एंडोक्रिनोलॉजिस्ट की भूमिका – Endocrinologist Ki Bhoomika

Role of endocrinologist

एंडोक्राइन सिस्टम क्या है? Endocrine System Kya Hai?

एक एंडोक्रिनोलॉजिस्ट की भूमिका बेहद अहम है। मानव शरीर कई ग्रंथियों से बना है, जिसमें अंतःस्रावी तंत्र हार्मोन रिलीज करता है। एंडोक्राइन सिस्टम हार्मोन को कई प्रकार के कार्यों को नियंत्रित करने के लिए रिलीज करता है। यह हार्मोन ग्रंथियों से बाहर निकलकर ब्लड स्ट्रीम में जाते हैं और वहां यह शरीर के अंगों और ऊतकों में बदल जाते हैं। एड्रिनल ग्रंथि, हाइपोथेलेमस, अंडाशय, अंडकोष, अग्न्याशय, पैराथायरॉइड ग्रंथि, पीनियल ग्रंथि, पिट्यूटरी ग्रंथि, थाइमस ग्रंथि और थायरॉइड ग्रंथि सहित अलग-अलग अंतःस्रावी ग्रंथियां इस प्रणाली का हिस्सा हैं। कई कारणों से इन ग्रंथियों के काम में रुकावट आ सकती है, जिससे शरीर में कई तरह की बीमारियां और जटिलताएं पैदा हो सकती हैं।

एड्रिनल ग्रंथि

एड्रिनल ग्रंथि गुर्दे के ऊपर होती है, जिसे दो विशिष्ट क्षेत्रों में विभाजित किया गया है। इसमें दाहिनी ग्रंथि त्रिभुजाकार की होती है, जबकि बाईं ग्रंथि अर्धचंद्राकार की होती है। एड्रिनल ग्रंथियां कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स, कैटेकोलामाइन, एल्डोस्टेरोन और एण्ड्रोजन जैसे कई तरह के हार्मोन रिलीज करती हैं। कॉर्टिकोस्टेरॉइड का काम तनाव प्रतिक्रिया, इम्यून सिस्टम और सूजन को नियंत्रित करना है, लेकिन तनाव प्रतिक्रिया के लिए कैटेकोलामाइन भी जिम्मेदार होते हैं।

एल्डोस्टेरोन गुर्दे के काम को नियंत्रित करता है। एंड्रोजन लिंग हार्मोन है, जो महिलाओं की तुलना में पुरुषों में ज़्यादा मात्रा में मौजूद है। शरीर में इस हार्मोन का कम या ज़्यादा में रिलीज होना कई शारीरिक जटिलताएं पैदा कर सकता है। ज़्यादा घबराहट, पसीना, हाई ब्लड प्रेशर और कुशिंग की बीमारी सभी एड्रिनल ग्रंथि द्वारा जारी हार्मोन के हाइपरसेरेटेशन के लक्षण हैं। एडिसन की बीमारी, मिनरलोकॉर्टिकॉइड की कमी, वजन में कमी, ऊर्जा की कमी और एनीमिया भी एड्रिनल ग्रंथि के हाइपोसेरेटेशन के लक्षण हैं।

हाइपोथेलेमस

ब्रेनस्टेम के ठीक ऊपर और थेलेमस के पीछे हाइपोथैलेमस की जगह होती है। अनैच्छिक शरीर के कार्य जैसे श्वसन (रेस्पिरेशन), हृदय गति, भूख, नींद, तापमान और सर्कैडियन चक्र या नियमित रिदम इस ग्रंथि द्वारा ट्रिगर और विनियमित होते हैं। हाइपोथैलेमस से जुड़ी हुई पिट्यूटरी ग्रंथि तंत्रिका और अंतःस्रावी तंत्र को जोड़ती है।

अंडाशय और अंडकोष

महिलाओं में अंडाशय गर्भाशय के दोनों तरफ होते हैं। उनमें एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन स्रावित होते हैं। यौन विकास, प्रजनन क्षमता और मासिक धर्म सभी इन हार्मोनों द्वारा सहायता प्राप्त हैं। पुरुषों में अंडकोश लिंग के ठीक नीचे पाए जाते हैं। एंड्रोजन और टेस्टोस्टेरोन अंडकोष से रिलीज होने वाले हार्मोन हैं। यौन विकास, यौवन, चेहरे के बाल, यौन गतिविधि, कामेच्छा, स्तंभन कार्य और शुक्राणु कोशिकाओं का उत्पादन सभी एण्ड्रोजन से प्रभावित होते हैं।

अग्न्याशय

अग्न्याशय पाचन के साथ ही अंतःस्रावी ग्रंथि भी है, जो इंसुलिन, सोमैटोस्टैटिन, ग्लूकागन, अग्नाशय पॉलीपेप्टाइड जैसे हार्मोन जारी करता है। इंसुलिन शरीर के कार्बोहाइड्रेट और फैट मैटाबॉलिज़्म के लिए ज़रूरी है। सोमाटोस्टैटिन गैस्ट्रिन, इंसुलिन और ग्रोथ हार्मोन सहित कई हार्मोनों के जारी होने को नियंत्रित करता है और अंतःस्रावी के साथ ही तंत्रिका तंत्र गतिविधि को भी नियंत्रित करता है। ब्लड शुगर का लेवल बहुत कम हो जाने पर पेप्टाइड हार्मोन ग्लूकागन निकलता है। अग्नाशयी पॉलीपेप्टाइड: यह अग्न्याशय द्वारा पदार्थों की रिहाई के नियमन में सहायता करता है। स्रावित हार्मोन के लेवल में बदलाव से डायबिटीज और पाचन से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। हाइपरसेरेटियन हाइपरिन्सुलिनिज़्म का कारण बन सकता है और बहुत ज़्यादा इंसुलिन निम्न रक्त शर्करा (लो ब्लड शुगर) का कारण बन सकता है। इसके अलावा डायबिटीज का एक रूप हार्मोन के हाइपोसेरेटेशन का कारण हो सकता है।

पैराथायरॉइड ग्रंथि

पैराथायरॉइड ग्रंथियां गर्दन में छोटी अंतःस्रावी ग्रंथियां होती हैं, जिनमें पैराथायरॉइड हार्मोन होता है। यह रक्त में कैल्शियम और फॉस्फेट के स्तर को नियंत्रित करता है। मांसपेशियों और नसों के सुरक्षित और सही तरीके से काम करने के लिए इन केमिकलों को सही मात्रा में मौजूद होना ज़रूरी है। हाइपरसेरेटियन के कारण  हड्डियां नाजुक हो सकती हैं, जो जल्दी टूट जाती हैं और साथ ही यूरिनरी स्टोन भी हो सकता है। हाइपोसेक्रिशन से अनैच्छिक मांसपेशियां सिकुड़ सकती हैं, जो रक्त के प्लाज्मा में कैल्शियम के निम्न स्तर के कारण होता है।

पिट्यूटरी ग्रंथि

मस्तिष्क के आधार पर स्थित हाइपोथैलेमस से जुड़ी हुई एक अंतःस्रावी ग्रंथि, पिट्यूटरी ग्रंथि है। यह हार्मोन को स्रावित करता है, जो अन्य ग्रंथियों की गतिविधियों, विकास और कई अन्य शारीरिक कार्यों को नियंत्रित करता है। इसे अक्सर प्राथमिक अंतःस्रावी मास्टर ग्रंथि (प्राईमरी एंडोक्राइन मास्टर ग्लैंड) के नाम से जाना जाता है। यौन विकास, थायरॉइड फंक्शन, विकास और स्किन पिगमेंटेशन को प्रभावित करने वाले हार्मोन पूर्वकाल (इंटीरियर) या सामने पिट्यूटरी द्वारा स्रावित होते हैं।

अंडरएक्टिव इंटीरियर पिट्यूटरी बच्चों में विकास के साथ-साथ अन्य अंतःस्रावी ग्रंथियों में अंतःक्रियात्मकता को प्रेरित कर सकता है। पिट्यूटरी ग्रंथि के (पोस्टीरियर) या पीछे ऑक्सीटोसिन का उत्पादन करता है। एक हार्मोन जो गर्भाशय के संकुचन को उत्तेजित करता है, साथ ही एंटीडाययूरेटिक हार्मोन (एडीएच) यानी गुर्दे को पानी बनाए रखने देता है। हाइपरसेरेटियन के कारण विशालता या अत्यधिक विस्तार हो सकता है। इसके अलावा हाइपोसेरिटेशन के कारण ही हड्डियों का विकास रुक सकता है और कद छोटा हो सकता है।

थाइमस ग्रंथि

थाइमस एक अंतःस्रावी ग्रंथि है, जो स्टेरनम या ब्रेस्टबोन के नीचे पाई जाती है। शुरुआती जीवन में एक प्रकार की प्रतिरक्षा कोशिका यानी टी लिम्फोसाइट्स, थाइमस ग्रंथि का विकास करती है। युवावस्था के बाद ग्रंथि सिकुड़ जाती है, जिनमें बीमारी से शरीर की रक्षा करने वाले इम्यून सिस्टम में थाइमस ग्रंथि भी शामिल है। हाइपरसेरेटियन के कारण इम्यून सिस्टम अति सक्रिय हो सकता है, जो संभावित खतरों के लिए अनुचित प्रतिक्रिया करती है और इसकी वजह से एक ऑटोइम्यून बीमारी का विकास हो सकता है। अल्पस्राव (हाइपोसेक्रेशन) एक कॉम्प्रोमाइज इम्यून सिस्टम का कारण बन सकता है, जिससे इंफेक्शन के प्रति संवेदनशील हो जाने से शरीर वायरस, बैक्टीरिया और अन्य बीमारी फैलाने वाले रोगजनकों को पकड़ लेता है।

थायरॉइड ग्रंथि

थायरॉइड गर्दन में एक तितली के आकार की ग्रंथि है, जो हार्मोन का उत्पादन, ब्लड प्रेशर, शरीर के तापमान, हृदय गति और मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करती है। साथ ही इसका काम यह देखना भी है कि शरीर अन्य हार्मोन के प्रति कैसे प्रतिक्रिया करता है। यह एडम्स एप्पल के ठीक नीचे स्थित है। हार्मोन बनाने के लिए थायरॉइड ग्रंथि आयोडीन का इस्तेमाल करती है, जिसमें थायरोक्सिन और ट्राईआयोडोथायरोनिन दो प्राथमिक हार्मोन शामिल है। ग्रेव्स डिसऑर्डर हाइपरथायरॉइडिज्म का सबसे आम कारण है जबकि तेज भूख, पसीना, अतालता (अनियमित दिल की धड़कन), वजन कम होना और घबराहट संभावित दुष्प्रभाव हैं। इसके अलावा थकान, वजन बढ़ना, जी मिचलाना, हड्डियों का अनियमित घनत्व, विकास में देरी और रुका हुआ विकास हाइपोथायरॉइडिज्म के लक्षण हैं।

Thyroid gland

एंडोक्रिनोलॉजिस्ट कौन है?  Endocrinologist Kaun Hai? 

इन ग्रंथियों और हार्मोन के विशेषज्ञ डॉक्टर को एंडोक्रिनोलॉजिस्ट कहा जाता है। यह मेटाबॉलिज्म या सभी जैव रासायनिक प्रक्रियाओं से संबंधित हैं, जो शरीर को कार्य करने की अनुमति देते हैं, जैसे यह भोजन को ऊर्जा में कैसे परिवर्तित करता है और बढ़ता है। शरीर में हार्मोन के अनुचित कार्य करने पर आपको एंडोक्रिनोलॉजिस्ट के पास जाने की ज़रूरत होती है। इनका उद्देश्य उपचार के ज़रिए हार्मोन के सामान्य स्तर को बहाल करना है, जो ज़्यादा या बहुत कम मात्रा में उत्पन्न हो रहे हैं।

एंडोक्रिनोलॉजिस्ट द्वारा निदान

बाल चिकित्सा (पीडियाट्रिक) एंडोक्रिनोलॉजिस्ट वह विशेषज्ञ हैं, जो अंतःस्रावी तंत्र में समस्या वाले बच्चों का इलाज करते हैं। एंडोक्रिनोलॉजिस्ट ऑस्टियोपोरोसिस जैसी स्थितियों का निदान और उपचार करते हैं, जो हड्डी के अनुचित मेटाबॉलिज्म, अनियमित कोलेस्ट्रॉल लेवल, एड्रिनल ग्रंथि, हाइपोथेलेमस, अग्न्याशय (पैनक्रियाज), पैराथायरॉइड, पिट्यूटरी और थायरॉइड ग्रंथि के अनुचित कामकाज की वजह से होता है। साथ ही एंडोक्रिनोलॉजिस्ट महिलाओं में अंडाशय और पुरुषों में वृषण के स्राव से संबंधित स्थितियों का भी इलाज करते हैं।

एंडोक्रिनोलॉजिस्ट की योग्यता

एंडोक्रिनोलॉजी का अध्ययन करने वाले लोगों के पास बुनियादी स्कूल योग्यताएं होना ज़रूरी है। उन्हें अपनी मेडिकल स्कूल की पढ़ाई और 2 साल के लिए विशेषज्ञता अध्ययन से गुजरना होता है। जब कोई व्यक्ति इस बारे में ज़्यादा जानकारी लेना चाहता है, तो उन्हें उस विशेष ग्रंथि पर एक और विशेषज्ञता पाठ्यक्रम करने की ज़रूरत होती है, जिसमें उनकी रुचि होती हैं। उन्हें क्लीनिक में रहने वाले या इंटर्न के तौर पर कम से कम 3 साल अनुभव होना चाहिए। एंडोक्रिनोलॉजी में विशेषज्ञता हासिल करने की इस पूरी प्रक्रिया में लगभग दस या ज़्यादा साल लगते हैं।

एंडोक्रिनोलॉजिस्ट का कार्यस्थल

एंडोक्रिनोलॉजिस्ट अपनी रुचि के अनुसार अलग-अलग क्षेत्रों में जा सकते हैं और वह अपने क्लिनिक में या अलग-अलग तरह के डॉक्टरों के साथ काम कर सकते हैं। इसके साथ ही वह अस्पताल के एंडोक्रिनोलॉजी विभाग में नौकरी भी हासिल कर सकते हैं। यह जरूरी नहीं कि सभी एंडोक्रिनोलॉजिस्ट मरीजों को ही लें, क्योंकि कुछ एंडोक्रिनोलॉजिस्ट मेडिकल कॉलेजों में इच्छुक मेडिकल छात्रों को पढ़ाने में रुचि रखते हैं या काम के साथ अपने अस्पताल में रहने वालों को निर्देशित करते हैं। वह अनुसंधान क्षेत्र में भी प्रवेश कर सकते हैं, जहां वह एंडोक्रिनोलॉजी क्षेत्र में अपनी रिसर्च कर सकते हैं। जब शरीर के अंतःस्रावी तंत्र में कुछ अंतर्निहित हार्मोनल असंतुलन होता है, तो किसी दूसरे क्षेत्र के डॉक्टर अपने मरीजों को एंडोक्रिनोलॉजिस्ट के पास जाने की सलाह भी दे सकते हैं। 

उदाहरण के लिए अगर शरीर में इंसुलिन का लेवल प्रभावित होने और डायबिटीज मैनेजमेंट के लिए डॉक्टर का कोई उपचार काम नहीं कर रहा है, तो वह आपको एंडोक्रिनोलॉजिस्ट से परामर्श करने का सुझाव दे सकतें हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपने प्राथमिक स्वास्थ्य चिकित्सक से नहीं मिलेंगे, क्योंकि वह दोनों सिर्फ आपके हार्मोन को संतुलित करने और बीमारी का बेहतर तरीके से इलाज करने के लिए एक साथ काम करते हैं। एंडोक्रिनोलॉजिस्ट मरीजों को उनके हार्मोनल स्तर को मैनेज करने में मदद करते हैं, जब पारंपरिक उपचार उन पर काम करना बंद कर देता है।

एंडोक्रिनोलॉजिस्ट से कब मिलें?  Endocrinologist Se Kab Milein?

एंडोक्रिनोलॉजिस्ट से परामर्श करने की सलाह मरीजों को तब दी जाती है, जब अंतःस्रावी विकार जटिल होने पर उपचार के पारंपरिक तरीके काम करना बंद कर देते हैं। निम्न स्वास्थ्य स्थितियां होने पर लोगों को एक एंडोक्रिनोलॉजिस्ट के पास जाना चाहिएः

डायबिटीज

टाइप 1 डायबिटीज, टाइप 2 डायबिटीज और जेस्टेशनल डायबिटीज इसमें शामिल हैं। डायबिटीज वाले लोगों को अपने ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने के लिए प्यास, थकावट और धुंधली दृष्टि जैसे लक्षणों पर नियंत्रण करना चाहिए। भोजन के पचने पर ग्लूकोज नाम की शुगर शरीर में पहुंचती है और इस ग्लूकोज को शरीर ऊर्जा के भंडार के तौर पर इस्तेमाल करता है। हमारे शरीर में अग्न्याशय इंसुलिन जारी करता है और इंसुलिन का काम ग्लूकोज को रक्तप्रवाह से मांसपेशियों,फैट और लीवर की कोशिकाओं तक पहुंचाना है, जहां इसे ऊर्जा के लिए जलाया जा सकता है।

इंसुलिन एक केमिकल है, जिसे अग्न्याशय द्वारा ब्लड शुगर के लेवल को स्थिर करने के लिए रिलीज करता है। जिन डायबिटीज के मरीजों में ब्लड शुगर का लेवल बढ़ा हुआ है, उनके अग्न्याशय पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर सकते हैं या उनकी मांसपेशियां, फैट और लीवर कोशिकाएं इंसुलिन का ठीक से जवाब नहीं देती हैं। बालड शुगर के लेवल को नियंत्रित रखने के लिए एंडोक्रिनोलॉजिस्ट की मदद ज़रूरी होती है।

थायरॉइड विकार

थायरॉइड विकार (थायरॉइड डिसऑर्डर) कई विकारों का प्रमुख कारण है। थायरॉइड मेटाबॉलिज्म विनियमित करने के लिए जिम्मेदार है और थायरॉइड हार्मोन का लेवल बहुत ज़्यादा या बहुत कम होने के कारण कई प्रकार के लक्षण हो सकते हैं, जिनमें वजन बढ़ना, वजन घटना, बालों का झड़ना, चिंता और अन्य शामिल हैं। थायरॉइड से संबंधित विकारों का इलाज करने के लिए थायरॉइड के लेवल को सामान्य रूप से नियंत्रित किया जाता है, जिसमें लक्षणों में सुधार करने के लिए दवाओं की मदद ली जाती है। अतिसक्रिय या कम सक्रिय थायरॉइड के कारण बहुत ज़्यादा या बहुत कम थायरॉइड हार्मोन वाले मरीजों का इलाज एंडोक्रिनोलॉजिस्ट द्वारा किया जाता है।

वह थायरॉइड बीमारी के मरीजों के हार्मोनल संतुलन में मदद करने के लिए थायरॉइड हार्मोन को बदलते या ब्लॉक करते हैं। थायरॉइड विकार को चार श्रेणियों में बांटा जाता है, जिसका इलाज एंडोक्रिनोलॉजिस्ट-थायरॉइड कैंसर, हाइपरथायरॉइडिज्म (अतिरिक्त थायरॉइड हार्मोन), हाइपोथायरॉइडिज्म (अपर्याप्त थायरॉइड हार्मोन), सौम्य (गैर-कैंसर) थायरॉइड विकार और हाइपरथायरॉइडिज्म (अतिरिक्त थायरॉइड हार्मोन) द्वारा किया जा सकता है।

Thyroid disorder

हड्डी की बीमारी

ओस्टियोमलेशिया को रिकेट्स के नाम से भी जाना जाता है, जो मांसपेशियों को नरम करता है, जबकि ऑस्टियोपोरोसिस रीढ़ को कमजोर करता है। ओस्टियोमलेशिया और ऑस्टियोपोरोसिस दोनों ही हड्डी के विकार हैं, जिनका निदान और उपचार एंडोक्रिनोलॉजिस्ट करते हैं। ऑस्टियोपोरोसिस का मतलब हड्डी का पतला होना है यानी जैसे-जैसे उम्र के साथ सेक्स हार्मोन का उत्पादन कम होता जाता है, वैसे ही कुछ व्यक्तियों में ऑस्टियोपोरोसिस होने की संभावना ज़्यादा हो जाती है। आमतौर पर यह उन महिलाओं में देखा जा सकता है, जो रजोनिवृत्ति यानी मासिक धर्म बन्द होने के चरण में आगे बढ़ रही हैं या इस स्थिति में पहुंच गई हैं। ऑस्टियोपोरोसिस आनुवंशिकी और दवाओं के मिश्रण के कारण होता है और इसका प्राथमिक उपचार हड्डियों को मजबूत बनाने के साथ ही हड्डियों की गिरावट को कम करना हैं, जिन्हें ताकत बढ़ाने वाली एक्सरसाइज और दवा से पूरा किया जा सकता है।

Bone disease

कम टेस्टोस्टेरोन

लाखों पुरुष कम टेस्टोस्टेरोन से पीड़ित हैं, जबकि बहुत से लोगों का मानना है कि कम टेस्टोस्टेरोन सिर्फ बच्चों और किशोरों में होने वाली एक समस्या है, लेकिन बड़े वयस्कों में भी इसके हानिकारक परिणाम हो सकते हैं। कम टेस्टोस्टेरोन का लेवल अन्य चीजों के अलावा थकान, अवसाद (डिप्रेशन), मांसपेशियों में कमजोरी और बालों के झड़ने का कारण बन सकता है। हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी से टेस्टोस्टेरोन के स्तर को ठीक किया जा सकता है।

एंडोक्राइन ग्लैंड कैंसर

थायरॉइड कैंसर, पैराथायरॉइड कैंसर, एड्रिनल कैंसर और पिट्यूटरी कैंसर सभी अंतःस्रावी ग्रंथि से संबंधित कैंसर हैं। यह कैंसर हार्मोन के लेवल को प्रभावित कर सकते हैं, जिसके लिए एंडोक्रिनोलॉजिस्ट पर तत्काल ध्यान की ज़रूरत हो सकती है। आमतौर पर एंडोक्रिनोलॉजिस्ट और ऑन्कोलॉजिस्ट दोनों ही इन कैंसर वाले लोगों का इलाज करते हैं। ऑन्कोलॉजिस्ट कैंसर थेरेपी और एंडोक्रिनोलॉजिस्ट हार्मोन संतुलन के इन्चार्ज हैं।

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस)

पीसीओएस महिलाओं में एण्ड्रोजन (पुरुष हार्मोन) और इंसुलिन के ऊंचे स्तर का कारण बनता है, जिसके कारण बढ़े हुए अंडाशय, अनियमित चक्र, मेटाबॉलिज्म संबंधी समस्याएं और अल्सर हो सकते हैं। जब आप छोटे होते हैं, तो पीसीओएस गर्भधारण करना मुश्किल बना सकता है। बुजुर्ग लोग ज़्यादा मेटाबॉलिज्म संबंधी दुष्प्रभावों का अनुभव कर सकते हैं, जिनमें वजन बढ़ना और बालों का ज़्यादा बढ़ना शामिल हैं। उचित हार्मोनल संतुलन बहाली और भोजन में परिवर्तन सिंड्रोम के प्रभाव को कम कर सकते हैं।

पिट्यूटरी ग्रंथि

पिट्यूटरी ग्रंथी कई अन्य ग्रंथियों को नियंत्रित करती है, जिसमें कई ज़रूरी हार्मोन होते हैं और इसीलिए पिट्यूटरी को शरीर की मास्टर ग्रंथि भी कहते हैं। बांझपन, मासिक धर्म की समस्याएं, विकास संबंधी विकार और बहुत ज़्यादा कोर्टिसोल उत्पादन (कुशिंग सिंड्रोम) सभी पिट्यूटरी हार्मोन की कमी या ज़्यादा उत्पादन की वजह से हो सकते हैं। एंडोक्रिनोलॉजिस्ट लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए कुछ दवाओं की मदद ले सकते हैं और सर्जरी की ज़रूरत वाले मरीज़ों को एक सर्जन के पास जाने की सलाह भी दे सकते हैं।

प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल चिकित्सक से एंडोक्रिनोलॉजिस्ट के पास जाना

आपके प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल चिकित्सक आपको एंडोक्रिनोलॉजिस्ट के पास जाने की सलाह देंगे। ऐसा तब किया जाता है जब उन्हें शरीर में किसी भी हार्मोनल असंतुलन का संदेह है, जो पारंपरिक उपचार के प्रभाव में रूकावट पैदा कर रहा है। एंडोक्रिनोलॉजिस्ट एक शारीरिक जांच करते हैं, जिसमें आपकी स्पंदन दर (पल्स रेट), हृदय गति (हार्ट रेट) और रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) की जांच की जाती है। वह हार्मोनल विकारों से संबंधित लक्षणों की जांच के लिए शरीर के अलग-अलग अंगों का भी आंकलन करेंगे। एक उचित निदान के बाद आपको और आपके प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को उपचार योजना के बारे में जानकारी दी जाती है।

कुछ पुराने हार्मोनल विकारों में आपको फॉलो-अप अपॉइंटमेंट के लिए कहा जा सकता है, लेकिन अन्य मामलों में आप अपने प्राथमिक स्वास्थ्य चिकित्सक को दिखना जारी रखेंगे। अगर आप अंतःस्रावी स्थिति की समस्या से परेशान हैं, तो अपने स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों पर एंडोक्राइनोलॉजिस्ट रखना एक अच्छा विचार है। इससे आप एक सही निदान प्राप्त करने के साथ ही प्रभावी चिकित्सा योजना बना सकते हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care 

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है, जो आपके किसी भी सवाल का जवाब देने और आपकी परेशानी से जुड़ी ज़्यादा जानकारी प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार है, ताकि आप जान सकें कि आपकी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छा इलाज कौन सा है।

Try MantraCare Wellness Program free