कीटोसिस: लक्षण, प्रभाव और सावधानी – Ketosis: Lakshan, Prabhav Aur Savdhani

Ketosis Symptoms

कीटोसिस क्या है? Ketosis Kya Hai?

कीटोसिस शरीर की एक प्राकृतिक प्रक्रिया है, जिसमें वसा का इस्तेमाल कार्ब्स के लिए नहीं किया जाता, बल्कि ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए किया जाता है। इस शारीरिक स्थिति में कीटोन्स का उत्पादन होता है, जो शरीर में भोजन की कम मात्रा होने पर मनुष्य के जीवित रखने में मदद करता है।

कीटोसिस में क्या होता है? 

जब शरीर में ऊर्जा के इस्तेमाल करने के लिए पर्याप्त कार्बोहाइड्रेट नहीं होता है, तो यह किटोसिस में प्रवेश करता है। कीटोन्स की इस उपस्थिति को कीटोसिस कहते हैं, जिससे किसी भी तरह का खतर नहीं है। कई स्थितियों में आपके शरीर में कीटोसिस में हो सकते हैं, फिर चाहे आप कम कार्बोहाइड्रेट वाला भोजन करें, उपवास करें या आपने बहुत ज़्यादा शराब का सेवन किया हो। जब आप कीटोसिस की अवस्था में होते हैं, तो आपके रक्त या मूत्र में सामान्य से ज़्यादा कीटोन होते हैं, लेकिन यह एसिडोसिस उत्पन्न करने के लिए पर्याप्त नहीं होते हैं। इस प्रकार की अवस्था में यह कीटोन्स उत्पन्न करने के लिए फैट को जलाता है, जिसे वह ऊर्जा के स्रोत के रूप में इस्तेमाल कर सकता है। कार्ब्स से चीनी या ग्लूकोज को तोड़ने के बजाय, शरीर कीटोन बॉडी को तोड़ सकता है, जो शरीर में ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए फैट से लीवर द्वारा बनाए गए ईंधन का एक रूप है।

कीटोसिस एक शारीरिक स्थिति है, जिसमें रक्त में कीटोन्स का हाई लेवल होता है। जब फैट शरीर के लिए ऊर्जा का प्राथमिक स्रोत होता है और ग्लूकोज की कमी होती है, तो यह कीटोन बॉडी बनने की प्रक्रिया होती है। शरीर में कई कोशिकाएं ग्लूकोज को ईंधन की आपूर्ति करती हैं। कीटोसिस को अक्सर कीटोजेनिक और बेहद कम कार्बोहाइड्रेट आहार से जोड़ा जाता है जो स्तनपान, बचपन, उपवास या भुखमरी के दौरान भी हो सकता है।

कम कार्ब आहार खाने से आपके इंसुलिन का लेवल कम हो जाता है और आप अपने शरीर में जमा फैट से बहुत सारे फैटी एसिड छोड़ते हैं। इनमें से कई फैटी एसिड लीवर में स्थानांतरित होकर ऑक्सीकृत हो जाते हैं, जिसकी वजह से कीटोन्स या कीटोन बॉडी का निर्माण होता है। इन मॉलिक्यूल्स में शरीर को ऊर्जा प्रदान करने की क्षमता होती है। यह कीटोन निकायों में रक्त-मस्तिष्क की बाधा को पार करने और ग्लूकोज नहीं होने की स्थिति में मस्तिष्क को एनर्जी मॉलिक्यूल्स प्रदान करते हैं।

Ketogenic diet

ग्लुकोनियोजेनेसिस

इसमें कोई शक नहीं है कि मस्तिष्क की कुछ कोशिकाएं सिर्फ ग्लूकोज पर काम करती हैं। हालांकि, आपके भूखे होने या भोजन में कार्बोहाइड्रेट की कमी होने पर मस्तिष्क का एक बड़ा हिस्सा कुछ परिस्थितियों में ऊर्जा के लिए कीटोन्स का इस्तेमाल भी करता है। वास्तव में सिर्फ तीन दिनों तक भूखे रहने बाद कीटोन्स मस्तिष्क को 25 प्रतिशत संसाधन प्रदान करते हैं, जबकि ज़्यादा समय तक भूखे रहने के दौरान यह आंकड़ा लगभग 60 प्रतिशत तक बढ़ जाता है।

इसके अलावा आपका शरीर प्रोटीन या अन्य मॉलिक्यूल्स का इस्तेमाल करके ग्लूकोज उत्पन्न करता है, जिसकी ज़रूरत आपके मस्तिष्क को किटोसिस के दौरान होती है और इस पूरी प्रक्रिया को ग्लूकोनोजेनेसिस कहते हैं। कीटोसिस और ग्लूकोनोजेनेसिस मस्तिष्क की ऊर्जा ज़रूरतों को पूरा करने में मदद करते हैं। जब मस्तिष्क में पर्याप्त ग्लूकोज नहीं होता है, तो कीटोन्स को ऊर्जा के स्रोत के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। शेष ग्लूकोज प्रदान करने के लिए प्रोटीन या ग्लूकोज के अन्य रूपों का इस्तेमाल किया जाता है।

कीटोसिस और कीटोएसिडोसिस में अंतर – Ketosis Aur Ketoacidosis Mein Antar

किटोसिस एक स्वस्थ सामान्य स्थिति है और यह शरीर को ऊर्जा के लिए फैट जलाने की इजाज़त देती है। डायबिटिक कीटोएसिडोसिस (डीकेए) एक संभावित घातक विकार है। कीटोएसिडोसिस टाइप 1 डायबिटीज मेलिटस का एक लक्षण है, जिसे डायबिटिक कीटोएसिडोसिस (डीकेए) भी कहते हैं। यह हाई ब्लड प्रेशर और शरीर में कीटोन के लेवल के कारण होने वाली एक जानलेवा बीमारी है। शरीर में यह मिश्रण रक्त को ज़्यादा अम्लीय बना देता है, जिससे आपके लीवर और गुर्दे जैसे आंतरिक अंग खराब हो जाते हैं। कीटोएसिडोसिस उन लोगों को प्रभावित कर सकता है, जिन्हें डायबिटीज नहीं है और शराब, भुखमरी या अतिसक्रिय थायराइड इसके कारण हैं। ऐसे में ज़रूरी है कि आप समय रहते इस पर ध्यान दें।

कीटोएसिडोसिस

कीटोएसिडोसिस (डीकेए) कम समय यानी कम से कम 24 घंटे में हो सकता है। यह टाइप 1 डायबिटीज वाले उन लोगों में सबसे आम है, जिनके शरीर में इंसुलिन का कम उत्पादन होता है। कीटोएसिडोसिस कई कारकों से हो सकता है जिसमें बीमारी, खराब आहार या इंसुलिन की पर्याप्त खुराक नहीं लेना शामिल है। यह टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों में भी विकसित हो सकता है, जिनमें बहुत कम या कोई इंसुलिन नहीं है। जिन लोगों को अनुचित अग्नाशय का कार्य यानी टाइप 1 डायबिटीज, सिस्टिक फाइब्रोसिस संबंधी डायबिटीज, पैनक्रिएक्टोमी और टाइप 2 की बीमारी है, उनमें कीटोएसिडोसिस विकसित होने का ज़्यादा खतरा होता है। इसके अलावा स्वस्थ कम कार्ब आहार का पालन कर लोगों पर केटोएसिडोसिस का प्रभाव नहीं होता है। कीटोएसिडोसिस के लक्षणों में ज़्यादा प्यास लगना या सूखा गला, बार-बार पेशाब आना, डिहाइड्रेशन, मतली, उल्टी, भ्रम, पेट दर्द, थकान, सांस में दुर्गंध और सांस की कमी शामिल है।

कीटोएसिडोसिस के हल्के लक्षण स्थिति की शुरुआत में देखे जा सकते हैं। अगर आपको दो घंटे में दो या तीन बार से ज़्यादा उल्टी हुई है, तो आपके लिए तत्काल चिकित्सा सहायता लेना बेहद ज़रूरी है। आमतौर पर कीटोएसिडोसिस खराब डायबिटीज के उपचार के कारण होता है। इसके अलावा यह तब हो सकता है, जब डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति इंसुलिन की एक या ज़्यादा खुराक लेने से चूक जाता है या पर्याप्त इंसुलिन का इस्तेमाल नहीं करता है। एक बीमारी या इंफेक्शन साथ ही कुछ दवाएं शरीर को इंसुलिन का ठीक से इस्तेमाल करने से रोक सकती हैं, जिसके कारण कीटोएसिडोसिस हो सकता है। अन्य ट्रिगर कीटोएसिडोसिस का कारण बन सकते हैं, जिसमें तनाव, पदार्थ या शराब का ज़्यादा सेवन, भूखे रहना, गंभीर डिहाइड्रेशन और पुरानी बीमारियां शामिल हैं।

कीटोसिस

अगर आप सक्रिय हैं और उचित मात्रा में संतुलित आहार खाते हैं, तो शरीर निर्धारित करता है कि यह कितना फैट जलता है। इसका कारण कीटोन्स का सामान्य रूप से नहीं बनना या इस्तेमाल नहीं किया जाना है। कैलोरी या कार्बोहाइड्रेट के कम सेवन से आपका शरीर ऊर्जा के लिए कीटोसिस में बदल जाता है। यह लंबे समय तक तेज एक्सरसाइज के बाद या गर्भावस्था के दौरान भी हो सकता है। जब अनियंत्रित डायबिटीज वाले किसी व्यक्ति के शरीर में कीटोन का निर्माण होता है, तो कीटोसिस विषैला हो सकता है। इसके बड़े स्तर डिहाइड्रेशन को प्रेरित करते हैं और रक्त के रासायनिक संतुलन को संशोधित करते हैं। अम्लीय होने पर यह आपको कोमा में डाल सकता है या आपको मार भी सकता है।

कीटोसिस से सांसों में बदबू आ सकती है। एसीटोन कीटोन्स के निम्नीकरण के उप-उत्पादों में से एक है, जो एनर्जी मॉलिक्यूल्स के तौर पर कीटोन्स के इस्तेमाल के बाद जारी होता है। एसीटोन शरीर से मूत्र और सांस के माध्यम से उत्सर्जित होता है। कीटोसिस को कम कार्बोहाइड्रेट वाले आहार से प्रेरित किया जा सकता है, जिसमें कम कार्ब वाला आहार आपको अपने रक्त में कम कार्बोहाइड्रेट लेने की इजाज़त देता है और आपका शरीर शुगर के बजाय ऊर्जा के लिए फैट को जला सकता है।

कीटोसिस के लक्षण – Ketosis Ke Lakshan

जब आप अपनी मर्ज़ी से कीटोजेनिक आहार लेते हैं, तो आपके शरीर में कुछ जैविक अनुकूलन हो सकते हैं, जिनमें इंसुलिन के स्तर का कम उत्पादन और फैट की मात्रा का बढ़ना शामिल है। इससे शरीर पर कुछ अच्छे या बुरे प्रभाव हो सकते हैं, जो किटोसिस के लक्षण के रूप में दिखाई देते हैं।

सांस में दुर्गंध

पूर्ण कीटोसिस में प्रवेश करने वाले लोग अक्सर सांस में दुर्गंध की शिकायत करते हैं। कीटोन का ज़्यादा स्तर इसे ट्रिगर करता है। एसीटोन नाम का कीटोन मूत्र और सांस के ज़रिए शरीर को छोड़ देता है, जो बदबूदार सांस या सांसों की बदबू का प्राथमिक कारण है। हालांकि यह गंध सामाजिक परिस्थितियों के लिए उपयुक्त नहीं है, लेकिन यह आपके आहार का एक अच्छा संकेत हो सकता है। समस्या को ठीक करने के लिए कीटोजेनिक आहार वाले लोग दिन में कई बार अपने दांत ब्रश करते हैं या शुगर-फ्री गम चबाते हैं।

Fruity breath

वजन घटना

सामान्य तौर पर कम कार्ब आहार जैसे कीटोजेनिक आहार वजन घटाने के लिए खासतौर से फायदेमंद होते हैं। इसकी मदद से पहले हफ्ते के दौरान तेजी से वजन घटाया जा सकता है। जबकि कुछ लोग इसे फैट घटाने का तरीका मानकर गलती करते हैं, जिसमें सिर्फ जमा कार्बोहाइड्रेट और पानी का इस्तेमाल करना शामिल है। आहार का पालन करने तक आपके शरीर में कैलोरी की कमी रहती है, लेकिन आप पानी के वजन में शुरुआती कमी के बाद शरीर की चर्बी घटाने की शुरूआत कर सकते हैं।

Weight loss

कीटोन का बढ़ना

कीटोजेनिक आहार ब्लड शुगर लेवल को कम करने और कीटोन्स को स्पाइक करने की इजाज़त देता है। एक खास निगरानी के साथ रक्त कीटोन लेवल को मापना सबसे प्रभावी और सटीक तरीका है, जिससे आप कीटोसिस में होने या नहीं होने का निर्धारण कर सकते हैं। यह आपके कीटोन लेवल को निर्धारित करने के लिए आपके रक्त में बीटा-हाइड्रॉक्सीब्यूटाइरेट (बीएचबी) की मात्रा की गणना करता है, जो रक्त में पाए जाने वाले सबसे आम कीटोन्स में से एक है। कुछ कीटो शोधकर्ताओं के अनुसार पोषण संबंधी कीटोसिस को 0.5 से 3.0 एमएमओएल/एल तक के रक्त को कीटोन्स के नाम से जाना जाता है। यह कीटोसिस में होने या नहीं होने का आंकलन करने का सबसे असरदार तरीका है, जिसमें निगरानी के साथ अपने रक्त कीटोन के स्तर का परीक्षण करना शामिल है।

भूख कम लगना

कीटोजेनिक आहार शुरू करते समय बहुत से लोगों को भूख कम लगने का अहसास होता है। हालांकि, यह देखा गया है कि भूख में कमी उच्च प्रोटीन और सब्जियों के सेवन के साथ-साथ भूख हार्मोन में बदलाव के लिए जिम्मेदार है। कीटोन्स खुद आपके मस्तिष्क पर भूख को दबाने वाले प्रभाव डाल सकते हैं। अगर आपको भरा हुआ अनुभव होता है और पहले की तरह खाने की ज़रूरत नहीं लगती है, तो आप कीटोसिस से प्रभावित हो सकते हैं।

Reduced hunger in ketosis diet

कीटो फ्लू

अक्सर पहली बार बहुत कम कार्ब वाला आहार की शुरुआत के वक्त लोग मस्तिष्क कोहरे, थकान और मतली महसूस करते हैं, जिसे कीटो फ्लू या लो कार्ब फ्लू के नाम से जाना जाता है। जब आप कम कार्ब आहार शुरू करते हैं, तो आपके शरीर को ऊर्जा के लिए कार्बोहाइड्रेट के बजाय फैट के सेवन के लिए एजडस्ट करना पड़ता है। जब आप कीटोसिस में प्रवेश करते हैं, तो मस्तिष्क का एक अहम हिस्सा ग्लूकोज के बजाय कीटोन्स को जलाता है, जिसे पूरी तरह से काम करने में कुछ दिन या हफ्ते लगते हैं। कीटोन्स मस्तिष्क के लिए ऊर्जा का एक गंभीर स्रोत हैं, जिनका इस्तेमाल न्यूरोलॉजिकल बीमारियों और विकारों के इलाज में किया जाता है, जैसे अस्पताल के वातावरण में मस्तिष्क का आघाय या स्मृति हानि (मेमोरी लॉस)। कार्बोहाइड्रेट मैनेजमेंट से ब्लड शुगर में कमी और स्थिरीकरण में भी मदद मिल सकती है। यह आपको ज़्यादा ध्यान केंद्रित करने और मस्तिष्क के काम की क्षमता को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।

कमजोरी

कीटोजेनिक आहार शुरू करने के सबसे कठिन पहलुओं में से एक संक्रमण है। कमजोरी और मतली दो दुष्प्रभाव हैं और ऐसे दुष्प्रभावों को अनदेखा नहीं किया जा सकता है। कार्ब-भारी ईंधन प्रणाली पर दशकों तक काम करने के बाद आपका शरीर एक नई प्रणाली में एडजस्ट होने के लिए मजबूर है। इस संक्रमण के दौरान थकान को कम करने में इलेक्ट्रोलाइट सप्लीमेंट से मदद मिल सकती है। आमतौर पर इलेक्ट्रोलाइट्स जल्द होने वाले डिहाइड्रेशन और रिफाइंड खाद्य पदार्थों को हटाने के कारण खो जाते हैं, जिनमें ज़्यादा नमक हो सकता है। आप पहली बार में थकान और ऊर्जा की कमी का अहसास कर सकते हैं। शरीर वसा और कीटोन पर चलने के लिए अनुकूलित होने पर यह बीत जाता है।

अन्य लक्षण

कीटो आहार की शुरुआत में कब्ज और डायरिया जैसी पाचन की समस्या होती है। इनमें से कुछ समस्याएं समय के साथ दूर हो जाती हैं, लेकिन ऐसे में पेट की समस्या पैदा करने वाले खाद्य पदार्थों पर नज़र रखना एक बेहतर विकल्प हैं। इसके अलावा बहुत सारी कम कार्ब वाली सब्जियां खाएं, जो कार्बोहाइड्रेट में कम और फाइबर में ज्यादा होती हैं। किटोसिस के शुरुआती विशिष्ट लक्षण खराब नींद और अनिद्रा हैं, जो कुछ हफ्तों के अंदर सामान्य रूप से बदल जाते हैं।

कीटोसिस के प्रभाव – Ketosis Ke Prabhav

कीटोसिस का व्यक्ति के स्वास्थ्य पर अच्छा या बुरा प्रभाव पड़ सकता है, जो इस प्रकार हैः

मिर्गी

मिर्गी एक न्यूरोलॉजिकल स्थिति है, जो आवर्तक दौरे से चिह्नित होती है। कीटोजेनिक आहार उन मरीजों में मिर्गी के इलाज के तौर पर विकसित किया गया था, जिन पर दवा का कोई प्रभाव नहीं हो रहा था। यह ज्यादातर शिशुओं में इस्तेमाल किया गया है, जिसके शोध से इसके फायदेमंद होने का संकेत मिलता है। कीटोजेनिक आहार का पालन करने वाले मिर्गी से पीड़ित कई बच्चों में दौरे काफी कम देखे गए और अन्य भी पूरी तरह से ठीक हो गए हैं।

वजन कम होना

कीटोजेनिक आहार वजन घटाने का एक सामान्य तरीका है और अध्ययन भी इसके असरदार होने की पुष्टि करते हैं। कुछ परीक्षणों में कम फैट वाले आहार की तुलना में वजन घटाने के लिए कीटोजेनिक आहार ज़्यादा असरदार देखा गया है। इसके अलावा कीटोजेनिक आहार का पालन करने वाले लोग कम भूख और ज़्यादा संतुष्टि महसूस करते हैं, जो कीटोसिस की वजह से होता है। इससे आहार पर कैलोरी की गिनती सामान्य रूप से ज़रूरी नहीं है। हालांकि, लंबे समय तक मिलने वाले परिणामों के लिए आहार का पालन करना बेहद ज़रूरी है। कुछ लोगों को कीटोजेनिक आहार की शुरुआत करना आसान लग सकता है, जबकि अन्य लोगों को इसे मैनेज करने में परेशानी हो सकती है।

weight loss in ketosis

दिल की बीमारी

पुराने अध्ययनों की मानें, तो कीटोसिस लेने के लिए कम कार्बोहाइड्रेट का सेवन ब्लड ट्राइग्लिसराइड्स, टोटल कोलेस्ट्रॉल और एचडीएल कोलेस्ट्रॉल सहित दिल की बीमारी के जोखिम कारकों को बढ़ा सकता है। दूसरी तरफ बहुत कम कार्ब आहार वाले लोग साबुत अनाज और दालों जैसे हृदय को स्वस्थ रखने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं। आहार से इंसुलिन संवेदनशीलता और मोटापे जैसे टाइप 2 डायबिटीज के लिए अन्य जोखिम कारकों में मदद मिलती है। एक शोध में 28 दिनों के बाद एक कीटोजेनिक आहार से पार्किंसंस बीमारी के लक्षणों में कमी देखी गई।

नकारात्मक प्रभाव

एक कीटोजेनिक आहार वजन घटाने और अन्य समस्याओं के लिए फायदेमंद हो सकता है, लेकिन इसके बुरे प्रभाव भी हो सकते हैं। सिरदर्द, मतली, कब्ज, हाई कोलेस्ट्रॉल लेवल और खराब सांस जैसे कम समय तक रहने वाले दुष्प्रभाव हैं, लेकिन आमतौर पर यह डाइट शुरू करने के कुछ दिनों या हफ्तों के बाद ठीक हो जाते हैं। आपको इसके कारण गुर्दे की पथरी होने की संभावना भी है। कीटोजेनिक आहार को शुरू करने वाले वह लोग जो पहले से ब्लड शुगर कम करने वाली दवाएं ले रहे हैं, उन्हें अपने डॉक्टर से जांच करानी चाहिए, क्योंकि आहार दवा की ज़रूरत को कम कर सकता है। कीटोजेनिक आहार में अक्सर फाइबर की कमी होती है। ऐसे में अलग-अलग प्रकार के हाई-फाइबर और कम कार्ब वाली सब्जियों का सेवन करना ज़रूरी है।

कीटोसिस से सावधानी – Ketosis Se Savdhani

निम्नलिखित सलाह से आपको कीटोसिस के दौरान स्वस्थ रहने में मदद मिलेगी, जैसेः

  • बहुत सारे तरल पदार्थों का सेवन, खासतौर से पानी पीना।
  • आहार शुरू करने से पहले चिकित्सक से परामर्श और उनकी सलाह का पालन ज़रूर करें। डाइट के समय अपने गुर्दे के कार्य पर नज़र रखें।

अगर आप इसके बुरे प्रभाव को लेकर परेशान हैं, तो जल्द ही किसी विशेषज्ञ से मिलकर सहायता प्राप्त करें। कीटोसिस से कुछ लोगों को फायदा हो सकता है, लेकिन कम कार्ब वाली डाइट शुरू करने से पहले आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेना ज़रूरी है। आमतौर पर कीटोसिस हानिकारक नहीं होता है और आमतौर पर कम कार्बोहाइड्रेट वाले आहार या आहार संबंधी अस्थायी स्थिति से जुड़ा होता है। चिकित्सा के 48 घंटों के अंदर कीटोएसिडोसिस में सुधार किया जा सकता है और एक बार इससे ठीक होने पर सबसे पहले आपको अपने डॉक्टर से निर्धारित आहार और इंसुलिन नियंत्रण कार्यक्रम के बारे में बात करना ज़रूरी है। सुनिश्चित करें कि आपको अपने डायबिटीज को नियंत्रण में रखने के लिए सभी ज़रूरी जानकारी हो। कीटोसिस सभी के लिए नहीं है, लेकिन यह दूसरों के लिए फायदेमंद हो सकता है। अगर आप डाइट प्लान के संबंध में कोई सवाल पूछना चाहते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें।

मंत्रा केयर – Mantra Care 

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है, जो आपके किसी भी सवाल का जवाब देने और आपकी परेशानी से जुड़ी ज़्यादा जानकारी प्रदान करने के लिए हमेशा तैयार है, ताकि आप जान सकें कि आपकी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छा इलाज कौन सा है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free