डायबिटीज की जटिलताएं: प्रकार और बचाव – Diabetes Ki Jatiltayein: Prakar Aur Bachav

डायबिटीज की जटिलताएं

डायबिटीज क्या है? Diabetes Kya Hai?

डायबिटीज

डायबिटीज की जटिलताएं ऐसी गंभीर स्थिति है, जिसमें किसी व्यक्ति का अग्न्याशय पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है। आमतौर पर यह तब होता है, जब आपका शरीर अपने द्वारा उत्पादित इंसुलिन का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल नहीं कर पाता है। डायबिटीज वाले किसी व्यक्ति के शरीर में अतिरिक्त रक्त शर्करा यानी ब्लड ग्लूकोज बनने लगती है। डॉक्टरों के अनुसार, यह शुगर आपके शरीर में एनर्जी नहीं बढ़ाती है, बल्कि ग्लूकोज के बनने से आपके शरीर में डायबिटीज से संबंधित कई जटिलताएं हो सकती हैं। इनमें दिल की बीमारी और स्ट्रोक जैसी समस्याएं शामिल हैं। हालांकि, आप स्वस्थ आहार के सेवन, नियमित व्यायाम करने और उचित दवाएं लेने जैसे अलग-अलग तरीकों की मदद से डायबिटीज को नियंत्रित कर सकते हैं।

डायबिटीज की जटिलताएं – Diabetes Ki Jatiltayein 

डायबिटीज की जटिलताएं

यह गंभीर बीमारी कई कई जटिलताएं पैदा कर सकती हैं। इनमें अंधापन, दिल की बीमारी, स्ट्रोक, गुर्दे में खराबी या हाथों और पैरों की नसों में नुकसान शामिल है। कुछ मामलों में यह आपकी भावना खोने की वजह भी बनती है और यह लक्षण समय के साथ बढ़ते जाते हैं। ऐसे में कोई भी शारीरिक बदलाव दिखाई देने पर आपको तुरंत चिकित्सा उपचार लेने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इससे आपके स्वास्थ्य पर पड़ने वाले गंभीर प्रभावों को रोकने में मदद मिल सकती है। कई बार यह यह प्रभाव किसी व्यक्ति के शरीर से अंगों को अलग करने का प्रमुख कारण बनते हैं। खासतौर से यह तब होता है, जब ग्लूकोज का स्तर आपके रक्त परिसंचरण को प्रभावित करता है।

डायबिटीज की जटिलताओं के प्रकार – Diabetes Ki Jatiltaon Ke Prakar

डायबिटीज की जटिलताओं प्रकार

डायबिटीज से संबंधित जटिलताओं के कई प्रकार हैं, जैसे-

दिल से संबंधित बीमारियां

दिल की बीमारी डायबिटीज से होने वाली सबसे आम जटिलता है। डायबिटीज की बीमारी उच्च रक्त शर्करा स्तर (हाइपरग्लाइसीमिया) के ज़रिए छोटी रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचा सकती है। इससे धमनियों में प्लाक के जमने से नसें आसानी से ब्लॉक हो सकता हैं और यही स्थिति आगे चलकर दिल के दौरे और स्ट्रोक के जोखिम का बढ़ाती है। आमतौर पर यह समस्याएं दिल या दिमाग को ऑक्सीजन वाले रक्त को पहुंचाने वाली धमनी में रुकावट की वजह से होता है।

इसके कारण ऑक्सीजन की कमी हो जाती है, जो अक्सर स्थायी ऊतक की मौत की वजह बन सकता है। सामान्य प्रकार की संवहनी जटिलताओं में कोरोनरी धमनी की बीमारी शामिल है, जिससे किसी व्यक्ति में एनजाइना पेक्टोरिस और पेरिफेरल आर्टेरियल ऑक्लूसिव डिजीज का खतरा रहता है। कई बार इससे चलने पर पैरों में दर्द होने लगता है। कैरोटिड एथेरोस्क्लेरोसिस ट्रांसज़िट इस्केमिक हमलों या स्ट्रोक, मेसेंटेरिक थ्रॉम्बोसिस यानी मेसेंटरी की नसों में रक्त के थक्के और स्तंभन दोष यानी नंपुसकता की समस्या भी पैदा कर सकता है।

डायबिटिक रेटिनोपैथी

डायबिटिक रेटिनोपैथी

अगली सबसे आम जटिलता डायबिटीज से होने वाली रेटिनोपैथी है। यह डायबिटीज वाले उन 80 प्रतिशत लोगों को प्रभावित करती है, जिन्हें 15 साल या उससे ज़्यादा समय से यह बीमारी है। डायबिटीज की वजह से लोगों के रेटिना में छोटी रक्त वाहिकाओं को नुकसान होता है। आमतौर पर इसे डायबिटीज से संबंधित रेटिनोपैथी या डायबिटिक रेटिनोपैथी के नाम से जाना जाता है। रेटिना आंख का पिछला भाग होता है, जिसमें किसी भी तरह का नुकसान व्यक्ति के लिए दृष्टि हानि की मुख्य वजह बनता है। आगे चलकर यह स्थिति गंभीर जटिलताएं पैदा कर सकती है।

यह बीमारी प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता को भी बढ़ाती है, इसलिए अगर आपकी दृष्टि में सुधार की संभावना है, तो डॉक्टर आपको घर के अंदर धूप के चश्मे का इस्तेमाल करने की सलाह दे सकते हैं। यह दिन के उजाले के घंटों के दौरान निश्चित समय पर होते हैं। विकास और प्रगति के चरण हल्के, मध्यम और गंभीर रूपों में से एक हैं।

रेटिना हैमरेज

डॉक्टरों के मुताबिक, रेटिनल हैमरेज यानी रेटिना में रक्तस्राव की स्थिति में रेटिना के अंदर नई और नाज़ुक रक्त वाहिकाएं विकसित होती हैं, जिनसे रक्तस्राव होता है। आमतौर पर यह डायबिटीज से होने वाले उच्च रक्तचाप की वजह से होता है। कई बार यह तनाव की प्रतिक्रिया से हो सकता है या बिल्कुल नहीं देखा जा सकता है।

रेटिनल डिटैचमेंट

रेटिनल डिटैचमेंट

रेटिनल हैमरेज की स्थिति बिगड़ने की वजह से रेटिना ज़्यादा नाजुक होता जाता है। ऐसे में यह आंख के बाहर अपने अंतर्निहित ऊतक (सबरेटिनल स्पेस) से अलग हो सकता है, जिसे रेटिनल डिटैचमेंट कहते हैं। कई बार यह आंखों के सामने तैरती लकीरों (फ्लोटर्स) का कारण बनता है, जो आपके विजन एरिया के अंदर तैरते हैं। जब आप चलते हैं, तो धुंधली दृष्टि की वजह से यह प्रकाश की चमक पैदा करते हैं। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि आप एक साफ छवि के बजाय दो छवियां देख रहे होते हैं।

डॉक्टरों का कहना है कि रेटिनल डिटैचमेंट एक मेडिकल इमरजेंसी है, जिस पर आपको तुरंत ध्यान देने की ज़रूरत है। अगर इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो यह अंधेपन की समस्या बन सकती है। यह स्पष्ट नहीं है कि कुछ लोगों को डायबिटिक रेटिनोपैथी क्यों विकसित होती है, जबकि अन्य लोगों को कई वर्षों से डायबिटीज से पीड़ित होने के बावजूद यह बीमारी नहीं होती है। हालांकि, ऐसे कई जोखिम कारक हैं, जो रेटिनल डिटैचमेंट के विकास में एक अहम भूमिका निभा सकते हैं।

उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन)

उच्च रक्तचाप

डायबिटीज से संबंधित उच्च रक्तचाप यानी हाइपरटेंशन डायबिटिक रेटिनोपैथी के विकास और प्रगति में एक प्रमुख जोखिम कारक है। आप एक ऑटोमेटेड डिजिटल वाइटल साइन मॉनिटर नाम की मशीन से घर पर अपने रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) को ट्रैक कर सकते हैं। यह मशीन आप अपने डॉक्टर के कार्यालय से ले सकते हैं या ऑनलाइन खरीद सकते हैं। इससे आपको यह पता लगाने में मदद मिल सकती है कि क्या आपको अनियंत्रित उच्च रक्तचाप की समस्या है। आपको बता दें कि किसी व्यक्ति की एक सामान्य सिस्टोलिक रीडिंग 120 मिमी एचजी से कम होती है।

इस तरह के उपकरण द्वारा रक्तचाप आसानी से मापा जा सकता है। अगर रक्तचाप 140 मिमी एचजी से ज़्यादा उच्च है, तो यह उपचार की ज़रूरत के बारे में बताता है। अन्य डायबिटीज की दवाएं, जैसे इंसुलिन इंजेक्शन भी परिधीय धमनी प्रतिरोध (पेरिफेरल आर्टरी डिजीज) में बढ़ सकते हैं। इसकी वजह से आपको किसी भी डायस्टोलिक रीडिंग के उचित निदान और प्रबंधन की ज़रूरत हो सकती है। यह दवाओं के अलग-अलग संयोजनों के साथ अच्छी तरह से काम नहीं करने के साथ देखा जा सकता है।

डायबिटिक न्यूरोपैथी

डायबिटिक न्यूरोपैथीविशेषज्ञों के अनुसार, डायबिटीज की तीसरी सबसे आम जटिलता डायबिटिक न्यूरोपैथी है। यह बीमारी वाले सभी लोगों में से लगभग 50 प्रतिशत लोगों को प्रभावित करती है। हाइपरग्लाइसीमिया से जुड़े कई कारकों की वजह से किसी व्यक्ति को डायबिटीज संबंधी हो सकती है। इसके पहले कारक में खराब परिसंचरण शामिल है, जो पोषण को तंत्रिका कोशिकाओं तक पहुंचने से रोकता है। जबकि, भोजन के सेवन की कमी के कारण कुपोषण इसका दूसरा कारक है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि इस समस्या से पीड़ित होने पर आप बहुत बीमार महसूस करते हैं या कई बार आपके सामान्य रूप से खाने के बावजूद वजन कम होता है।

डायबिटीज से होने वाली न्यूरोपैथी (डायबिटिक न्यूरोपैथी) के अलग-अलग प्रकार हैं। यह स्वायत्त यानी अनैच्छिक मांसपेशियों की गति को प्रभावित करती है और संवेदी यानी कंपन या छूने के अहसास की आपकी क्षमता पर असर करती है। साथ ही इसका प्रभाव स्वैच्छिक मांसपेशियों पर भी होता है। डायबिटिक न्यूरोपैथी के गंभीर लक्षणों में पैरों का सुन्न होना शामिल है, जिससे चलते समय आपका संतुलन बिगड़ जाता है। इसके अन्य लक्षणों में निगलने में कठिनाई, पेशाब पर नियंत्रण न होना या मल पर असंयम और कब्ज शामिल है।

त्वचा की समस्याएं

त्वचा की समस्याएं

त्वचा संबंधी जटिलताएं डायबिटीज से होने वाली चौथी सबसे आम जटिलता है। इसके कारण रक्त शर्करा का स्तर उच्च रहता है और खराब परिसंचरण होता है। डॉक्टरों की मानें, तो दोनों ही समस्याओं से आपकी त्वचा को गंभीर नुकसान हो सकता है।

फंगल इंफेक्शन

फंगल इंफेक्शन डायबिटीज से संबंधित जटिलताओं में से एक है, जो नम हिस्सों में जल्दी फैल सकते हैं। यह अक्सर पैर की उंगलियों के बीच, त्वचा की परतों में या नाखून के नीचे होते हैं और ज़्यादा वायु परिसंचरण प्राप्त नहीं करते हैं। अगर आप डायबिटिक न्यूरोपैथी या किसी अन्य तरह की तंत्रिका क्षति (परिधीय न्यूरोपैथी) की वजह से संवेदना कम कर देते हैं, तो यह स्थिति ज़्यादा खराब हो जाती है। इसके संकेतों में खुजली, लालपन, आपके मुंह के किनारों पर दरार, जलन और दर्द शामिल हैं।

आमतौर पर यह फंगल इंफेक्शन तब होते हैं, जब आप बिना जूतों के नंगे पैर चल रहे होते हैं। एथलीट फुट से डिस्चार्ज से बदबू आती है और यह सिर्फ आपके एक पैर को प्रभावित करता है। अन्य जॉक इच खुजली वाले धक्कों के तौर पर दिखाई दे सकता है। यह ग्रोइन हिस्से के आसपास होता है, जहां बैक्टीरिया बालों की जड़ों को संक्रमित करते हैं और त्वचा पर खमीर बढ़ता है।

नाखून और बालों में फंगल इंफेक्शन

नाखूनों के आसपास सूजन हो सकती है। अन्य प्रभावों में त्वचा का काला पड़ना या पीलापन और नाखून के ऊतकों का पतला होना है। इन्हें अंगूठा दबाने पर देखा जा सकता है, जिसमें नीचे सफेद दाग दिखाई देने लगता है। इस समस्या से पहले यह स्वस्थ गुलाबी नाखून का ऊतक था। बालों का झड़ना आमतौर पर पहले पैच में होता है और फिर बड़े हिस्सों में आगे फैलता है, जिसमें खोपड़ी का ज़्यादा हिस्सा शामिल है। फंगल इंफेक्शन के कारण जननांगों में खुजली भी हो सकती है। यह एथलीट फुट वाले किसी व्यक्ति द्वारा यौन गतिविधि से हो सकता है। अक्सर यह कहीं और फैलने से पहले उनके ग्रोइन हिस्से को संक्रमित कर सकता है। अगर डायबिटीज का ठीक से इलाज नहीं किया जाए, तो लक्षण दूर होने के बाद भी फंगल आसानी से दूसरे हिस्सों में फैल जाते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि फंगल पर्यावरण में जीवित रहता है।

पैरों की जटिलताएं

Foot Complicationsएथलीट फुट की समस्या से डायबिटीज से पीड़ित 15 से 18 प्रतिशत लोगों को संक्रमित करती है। इसके कारण डायबिटीज वाले लोगों के पैरों पर लाल और पपड़ीदार दाने भी हो सकते हैं। यह आपके पैर की उंगलियों के किनारों पर दर्दनाक दरारें पैदा कर सकता है और ठीक से इलाज नहीं किये जाने पर यह खून बहने की वजह भी बन सकता है। कई बार उन पर मोज़े रगड़ने से पैर बैक्टीरिया से संक्रमित हो सकता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि त्वचा कोशिकाओं को नरम और नम रहने के लिए तंतुओं के बीच पर्याप्त नमी नहीं मिल पाती है।

अगर आप डायबिटिक न्यूरोपैथी या किसी अन्य तरह के तंत्रिका नुकसान की वजह से संवेदना कम कर चुके हैं, तो दोनों स्थितियां खराब हो जाती हैं। अनुपचारित छोड़ दिये जाने पर यह पैरों के फंगल इंफेक्शन से त्वचा के फटे हुए हिस्सों में अल्सर के तौर पर विकसित हो सकता है। यह सेल्युलाइटिस इंफेक्शन के लिए एक उच्च जोखिम से भी जुड़ा है, जिसमें इंफेक्शन एक हिस्से के नीचे के ऊतकों में फैल जाता है। इस चरण में किसी व्यक्ति की मौत भी हो सकती है, जिसे स्वस्थ तरीके से बनने वाली नई कोशिकाओं से उचित पोषण लेकर ठीक नहीं किया जा सकता है।

गुर्दे की जटिलताएं

टाइप 2 डायबिटीज वाले लोग समय के साथ पुरानी गुर्दे की बीमारी (क्रोनिक किडनी डिजीज) के विकास के मुकाबले गुर्दे की जटिलताएं होने की ज़्यादा संभावना रखते हैं। यह फास्फोरस को ठीक से मेटाबोलाइज़ करने की क्षमता खोने से शुरू होती हैं। दैनिक आधार पर हमारे द्वारा खाए जाने वाले भोजन से मिलने कैल्शियम की कमी से हड्डियां बहुत कमज़ोर हो जाती हैं और टूटने लगती हैं। जबकि घर या काम पर सामान्य गतिविधियों के दौरान आपको घूमते समय जोड़ों में अकड़न महसूस होती है। दोनों स्थितियां खराब होकर गंभीर बीमारी पैदा कर सकती हैं, क्योंकि गुर्दे रक्त को ठीक से फिल्टर नहीं कर पाते हैं।

कीटोन

कीटोन

रक्त में उच्च ग्लूकोज का स्तर डायबिटिक कोमा की स्थिति से जुड़ा होता है। माना जाता है कि व्यायाम के दौरान ज़्यादा थकान का अनुभव करने से इंसुलिन प्रतिरोध होता है, जिससे शरीर द्वारा कीटोन का उत्पादन बिगड़ जाता है। यह स्थिति मांसपेशियों की कोशिकाओं के लिए पर्याप्त एटीपी यानी ऊर्जा अणुओं का उत्पादन करने के लिए ज़रूरी ऊर्जा की कमी से होता है। यह स्थिति तब होती है, जब वह मांसपेशियों की गति की वजह से सिकुड़ते और फैलते हैं। अगर आपने संवेदना या तंत्रिका क्षति कम हो गई है, तो दोनों स्थितियां खराब हो जा सकती हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि आपका शरीर अपनी प्रतिक्रिया को ठीक से नियंत्रित नहीं कर सकता है। अगर आप कार्बोहाइड्रेट सेवन पर ध्यान दें, तो पेशाब के ज़रिए उत्सर्जन के बीच असंतुलन का पता लगाया जा सकता है।

डायबिटिक केटोएसिडोसिस (डीकेए)

आमतौर पर डायबिटिक केटोएसिडोसिस की स्थिति ज़्यादा प्यास लगने और बार-बार पेशाब आने की वजह बनती है। यह अक्सर बिना डायबिटीज वाले उन लोगों को प्रभावित करती है, जो इन लक्षणों को महसूस करते हैं। उच्च रक्त शर्करा (हाइपरग्लाइसीमिया) के कारण आपको बार-बार पेशाब आने की समस्या होती है और आपके शरीर में पानी की कमी हो जाती है। डायबिटिक केटोएसिडोसिस से व्यक्ति डिहाइड्रेट हो जाता है, जिससे मांसपेशियों में कमजोरी, थकान के साथ आपका वजन कम हो जाता है। इससे मतली या उल्टी भी हो सकती है, जो डिहाइड्रेशन का अन्य प्रमुख कारण है। ऐसे में समय रहते समस्या का इलाज किया जाना बेहद ज़रूरी है, क्योंकि अनुपचारित रहने पर डायबिटिक केटोएसिडोसिस की बीमारी ज़्यादा गंभीर हो सकती है।

डायबिटिक मैक्यूलर एडिमा

डायबिटिक मैक्यूलर एडिमा जैसी दृष्टि समस्याएं आमतौर पर आपके ऑप्टोमेट्रिस्ट द्वारा नुकसान के संकेतों के लिए रेटिना की रक्त वाहिकाओं की जांच करने से शुरू होती हैं। यह तब होता है, जब उच्च ग्लूकोज का स्तर आपके लिए ऑक्सीडेटिव तनाव का कारण बनता है। यह कोशिकाओं को आंख के पीछे रेटिना के अंदर कोशिकाओं को लाइन करने की वजह बनता है और उनके बीच द्रव के साथ रेटिना सूज जाती है। आखिर में यह समस्या धुंधली दृष्टि का कारण बनती है और अगर स्थिति को अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो इससे अंधापन भी हो सकता है। हालांकि, उपचार में अक्सर हर महीने एक बार प्रभावित आंखों में इंजेक्शन के साथ लेजर सर्जरी शामिल होती है। ऐसा तब तक किया जाता है, जब तक सूजन दूर नहीं हो जाती है और केंद्रीय दृष्टि में सुधार और बहाल नहीं हो जाता है।

डायबिटीज की जटिलताओं से बचाव – Diabetic Complications Se Bachav

डायबिटीज की जटिलताओं से बचाव

डायबिटीज के कारण होने वाली जटिलताएं बहुत गंभीर हैं और इन्हीं में से कुछ जीवन के लिए बेहद खतरा हैं। ऐसे में यह ज़रूरी है कि आप नियमित रूप से अपने डॉक्टर से मिलकर परामर्श लें। ऐसा इसलिए है, क्योंकि वह आपकी स्थिति की निगरानी करके इन संभावित डायबिटीज की जटिलताओं के लक्षणों का पता लगा सकते हैं। अगर आपको ऊपर बताए गए लक्षणों में से कोई भी दिखाई दे, तो तुरंत डॉक्टरों से संपर्क करना सुनिश्चित करें।

नीचे दिए कुछ तरीकों की मदद से आप डायबिटीज से जुड़ी जटिलताओं को रोक या कम सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • आप अपनी रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रित करके और धूम्रपान से परहेज़ करके डायबिटिक रेटिनोपैथी को रोक सकते हैं।
  • अगर आप पेरिफेरल न्यूरोपैथी से बचना चाहते हैं, तो नियमित रूप से व्यायाम और उचित आहार के साथ स्वस्थ वजन को नियंत्रित रखना सुनिश्चित करें।
  • इसके अलावा आप अपने रक्त प्रवाह में ग्लूकोज की मात्रा को नियंत्रित करके दृष्टि को धुंधला या अस्पष्ट होने से भी रोक सकते हैं।
  • आपको अपने डॉक्टर के कार्यालय में कम कार्बोहाइड्रेट वाले आहार की पूरी जानकारी लेनी चाहिए। साथ ही आपको नियमित जांच भी करानी चाहिए, जिससे इस स्थिति को बिगड़ने के संकेतों को मॉनिटर करने में मदद मिल सकती है।
  • हर रात 7 से 8 घंटे की अच्छी नींद लें और तनाव को कम करने के लिए उचित उपाय अपनाएं। इससे आपका शरीर कम कोर्टिसोल छोड़ता है, जो इन लक्षणों को ज़्यादा खराब करने का प्रमुख कारण है।
  • रोजाना ढेर सारी सब्जियों और फलों को अपने आहार में शामिल करें। इसके अलावा आपको तला हुआ चिकन और पनीर आदि जैसे वसायुक्त खाद्य पदार्थों से दूर रहने की सलाह दी जाती है। आपको सोडा या अन्य चीनी वाले पेय के बजाय ज़्यादा से ज़्यादा पानी पीना चाहिए। साथ ही आपको भरपूर व्यायाम भी करना चाहिए।

निष्कर्ष – Nishkarsh

डायबिटीज जैसी बीमारी किसी व्यक्ति के शरीर में कई तरह की जटिलताएं पैदा कर सकती है। आमतौर पर इसकी लगातार निगरानी और देखभाल की ज़रूरत होती है। डायबिटीज वाले लोगों, उनके परिवारों, दोस्तों और देखभाल करने वालों के लिए इसके संभावित जोखिम को समझना ज़रूरी है। इससे गंभीर जटिलताओं से बचने या इसकी रोकथाम में मदद मिलती है। आप जितना ज़्यादा डायबिटीज से होने वाले खतरे या उपचार के बारे में जानते हैं, उतना ही आप इसे बेहतर तरीके से नियंत्रित कर सकते हैं। हालांकि, इसके लिए ज़रूरी है कि आप समय रहते उपचार प्रक्रिया की मदद लें, क्योंकि देर से उपचार या अनुपचारित डायबिटीज कई गंभीर स्वास्थय स्थितियां पैदा कर सकती हैं।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free