशाब के ज़रिए ग्लूकोज को बाहर निकालने की कोशिश करता है। इसका मतलब है कि कोशिकाओं के उचित काम-काज के लिए आपके शरीर को कोई ऊर्जा नहीं मिलती है। ऐसी स्थिति में आपको अपनी कोशिकाओं से खाना खाने का संकेत मिलता है, ताकि उन्हें शारीरिक ज़रूरत के अनुसार ग्लूकोज मिल सके। इसीलिए, आपको बार-बार खाने की इच्छा होती है।

डायबिटीज के अन्य लक्षण इस प्रकार हैं:

अक्सर डायबिटीज वाले लोग उच्च रक्त शर्करा (हाइपरग्लाइसीमिया) को नियंत्रित करने के लिए दवा का इस्तेमाल करते हैं। इससे उनमें उच्च रक्त शर्करा स्तर की समस्या विकसित होने का ज़्यादा जोखिम होता है। कई बार उच्च रक्त शर्करा स्तर डायबिटीज वाले लोगों के लिए ज़्यादा भूख लगने (पॉलीफेगिया) की समस्या भी पैदा कर सकता है।

निम्न रक्त शर्करा स्तर

Hypoglycemia

उच्च रक्त शर्करा स्तर का दूसरा नाम हाइपरग्लासीमिया है, जो पॉलीफैगिया के मुख्य कारणों में से एक है। यह ज्यादातर डायबिटीज वाले लोगों को प्रभावित करता है, लेकिन किसी भी व्यक्ति को यह समस्या हो सकती है। उच्च रक्त शर्करा स्तर के कुछ अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • चक्कर आना
  • सिर दर्द
  • ध्यान केंद्रित करने में असमर्थता
  • कंपकंपी
  • पसीना आना
  • व्यक्तित्व में बदलाव

तनाव

Stress

इस स्थिति में आपका शरीर बड़ी मात्रा में कोर्टिसोल हार्मोन रिलीज करता है। आमतौर पर यही हार्मोन आपकी भूख को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होता है। जब आप तनाव में या परेशान होते हैं, तो बढ़ी हुई भूख या ज़्यादा भूख लगना एक भावनात्मक प्रतिक्रिया हो सकती है।

तनाव के अन्य शारीरिक लक्षण भी हो सकते हैं, जैसे:

  • ऊर्जा की कमी
  • अस्पष्टीकृत दर्द और पीड़ा
  • निंद न आना (अनिद्रा)
  • बार-बार सर्दी लगना
  • पेट में खराबी

मासिक चक्र से पहले हार्मोन में बदलाव

Lack of Sleep

सभी महिलाएं अपने मासिक चक्र के दौरान होने वाले हार्मोन में बदलाव से गुजरती हैं। आमतौर पर इसे प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम कहा जाता है, जिससे उन्हें ज़्यादा भूख लगने का अहसास हो सकता है। हालांकि, खासतौर से ऐसा उनके मासिक धर्म की शुरुआत से ठीक पहले होता है। एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन जैसे हार्मोन में स्पाइक्स और सेरोटोनिन में कमी से आपको कार्ब्स और वसा का सेवन की ज़्यादा इच्छा होती है। प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) के अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • चिड़चिड़ापन और मिजाज बदलना
  • सूजन
  • गैस बनना
  • थकान
  • दस्त

नींद की कमी

Lack of Sleep

मनुष्य के अलग-अलग शारीरिक काम के लिए कई तरह के हार्मोन जिम्मेदार होते हैं। इसी तरह भूख को नियंत्रित करने वाले हार्मोन हैं, जो आपके पर्याप्त नींद नहीं लेने यानी अधूरी नींद की वजह से सक्रिय हो जाते हैं। इसलिए, पर्याप्त नींद की कमी आपके शरीर के लिए भूख को नियंत्रित करने वाले हार्मोन के स्तर को नियंत्रित करना कठिन बना देती है। यही कारण है कि कई बार असामान्य रूप से भूखे होने पर आप सामान्य से ज़्यादा कैलोरी वाला भोजन करने लगते हैं। सोने के लिए 7 से 8 घंटे की नींद के साथ ही नींद की गुणवत्ता भी बहुत मायने रखती है, क्योंकि स्लीप एपनिया और अन्य नींद संबंधी विकार भी आपको ज़्यादा खाने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

अगर आप पर्याप्त और गुणवत्ता वाली नींद नहीं ले रहे हैं, तो आपको नीचे दिए लक्षण अनुभव हो सकते हैं:

  • दिन में नींद आना
  • मनोदशा में बदलाव
  • याददाश्त की समस्या
  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई

पॉलीफैगिया के कुछ अन्य कारणों में शामिल हैं:

  • अवसाद
  • ज़्यादा खाने की बीमारी
  • मनोवैज्ञानिक खाने का विकार (ब्लूमिया)
  • कुछ मानसिक स्थितियां
  • कुछ दवाएं और नशीली दवाएं
  • दुर्लभ चिकित्सा स्थितियां, जैसे क्लेन-लेविन सिंड्रोम और प्रेडर विली सिंड्रोम

बढ़ी हुई भूख और उच्च रक्त शर्करा – Polyphagia Aur Hyperglycemia

अनियंत्रित डायबिटीज की स्थिति में आपकी रक्त शर्करा का स्तर असामान्य रूप से उच्च होता है, जिसे उच्च रक्त शर्करा या हाइपरग्लाइसीमिया कहते हैं। ऐसे में इंसुलिन की कमी या इंसुलिन प्रतिरोध के कारण ग्लूकोज कोशिकाओं नहीं जाता, बल्कि आपके रक्त में जमा होता रहता है। इस प्रकार शरीर आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन को ऊर्जा में बदलने में असमर्थ होता है। यह आपके शरीर में ऊर्जा की कमी का मुख्य कारण है, जो समय के छोटे अंतराल पर आपको महसूस होने वाली भूख का कारण बनता है।

साधारण या सामान्य खान-पान पॉलीफैगिया में भूख के अहसास से छुटकारा दिलाने में मदद नहीं करता है। खासतौर से ऐसा अनियंत्रित डायबिटीज वाले लोगों में देखने को मिलता है, क्योंकि यह पहले से ही उच्च रक्त शर्करा को बढ़ा देता है। व्यायाम रक्त शर्करा स्तर को कम करने सबसे अच्छा तरीका करना है। इसके ज़रिए इंसुलिन उत्पादन और इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाया जा सकता है, जिससे आपको रक्त शर्करा का स्तर कम करने में भी मदद मिल सकती है। हालांकि, ज़्यादा समय तक भूख बनी रहने पर आपको डॉक्टर या डायबिटीज की स्वास्थ्य देखभाल टीम से परामर्श करना चाहिए।

बढ़ी हुई भूख और निम्न रक्त शर्करा – Polyphagia Aur Hypoglycemia

निम्न रक्त शर्करा स्तर यानी हाइपोग्लाइसीमिया भी ज़्यादा भूख लगने यानी भूख में बढ़ोतरी का कारण बनता है। अगर आपके रक्त शर्करा की रीडिंग 4 एमएमओएल/एल से कम हो जाती है, तो शरीर आमतौर पर लीवर में मौजूद ग्लूकोज को रिलीज करके प्रतिक्रिया करता है। डॉक्टरों के मुताबिक, शरीर द्वारा होने वाली यह प्रतिक्रिया ग्लूकोज का स्तर वापस सामान्य करती है। डायबिटीज से पीड़ित ज़्यादातर लोग इंसुलिन और सल्फोनीलुरिया जैसी दवाओं पर निर्भर होते हैं। इससे उनमें निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया) से प्रभावित होने का खतरा होता है। इसीलिए, निम्न रक्त शर्करा स्तर की पहचान या लक्षण महसूस होते ही उन्हें कुछ मीठा खाने की सलाह दी जाती है। इस तरह डायबिटीज वाले लोग अपने निम्न रक्त शर्करा स्तर का इलाज कर सकते हैं।

बढ़ी हुई भूख और ज़्यादा थायराइड बनना – Polyphagia Aur Hyperthyroid

ज़्यादा थायराइड बनने को हाइपरथायराइड या ओवरएक्टिव थायराइड कहते हैं। हालांकि, इसे ग्रेव्स डिजीज भी कहा जाता है। इसमें आपकी थायराइड ग्रंथि सामान्य से बहुत ज़्यादा थायराइड हार्मोन का उत्पादन शुरू कर देती है। डायबिटीज से पीड़ित लोगों में ज़्यादा थायराइड बनना बहुत आम है। ऐसे में कोई भी लक्षण दिखाई देने पर आपके लिए थायराइड का पता लगाना बहुत ज़रूरी हो जाता है। थायराइड बनने की मुख्य जगह गर्दन के अगले हिस्से पर होती है। इसीलिए, डायबिटीज की जांच के दौरान डॉक्टर आपके गले की जांच कर सकते हैं। जब कोई व्यक्ति हाइपो या हाइपरथायराइड का अनुभव करता है, तो ग्रंथि अक्सर सूज जाती है। थायराइड ग्रंथि द्वारा बनने वाले हार्मोन शारीरिक कामकाज के लिए जिम्मेदार होते हैं। जिससे आपका शरीर हर दूसरे हिस्से के लिए ऊर्जा का इस्तेमाल करेगा, यह हार्मोन के संतुलित उत्पादन पर निर्भर करता है।

हाइपोथायरायडिज्म आपकी निम्न समस्याओं का कारण हो सकता है:

  • दिल
  • हड्डियां
  • मांसपेशियां
  • मासिक धर्म
  • प्रजनन क्षमता
  • गर्भावस्था के दौरान मां और बच्चे दोनों की सुरक्षा
  • शारीरिक वजन
  • भूख

थायराइड हार्मोन के ज़्यादा उत्पादन से आपको बार-बार भूख लगने का अहसास हो सकता है।

बढ़ी हुई भूख का निदान – Polyphagia Ka Nidan

बढ़ी हुई भूख का निदान करने के लिए सबसे पहले डॉक्टर आपके चिकित्सा इतिहास की विस्तृत जानकारी लेते हैं। इसमें निम्नलिखित सवाल शामिल हो सकते हैं:

  • आप अन्य कौन से लक्षण देख रहे हैं?
  • आपको कितने समय से पॉलीफैगिया है?
  • आप आहार में क्या और कितनी मात्रा में लेते है?
  • क्या आपका कोई पारिवारिक चिकित्सा इतिहास है?

ऊपर बताई गई जानकारी के आधार पर डॉक्टर आपके पॉलीफैगिया का सही कारण जान सकते हैं। इसके अलावा किसी भी संदिग्ध कारणों का पता लगाने के लिए डॉक्टर आपके खून की जांच करते हैं, जैसे:

बढ़ी हुई भूख का उपचार – Polyphagia Ka Upchar

ज़्यादा और असामान्य भूख का इलाज इसके कारणों पर निर्भर करता है, जैसे:

  • अगर आपकी बढ़ी हुई भूख डायबिटीज जैसी किसी गंभीर शारीरिक स्थिति के कारण है, तो डॉक्टर खून की जांच के ज़रिए इसका पता लगाएंगे। पॉलीफैगिया का इलाज करने के लिए वह आपको कुछ दवाओं का सुझाव भी दे सकते हैं।
  • अगर शारीरिक परीक्षण में कोई स्पष्ट नतीजा नहीं मिलता है, तो डॉक्टर आपको एक मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ के पास जाने के लिए कहेंगे। यह विशेषज्ञ पॉलीफैगिया के दिमाग से संबंधित कारणों पर काम करने की कोशिश करते हैं।

खाने की लालसा के लिए टिप्स – Food Cravings Ke Liye Tips

खाने की लालसा से निपटने के लिए डॉक्टरों द्वारा आपको निम्नलिखित उपायों का सुझाव दिया जा सकता हैः

ज्यादा शर्करा सेवन से परहेज

Avoid Taking Much Sugar

ज़्यादा शर्करा सेवन से परहेज डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारी के नियंत्रण का सबसे पहला और बड़ा कदम है। यह डायबिटीज वाले लोगों के इलाज में इस्तेमाल किया जाने वाला मुख्य कदम है। अध्ययनों से पता चला है कि रक्त शर्करा के स्तर पर नियंत्रण से लालसा कम हो सकती है। जबकि उच्च ए1सी भोजन की लालसा को बढ़ाता है, जिससे पॉलीफैगिया होता है।

नकली भूख से सावधानी

Be aware of fake hungerअक्सर, वास्तविक भूख और लालसा के बीच अंतर करना मुश्किल लोगों के लिए बहुत होता है, जिसमें समय एक ज़रूरी भूमिका अदा करता है। भूख एक ऐसी चीज है, जो लंबे समय तक रहती है, लेकिन खाने की लालसा अचानक आती है। दूसरा अंतर यह है कि आप सिर्फ अपनी भूख को नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं, लेकिन अगर यह सिर्फ लालसा से ज्यादा नहीं है, तो आप खाने के बारे में भूल जाते हैं। इससे आप विचलित हो सकते हैं और इसीलिए आपको वास्तविक भूख पहचानने की ज़्यादा ज़रूरत है।

अच्छी नींद लेना

Sleep well

अगर आप अच्छी तरह आराम करते हैं और कम खाते या सामान्य रूप से खाते हैं, तो अस्वास्थ्यकर नींद की दिनचर्या आपके दिमागी काम को प्रभावित करती है। इससे आप उच्च कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों के सेवन के लिए तरसने लगते हैं। अपने सोने की आदतों में सुधार करने के लिए अपने कमरे को आरामदायक और बना सकते हैं। यह तरीका आपकी अच्छी नींद के लिए बहुत प्रभावी है, जिससे आपको शारीरिक और दिमागी रूप से स्वस्थ रहने में मदद मिल सकती है।

संतुलित आहार की योजना

Create a balanced dietअगर आप स्वस्थ तरीके से भोजन करते हैं, तो इससे आपकी ज़्यादा भूख लगने की समस्या दूर हो सकती है। हर भोजन या नाश्ते में आपको प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा और फाइबर ज़रूर लेना चाहिए। इसके सेवन से आप ज़्यादा घंटों तक भरा हुआ महसूस करते हैं। इसलिए, एक संतुलित आहार योजना बनाएं, जो आप पूरे दिन खा सकें। साथ ही सुनिश्चित करें कि आपके खाने में हमेशा कुछ न कुछ हल्का हो। यह आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद ज़रूरी है, क्योंकि सोने से पहले आप जो भोजन या कैलोरी लेते हैं, वह ऊर्जा के तौर पर पूरी तरह खत्म नहीं होता है। अप्रयुक्त कैलोरी और कार्ब्स ज़्यादा से ज़्यादा वसा के रूप में व्यवस्थित हो जाते हैं।

स्वस्थ विकल्प चुनना

सवस्थ विकल्प चुनते हुए अपने स्वाद और जायके के बारे में जानने की कोशिश करें। साथ ही उन्हें स्वस्थ विकल्पों के साथ पूरा करने का लक्ष्य रखें। उदाहरण के लिए, अगर आपको पेस्ट पसंद है, तो सफेद पास्ता के बजाय गेहूं का पेस्ट लें। अगर आपको आइस क्रीम खाने का मन करता है, तो ब्लेंड-अप फ्रोजन केले का सेवन करें।

निष्कर्ष – Nishkash

आखिर में आपके लिए सिर्फ यह जानना ज़रूरी है कि आपके शरीर को जीवन भर देखभाल की ज़रूरत होती है। ऐसे में आपको पूरी तरह आश्वस्त होना चाहिए कि कुछ खाद्य पदार्थ आपके शरीर पर क्या प्रभाव डाल रहे हैं। इसका सबसे अच्छा विकल्प यह है कि आप अपने लिए एक संतुलित आहार चार्ट बनाएं। इसके अलावा आप हर उस चीज़ पर ध्यान दे सकते हैं, जो सकारात्मक तरीके से आपकी मदद करती है। हालांकि, सबसे पहले आपको उन तरीकों की जानकारी होना ज़रूरी है, जिनसे आप अपने शुगर लेवल को समय पर मॉनिटर कर सकते हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free