डायबिटिक अल्सर: लक्षण, कारण रोकथाम और उपचार – Diabetic Ulcers: Lakshan, Karan, Roktham Aur Upchar

डायबिटिक अल्सर

Contents

डायबिटिक अल्सर क्या है? Diabetic Ulcers Kya Hai?

डायबिटिक अल्सर पैरों के निचले हिस्से यानी तलवे में होने वाले खुले घाव हैं। करीब 15 प्रतिशत डायबिटिक मरीजों को यह बीमारी हो सकती है। विशेषज्ञों के अनुसार, डायबिटीज संबंधी पैरों के अल्सर से पीड़ित कई लोगों को जटिलताओं के कारण अस्पताल में भर्ती होना पड़ता है। कई लोगों में यह अंगों की खराबी की मुख्य वजह बनता है, जिसकी वजह से उनके अंगों को अलग भी करना पड़ सकता है। हालांकि, अगर आप समय रहते शुरुआती सावधानियां बरतते हैं, तो पैरों में डायबिटिक अल्सर के विकास को रोका जा सकता है।

हमारे शरीर का ऐसा कोई हिस्सा नहीं है, जो डायबिटीज के प्रभाव से बचा हो और यही प्रभाव आगे चलकर अल्सर और घावों की समस्या पैदा करता है। बिना डायबिटीज वाले लोगों को भी डायबिटिक अल्सर हो सकता है, लेकिन डायबिटीज से पीड़ित लोगों में डायबिटीज अल्सर और पैरों में डायबिटीज के घाव (डायबिटिक सोर) विकसित होने का ज़्यादा खतरा होता है।

डायबिटिक अल्सर के लक्षण – Diabetic Ulcers Ke Lakshan

विशेषज्ञों का कहना है कि अगर आप डायबिटीज संबंधी पैरों के अल्सर की समस्या का कोई भी लक्षण देखते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर या पैरों और तलवों के विशेषज्ञ (पोडियाट्रिस्ट) से संपर्क करें। अगर आप अपने शरीर में रक्त शर्करा का स्तर प्रबंधित नहीं कर पाते हैं और आपको निम्न में से कोई भी लक्षण दिखाई देते हैं, तो डॉक्टर से संपर्क करना सुनिश्चित करें:

  • सूजन
  • लालपन
  • खुले घाव
  • दरारें
  • घाव
  • आपके पैर में फंसी बाहरी सामग्री
  • मवाद
  • बदबू
  • टखनों में दर्द

डायबिटिक अल्सर के कारण – Diabetic Ulcers Ke Karan

डायबिटीज वाले लोगों में अल्सर के कुछ सबसे प्रमुख कारण हैं, जो इस प्रकार हैं:

खराब रक्त परिसंचरण

Poor Blood Circulation

डायबिटीज आपके शरीर में रक्त के प्रवाह को भी प्रभावित करता है। पूरे शरीर में खराब रक्त प्रवाह या खराब रक्त परिसंचरण की इस स्थिति को परिधीय संवहनी रोग (पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज) कहा जाता है। अच्छे रक्त प्रवाह की कमी की वजह से आपके घावों, कटने और चोटों को ठीक करना बेहद कठिन हो जाता है। इसलिए, अगर आपको कोई ऐसा इंफेक्शन है, जो ठीक होने में ज़्यादा समय ले रहा है और खराब रक्त प्रवाह के कारण ठीक नहीं हो रहा है, तो यह अल्सर या गैंग्रीन में विकसित हो सकता है। यह गंभीर स्थितियां हैं, जिनमें प्रभावित हिस्सों के ऊतक रक्त की कमी से मर जाते हैं। डायबिटीज प्रबंधन के लिए आपके द्वारा ली जा रही दवाएं भी आपके रक्त परिसंचरण को प्रभावित करती हैं।

नसों में खराबी

पैर की नसों में खराबी की वजह से रक्त संचार धीमा हो जाता है। इससे कंजेशन हो जाता है और अल्सर का जोखिम बढ़ जाता है।

उच्च ग्लूकोज स्तर

लगातार उच्च ग्लूकोज का स्तर यानी हाइपरग्लाइसीमिया लेवल आपके इम्यून को प्रभावित करता है। यही कारण है कि आपके शरीर की उपचार शक्ति इससे बुरी तरह से प्रभावित होती है। इस स्थिति में आप अपनी रक्त शर्करा का स्तर प्रबंधित नहीं कर पाते हैं, इसलिए आपके संक्रमित होने की संभावना ज़्यादा होती है। आपके रक्त में ज़्यादा मिठास सभी तरह के इंफेक्शन का कारण बन सकती है, जिसका इलाज पहले के मुकाबले ज़्यादा जटिल और असंभव हो जाता है।

नसों में नुकसान

नसों में नुकसान

डायबिटीज होने पर शरीर में होने वाला नसों में नुकसान और रक्त शर्करा के स्तर में बार-बार उतार-चढ़ाव पूरे शरीर की नसों पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। इस स्थिति में हमारा सबसे पहला काम हमारे हाथों या पैरों का इलाज है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि आपके पैर में एक छोटी सी चोट या कट उस हिस्से में नसों के नुकसान का कारण बन सकता है, जिससे आगे चलकर संवेदना और अनुभव की हानि होती है। इसके अलावा आप दर्द को महसूस नहीं कर पाते हैं और छोटे घाव या कट का नतीजा डायबिटीज से होने वाला घाव या अल्सर होता है।

परिधीय धमनी रोग

डायबिटीज आपके शरीर में रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाता है, जिससे धमनियां सूजने के बाद और सख्त हो सकती है। आमतौर पर इस स्थिति को एथेरोस्क्लेरोसिस कहते हैं।

डायबिटिक अल्सर के प्रकार – Diabetic Ulcers Ke Prakar

अल्सर को उनकी उपस्थिति और जगह के आधार पर बांटा जा सकता है। अल्सर के आसपास की सीमाएं और त्वचा आपको बताती हैं, कि यह किस तरह का अल्सर है। हालांकि, तीन सबसे आम पैरों के अल्सर हैं, जैसे-

  • वेनस स्टैसिस अल्सर
  • न्यूरोट्रोपिक
  • धमनी के छाले (इस्केमिक अल्सर)

वेनस स्टैसिस अल्सर 

Venous Stasis Ulcers

यह पैरों में होने वाले अल्सर का सबसे आम प्रकार है, जो पैर की सूजन, वैरिकाज़ नसों या रक्त के थक्कों से पीड़ित लोगों को होता है। कई बार यह सतह के स्तर पर या पैरों में कहीं गहरे होते हैं।

वेनस स्टैसिस अल्सर घुटने के नीचे होते हैं, जो आमतौर पर पैरों के अंदरूनी हिस्से पर यानी टखने के ठीक ऊपर देखे जाते हैं। यह लाल, हरे या पीले रंग के रेशेदार ऊतक से ढके हो सकते हैं, जिनसे पीले रंग का मवाद भी निकल सकता है और इनका आकार अनियमित होता है। इसके अलावा, यह सूजन के स्तर के आधार पर स्पर्श में तंग महसूस कर सकते हैं।

न्यूरोट्रॉफिक डायबिटिक अल्सर

डायबिटीज से होने वाला न्यूरोट्रॉफिक अल्सर अक्सर बढ़े हुए दबाव बिंदुओं पर और पैरों के नीचे पाया जाता है। हालांकि, कुछ मामलों में यह पैर पर कहीं भी हो सकता है। इस स्थिति में आधार का रंग लाल, भूरा, गुलाबी और काला दिखाई दे सकता है। त्वचा के आसपास के हिस्से को सख्त कर दिया जाता है, और थोड़ा मुक्का मारा जाता है।

बिना डायबिटीज वाले लोगों के मुकाबले डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति में न्यूरोट्रॉफिक अल्सर होते हैं। इसलिए, डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए अपना ज़्यादा ध्यान रखना और सावधानियों का पालन करना खासतौर से ज़रूरी है। साथ ही डॉक्टरों द्वारा उन्हें कभी भी नंगे पैर नहीं घूमने की सलाह दी जाती है।

आर्टरी (इस्केमिक अल्सर)

आपको यह अल्सर निम्न जगहों पर दिखाई दे सकता है:

  • एड़ी पर
  • पैर की उंगलियों पर
  • पैर की उंगलियों के बीच में
  • नाखून में

धमनी के छाले या इस्केमिक अल्सर पीले, भूरे, काले या भूरे रंग के होते हैं। आमतौर पर इसमें रक्तस्राव नहीं होता है, लेकिन यह बहुत दर्दनाक होते हैं। इसमें आपके शरीर की प्रभावित जगह के नज़दीकी हिस्से में सूजन, लालपन और छेद हो सकता है। अल्सर के आधार की सूजन और लालपन के आधार पर आपको इसमें जलन का अहसास भी हो सकता है।

डायबिटिक अल्सर के जोखिम – Diabetic Ulcers Ke Jokhim

ऊपर बताए किसी भी कारक से डायबिटीज संबंधी पैरों के अल्सर होना आम है। इसके अलावा, अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं और आपको नीचे दिए विकल्पों में से कोई भी समस्या है, तो ऐसे में आपके डायबिटिक अल्सर से प्रभावित होने की संभावना पहले से ज़्यादा बढ़ जाती है। इन जोखिम कारकों में शामिल हैं:

  • अनियंत्रित डायबिटीज की समस्या
  • ज़्यादा वजन या मोटापा
  • खराब रक्त परिसंचरण
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर
  • अनफिट जूते पहनना
  • शराब का ज़्यादा सेवन
  • धूम्रपान करना
  • उम्र बढ़ना
  • नंगे पैर चलना
  • खराब स्वच्छता
  • बढ़े हुए नाखून
  • गुर्दे की बीमारी
  • दिल की बीमारी

डायबिटिक अल्सर का निदान – Diabetic Ulcer Ka Nidan

डायबिटिक अल्सर का निदान

अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं और आपको ऊपर बताया गया कोई भी जोखिम हैं, तो इस स्थिति में आपको ज़्यादा सावधान रहने की ज़रूरत है। साथ ही किसी भी चरम सीमा या गंभीर स्थिति से बचने के लिए आप चिकित्सा सहायता भी ले सकते हैं।

एक बार जब आप अपने डॉक्टर के पास जाते हैं, तो वह ज़िम्मेदार गंभीर कारकों को जानने की कोशिश करेंगे। इसके लिए वह आपके पैर की उंगलियों, टांगों और पंजों में निम्नलिखित का निरीक्षण करेंगे:

  • छाले
  • कट
  • खरोंच
  • अंदर की तरफ बढ़े हुए पैरों के नाखुन

साथ ही उचित रक्त प्रवाह के लिए आपके पैर की जांच भी करेंगे। डॉक्टर आपको पैरों की हड्डियों और जोड़ों में आपके वजन के वितरण का पता लगाने के लिए चलने के लिए भी कह सकते हैं। इस दौरान डॉक्टर आपके पैरों के आकार को भी देखेंगे। अगर कोई गलत संरेखण है, तो अल्सर अपने आखिरी स्टेज में पहुंच जाएगा।

सबसे पहले डॉक्टर अल्सर की सटीक स्थिति को जानने के लिए कुछ परीक्षण और स्कैनिंग करेंगे, जिनमें शामिल हैं:

एक्स-रे

X-ray for Diabetic Ulcersडॉक्टरों द्वारा पैर के जोड़ों और हड्डियों के बदलाव और गलत संरेखण का आंकलन करने के लिए एक्स-रे करवाने की सलाह दी जा सकती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि कई मामलों में डायबिटीज भी हड्डियों में कमजोरी का मुख्य कारण हो सकता है, जिसका पता एक्स-रे की मदद से लगाया जा सकता है।

हड्डी का द्रव्यमान कम होने से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, जिसकी वजह से छोटे-छोटे फ्रैक्चर होते हैं और बार-बार अन्य चोटें लगती रहती हैं। आमतौर पर इस स्थिति को चारकोट फुट कहा जाता है।

एमआरआई स्कैन

MRI Scans

एमआरआई स्कैन थोड़ा ज़्यादा शक्तिशाली परीक्षण है, जो आपको स्कैन किए गए हिस्से की विस्तृत तस्वीर देता है। चुंबकीय हिस्से और रेडियो तरंगों का इस्तेमाल करके यह शरीर के कोमल ऊतकों की भी कम्प्यूटरीकृत और त्रि-आयामी छवियां बनाता है। यह छवियां सूजन के बारे में भी बता सकती हैं, जो निश्चित रूप से डायबिटिक अल्सर की वजह से हो सकती है।

खून की जांच

अगर डॉक्टर आपके प्रभावित पैर में लालपन, सूजन और गर्मी जैसे इंफेक्शन के लक्षण देखते हैं, तो वह आपको खून की जांच करवाने की सलाह भी दे सकते हैं। इस परीक्षण के परिणाम आपको आमतौर पर एक हफ्ते के अंदर मिल जाते हैं।

डायबिटिक अल्सर की रोकथाम – Diabetic Ulcers Ki Roktham

निम्नलिखित उपायों की मदद से डायबिटिक अल्सर की रोकथाम की जा सकती है-

पैरों का दैनिक निरीक्षण

Daily Foot Inspection

विशेषज्ञ और सर्जन डायबिटीज वाले लोगों को अपने पैरों के स्वास्थ्य को लेकर बहुत ज़्यादा सावधान रहने की सलाह देते हैं। साथ ही सुझाव दिया जाता है कि आपको किसी भी कट, खरोंच और अंदर की तरफ मुड़े हुए नाखुनों के लिए अपने दोनों पैरों का दैनिक निरीक्षण करना चाहिए। हर पैर के तलवों पर रोज़ाना कोई क्रीम या मॉइस्चराइज़र लगाना ज़रूरी है। किसी भी मामले में अगर आप ऐसा नहीं कर पाते हैं, तो आपको शीशे का इस्तेमाल करना चाहिए। इसके अलावा आप अपने परिवार के किसी सदस्य को भी इसकी जांच करने के लिए भी कह सकते हैं। कई बार लालपन, सूजन और उल्टी का अहसास इंफेक्शन के संकेत हो सकते हैं। ऐसे में ज़रूरी है कि बताया गया कोई भी बदलाव दिखाई देने पर आप चिकित्सीय उपचार लेना सुनिश्चित करें।

नाखूनों को काटना और साफ करना

Cleansing & Trimming of Toenails

हर दिन अपने पैर धोएं और इसके लिए आप गर्म पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं। आपको अपने पैर अच्छे धोने के बाद उन्हें पूरी तरह से सुखाना चाहिए और फिर उन पर लोशन लगाना चाहिए। ज़रूरत पड़ने पर आप अपने पैर के नाखूनों को ट्रिम कर सकते हैं, क्योंकि समय के साथ यह पैरों में किसी गंभीर समस्या का कारण बन सकते हैं।

सही जूते

Proper Footwear 

डायबिटीज वाले लोगों को अनुकूल जूते और मोजे का इस्तेमाल करना चाहिए। अगर आप भी डायबिटीज के मरीज हैं, तो जूते और मोजे की खरीदारी करते समय आपको थोड़ा ज़्यादा सावधान रहने की ज़रूरत है। टो बॉक्स में ज़्यादा गहराई और पूरी कवरेज वाले जूते खरीदें। डॉक्टरों का कहना है कि डायबिटीज वाले लोगों को कभी भी नंगे पैर बाहर नहीं निकलना चाहिए, फिर भले ही आप घर के अंदर ही क्यों न हों।

वजन कम करना

 Weight Loss

आपके द्वारा पैरों पर पड़ने वाले दबाव और विकसित हो रहे अल्सर के बीच एक संबंध है। इसके अनुसार, आपके पैरों पर दबाव जितना ज़्यादा होगा, आपके लिए ऐसी समस्याएं विकसित होने की संभावना उतनी ही ज़्यादा होगी। ऐसा इसलिए है, क्योंकि जब ज़्यादा वजन वाले लोग जूते पहनते हैं ,तो उनके पैरों और जूतों के बीच घर्षण ज़्यादा होता है। इससे पैरों में फफोले (छाले) हो सकते हैं या कट लग जाते हैं, इसलिए बिना डायबिटीज लोगों की तुलना डायबिटीज वाले लोंगों को अपना वजन कम करने की ज़्यादा ज़रूरत है।

सिगरेट या तंबाकू से परहेज़

Tobacco Prohibition

सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पादों में ऐसे रसायन होते हैं, जो आपकी उपचार की प्रक्रिया को धीमा कर देते हैं। इसलिए, अगर आपको डायबिटीज से संबंधित पैरों के अल्सर से प्रभावित होने की कोई संभावना है, तो तंबाकू इसकी गंभीरता के स्तर को ज़्यादा बढ़ा देगा। डॉक्टरों का कहना है कि तंबाकू उत्पाद रक्त के संचलन को प्रभावित करते हैं या पैरों और टांगों में रक्त के प्रवाह को प्रभावित करते हैं। यही कारण है कि उनके इन शारीरिक हिस्सों में अल्सर होने का खतरा ज़्यादा होता है।

डायबिटिक अल्सर का उपचार – Diabetic Ulcers Ka Upchar

आपको अपने पैरों में अल्सर से बहुत सावधान रहने की ज़रूरत है। इस बीमारी का शुरुआती लक्ष्य जल्द से जल्द उपचार प्राप्त करना है, क्योंकि इंफेक्शन कम होने की संभावना तभी संभव है, जब इसका इलाज शुरू किया जा चुका हो।

नीचे दिए गए उपायों की मदद से डायबिटिक फुट अल्सर का इलाज किया जा सकता है:

  • इंफेक्शन की रोकथाम
  • चलने से परहेज़
  • घाव का इलाज
  • दवाई
  • रक्त शर्करा के स्तर का प्रबंधन
  • सर्जरी

आइए एक-एक करके इनके बारे में बात करते हैं।

इंफेक्शन की रोकथाम

यह ज़रूरी नहीं है कि सभी अल्सर में इंफेक्शन हो, लेकिन अगर इसका कोई संकेत है, तो आपके पोडियाट्रिक डॉक्टर इंफेक्शन को फैलने से रोकने के लिए निवारक उपाय करेंगे। ऐसा इसलिए है, क्योंकि ध्यान नहीं देने या अनुपचारित छोड़ दिए जाने समस्या ज़्यादा गंभीर रूप ले सकती है और आपको अस्पताल में भर्ती होना पड़ सकता है।

डॉक्टर आपको निवारक उपाय करने के लिए कह सकते हैं, जिसमें शामिल है:

  • उच्च रक्त शर्करा (हाइपरग्लेसेमिया) स्तर पर नियंत्रण करना।
  • घावों की सफाई और उन पर पट्टी बांधकर रखना।
  • घाव की रोज़ाना ड्रेसिंग।
  • नंगे पैर चलने से बचें।

चलने से बचें

चलने से आपके पैरों पर दबाव पड़ता है, जिससे यह समस्या पहले से ज़्यादा गंभीर हो सकती है। ऐसे में आपको चलने से बचने की कोशिश करनी चाहिए। आपके पैर पर जितना ज़्यादा दबाव होगा, स्थिति उतनी ही खराब होगी। इसलिए, अगर आप पैरों को आराम नहीं देते हैं, तो इंफेक्श ज़्यादा फैलता है, जिसे ऑफ-लोडिंग के नाम से जाना जाता है।

पहले लोगों को मानना था कि घाव में जितनी ज़्यादा हवा जाएगी, यह उतना ही ठीक होगा। लेकिन यह इलाज की प्रक्रिया का हिस्सा नहीं है। विशेषज्ञ सुझाव देते हैं कि अगर इन्हें ढककर नम रखा जाए, तो उपचार जल्दी असर कर सकता है। ऐसे में आपके पैरों की सुरक्षा के लिए डॉक्टरों द्वारा निम्नलिखित सलाह दी जाती है:

  • जूते, जो खासतौर से डायबिटीज वाले लोगों के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।
  • गर्म पट्टी लपेटना।
  • पैरों की ब्रेसिज़
  • कास्ट्स
  • शू इंसर्ट, जो कॉर्न्स और कॉलस को रोकने में मदद करते हैं।

घाव का इलाज

अपनी त्वचा पर अल्सर या कुछ बदलाव दिखाई देने पर तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें। डॉक्टर अस्वस्थ ऊतक, घाव और अल्सर के कारणों को हटाने का कोशिश करेंगे। साथ ही वह आपको अपने घावों को साफ रखने के लिए कहेंगे, ताकि आपको कोई इंफेक्शन न हो।

दवाएं और मरहम-पट्टी

अगर आप अपने घाव के लिए उचित प्रबंधन चाहते हैं, तो इसके लिए ड्रेसिंग और एक उचित पट्टी ज़रूरी है। इसके अलावा आपको कुछ दवाओं की ज़रूरत भी पड़ सकती है। दवाओं और ड्रेसिंग जैसे कुछ एडवांस और अपडेट प्रोडक्ट आपके इलाज के लिए सही हो सकते हैं। यह प्रोडक्ट डायबिटीज से होने वाले पैरों के अल्सर की उपचार प्रक्रिया में ज़्यादा असरदार हैं, जिनसे इलाज के बाद समस्या को जल्द ठीक होने में मदद मिलती है।

रक्त शर्करा के स्तर का प्रबंधन

आमतौर पर डॉक्टर आपको रक्त शर्करा का स्तर सामान्य के करीब बनाए रखने की सलाह देते हैं। यह डायबिटीज की किसी भी जटिलता के लिए आपके द्वारा उठाया जाने वाला पहला और सबसे ज़रूरी एहतियात है। डॉक्टरों का कहना है कि अगर आपका रक्त शर्करा का स्तर उच्च बना रहता है, तो उपचार शुरू करना संभव नहीं है। डायबिटिक अल्सर की समस्या का मामला भी इसी से संबंधित है। इसके लिए आपको एक अच्छे एंडोक्रिनोलॉजिस्ट से परामर्श करना चाहिए, क्योंकि वह रक्त शर्करा के सामान्य स्तर में आपकी मदद कर सकते हैं, ताकि आपके पोडियाट्रिस्ट अल्सर के लिए उपचार प्रक्रिया को आगे बढ़ा सकें।

सर्जिकल ऑपरेशन

जब आप डायबिटिक अल्सर से होने वाले इंफेक्शन से प्रभावित नहीं होते हैं, तो बिना किसी सर्जरी के उनका इलाज किया जा सकता है। हालांकि, अगर आपकी हड्डियां इंफेक्शन से ज़्यादा प्रभावित होती हैं, तो इलाज के लिए उचित सर्जरी की ज़रूरत होती है।

ऐसी ही कुछ सर्जिकल प्रक्रियाओं में शामिल हैं:

  • प्रभावित हिस्से को हटाना
  • हैमर टोस, बुनियंस, कॉर्न्स या उभार जैसी विकृतियों का सुधार

निष्कर्ष – Nishkarsh

डॉक्टरों के अनुसार, आपके शरीर को जीवन भर उचित देखभाल की ज़रूरत होती है। ऐसे में आपको इस बारे में पूरी तरह आश्वस्त होना चाहिए कि कुछ खाने वाली चीजें आपके शरीर में रक्त शर्करा पर क्या प्रभाव डाल रही हैं। एक संतुलित आहार चार्ट आपके लिए यह जानने का सबसे अच्छा विकल्प है। इसके लिए आपको हर उस चीज़ पर ध्यान देना चाहिए, जो आपको सकारात्मक तरीके से मदद करती हैं। सबसे ज़रूरी यह है कि आपको उन तरीकों के बारे में पता होना चाहिए, जिनकी मदद से आप अपनो शर्करा स्तर को समय पर मॉनिटर कर सकते हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free