अंतःस्रावी ग्रंथियां (एंडोक्राइन ग्लैंड्स): विकार और निदान – Endocrine Glands: Vikar Aur Nidan

अंतःस्रावी ग्रंथियां

Contents

अंतःस्रावी ग्रंथियां (एंडोक्राइन ग्लैंड्स) क्या हैं? Endocrine Glands Kya Hain?

अंतःस्रावी ग्रंथियां हमारे अलग-अलग शारीरिक अंगों में बिखरी हुई हैं, जो कोशिकाओं और अंगों को तैयार करने के लिए कैलोरी को ऊर्जा में बदलती हैं। साथ ही यह शरीर के बेहतर कामकाज जैसे कई पहलुओं का ध्यान रखते हुए हमारी मदद करती हैंं। हालांकि, मुख्य रूप से अंतःस्रावी सिस्टम की ग्रंथियों का काम आपके दिल की धड़कन के तरीके को प्रभावित करना, शरीर के अंदर ऊतकों और कोशिकाओं के विकास की निगरानी करना और आपके प्रजनन की ताकत को प्रभावित करना है। इसके अलावा यह ग्रंथियां आपको डायबिटीज, थायराइड, यौन संबंधी बीमारी और अन्य हार्मोन संबंधी विकारों जैसी घातक बीमारियों से बचाने में ज़रूरी भूमिका निभाती हैं।

अंतःस्रावी ग्रंथियों के प्रकार – Endocrine Glands Ke Prakar

मानव शरीर के बेहतर कामकाज के लिए शरीर के सभी आंतरिक और बाहरी अंग का एक कार्य होता है। इस लेख में हमारे शरीर में मौजूद सभी अंतःस्रावी ग्रंथियों की एक सूची दी गई है, जिससे स्पष्ट होता है कि यह हमारे रक्त प्रवाह के माध्यम से प्रवाहित होती हैं। आगे बढ़ने के लिए यह ग्रंथियां शरीर में रक्त प्रवाह की मदद से अलग-अलग कोशिकाओं और ऊतकों तक पहुंचकर शारीरिक अंगों के कामकाज को प्रभावित करती हैं।

Endocrine system

हाइपोथैलमस

यह ग्रंथि निचले मध्य मस्तिष्क में मौजूद होती है और पिट्यूटरी ग्रंथि को उस समय के बारे में जानने की भूमिका निभाती है जब उसे हार्मोन जारी करना होता है। यह पिट्यूटरी ग्रंथियों को नियंत्रित करने वाले हार्मोन उत्पादित करने के लिए भी जिम्मेदार है। साथ ही यह ग्रंथि उन हार्मोनों को बनाती है, जो आमतौर पर उचित कामकाज के लिए संबंधित ग्रंथियों में जमा होते हैं।

पिट्यूटरी ग्रंथि

पिट्यूटरी ग्रंथि मस्तिष्क के पिछले भाग में मौजूद होती है, जिसे मास्टर ग्रंथि के नाम से भी जाना जाता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह शरीर की अन्य सभी ग्रंथियों, खासतौर से थायराइड ग्रंथि को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार है। डॉक्टरों की मानें, तो इन ग्रंथियों को काम करते समय कोई समस्या नहीं होनी चाहिए, क्योंकि वह महिलाओं में मासिक धर्म चक्र, हड्डियों के विकास और यहां तक कि स्तन से दूध के निकलने को भी प्रभावित कर सकती हैं।

पीनियल ग्रंथि

मस्तिष्क केंद्र के पास पाई जाने वाली यह ग्रंथि हमारी नींद के पैटर्न की देखभाल करती है। यह मेलाटोनिन को रिलीज़ करने के लिए जिम्मेदार है, जो शरीर के अंदर लयबद्ध गति में ज़रूरी भूमिका निभाती है। इन लयबद्ध गति में नींद, जागने के चक्र, सांस छोड़ने और सांस लेने आदि की दिनचर्या शामिल है।

पैराथाइरॉइड

हड्डियों के विकास के लिए जिम्मेदार यह ग्रंथियां गर्दन के क्षेत्र में मौजूद होती हैं। यह कैल्शियम सेवन, इस्तेमाल के ट्रैक रिकॉर्ड को नियंत्रित करने और रखने के लिए शरीर में मौजूद हैं। शरीर के अंदर मौजूद इन पैराथाइरॉइड ग्रंथियों की संख्या चार होती है।

थायराइड

थायराइड ग्रंथियां तितली के आकार की होती हैं और गर्दन में ठीक नीचे की तरफ मौजूद होती हैं। यह ग्रंथियां शरीर के मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करती हैं और शरीर के अंदर थायरोक्सिन का उत्पादन करती हैं। साथ ही यह अंतःस्रावी ग्रंथि शरीर में मेटाबॉलिज्म के नियंत्रण की देखभाल करने के लिए भी जिम्मेदार है।

थाइमस

यह मानव शरीर के ऊपरी छाती क्षेत्र में मौजूद है और शरीर के इम्यून सिस्टम को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार है। थाइमस एक बच्चे के जीवन के शुरुआती चरणों में थाइमोसिन पहुंचाती है, जो शरीर के अंदर टी कोशिकाओं की उत्तेजना के विकास के लिए जिम्मेदार है।

अधिवृक्क (एड्रिनल) ग्रंथि

यह ग्रंथियां गुर्दे में मौजूद होती हैं और किसी व्यक्ति में कोर्टिसोल रिलीज करने के लिए जिम्मेदार होती हैं। यह ग्रंथियां एपिनेफ्रीन और नॉन-एपिनेफ्रिन छोड़ती हैं। यह हार्मोन पूरे शरीर में स्ट्रेस हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। मानव शरीर में यह ग्रंथि बहुत ज़रूरी है, क्योंकि जब हमारा शरीर बहुत कमज़ोर होता है, तो यह कम समय के अंदर जल्द ठीक होने में हमारी मदद करती हैं।

अग्न्याशय में आइलेट कोशिकाएं

यह ग्रंथियां इंसुलिन और ग्लूकागन जैसे हार्मोन के रिलीज होने को नियंत्रित करती हैं। हमारे गुर्दे में सबसे उपर मौजूद इन ग्रंथियों का मुख्य काम पूरे शरीर में ग्लूकोज को नियंत्रित करना और पूरे दिन एनर्जी लेवल को मैनेज करना है।

अंडाशय

यह सभी महिलाओं के शरीर में मुख्य प्रजनन अंग हैं, जो बच्चे के बनने को नियंत्रित करते हैं। अंडाशय में बनने वाले हार्मोन प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन हैं। एस्ट्रोजेन का मुख्य काम माध्यमिक यौन विशेषताओं के विकास के साथ ही महिलाओं में गर्भाधान और मासिक धर्म के लिए अंडों के विकास की देखभाल करना है। प्रोजेस्टेरोन का काम शरीर में गर्भावस्था की पूरी अवधि के लिए एक गर्भाधान अंडे की देखभाल के लिए गर्भाशय को विकसित करना है।

वृषण

यह पुरुष प्रजनन अंग हैं, जो बच्चे के जन्म का समर्थन करने के लिए जिम्मेदार हैं। टेस्टोस्टेरोन एक पुरुष शरीर में शुक्राणु उत्पादन के लिए जगह विकसित करता है। यह ग्रंथि पुरुषों में द्वितीयक यौन अंगों के विकास के लिए भी जिम्मेदार है।

इन सभी ग्रंथियों को जानने के बाद आपको सभी अंतःस्रावी सिस्टम में ग्रंथियों के स्वस्थ काम के बारे में सुनिश्चित करना चाहिए। ऐसा इसलिए ज़रूरी है, क्योंकि इनमें थोड़ी-सी भी गड़बड़ी अंतःस्रावी विकारों या बीमारियों का कारण बनती है और कई बार शरीर में मौजूद यह विकार आपके लिए जानलेवा भी साबित हो सकते हैं।

अंतःस्रावी ग्रंथियों में विकार – Endocrine Glands Disorders

अंतःस्रावी विकारों को हमेशा दो व्यापक श्रेणियों में बांटा जा सकता है:

  1. शरीर के बेहतर कामकाज के लिए बहुत ज़्यादा या बहुत कम अंतःस्रावी हार्मोन के कारण हार्मोनल असंतुलन होता है।
  2. ट्यूमर या नोड्यूल विकास की वजह से अंतःस्रावी बीमारी होती हैं, जिनका रिलीज होने वाले हार्मोन पर बुरा प्रभाव हो भी सकता है और नहीं भी।

अंतःस्रावी ग्रंथियों में विकारों के कारण – Endocrine Glands Disorders Ke Karan

causes of endocrine disorders

अंतःस्रावी विकारों के कई कारण शरीर के कार्यात्मक विकास में रुकावट पैदा कर सकते हैं, जिसकी जानकारी नीचे दिए गए बिंदुओं में दी गई है:

  1. अंतःस्रावी प्रतिक्रिया प्रणाली (एंडोक्राइन फीडबैक सिस्टम) के साथ अंतःस्रावी विकारों वाले व्यक्ति का निदान किया जा सकता है।
  2. हो सकता है कि किसी व्यक्ति में गंभीर बीमारी का निदान किया गया है, जो अंतःस्रावी ग्रंथियों के कामकाज को प्रभावित करता है।
  3. आपको अपने जीन में मल्टीपल एंडोक्राइन नियोप्लासिया (एमईएन) जैसे अंतःस्रावी विकार विरासत में मिल सकते हैं।
  4. एक या एक से ज़्यादा अंतःस्रावी ग्रंथियों में इंफेक्शन होना।
  5. अंतःस्रावी ग्रंथियों को कुछ आकस्मिक चोट लगना।
  6. अंतःस्रावी ग्रंथि में ट्यूमर का विकास होना।

अंतःस्रावी विकारों के इन कारणों को लेकर आपको बहुत ज़्यादा सावधान रहने की ज़रूरत है। जब भी आपको कुछ गलत होने का अहसास हो या बताए गए विकारों के किसी भी कारण का पता लगे, तो आपको तुरंत डॉक्टर से परामर्श करके इसका निदान करना चाहिए। इस तरह से आपको समय पर इलाज मिल सकता है और इसकी मदद के ज़रिए आसानी से आपकी रिकवरी की जा सकती है। अंतःस्रावी ग्रंथियों में पाए जाने वाले कई ट्यूमर कैंसर रहित होते हैं, लेकिन वह शरीर के बाकी हिस्सों में नहीं फैलते हैं। हालांकि, एक कैंसर या बिना-कैंसर वाले ट्यूमर का पता लगाना मानव शरीर में निदान के लिए हानिकारक है।

अंतःस्रावी ग्रंथियों में विकारों के प्रकार – Endocrine Glands Disorders Ke Prakar

कई लोगों में कुछ विकार हार्मोनल असंतुलन के कारण दिखाई देते हैं, जो निम्नलिखित हैं:

अधिवृक्क (एड्रिनल) अक्षमता

यह एक ऐसा विकार है, जो कई बार हार्मोन कोर्टिसोल और एल्डोस्टेरोन की कम मात्रा के कारण होता है। इसके लक्षणों में थकान, पेट खराब होना, डिहाइड्रेशन और त्वचा की बनावट में बदलाव आदि शामिल हैं।

कुशिंग डिजीज

यह ज़्यादा मात्रा में पिट्यूटरी ग्रंथि हार्मोन उत्पादित होने की वजह से होता है। आमतौर पर यह सिंड्रोम उन लोगों में पहचाना जाता है, जिन्होंने कॉर्टिकोस्टेरॉइड की भारी मात्रा में खुराक का सेवन किया है।

गिगैंटिस्म

गिगैंटिस्म वाले बच्चे के एक या एक से ज़्यादा शारीरिक अंग असामान्य तरीके से तेजी से बढ़ने लगते हैं। इस मामले में अगर ग्रोथ हार्मोन विकास का समर्थन करने के लिए बहुत कम हैं, तो शरीर ऊंचाई पर बढ़ना बंद कर देता है।

डायबिटीज

डायबिटीज अंतःस्रावी विकारों वाले लोगों में पाई जाने वाली सबसे आम बीमारियों में से एक है। इसमें रक्त शर्करा के स्तर में भारी उतार-चढ़ाव होता है, जिससे मरीजों को नुकसान पहुंचा सकता है।

हाइपरथायरायडिज्म और हाइपोथायरायडिज्म

हाइपरथायरायडिज्म एक ऐसी स्थिति है जहां मरीज ज़्यादा वजन घटाने, तेजी से चलने वाली दिल की धड़कन और ज़्यादा पसीना आने जैसी समस्याओं का सामना करते हैं। यह सब संबंधित ग्रंथि के कारण होता है, जो थायराइड हार्मोन के ज़्यादा उत्पादन के लिए जिम्मेदार है। जबकि हाइपोथायरायडिज्म की स्थिति में मरीज कब्ज, सूखी त्वचा, अवसाद और थकान जैसी समस्याओं से गुजरता है। आमतौर पर यह समस्याएं संबंधित ग्रंथि से उत्पादित होने वाले थायराइड हार्मोन की अपर्याप्त मात्रा की वजह से होती हैं।

एक से ज़्यादा अंतःस्रावी रसौली I और II

यह एक प्रकार का अंतःस्रावी विकार है जो जीन से होकर गुजरता है। यह पैराथायरायड, अधिवृक्क (एड्रिनल) और थायराइड ग्रंथियों में ट्यूमर पैदा करने के लिए काफी हानिकारक हैं। मेन I और मेन II का आखिरी नतीजा हार्मोन का ज़्यादा उत्पादन है।

पिट्यूटरी ग्रंथि का फेल होना (हाइपोपिट्यूटेरिज्म)

कई बीमारी पिट्यूटरी ग्रंथि का फेल होने यानी हाइपोपिट्यूटारिज्म विकारों का कारण बन सकती हैं। इस अंतःस्रावी विकार की वजह से महिलाओं में मासिक धर्म चक्र का प्रवाह बंद हो सकता है।

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस)

पीसीओएस का संक्षिप्त नाम पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम है और यह महिलाओं में बांझपन के प्रमुख कारणों में से एक माना जाता है। यह अंतःस्रावी विकार एण्ड्रोजन के ज़्यादा उत्पादन की वजह से होता है, जो महिलाओं में अंडों के विकास और अंडाशय के कामकाज में दखलअंदाज़ी करता है। यह सभी अंतःस्रावी विकार शरीर में कई अलग-अलग बीमारियों और अन्य कारणों से होते हैं। आमतौर पर डॉक्टर पहले चरण में इन विकारों की जांच करवाने की सलाह देते हैं, ताकि ठीक होने के लिए मरीज को एक बेहतर उपचार का फायदा दिया जा सके।

अंतःस्रावी विकारों का निदान – Endocrine Disorders Ka Nidan

Diagnosis of endocrine disorders

हमारे शरीर में मौजूद अंतःस्रावी ग्रंथियों के विकारों का परीक्षण करने के कुछ तरीके हैं। इसके अलावा अंतःस्रावी ग्रंथियों के विकारों का चेक-अप और परीक्षण करने वाले डॉक्टर को एंडोक्रिनोलॉजिस्ट कहा जाता है। अगर आप बताए गए किसी भी लक्षण को महसूस करते हैं, तो एंडोक्रिनोलॉजिस्ट से कुछ परीक्षणों की मदद ले सकते हैं, जिनमें निम्नलिखित तीन तरीके शामिल हैं।

रक्त परीक्षण

आप अपने हार्मोनल संतुलन की जांच के लिए अपना रक्त परीक्षण करवा सकते हैं। इस दौरान कुछ भी संदिग्ध होने पर आप उचित कार्रवाई कर सकते हैं।

मूत्र परीक्षण

यह उन परीक्षणों में से एक है, जिसे आपके अंतःस्रावी विकारों का निदान करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। आमतौर पर यह परीक्षण खाने से पहले और बाद में दोनों बार किए जाते हैं, ताकि कोई व्यक्ति विकारों की गंभीरता जानने के लिए औसत गणना हासिल कर सके। साथ ही कुछ उपयुक्त उपचारों की मदद से पीड़ित व्यक्ति जल्दी ठीक हो सकते हैं।

इमेजिंग परीक्षण

अंतःस्रावी ग्रंथियों में कोई ट्यूमर विकसित हो रहा है या नहीं, इसका निदान करने के लिए अलग-अलग इमेजिंग परीक्षण भी एक सफल विधि हैं। यह परीक्षण अंतःस्रावी ग्रंथियों में कई तरह के नोड्यूल विकास की इमेजिंग में मदद कर सकते हैं। एक बार निदान होने के बाद इन अंतःस्रावी विकारों को सबसे खराब मामलों में गंभीर उपचार से गुजरना पड़ सकता है। हालांकि, इस तरह के उपचार से हार्मोन में कई तरह के असंतुलन होते हैं, क्योंकि एक अंतःस्रावी ग्रंथि में सुधार से दूसरों को नुकसान हो सकता है। ऐसे में दवाएं काफी मजबूत हैं और अन्य कई दुष्प्रभाव पैदा कर सकती हैं। इस स्थिति में आपको हर उस चीज़ का ध्यान रखना चाहिए जो आपके अंतःस्रावी तंत्र से निकट संपर्क में रहती है। इसके अलावा, एक एंडोक्रिनोलॉजिस्ट से मिलना और उन मुद्दों पर सबसे उपयुक्त मार्गदर्शन लेना उन सभी लोगों के लिए ज़रूरी है, जो अपने शरीर में इन समस्याओें का सामना कर रहे हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care 

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है, जो आपके किसी भी सवाल का जवाब देने और आपकी परेशानी से जुड़ी ज़्यादा जानकारी प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार है, ताकि आप जान सकें कि आपकी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छा इलाज कौन सा है।

Try MantraCare Wellness Program free