सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा स्तर: लक्षण और कारण – Subah Ke Samay High Blood Sugar Levels: Lakshan Aur Karan

सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा स्तर

सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा स्तर – Subah Ke Samay High Blood Sugar Level

बहुत से लोग सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा स्तर का अनुभव करते हैं, जो आमतौर पर बड़ी परेशानी का कारण बन सकता है। हालांकि, इसे प्रबंधित करने के कुछ आसान तरीके हैं। इन तरीकों की मदद उच्च रक्त शर्करा का स्तर आपके दैनिक कामों में रुकावट नहीं बनता है। इसमें पहला कदम आपके द्वारा खाए जा रहे दैनिक भोजन की जांच करना है। साथ ही सुनिश्चित करें कि आप सोने से पहले ज़्यादा मात्रा में कार्बोहाइड्रेट का सेवन नहीं कर रहे हैं। स्वस्थ कार्ब्स खाने में कुछ गलत नहीं है, लेकिन बहुत से लोगों को रात में बहुत ज़्यादा खाने से सोने में परेशानी होती है। इसका मतलब है कि सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा स्तर होगा।

लक्षण – Lakshan

Symptoms of High Blood Sugar Levels in Morning

अक्सर सुबह के समय किसी व्यक्ति के शरीर में रक्त शर्करा स्तर थोड़ा बढ़ा हुआ होता है, लेकिन डायबिटीज वाले कुछ लोगों में यह स्तर काफी ज़्यादा होता है। आपको बता दें कि डायबिटीज के लक्षण लंबे समय तक बने रहते हैं और कार्बोहाइड्रेट के कारण रक्त शर्करा असंतुलन से लक्षण ज़्यादा हो सकते हैं। समय बीतने के साथ डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति के ब्लड शुगर लेवल में उछाल होता है, जिससे यह लक्षण ज़्यादा खराब हो सकते हैं।

स्वस्थ रक्त शर्करा स्तर को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायबिटीज एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिजीज नीचे दिए गए स्तर के अनुसार परिभाषित किया गया है:

  • खाने से ठीक पहले और खाने के 2 घंटे बाद 80 से 130 मिलीग्राम/डीएल और भोजन के 2 घंटे बाद 180 मिलीग्राम/डीएल से कम।
  • अगर किसी व्यक्ति में रक्त शर्करा का स्तर 70 मिलीग्राम/डीएल से कम है, तो वह निम्न रक्त शर्करा यानी हाइपोग्लाइसीमिया से पीड़ित है। उच्च रक्त शर्करा के स्तर को 180 मिलीग्राम/डीएल से ज़्यादा के रूप में परिभाषित किया गया है।

सुबह की घटना (डॉन फेनोमिनन), सोमोगी प्रभाव और इंसुलिन का घटना सुबह में बढ़े हुए रक्त शर्करा के तीन प्रमुख कारण हैं। लेख में इन्हीं बातों से जुड़ी जानकारी देने की कोशिश की गई है, जिससे आप यह जान सकेंगे कि किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए उनका क्या मतलब हो सकता है और आपको डॉक्टर के पास कब जाना है।

कारण – Karan 

ज़्यादातर सुबह के समय आपके शरीर के प्राकृतिक हार्मोनल बदलाव रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाते हैं। ऐसा आमतौर पर डायबिटीज से पीड़ित या बिना डायबिटीज वाले व्यक्ति में भी देखा जाता है। इस स्थिति में आपका शरीर संतुलन के लिए ज़्यादा इंसुलिन का उत्पादन करता है। हालांकि, डायबिटीज वाले लोगों में चीजें थोड़ी ज़्यादा जटिल हो सकती हैं, फिर चाहे आप पौष्टिक आहार का पालन ही क्यों न करें। ठीक तरीके से इंसुलिन की उचित मात्रा नहीं लेना खाली पेट रक्त शर्करा स्तर का स्तर बढ़ने का अन्य प्रमुख कारण हो सकता है।

शुगर का बढ़ना आपके शरीर में यह सुनिश्चित करने की विधि है कि सुबह उठने के बाद आपके पास दिन शुरू करने की ऊर्जा है। डायबिटीज से पीड़ित लोगों का शरीर इन हार्मोनों में बदलाव करने के लिए पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है। यह नाजुक संतुलन में रूकावट पैदा करता है, जिसे बनाए रखने के लिए आप इतनी मेहनत करते हैं। यह सुबह के समय आपके उच्च रक्त शर्करा स्तर का कारण बनता है।

सुबह की घटना (डॉन फेनोमिनन) – Dawn Phenomenon

What is the Dawn Phenomenon 

सुबह की घटना या डॉन फेनोमिनन को ‘डॉन इफेक्ट’ के नाम से भी जाना जाता है, जो डायबिटीज के मरीजों पर एक प्रभाव है। हम सभी दिन भर में कई तरह के हार्मोनल बदलावों से गुजरते हैं और यह स्थिति डायबिटीज के मरीजों में काफी समान है। इसमें हमारा शरीर कुछ ऐसे हार्मोन रिलीज करता है, जो ब्लड शुगर को बढ़ाने में योगदान करते हैं। डॉक्टरों के अनुसार, इंसुलिन की कमी की वजह से इसे नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।

यह रक्त शर्करा में एक प्राकृतिक बढ़ोतरी हो सकती है और आमतौर पर यह सुबह के शुरुआती घंटों में होती है। रक्त शर्करा के स्तर में यह बदलाव शरीर के अंदर हार्मोन में होने वाले बदलावों के कारण होता है। हम सभी कुछ हद तक सुबह की घटना को महसूस करते हैं, लेकिन ज्यादातर लोग इसे नोटिस नहीं करते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि उनकी इंसुलिन प्रतिक्रिया स्वाभाविक रूप से ज़रूरी समायोजन करती है और डायबिटीज वाले व्यक्ति में ऐसा नहीं हो सकता है।

डायबिटीज वाले व्यक्ति को रक्त शर्करा के स्तर में ज़्यादा बढ़ोतरी और इससे होने वाले लक्षणों का अहसास होने की ज़्यादा संभावना है। उच्च रक्त शर्करा का स्तर डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए एक सामान्य अनुभव है और खासतौर से टाइप 1 डायबिटीज वाले मरीजों के लिए यह ज़्यादा आम है। लेख की मदद से आप उच्च रक्त शर्करा का कारणों के बारे में जानेंगे। साथ ही आप जान पाएंगे कि कभी-कभी रात के दौरान या सुबह बहुत रक्त शर्करा का स्तर उच्च क्यों होता है।

उच्च रक्त शर्करा स्तर के कारण

बिना डायबिटीज वाले लोगों में सुबह के समय उच्च ग्लूकोज स्तर आमतौर पर उच्च कार्बोहाइड्रेट सेवन यानी ज़्यादा खाना खाने का नतीजा होता है। ऐसा अक्सर इसलिए होता है, क्योंकि वह शाम को सामान्य से ज़्यादा खाना खा लेते हैं। कई बार यह शराब पीने और खाना पचाते समय ज्यादा नहीं हिलने-डुलने से होता है। नींद के दौरान उच्च रक्त शर्करा आमतौर पर उच्च कार्बोहाइड्रेट वाले भोजन का नतीजा होता है, जिसे डॉन फेनोमिनन भी कहते हैं।

डायबिटीज वाले लोगों में रक्त शर्करा का स्तर उच्च होता है, क्योंकि उनके शरीर पर्याप्त इंसुलिन नहीं बनाते हैं। कई बार उनका शरीर ग्लूकोज को रक्त प्रवाह से कोशिकाओं में भेजने के लिए प्रभावी ढंग से इसकी क्रिया का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं, जहां इसे ऊर्जा की ज़रूरत होती है। उच्च कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थ खाने से बिना डायबिटीज वाले लोग उच्च रक्त शर्करा प्राप्त कर सकते हैं। बिना डायबिटीज वाले लोगों में ज़्यादा मात्रा में शराब का सेवन करना इसका अन्य प्रमुख कारण हो सकता है। आमतौर पर भोजन के बाद कुछ घंटों तक उच्च रक्त शर्करा का स्तर रहता है और कुछ घंटों बाद यह सामान्य हो जाता है, क्योंकि इंसुलिन रक्तप्रवाह से ग्लूकोज को उन कोशिकाओं में ले जाता है, जहां ऊर्जा के लिए इसकी ज़रूरत होती है।

सुबह की घटना (डॉन फेनोमिनन) और सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा स्तर

टाइप 1 डायबिटीज वाले लोगों के शरीर कोई इंसुलिन नहीं बनाते हैं। इसका मतलब है कि वह उच्च कार्बोहाइड्रेट सेवन के बाद उच्च रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं। जबकि, टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों के शरीर में इंसुलिन का उत्पादन होता है, लेकिन उनका शरीर इसके प्रति अच्छी प्रतिक्रिया नहीं देता है। इसलिए, सुबह या शाम के समय ज़्यादा खाने और शराब के सेवन के कारण सुबह के समय उच्च ग्लूकोज आम है।

सुबह जागने पर रक्त शर्करा का उच्च स्तर बिना डायबिटीज वाले उन लोगों के लिए निराशाजनक हो सकता है, लेकिन डायबिटीज वाले लोगों में यह बहुत आम है। अगर आप जागते समय उच्च ग्लूकोज का स्तर रखते हैं, तो परेशान होने की कोई ज़रूरत नहीं है, क्योंकि आपका शरीर कुछ ही घंटों में सामान्य हो जाता है। शाम के समय या सोने से पहले उच्च कार्बोहाइड्रेट का सेवन करने से इसमें मदद मिल सकती है।

सुबह की घटना (डॉन फेनोमिनन) में क्या होता है?

नींद के दौरान शरीर को आमतौर पर ज़्यादा इंसुलिन की ज़रूरत नहीं होती है और यह इंसुलिन हार्मोन को कम करता है। अगले दिन शरीर ऊर्जा के स्रोत के रूप में सुबह-सुबह जमा ग्लूकोज या चीनी को छोड़ना शुरू कर देता है। इस दौरान शरीर ग्लूकागन नाम के एक अन्य हार्मोन का उत्पादन करता है, जिससे रक्त शर्करा के स्तर में फालतू बढ़ोतरी हो सकती है। यह कोर्टिसोल भी उत्पन्न करता है, जो एक तनाव हार्मोन है और इंसुलिन की तरह ही काम करता है। यह तब होता है, जब रात में इंसुलिन का स्तर कम होने लगता है। इंसुलिन बढ़ने से ग्लूकागन और कोर्टिसोल लेवल में कमी आती है, जिससे सुबह के समय रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है।

रक्त शर्करा का स्तर आमतौर पर 70 से 120 मिलीग्राम/डीएल होता है, जो सामान्य सीमा यानी 60 से 110 मिलीग्राम/डीएल की तुलना में थोड़ा ज़्यादा है। इस बदलाव के कारण बिना डायबिटीज वाले लोगों में इंसुलिन का उत्पादन बढ़ जाता है। हालांकि, डायबिटीज आपके शरीर को ऐसा करने से रोकता है, इसलिए अन्य लोग ज़्यादा इंसुलिन उत्पादन नहीं करते हैं। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के अनुसार, डॉन फेनोमिनन सुबह 5 बजे से 8 बजे के बीच होती है। इसके अलावा, प्री-डायबिटीज से पीड़ित लोग भी सुबह के समय होने वाली इस स्थिति से पीड़ित हो सकते हैं।

सोमोगी प्रभाव – Somogyi Effect 

Somoyogi Effect 

अगर सुबह के दौरान आपका ब्लड शुगर लेवल हाई है, तो चिंता की कोई बात नहीं है। आमतौर पर डॉक्टर इसे सोमोगी प्रभाव कहते हैं, जो सबके साथ होता है। सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा स्तर की घटना सोमोगी प्रभाव है। यह तब होत है जब डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति इंसुलिन लेता है, लेकिन नियमित रूप से शाम का भोजन नहीं करता है। रात के दौरान उनका शरीर निम्न रक्त शर्करा के प्रति प्रतिक्रिया करता है और हार्मोन स्रावित करता है। यह उनके रक्त शर्करा के स्तर को फिर से बढ़ा देता है, जिससे उच्च रक्त शर्करा स्तर की समस्या हो सकती है।

अगर रक्त शर्करा का स्तर सुबह के घंटों में बहुत कम हो जाता है, तो ग्रोथ, कोर्टिसोल और कैटेकोलामाइन जैसे हार्मोन जारी होते हैं। यह निम्न रक्त शर्करा के स्तर की समस्या को बढ़ाने में मदद करता है, लेकिन इसका नतीजा सुबह के समय सामान्य रक्त शर्करा स्तर से ज़्यादा हो सकता है। सोमोगी प्रभाव इसका एक उदाहरण है यानी डायबिटीज से पीड़ित लोगों द्वारा इंसुलिन लेने और नियमित रूप से शाम का भोजन नहीं करने से रात के समय व्यक्ति का ब्लड शुगर लेवल कम हो जाता है। ऐसे में शरीर रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाने वाले हार्मोन स्रावित करके निम्न रक्त शर्करा के प्रति प्रतिक्रिया करता है, जिससे सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा का स्तर हो सकता है।

डॉन फेनोमिनन और सोमोगी प्रभाव में अंतर

शरीर में इंसुलिन की मात्रा ज़्यादा होने पर भी सोमोगी प्रभाव हो सकता है। ऐसे में सोते समय लगभग 2 बजे से 3 बजे तक और अपने सामान्य जागने के समय पर कई रातों तक रक्त शर्करा स्तर की जांच करें। इससे यह निर्धारित किया जा सकता है कि सुबह की उच्च रक्त शर्करा का स्तर डॉन फेनोमिनन या सोमोगी घटना के कारण हैं।

  • अगर आपका रक्त शर्करा स्तर 2 से 3 बजे तक सामान्य से नीचे गिर जाता है, तो यह सोमोगी प्रभाव हो सकता है।
  • अगर रक्त शर्करा का स्तर ठीक है या सुबह 2 से 3 बजे तक बढ़ा हुआ है, तो सुबह की घटना यानी डॉन फेनोमिनन की संभावना ज़्यादा है।

सोमोगी प्रभाव का नाम पीएचडी के रसायनज्ञ माइकल सोमोगी के नाम पर रखा गया है, जो 1930 के दशक में इसका वर्णन करने वाले पहले व्यक्ति थे। 2011 के एक अध्ययन के अनुसार, डॉन फेनोमिनन, सोमोगी प्रभाव की तुलना में ज़्यादा सामान्य है। ऐसा इसलिये है, क्योंकि डॉन फेनोमिनन नेचुरल है, जबकि सोमोगी प्रभाव आमतौर पर खराब डायबिटीज प्रबंधन की वजह से होता है।

इंसुलिन का घटना – Insulin Ka Ghatna 

Waning Insulin

आमतौर पर सुबह के समय हाई ब्लड शुगर रीडिंग का तीसरा सबसे प्रमुख कारण इंसुलिन की मात्रा में गिरावट है। इसका मतलब है कि आपका इंसुलिन लेवल कम हो रहा है और यह आपके ब्लड शुगर को नियंत्रित नहीं रख रहा है। यही कारण है कि सुबह जागने के समय आपका रक्त शर्करा स्तर उच्च होता है, जो कई बार डायबिटीज का संकेत हो सकता है। यह कम इंसुलिन और उच्च ग्लूकागन के साथ जुड़े हुए हैं। यह हार्मोन लीवर द्वारा स्रावित होता है, जब उसे लगने लगता है कि भोजन के ज़रिए आपके शरीर में कोई ग्लूकोज या पोषण नहीं आ रहा है। अगर आपका इंसुलिन स्तर रातों-रात बहुत कम हो जाता है, तो आपका ब्लड शुगर बढ़ सकता है।

इंसुलिन में कमी से हर व्यक्ति में इसके अलग-अलग लक्षण होते हैं, लेकिन यह अक्सर आपके इंसुलिन पंप पर गलत सेटिंग या अपर्याप्त लंबे समय तक काम करने वाली (बेसल) खुराक के कारण होता है। इंसुलिन और आपके शरीर में दवा के सक्रिय रहने की अवधि आमतौर पर 12 से 18 घंटे के बीच होती है। कई लोग रात के बजाय सुबह में लंबे समय तक काम करने वाले इंसुलिन का इंजेक्शन लगाते हैं। इससे उच्च गतिविधि स्तरों से दोपहर या शाम के दौरान आपका रक्त शर्करा बहुत कम हो सकता है। आपकी बेसल खुराक आमतौर पर तब कम होती है, जब आप अपने शरीर पर बीमारी से संबंधित तनाव की वजह से उच्च रक्त शर्करा को रोकने के लिए बीमार होते हैं, जिससे लड़ने के लिए ग्लूकोज की ज़रूरत होती है।

परीक्षण – Parikshan

डॉक्टर किसी व्यक्ति को लगातार कई रातों तक निरंतर ग्लूकोज मॉनिटर या सीजीएम पहनने के लिए कहते हैं। अगर उनके पास सीजीएम मशीन नहीं है, तो डॉक्टरों द्वारा उन्हें रात भर विशेष अंतराल पर अपने रक्त शर्करा के स्तर की जांच करने के लिए कहा जा सकता है। आपको बता दें कि खरीद के लिए घरेलू ग्लूकोज परीक्षण किट ऑनलाइन उपलब्ध हैं।

सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा स्तर के कुछ अन्य कारण इस प्रकार हैं-

आहार

यह याद रखना ज़रूरी है कि रात में आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन का सुबह के समय आपके रक्त शर्करा स्तर पर प्रभाव पड़ता है। सोने से पहले उच्च कार्ब वाले व्यंजन खाने या मिठाई पर नाश्ता करने से सुबह रक्त शर्करा का स्तर बढ़ सकता है। आपको सफेद ब्रेड और सफेद पास्ता जैसे भोजन से परहेज़ करने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इनमें मौजूद कार्ब्स आपके रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाते हैं। अगर आप सोने से पहले कुछ खाना चाहते हैं, तो प्रोटीन या स्वस्थ वसा जैसे छोटे सेब और एक चम्मच नेचुरल पीनट बटर के साथ उच्च फाइबर वाले भोजन का सेवन करें। इससे आपको सोते समय अपने रक्त शर्करा को स्थिर रखने में मदद मिल सकती है।

दवाएं

Medications 

अगर आपके डॉक्टर ने रक्त शर्करा की दवा निर्धारित की है, तो सुनिश्चित करें कि आप खुराक और समय के निर्देशों का पालन कर रहे हैं । गलत खुराक लेने या गलत समय पर दवाओं का सेवन करने से ब्लड शुगर में उतार-चढ़ाव हो सकता है, जिसकी वजह से सुबह उच्च रक्त शर्करा का स्तर होता है।

जीवन शैली

प्रीडायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में रक्त शर्करा नियंत्रण में सुधार करने के कुछ सबसे प्रभावी तरीके हैं, जैसे व्यायाम और वजन कम करना। ज़रूरत पड़ने पर आप खाने के बाद टहलने के लिए जा सकते हैं, क्योंकि इससे रक्त शर्करा के स्तर में काफी कमी आती है। इसके अलावा कई तरीकों की मदद से आप रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रित रख सकते हैं। शोध से पता चलता है कि प्रीडायबिटीज या डायबिटीज वाले व्यक्तियों का अपने समग्र रक्त शर्करा नियंत्रण को बढ़ाना और सुबह में उच्च रक्त शर्करा के स्तर को विकसित करने की संभावना को कम करना आसान है। इसमें आपको भोजन के बाद सही भोजन खाने, दवाओं को निर्देशों के अनुसार लेने, वजन कम करने और व्यायाम करने से मदद मिल सकती है।

उपचार – Upchar

सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा का स्तर किसी व्यक्ति के लिए ज़्यादा परेशानी का नहीं बनता है। हालांकि, अगर उच्च रक्त शर्करा एक बार-बार होने वाली समस्या है या आप उच्च रीडिंग के लक्षण देखते हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें। आपके लिए यह जानना बहुत ज़रूरी है कि पूरे दिन उच्च रक्त शर्करा के कारण क्या हो सकते हैं। सुबह के समय उच्च ग्लूकोज स्तर के इलाज का सबसे अच्छा तरीका इंसुलिन की खुराक और समय को बदलना है, जिसे उचित तरीके से लिए जाना ज़रूरी है।

इंसुलिन रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने के लिए सबसे बेहतर तरीका है, लेकिन इसके लिए हर मरीज की चिकित्सा योजना अलग होती है। नियमित अंतराल पर ज़रूरी खुराक के लिए मरीज इंसुलिन पंप इस्तेमाल कर सकते हैं।

हाल के एक अध्ययन के अनुसार, इन स्वास्थ्य संबंधी व्यवहारों को अपनाने से भी मदद मिल सकती है:

  • शाम के समय व्यायाम करने से इंसुलिन संवेदनशीलता बढ़ती है, इसलिए शाम के भोजन में प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट का अनुपात बढ़ाएं।
  • सोमोगी प्रभाव का इलाज करने के लिए इनमें से कुछ तकनीकों का इस्तेमाल करके डॉक्टर ग्लूकोज स्तर में बदलाव के आधार पर एक अलग खुराक और समय-सारणी लिख सकते हैं। डॉक्टर को सतत ग्लूकोज मॉनिटर (सीजीएम) के इस्तेमाल से काफी मदद मिल सकती है।

जटिलताएं – Jatiltayein

अगर सुबह के समय आपके रक्त शर्करा का स्तर असामान्य रूप से उच्च रहता है, तो आपको किसी चिकित्सकीय पेशेवर से मिलना चाहिए। वह आपको बेहतर तरीके से बता सकते हैं कि इन स्तरों को कैसे दूर रखा जाए। अगर किसी व्यक्ति को उचित इलाज नहीं मिलता है, तो डॉन फेनोमिनन से उनके उच्च रक्त शर्करा स्तर का जोखिम बढ़ सकता है।

मंत्रा केयर – Mantra Care

कई कारक सुबह के समय उच्च रक्त शर्करा स्तर का कारण बनते हैं। हालांकि, यह सुनिश्चित करके इन समस्याओं से बचना काफी आसान है कि आपके आहार में दिन भर में भरपूर मात्रा में फाइबर और प्रोटीन शामिल है। इससे रात को सोने से पहले सिर्फ ज्यादा खाना खाने के बजाय आपके शरीर में ग्लूकोज की आपूर्ति स्थिर रहती है। अगर आप डायबिटीज या प्री-डायबिटीज से पीड़ित हैं, तो इन स्थितियों के बेहतर प्रबंधन के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free