पैरों में जलन (बर्निंग फीट): लक्षण, कारण और घरेलू उपचार – Pairon Mein Jalan (Burning Feet): Lakshan, Karan Aur Ghrelu Upchar

पैरों में जलन

पैरों में जलन (बर्निंग फीट) क्या है? Pairon Mein Jalan (Burning Feet) Kya Hai?

पैरों में जलन के घरेलू उपचार

पैरों में जलन (बर्निंग फीट) एक गंभीर समस्या है। कई बार आप इसे सामान्य सोचकर नजरअंदाज करने की कोशिश भी कर सकते हैं। पैरों में जलन कई अलग-अलग चीजों के कारण हो सकती है, जैसे डायबिटीज या नसों में नुकसान। कुछ लोगों को पैरों में जलन के साथ दर्द होता है, लेकिन यह अपने आप दूर हो जाता है। हालांकि, जब लोगों को ज़्यादा दर्द होता है और कोई मदद नहीं मिलती है, तो स्थिति खराब हो सकती है। इस लेख में आप जानेंगे कि पैरों में जलन क्यों होती है। साथ ही लेख में बताया गया है कि आप उन्हें घर पर सरल उपायों से कैसे प्रबंधित कर सकते हैं।

पैरों में जलन एक चिकित्सा शब्द है। आमतौर पर इसे आपके पैर में दर्द के अहसास को बताने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस स्थिति में आपके पैरों में छालों के साथ ही पसीना आ सकता है। इसके अलावा आपको पैरों में आग लगने जैसा भी महसूस हो सकता है, लेकिन ऐसा आपके लंबे समय से चलने के कारण होता है। अगर आप जूते उतारकर थोड़ा टहलते हैं, तो इस जलन को रोका जा सकता है। कुछ लोगों के पैर जल जाते हैं और अध्ययन के मुताबिक, एक तिहाई आबादी के साथ ऐसा होता है। कभी-कभी चलते समय लोगों को चोट लग सकती है। यह परेशानी किसी भी उम्र वाले लोगों को हो सकती है, लेकिन पुरुषों के मुकाबले महिलाएं इसे ज़्यादा बताती हैं।

लक्षण – Lakshan

पैरों में जलन के लक्षणों में शामिल हैं:

Symptoms of Burning Feet

  1. तलवों या पैर की उंगलियों में तेज और असहनीय गर्मी: कुछ लोग गर्मी के प्रति ज़्यादा संवेदनशील होते हैं। ऐसे लोगों के लिए यह इतना गर्म और असहनीय होता है कि उन्हें अपने जूते उतारने पड़ सकते हैं।
  2. गंभीर चुभने वाला दर्द: कोबलस्टोन जैसी कुछ सतहों पर चलते समय बेचैनी लंबे समय तक हल्के दर्द से लेकर तेज तक हो सकती है। कुछ मामलों में यह दर्द, सूजन और फफोले के साथ भी हो सकता है।
  3. पसीने से तर या चिपचिपी त्वचा के साथ पैरों में जलन: ज़्यादा गर्म होने की स्थिति में पसीना आना एक सामान्य प्रतिक्रिया है। आमतौर पर ऐसा नए जूते पहनने पर होता है, जो आराम के लिए बहुत तंग होते हैं। हालांकि, बिना जूतों के फर्श पर चलने से आपके पैर ठंडे हो जाते हैं, जिससे थोड़ी राहत मिल सकती है।
  4. लालपन और खुजली के साथ पैरों में जलन: फफोले, सूजन या त्वचा में लालपन जैसे लक्षण तेज खुजली के साथ मिलते हैं। अगर आपको यह लक्षण गंभीर अनुभव होते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर को दिखाना ज़रूरी है।
  5. एक या दोनों पैरों में सूजन और फूलापन: कुछ मामलों में प्रभावित क्षेत्र इतना सूज सकता है कि व्यक्ति के लिए चलना मुश्किल हो जाता है। कुछ दुर्लभ और गंभीर मामले ऐसे हैं, जिनमें समय पर इलाज नहीं किये जाए, तो इंफेक्शन निम्न श्रेणी के बुखार के साथ-साथ ठंड लगना और सेप्सिस का कारण बन सकता है।
  6. आपके पैर की उंगलियों या तलवों की त्वचा पर छाले, घाव और दरारें: अगर आप इन लक्षणों को महसूस करते हैं, तो स्थिति बिगड़ने से पहले डॉक्टर से संपर्क करना ज़रूरी है।

पैरों में जलन के इन सभी लक्षणों के बारे में जानना सभी के लिए बहुत ज़रूरी है।

कारण – Karan

पैरों में जलन के कई संभावित कारण हो सकते हैं। कुछ लोगों को चिकित्सा से संबंधित चीजों को लेकर परेशान होना पड़ता है। जबकि, कुछ लोगों के जूते बहुत तंग होते हैं, जो गर्मियों में लोगों की परेशानी की बड़ी वजह बन सकते हैं।

Causes of Burning Feet

  1.  गुर्दे की पुरानी बीमारी (यूरीमिया): कुछ लोग गुर्दे की पुरानी बीमारी (यूरीमिया) से पीड़ित होते हैं। ऐसे में आप पैर गीले होने पर गर्म और जलन महसूस कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, शॉवर लेते समय।
  2. दिल की समस्याएं: दिल की धड़कन रुकना, दिल का दौरा और ​​कि कार्डियक अरेस्ट भी आपको यह अनुभव करवा सकते हैं। ऐसे में आपको खराब रक्त परिसंचरण के कारण पैरों में जलने जैसा अहसास होता है।
  3. स्मॉल फाइबर न्यूरोपैथी: यह आपकी तंत्रिका कोशिकाओं में नुकसान की वजह से होता है। इससे पैरों में जलन के साथ-साथ झनझनाहट, सुन्नपन या कमजोरी जैसे अन्य लक्षण भी हो सकते हैं।
  4. डायबिटीज: पैरों में जलन का एक अन्य संभावित कारण डायबिटीज है। यह आपके पूरे शरीर की छोटी रक्त वाहिकाओं पर उच्च रक्त शर्करा स्तर से नुकसान के कारण होता है। इससे आप धुंधली दृष्टि और ज़्यादा प्यास लगने का अनुभव हो सकते हैं।
  5. परिधीय धमनी रोग (पीएडी): अगर पीएडी के कारण चलते समय आपके पैर जल जाते हैं, तो तुरंत कार्रवाई करना सुनिश्चित करें। अनुपचारित छोड़ दिए जाने पर इससे स्किन अल्सर, गैंग्रीन और पैर की उंगलियां खराब होने जैसी गंभीर समस्याएं होती हैं।
  6. विटामिन की कमी (विटामिन बी 12, फोलेट, और कभी-कभी विटामिन बी 6): बी 12 की कमी पैरों में जलन का एक सामान्य कारण है। इसके कारण पैरों का सुन्न पड़ना या झनझनाहट जैसे अन्य लक्षण हो भी सकते हैं।
  7. शराब का सेवन: शराब पीना पैरों में जलन का एक अन्य संभावित कारण है। अगर आप बहुत ज़्यादा शराब पीते हैं, तो आपका लीवर पर्याप्त मात्रा में एल्ब्यूमिन नहीं बना पाता है। एल्ब्यूमिन में विटामिन होते हैं, इसलिए इसका पर्याप्त मात्रा में होना ज़रूरी है। अगर आपके शरीर में पर्याप्त एल्ब्यूमिन नहीं है, तो शरीर में विटामिन बी12 की कमी के कारण यह लक्षण उत्पन्न हो सकता है।
  8. गर्म पेय पदार्थों का ज़्यादा सेवन: बहुत गर्म चाय, कॉफी या कोई अन्य उच्च तापमान वाले पेय मुंह और गले में जलन पैदा कर सकता है। यह बाद में आपके पैरों में फैल जाता है।
  9. ज़्यादा गर्म मौसम की स्थिति: गर्म दिनों में बहुत गर्म सतहों जैसे डामर या कंक्रीट पर नंगे पैर चलना जलन का कारण हो सकता है। इससे पैरों में असुविधा, सूजन, दर्द, छाले आदि हो सकते हैं।
  10. कुछ रसायनों से संपर्क (कपड़े धोने के डिटर्जेंट और ड्राई क्लीनिंग केमिकल आदि): घरेलू या कार्यस्थल के रसायनों से संपर्क की वजह से आपके पैर गर्म हो सकते हैं और जल सकते हैं।
  11. कुछ पौधों के संपर्क में आने से (पॉइज़न आइवी, ओक, सुमेक आदि): आप कुछ प्रकार के जहरीले पौधों से एलर्जिक प्रतिक्रिया भी विकसित कर सकते हैं। यह प्रभावित क्षेत्र में जलन, फफोले, मतली और उल्टी जैसे अन्य लक्षणों का कारण बनते हैं।
  12. थायराइड हार्मोन का कम स्तर (हाइपोथायरायडिज्म): अगर आप थायराइड विकार से पीड़ित हैं तो आपके पैर गर्म और जल सकते हैं। ऐसे में आपका डॉक्टर से संपर्क करना बहुत ज़रूरी है, ताकि वह आपकी मदद कर सकें। वह आपकी स्थिति की निगरानी करेंगे और ज़रूरत पड़ने पर आपको दवा देंगे।
  13. लाइम रोग: लाइम रोग का निदान करवाने वाले लोगों के पैर जल सकते हैं, जो यह एक प्रकार का इंफेक्शन है। यह आपके शरीर के कई अलग-अलग हिस्सों को प्रभावित कर सकता है, जैसे दिल, दिमाग, मांसपेशियां और जोड़।
  14. एचआईवी/एड्स: जो लोग एचआईवी/एड्स से पीड़ित हैं, उन्हें पैर जलने का अहसास हो सकता है। उपचार नहीं किये जाने से यह समस्या समय के साथ संवेदनशील और ज़्यादा बदतर हो जाती है।
  15. फफोलेदार त्वचा की बीमारी (पेम्फिगस वल्गरिस, पेम्फिगॉइड, एपिडर्मोलिसिस बुलोसा): इन फफोलेदार त्वचा की स्थिति के कारण आपके हाथ, पैर या त्वचा में जलन की शुरूआत हो सकता है।
  16. गाउट: अतिरिक्त यूरिक एसिड जोड़ों में क्रिस्टल बनने के कारण गाउट होता है। इससे होने वाले लालपन और सूजन से पैर की उंगलियों, एड़ी, टखनों जैसे प्रभावित क्षेत्रों के आसपास जलन होती है।
  17. लीवर खराब होना (हेपेटाइटिस): अगर आपको हेपेटाइटिस है, तो आपको अपने टांगों और पैरों में जलन महसूस हो सकती है।
  18. मल्टीपल स्केलेरोसिस: मल्टीपल स्केलेरोसिस वाले लोगों में दर्द, सुन्नता, झुनझुनी, जकड़न और अन्य लक्षण विकसित होते हैं। यह लक्षण उनके हाथों या पैरों में जलन पैदा कर सकते हैं।
  19. पार्किंसंस रोग: अगर आपको पास पार्किंसंस की बीमारी है, तो आपकी तंत्रिका कोशिकाएं धीरे-धीरे खराब हो जाती हैं। इससे खराब मांसपेशी नियंत्रण, कंपकंपी और कठोरता के कारण पैरों में जलन हो सकती है।
  20. रुमेटीइड गठिया: रुमेटीइड गठिया के कारण आपके जोड़ों में सूजन आ जाती है। इससे हाथों या पैरों सहित पूरे शरीर में दर्द होता है और गर्मी से यह जलन ज़्यादा बढ़ जाती है।
  21. अमाइलॉइड पोलीन्यूरोपैथी: यह दुर्लभ स्थिति नसों को प्रभावित करती है, जिससे पैरों में जलन महसूस हो सकती है।
  22. धूम्रपान: सिगरेट पीने से आपको पैरों में आग लगने जैसा ऐसा महसूस हो सकता है। ऐसा सिगरेट के धुएं में मौजूद कार्बन मोनोऑक्साइड के कारण होता है। यह हाथों और पैरों सहित पूरे शरीर में ऑक्सीजन के स्तर को सीमित कर देता है, जिससे आपको जलन होती है।
  23. स्क्लेरोडर्मा: अगर आप स्क्लेरोडर्मा से पीड़ित हैं, तो आपके संयोजी ऊतक और कोलेजन शरीर के अंदर सख्त होने लगेंगे। यह रक्त वाहिकाओं, त्वचा के ऊतकों और मांसपेशियों सहित अन्य चीजों को प्रभावित करते हैं, जिससे जलन हो सकती है।
  24. प्रणालीगत काठिन्य (सिस्टेमिक स्क्लेरोसिस): इसके कारण हाथों और पैरों में ऑक्सीजन पहुंचाने वाली रक्त वाहिकाओं सहित शरीर में छोटी रक्त वाहिकाओं पर निशान पड़ जाते हैं।
  25. धमनियों में सूजन (पॉलीआर्थराइटिस नोडोसा): इस सूजन के कारण आपके हाथों या पैरों सहित पूरे शरीर में कुछ धमनियों को घेरने वाली दीवारें सूज जाती हैं। यह पैरों में जलन का अन्य कारण हो सकता है।
  26. कोशिकाओं की समस्या (सारकॉइडोसिस): सारकॉइडोसिस के कारण लिपिड अन्य अंगों जैसे फेफड़े, लीवर, लिम्फ नोड्स के अंदर जमा हो जाते हैं। इसके कारण सूजन और जलन हो सकती है, जो पूरे शरीर में फैल सकती है।
  27. ऐमाइलॉयडोसिस: इस दुर्लभ स्थिति में असामान्य प्रोटीन जमा पूरे शरीर में जमा हो जाते हैं। इनमें गुर्दे, पित्ताशय की थैली, दिल या त्वचा के ऊतक शामिल हैं, जिससे हाथ या पैर जल जाते हैं।
  28. कीमोथेरेपी दवाओं, विटामिन बी 6 की ज़्यादा मात्रा, एचआईवी दवाएं, एमियोडेरोन, आइसोनियाज़िड और मेटफॉर्मिन सहित अन्य दवा के दुष्प्रभाव: कई दवाएं साइड इफेक्ट के रूप में पैरों या हाथों में जलन पैदा कर सकती हैं। कीमोथेरेपी दवाएं, विटामिन बी 6 की खुराक, एचआईवी दवाएं जैसे एफेविरेंज़, नेविरापीन और एमीओडारोन। आमतौर पर इन्हें अन्य चीजों के साथ कार्डियक एरिदमिया का इलाज करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  29. फ्लोराइड टॉक्सिटी: फ्लोराइड टॉक्सिटी दुर्लभ है, जो कुछ समय तक आपके बहुत ज़्यादा फ्लोराइड के संपर्क में आने से हो सकता है।
  30. एरिथ्रोमेललगिया: इस स्थिति में लालपन, पैरों में सूजन और गर्मी होती है।
  31. गैंग्रीन: गैंग्रीन में आपके शरीर के कुछ क्षेत्रों में हाथ या पैर सहित रक्त का प्रवाह कम हो जाता है। इसके कारण ऊतक मर सकते हैं, जिससे यह जलन पैदा हो सकती है।
  32. शरीर के कई अंग खराब हो जाना (सेप्सिस): यह शरीर के कई अंग खराब हो जाने यानी मल्टीपल ऑर्गन फेलियर से पीड़ित होने पर होता है। ऐसे लोगों के हाथों या पैरों में यह जलन हो सकती है।
  33. भारी धातु विषाक्तता (सीसा, पारा, आर्सेनिक): पारा, आर्सेनिक या सीसा जैसी भारी धातुओं के ज़्यादा संपर्क से आपके हाथों और पैरों में जलन हो सकती है।
  34. स्ट्रोक: अगर आपको स्ट्रोक हुआ है, तो मस्तिष्क के कुछ हिस्सों को नुकसान पहुंच सकता है। इसके कारण हाथों और पैरों सहित पूरे शरीर में जलन हो सकती है।
  35. रक्त वाहिकाओं की सूजन (वास्कुलिटिस ): यह स्थिति कई बीमारियों के कारण हो सकती है और रक्त वाहिकाओं में सूजन की विशेषता होती है। इसमें हाथों और पैरों में ऑक्सीजन पहुंचाने वाली सभी रक्त वाहिकाएं शामिल हैं।
  36. गुलियन-बैरे सिंड्रोम (जीबीएस): इस दुर्लभ विकार में इम्यून सिस्टम आपके हाथों और पैरों सहित पूरे शरीर की नसों पर हमला करता है।
  37. क्रॉनिक इंफ्लेमेटरी डिमाइलेटिंग पोलीन्यूरोपैथी (सीआईडीपी): सीआईडीपी एक प्रकार का क्रॉनिक इंफ्लेमेटरी डिमाइलेटिंग पोलीन्यूरोपैथी डिसऑर्डर है। यह नसों के आसपास माइलिन म्यान को नुकसान पहुंचाता है, जो इस जलन का कारण बन सकता है।
  38. रिफ्लेक्स सिम्पैथेटिक डिस्ट्रोफी: इस इस समस्या में मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के कुछ हिस्सों में शिथिलता होती है। यह रक्तचाप और तापमान को नियंत्रित करते हैं, जिससे यह जलन हो सकती है।
  39. नसों का फंसना: अगर आपके पास कई वर्षों की दोहराव गति से एक चुटकी तंत्रिका है तो हाथों या पैरों में खून पहुंचाने वाली नसों पर दबाव से होता है। इसके कारण आपको यह असहज महसूस होता है.
  40. दाद (शिंगल्स, हर्पीज ज़ोस्टर): दाद वैरीसेला-जोस्टर वायरस के दोबारा सक्रीय होने के कारण होता है, जिसके कारण जलन हो सकती है।

निदान – Nidan

एक शारीरिक परीक्षण, खून की जांच या इमेजिंग अध्ययन की मदद से पैरों में जलन का निदान किया जा सकता है।

शारीरिक परीक्षण

एक शारीरिक परीक्षण में डॉक्टर आपसे किसी अन्य लक्षण के बारे में पूछते हैं, जिन्हें आप अनुभव करते हैं। वह आपके चिकित्सा इतिहास, आपके द्वारा ली जा रही दवाओं और पारिवारिक इतिहास की भी गहरी समीक्षा करते हैं।

खून की जांच

अगर आपके डॉक्टर को किसी अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थिति पर संदेह है, तो समस्या के निदान में मदद करने के लिए वह खून की जांच के लिए कह सकते हैं। इसकी मदद से डॉक्टर यह निर्धारित कर सकते हैं कि क्या आपको डायबिटीज है या रक्त शर्करा का स्तर ऊंचा है, जो पैरों में जलन से जुड़ा है।

इमेजिंग अध्ययन

अगर आपके शरीर के कुछ हिस्सों में परिसंचरण की कमी है, तो आपको एक इमेजिंग टेस्ट करवाना पड़ सकता है। यह एमआरआई या सीटी स्कैन के साथ किया जा सकता है, जिससे पैरों में जलन के कारणों का पता लगाया जा सकता है। इस समस्या का निदान करने के लिए अल्ट्रासाउंड जैसे अन्य इमेजिंग अध्ययन भी उपयोग किये जा सकते हैं।

उपचार – Upchar

पैरों में जलन का उपचार

पैरों में जलन का उपचार करने के लिए आप नीचे दिए गए उपायों को इस्तेमाल कर सकते हैं:

दवाएं

अक्सर लोग एस्पिरिन, एसिटामिनोफेन या इबुप्रोफेन जैसी प्रिस्क्रिप्शन के बिना मिलने वाली दवाओं से पैरों में जलन का इलाज करना पसंद करते हैं। अगर आपके पैरों में जलन का कारण एक अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थिति है, तो उसके हिसाब से उपचार में बदलाव करें। उदाहरण के लिए, अगर आपको डायबिटीज है, तो कुछ ज़रूरी कोशिश कर सकते हैं, जो आपके पैरों को बेहतर महसूस कराने में मदद करेंगी। उपचार नहीं किए जाने पर यह आपको बहुत चोट पहुंचा सकता है। पैरों में जलन का अन्य कारण नसों का फंंसना हो सकता है। इसका इलाज दवा या इंजेक्शन से किया जा सकता है, जो सनसनी पैदा करने वाली नसों के आसपास की सूजन कम करता है।

शारीरिक चिकित्सा

अगर ओवर-द-काउंटर दवाओं से आपका दर्द ठीक नहीं होता है, तो डॉक्टर से परामर्श करें। डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाएं नसों के आसपास दर्द और सूजन को कम करके पैरों की जलन कम कर सकती हैं।

सर्जरी

दवाओं और शारीरिक चिकित्सा से उपचार में मदद नहीं मिलने पर सर्जरी को एक अन्य विकल्प के तौर पर उपयोग किया जा सकता है। अगर आपको गैर-आक्रामक उपचार से प्रबंधित नहीं की जा सकने वाली कोई बीमारी है, तो डॉक्टर उसे सर्जरी से ठीक कर सकते हैं। सर्जरी का मुख्य उद्देश्य नसों को डीकंप्रेस करना है, जो नसों में दबाव और सूजन को कम कर सकता है।

घरेलू उपचार – Ghrelu Upchar

आप कुछ घरेलू उपचार की मदद से पैरों में जलन की समस्या को दूर कर सकते हैं। इसके लिए आप गर्म पानी से नहा के अपने शरीर की सूजन को कम कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपने पैर को ठंडे पानी में भिगो सकते हैं या इबुप्रोफेन जैसे दर्द निवारक की मदद ले सकते हैं।

ठंडे पानी या बर्फ के स्नान में पैर भिगोना

Soaking feet in cold water or an ice bath

अगर आपके पैरों में जलन है तो अपने पैरों को ठंडे पानी में डाल दें। हालांकि, पैर में चोट होने पर ऐसा नहीं करने की सलाह दी जाती है। ऐसा करने से चोट ज़्यादा बदतर बन सकती है, जिससे आपको ज़्यादा दर्द महसूस हो सकता है।

आराम, बर्फ, संपीड़न और ऊंचाई (राइस)

पैरों में जलन के घरेलू उपचार

किसी भी शारीरिक गतिविधि से बचने की कोशिश करें , जिससे दर्द हो और ज़्यादा से ज़्यादा आराम करें। उदाहरण के लिए दौड़ना या ज़्यादा चलना। आप आइस पैक की मदद से सकते हैं, जो रक्त प्रवाह को कम करके दर्द से राहत देते हैं। टखनों के चारों ओर रखा गया संपीड़न लपेट, जो रक्त प्रवाह और सूजन को कम करता है। अपने दिल के स्तर से ऊपर पैरों की ऊंचाई।

पैरों की जलन को आप घर पर ही प्रबंधित कर सकते हैं। इसके लिए आपको डॉक्टर के पासे जाने या दवाओं पर पैसा खर्च करने की कोई ज़रूरत नहीं है।

सेंधा नमक

Epsom salt

सेंधा नमक (एप्सम सॉल्ट) एक सामान्य घरेलू उपचार है, जिसका उपयोग आप पैरों में जलन के लक्षणों को कम करने के लिए कर सकते हैं। इसमें प्राकृतिक विरोधी भड़काऊ गुण होते हैं, जो इस स्थिति से जुड़े दर्द और सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

एक बाथटब में गर्म पानी लें और इसमें सेंधा नमक डालें। अपने पैरों को लगभग 15 मिनट तक या सभी क्रिस्टल खत्म होने तक भिगोएं। ध्यान रहे कि आपकी आंखों में यह नमक न जाए। इसके अलावा आप गर्म पानी में सेंधा नमक डाल सकते हैं। फिर आप अपनी त्वचा पर या उन क्षेत्रों के आसपास सेंधा नमक लगा सकते हैं, जो इस झनझनाहट का कारण बनते हैं। यह इन लक्षणों से जुड़ी सूजन को कम करके दर्द, जलन और झनझनाहट को दूर करने में मदद कर सकता है।

सेब का सिरका

Apple cider vinegar

सेब का सिरका (एप्पल साइडर विनेगर) एक अन्य घरेलू उपाय है, जो पैरों की जलन को कम करने में मदद कर सकता है। इसमें एंटीसेप्टिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो आपके पैरों की त्वचा के लिए फायदेमंद होते हैं। सेब के सिरके में अल्फा-हाइड्रॉक्सी एसिड भी होता है, जो त्वचा के लिए बहुत अच्छा होता है। अगर आप इसे गर्म पानी में डालेंगे, तो यह आपकी त्वचा को मुलायम बना सकता है। आप सेब के सिरके से नहा सकते हैं और अपने पैरों को लगभग 20 मिनट तक भिगो सकते हैं। इसके बाद आप उन्हें तौलिये से थपथपाकर या उन्हें हवा में सुखा सकते हैं।

हल्दी की खुराक

Turmeric supplements

हल्दी एक आम सामग्री है, जिसे ज़्यादातर भारतीय व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है। करक्यूमिन और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो पैरों में जलन, दर्द और सूजन को कम करने में मदद करते हैं। नसों के फंसने से आपके दर्द को दूर करने के लिए प्राकृतिक पूरक को लंबा समय लग सकता है। इसलिए सुनिश्चित करें कि आप हल्दी का सेवन जारी रखें, भले ही आपको कोई फर्क महसूस न हो।

मछली का तेल

इस तेल की खुराक ओमेगा-थ्री फैटी एसिड से भरपूर होती है। मछली का तेल पूरे शरीर में तंत्रिका चालन में सुधार करते हुए स्वस्थ कोशिका कार्य को बढ़ावा दे सकता है। साथ ही यह सूजन को कम करने में भी मदद करता है। मछली का तेल आपके शरीर के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। हालांकि, इसे काम करने में थोड़ा समय लग सकता है। आमतौर पर कम से कम एक महीने तक हर दिन दो कैप्सूल लेने की सलाह दी जाती है। आप ज़्यादा मछली भी खा सकते हैं, जिसमें ओमेगा-थ्री फैटी एसिड होता है। इसके अलावा सैल्मन, सार्डिन और टूना में ओमेगा-थ्री फैटी एसिड की भरपूर मात्रा शामिल होती है। इस प्रकार की मछलियों का नसों के फंसने के लक्षणों पर समान प्रभाव पड़ता है।

अदरक 

ginger

यह एक आम सामग्री है, जिसे आप कई भारतीय व्यंजनों में देख सकते हैं। अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो पैरों में जलन से जुड़े दर्द और सूजन से राहत दिलाते हैं। अदरक को अपने भोजन में कम से कम 30 दिनों के लिए स्टिर-फ्राइज़ और सब्जियों में शामिल करें। हालांकि, अपने डॉक्टर से परामर्श करना ज़रूरी है, ताकि वह आपकी मदद कर सकें। वह आपकी स्थिति को मॉनिटर करने के बाद ज़रूरत पड़ने पर आपके लिए दवा लिखेंगे। ताजे अदरक के कुछ टुकड़े गुनगुने पानी में डालकर कुछ देर के लिए छोड़ दें। फिर इस घोल को अपने पैरों पर लगाएं या पीने से पहले इसमें दो बड़े चम्मच ऑर्गेनिक शहद मिलाएं। जब तक आप बेहतर महसूस न करें तब तक आप दिन में दो से तीन बार एक गिलास अदरक की चाय का सेवन भी कर सकते हैं।

लिडोकेन या कैप्साइसिन क्रीम

अगर इन घरेलू उपचारों से आपको कोई मदद नहीं मिल रही है, तो इन्हें नहीं आजमाएं। अगर आपने उन्हें आजमाया है, तो डॉक्टर आपके लिए अन्य उपाय लिख सकते हैं, जिनसे आपको मदद मिल सकती है। दवा दो प्रकार की होती हैं, जिसे हम लिडोकेन या कैप्साइसिन क्रीम कहते हैं। लिडोकेन आपके मस्तिष्क को दर्द के संकेत भेजने से नसों को रोककर काम करता है। जबकि, कैप्साइसिन क्रीम में ऐसे तत्व मौजूद होते हैं, जो चोटिल पैर के आसपास के क्षेत्र में सूजन को कम करने में मदद करते हैं। अगर आप अपने पैरों पर दवा का उपयोग करना चाहते हैं, तो आपको सबसे पहले सभी निर्देशों को पढ़ना चाहिए। अगर आप उन्हें नहीं समझ पा रहे हैं, तो कृपया अपने डॉक्टर से मदद लें।

पैरों की मालिश

अपने पैरों की मालिश करें। इससे आपके रक्त परिसंचरण में सुधार होता है और दर्द, जलन या सूजन दूर करने में मदद मिल सकती है। आप अपने पैरों की या किसी और की मालिश कर सकते हैं। सबसे ज़रूरी बात यह है कि इसके लिए आपको प्राकृतिक अवयवों वाले तेल या लोशन का उपयोग करनाचाहिए। इससे आपको बेहतर महसूस करने में मदद मिलती है। कुछ लोग अपनी रसोई की अलमारी से प्राकृतिक तेल इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं। ऐसे लोग फार्मेसी स्टोर से कोई उपकरण भी खरीद सकते हैं।

सावधानी – Savdhani

ज़्यादातर लोगों के पैरों में होने वाली जलन का अहसास आसानी से दूर नहीं होता है। अगर आपके पैरों में दर्द होता है और यह रात में बढ़ जाता है, तो आपको डॉक्टर को से परामर्श करना चाहिए। आपको डायबिटीज या पीवीडी जैसी कई बीमारियां हो सकती हैं। अगर डॉक्टर ने आपके लिए पैरों में जलन से संबंधित इनमें से किसी भी बीमारी का निदान किया है, तो आपको ज़्यादा सावधानी बरतनी चाहिए। हालांकि, अगर आप इसे अनुपचारित छोड़ देते हैं, तो यह गैंग्रीन का कारण बन सकता है। पैरों में जलन से होने वाली गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से बचने के लिए चिकित्सा सहायता लें। आमतौर पर लोगों को पैरों या तलवों में लालपन दिखाई देने पर जल्द से जल्द डॉक्टर के पास जाने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि बीतते समय के साथ इस बीमारी के कारण आपके लिए चलना या खड़ा होना बेहद कठिन हो जाता है।

बचाव – Bachav

पैरों में जलन से बचने का सबसे अच्छा तरीका जूते पहनना है। हालांकि, यह ठीक से फिट होने वाले और आरामदायक होने चाहिए। बहुत टाइट या ढीले जूते और मोजे पसीने के साथ ही बदबूदार पैरों का कारण बन सकते हैं। इससे आपकी त्वचा पर बैक्टीरिया का खतरा बढ़ जाता है। अगर आपके पैरों में पसीना आता है, तो अपने मोज़े और जूते अक्सर बदलें, क्योंकि बैक्टीरिया जमा होने के कारण पैरों में दुर्गंध आ सकती है।

निष्कर्ष – Nishkarsh

अक्सर लोगों को अपने पैरों में जलन का अहसास होता है, जिसके कई कारण हो सकते हैं। सबसे पहले आपको यह पता लगाने की ज़रूरत है कि आप ऐसा क्यों महसूस करते हैं। अनुपचारित बीमारी कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकती है। पैरों में जलन का एक कारण पेरिफेरल न्यूरोपैथी हो सकता है। यह आपके शरीर की नसों के ठीक से काम नहीं करने के कारण होता है। इस स्थिति वाले लोगों को पैर में आग लगने जैसा अहसास होता है। आकड़ों के मुताबिक, 50 से ज़्यादा उम्र के 3 प्रतिशत लोगों को यह समस्या है, जिसके कई अन्य कारण हो सकते हैं। इसके अलावा डायबिटीज या विटामिन की कमी भी खराब परिसंचरण के कारण आपके पैर की उंगलियों या तलवों में सूजन और दर्द पैदा कर सकती है।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Try MantraCare Wellness Program free