पैरों का लाल होना (रेड फीट/फूट रेडनेस): लक्षण, कारण और उपचार – Pairon Ka Laal Hona (Red Feet/Foot Redness): Lakshan, Karan Aur Upchar

Red Feet (Foot Redness): Symptoms, Causes & Treatment

Contents

पैरों का लाल होना (रेड फीट/फूट रेडनेस) क्या है? Red Feet/Foot Redness Kya Hai?

आमतौर पर डॉक्टर लोगों को पैरों का खास ध्यान रखने की सलाह देते हैं, क्योंकि पैरों का लाल होना (रेड फीट या फूट रेडनेस) गंभीर समस्या बन सकती है। सभी व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में कामों के लिए अपने पैरों पर निर्भर हैं। उदाहरण के लिए, चलना, खड़े होना, सीढ़ियां चढ़ना, दौड़ना और कुछ अन्य गतिविधियां। इनमें आपके पूरे शरीर का सहारा शामिल होता है। पैर कई जटिल और ज़रूरी भागों जैसे हड्डी, त्वचा, मांसपेशियों और उपास्थि से बने होते हैं। इनके प्रभावित होने से आपको अक्सर पैरों में लालपन की समस्या होती है। हालांकि, पैरों में लालपन के ज़्यादातर कारणों का आसानी से इलाज किया जा सकता है। इनका इलाज आप घर पर भी कर सकते हैं, लेकिन कई बार स्थिति ठीक होने के बजाय ज़्यादा खराब हो जाती है। इसकी वजह से आपको विशेषज्ञों से जांच और उपचार की ज़रूरत होती है।

पैरों में लालपन की पहचान – Foot Redness Ki Pehchan

पैरों में लालपन की समस्या निम्नलिखित खासियतों के आधार पर अलग हो सकती है:

  • धीरे-धीरे या अचानक पैरों का लाल होना: अगर आपके शरीर का तापमान ज़्यादा है और आपके पैरों पर कुछ गिरता है, तो एक सेकंड के अंदर आपके पैर लाल हो जाते हैं। पैरों में यह लालपन आपको कुछ घंटों बाद भी दिखाई दे सकता है।
  • लगातार और रुक-रुक कर पैरों में लालपन: कई बार पैरों में लालपन लगातार और रुक-रुक कर हो सकता है। इसका मतलब है कि प्रभावित हिस्सा एक बार लाल दिखाई देता है और फिर सामान्य रंग में आ जाता है।

कोविड और पैरों में लालपन – Covid Aur Red Feet

कोरोना वायरस के लक्षणों में शामिल हैं:

  • सूखी खांसी
  • बुखार
  • सांस लेने में कठिनाई
  • कमज़ोरी महसूस होना
  • बदन दर्द

इनके अलावा पैरों में लालपन इस वैज्ञानिक संक्रमण का एक अन्य संभावित लक्षण माना जाता है। आमतौर पर यह लक्षण पैर की उंगलियों पर लाल उभार के तौर पर दिखाई देता है और इसमें खुजली होती है।

पैरों में लालपन के लक्षण – Red Feet Ke Lakshan

पैरों का लाल होना अपने आप में कई पैरों की समस्याओं का खास लक्षण है, जैसे डायबिटिक अल्सर और घाव। इसके कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:

  • सुन्न होना
  • चलने में कठिनाई
  • ठंड लगना
  • झनझनाहट
  • जोड़ों का दर्द
  • सूजन
  • खुजली
  • दर्द
  • नरमी
  • प्रभावित हिस्से में जलन

पैरों में लालपन के कारण – Red Feet Ke Karan

किसी व्यक्ति को पैरों में लालपन की समस्या कई कारणों से हो सकती है और त्वचा का काला इसका अन्य प्रमुख लक्षण है। इसके अलावा पैरों में लालपन के निम्न कारण हैं:

त्वचा में इंफेक्शन

Skin Infection

इस स्थिति में आपकी त्वचा में जीवित रहने वाले बैक्टीरिया आपकी त्वचा के अंदर चले जाते हैं। बैक्टीरिया के त्वचा में प्रवेश करने से आपको सेलुलाइटिस की समस्या हो जाती है, जो त्वचा का एक आम इंफेक्शन है। पैरों में लालपन के अलावा त्वचा में इंफेक्शन के लक्षण हैं:

  • पैर और पैर की उंगलियों में दर्द
  • पैर और पैर की उंगलियों में सूजन
  • बुखार

चोट

Injury

पैरों पर किसी चीज के लगने या गिरने से पैरों में लालपन हो सकता है। कई बार चोट दबाव, सूजन और लालपन सहित दर्द पैदा कर सकती हैं।

सूजन

Inflammation

यह आपकी त्वचा के गैसोलीन या डिटर्जेंट जैसे साबुन और ब्लीच जैसे पदार्थों के संपर्क में आने से होता है। इन पदार्थों से पैरों या उंगलियों में सूजन आ जाती है। त्वचा की सूजन के अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • पैर और पैर के अंगूठे में दर्द
  • रूखी या सूखी त्वचा

एलर्जी के संपर्क से सूजन

Allergic dermatitis

पॉइज़न आइवी और निकेल जैसी धातुएं आपकी त्वचा के संपर्क में आने पर जलन पैदा करती हैं और उसमें सूजन भी करती हैं। लालपन के अलावा अन्य लक्षण हैं:

  • पैर और उंगलियों में खुजली
  • पैर और उंगलियों पर पपड़ी

गठिया

Gout

गाउट गठिया का एक प्रकार है, जो अक्सर पैरों में लालपन का कारण बनता है। इसके अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द
  • जोड़ों में अकड़न और सूजन
  • पैर की उंगलियों में सूजन

नाखून में इंफेक्शन

Nail Infection

चिकित्सकीय भाषा में इसे पैरोनीचिया के नाम से जाना जाता है। यह इंफेक्शन तब होता है, जब आपका पैर का नाखून झुकता या मुड़ता है। आमतौर पर यह स्टैफिलोकोकस ऑरियस या एक कवक नाम के बैक्टीरिया की वजह से होता है।

परिधीय संवहिनी रोग

Peripheral vascular disease

इस तरह की बीमारी की सबसे बड़ी वजह प्रभावित हिस्से में रक्त के प्रवाह की कमी होती है। यह धमनियों के बंद होने की वजह से हो सकती है, जिसे एथेरोस्क्लेरोसिस कहा जाता है। इसके लक्षणों में शामिल हैं:

  • पैर की उंगलियों और पैरों में लालपन
  • पैर की उंगलियों और पैरों में खुजली

एथलीट फुट

Athlete's foot

एथलीट फुट का दूसरा नाम टीनिया पेडिस है। यह फंगल इंफेक्शन की वजह से होता है, जिसके लक्षणों में शामिल हैं:

  • प्रभावित हिस्से में खुजली
  • पैर की उंगलियों के बीच त्वचा का छिलना

पैरों में लालपन का उपचार – Red Feet Ka Upchar

इसका उपचार घाव की तेजी या लालपन के कारण पर निर्भर करता है। अगर आपके पास कोई गंभीर लक्षण नहीं हैं, जैसे स्थिति का बिगड़ना या घाव का फैलना, तो आप इसका इलाज घर पर कर सकते हैं:

गर्म या ठंडा सेक

एक गर्म सेक लगाने से लालपन को ठीक किया जा सकता है। इससे सूजन कम होती है और पैरों को राहत मिलती है। अगर आपके पैर लंबे समय तक ठंडे तापमान के संपर्क में रहते हैं, तो लालपन और जलन को कम करने के लिए आप कोल्ड कंप्रेस भी कर सकते हैं।

ओवर-द-काउंटर दवाएं

कुछ दवाएं आपके पैरों के दर्द, सूजन और लालपन से निपटने और आराम दिलाने में आपकी मदद कर सकती हैं, जैसे:

  • इबुप्रोफेन (एडविल, मोट्रिन),
  • नेप्रोक्सन (एलेव), और
  • एस्पिरिन

तरल पदार्थ का सेवन

अगर आपके पैरों में लालपन की समस्या का कारण कोई इंफेक्शन है, तो हाइड्रेशन से इसमें कुछ हद तक मदद मिल सकती है। यह खासतौर से बुखार से पीड़ित होने की स्थिति आपकी मदद करता है।

पैरों में लालपन से जुड़ी समस्या – Red Feet Se Judi Samasya

अगर आपको पैरों में लालपन के अलावा निम्नलिखित समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, तो आपको तत्काल चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए:

  • लालपन का तेजी से फैलना और बिगड़ना
  • पैर में दर्द का तेजी बढ़ना
  • मतली
  • उल्टी
  • सांस लेने में दिक्क्त
  • शरीर का उच्च तापमान यानी बुखार

ध्यान रहे कि अगर आप डायबिटीज या गुर्दे की बीमारी जैसी अन्य बीमारियों से पीड़ित हैं और कीमोथेरेपी या इम्यूनोसप्रेसिव दवाओं पर निर्भर हैं, तो आपको ज़्यादा सावधानी बरतने की ज़रूरत है।

पैरों और स्वास्थ्य का संबंध – feet Aur health Ka Relation

अगर क्रम के हिसाब से देखा जाए, तो पैर हमारे शरीर का आखिरी हिस्सा होते हैं। हालांकि, पैर हमारे पैर पूरे शरीर का वजन उठाते हैं और हमें खड़ा होने में सक्षम बनाते हैं। इसके अलावा पैर और स्वास्थ्य का गहरा संबंध है, क्योंकि यह आपकी स्वास्थ्य संबंधी स्थितियों के बारे में बहुत कुछ बताते हैं, जैसे:

ठंडे पैर

हमेशा ठंडे पैर की उंगलियां एक कारण का संकेत देती हैं, जो खराब रक्त प्रवाह हो सकता है। यह सर्कुलेटरी प्रॉब्लम है, जो निम्न विकल्पों से प्रभावित होती है:

ठंडे पैर आपको नसों में नुकसान की समस्या के बारे में बताते हैं। इसकी अन्य गंभीर स्थितियों में हाइपोथायरायडिज्म और एनीमिया शामिल हो सकते हैं।

पैर का दर्द

कभी-कभी आपके पैरों में दर्द होना सामान्य है। महिलाओं में यह समस्या खासतौर से ऊंची एड़ी के जूते या किसी अन्य तरह के जूते पहनने से होती है। अगर ऐसा नहीं है और दर्द आपको लगातार परेशान करता है, तो यह स्ट्रेस-फैक्टर या हड्डी में एक छोटी सी दरार का संकेत हो सकता है। इस फ्रैक्चर के कुछ संभावित कारण हो सकते हैं:

  • तेज व्यायाम
  • ऑस्टियोपोरोसिस

पैर की उंगलियों का लाल, सफेद और नीला होना

यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें आपके पैर की उंगलियां सफेद हो जाती हैं। नीली पड़ने के बाद यह लाल हो जाती हैं। इस स्थिति को रेनॉड की बीमारी कहा जाता है, जिसका कारण वैसोस्पास्म या त्वचा का सिकुड़ना है। तनाव या तापमान में बदलाव की वजह से वैसोस्पास्म होता है।

एड़ी का दर्द

इसका कारण सूजन वाले हिस्से का लंबी लिगामेंट एड़ी की हड्डी से जुड़ाव है। आप आमतौर पर दर्द का अनुभव करते हैं सुबह उठते समय और पैरों पर खड़े होने के लिए दबाव डालने पर करते हैं।

मिली हुई पैरों की उंगलियां

कुछ परिवारों में नाखूनों के आकार को प्राकृतिक रूप से जोड़ा जाता है, लेकिन क्लब्ड पैर की उंगलियां आपको गंभीर फेफड़ों और दिल की बीमारी, पाचन विकार या इंफेक्शन के बारे में बताती हैं।

स्वस्थ पैरों के लिए टिप्स – Healthy Feet Ke Liye Tips

  • आपको अपने पैरों को एक दिन के लिए भी अनियंत्रित नहीं छोड़ना चाहिए। साथ ही आपको कट और चोटों से बचने की सलाह भी दी जाती है। सूजन, लालपन, फफोले, कॉर्न्स और कॉलस की जांच समय से करवानी चाहिए। पैरों के निचले हिस्से की जांच के लिए आप किसी की मदद भी ले सकते हैं या शीशे का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • हर दिन अपने पैरों को गर्म पानी से साफ करें, लेकिन भीगने से बचाएं। पैरों को धोने के बाद उन्हें पूरी तरह से सुखाएं और लोशन लगाना न भूलें।
  • ज़रूरत पड़ने पर अपने पैर के नाखूनों को ट्रिम करें। कट से बचने के लिए उन्हें लंबे समय तक बढ़ने के बजाय समय पर काटते रहें।
  • डायबिटीज की जटिलताएं गंभीर रूप ले सकती हैं, इसलिए हमेशा डायबिटीज के अनुकूल जूते और मोजे का इस्तेमाल करें। अगर आप भी डायबिटीज के मरीज हैं, तो जूते और मोजे की खरीदारी करते समय आपको थोड़ा ज़्यादा सावधान रहने की ज़रूरत है। इसके लिए आप टो बॉक्स में ज़्यादा गहराई और पूरी कवरेज वाले जूते चुन सकते हैं।
  • कभी भी नंगे पैर बाहर न निकलें और घर के अंदर होने पर भी आपको नंगे पैर नहीं चलना चाहिए।
  • व्यायाम करते समय अपने पैरों पर ज़्यादा दवाब न डालें।

निष्कर्ष – Nishkarsh

किसी भी समस्या से बचने के लिए आपको हमेशा अपने शरीर की पूरी तरह से देखभाल करनी चाहिए। आपको इस बारे में पूरी तरह भरोसा होना चाहिए कि कुछ खाद्य पदार्थ को आपके शरीर पर क्या प्रभाव होता है। इसका सबसे अच्छा विकल्प एक संतुलित आहार चार्ट बनाना और हर उस चीज़ पर ध्यान देना है, जो आपकी सकारात्मक तरीके से मदद करती है। इसके अलावा सबसे ज़रूरी बात यह है कि आपको उन तरीकों के बारे में पता होना चाहिए, जिनसे आप अपने रक्त शर्करा का स्तर समय पर मॉनिटर कर सकते हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free