सी पेप्टाइड परीक्षण: उपयोग, कार्य, परिणाम और जटिलताएं – C Peptide Test: Upyog, Karya, Parinam Aur Jatiltayein

सी-पेप्टाइड परीक्षण

सी-पेप्टाइड परीक्षण क्या है? C-Peptide Kya Hai? 

सी-पेप्टाइड परीक्षण से सी-पेप्टाइड और इंसुलिन लेवल की जांच की जाती है। कई बार सी-पेप्टाइड लेवल, इंसुलिन लेवल से ज़्यादा स्थिर होता है। इससे बीटा कोशिकाओं की प्रतिक्रिया के परीक्षण में मदद मिलती है। इंसुलिन हार्मोन अग्न्याशय द्वारा रक्तप्रवाह में ग्लूकोज की प्रतिक्रिया से रिलीज होता है। यह अग्न्याशय में बीटा कोशिकाओं के तौर पर जानी जाने वाली खास कोशिकाओं से बना होता है। आमतौर पर यह सी पेप्टाइड उत्पादित इंसुलिन का उप-उत्पाद है, जो बनने वाला इंसुलिन के हर एक परमाणु के लिए सी-पेप्टाइड का एक कण होता है, जो खुद ग्लूकोज को प्रभावित नहीं करता है। सी-पेप्टाइड इंसुलिन निर्माण का एक अहम मार्कर है, क्योंकि सी-पेप्टाइड सामान्य रूप से इंसुलिन की तुलना में ज़्यादा समय तक रक्त में रहेगा।

यह 31 अमीनो एसिड से बना पेप्टाइड का एक रूप है, जो प्रोइन्सुलिन से इंसुलिन के दरार की घटना के दौरान अग्नाशयी बीटा कोशिकाओं से निकलता है। इसका मुख्य उत्सर्जन गुर्दे के ज़रिए होता है और यह इंसुलिन की तुलना में आधा जीवन लंबा होता है। यह पैरों में कोशिका रक्त प्रवाह में सुधार करने के लिए कहा जाता है। पेशाब में एल्ब्यूमिन उत्सर्जन को कम करने में मदद करता है और टाइप 1 डायबिटीज के मरीजों में होने वाली न्यूरोपैथी को सुधारता है।

C peptide testing

सी-पेप्टाइड टूल किट डॉक्टरों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले परीक्षणों में से एक है, जो मरीजों में टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज के निर्धारण के लिए परिवर्तित शर्करा का स्तर बताता है। यह परीक्षण अग्नाशयी बीटा-कोशिका के काम के आंकलन में उपयोगी है।

यह बिना डयाबिटीज से जुड़े निम्न रक्त शर्करा यानी (हाइपोग्लाइसीमिया), इन्सुलिनोमा और तथ्यात्मक हाइपोग्लाइसीमिया जैसी स्थितियों के आंकलन में एक ज़रूरी आधार है। यह परीक्षण ग्लाइसेमिक नियंत्रण और नियंत्रण स्तर के लिए ज़रूरी है। हाइपोग्लाइसेमिक एजेंटों की प्रतिक्रिया जीवन में बाद की जटिलताओं से बचाती है, जिससे डायबिटीज का जोखिम बढ़ता है।

उत्तेजित सी पेप्टाइड परीक्षण

एक उत्तेजित सी-पेप्टाइड परीक्षण में मरीज को इंसुलिन उत्पादन को प्रोत्साहित करने के इरादे से दो रक्त परीक्षणों के अंतराल के बीच ग्लूकागन के साथ प्रशासित किया जाता है। यह आमतौर पर यह निदान टाइप 1 या टाइप 2 डायबिटीज से संबंधित परीक्षणों के लिए किया जाता है।

सी-पेप्टाइड परीक्षण के लिए शर्तें – C Peptide Test Ke Liye Conditions

यह परीक्षण अग्नाशय बीटा-सेल काम के सर्वेक्षण में बहुत मदद करता है। यह बिना डायबिटीज से संबंधित हाइपोग्लाइसीमिया, इंसुलिनोमा और तथ्यात्मक हाइपोग्लाइसीमिया जैसी स्थितियों के मूल्यांकन में आधारशिला के रूप में भी काम करता है।

बिना डायबिटीज संबंधी निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया)

Non-diabetes (C peptide test)

हाइपोग्लाइसीमिया की स्थिति के कारण रक्त शर्करा का स्तर बहुत कम हो जाता है, लेकिन आमतौर पर ऐसा डायबिटीज वाले लोगों के साथ ऐसा होता है। इसमें उनकी दवा या आहार में कुछ बदलाव हो सकती है, लेकिन किसी ऐसे व्यक्ति के लिए जिसमें डायबिटीज के कोई लक्षण नहीं हैं, हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षण दिखाना एक दुर्लभ और गंभीर स्थिति है।

 

हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षण:

  • भ्रम की स्थिति
  • चिंता
  • दिल की बढ़ी हुई धड़कन
  • मिजाज़ बदलना
  • धुंधली दृष्टि
  • दिल का दौरा
  • मांसपेशी में कमज़ोरी
  • पीलापन

बिना डायबिटीज संबंधी निम्न रक्त शर्करा के प्रकार

आमतौर पर दो तरह के बिना-डायबिटीज संबंधी हाइपोग्लाइसीमिया नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • प्रतिक्रियाशील हाइपोग्लाइसीमिया भोजन खाने के बाद होता है, जिसे सक्रिय होने में सिर्फ कुछ घंटे लगते हैं। प्रतिक्रियाशील हाइपोग्लाइसीमिया के कुछ संभावित कारण प्री-डायबिटीज सहित अन्य समस्याएं हो सकती हैं, जो शरीर द्वारा उत्पादित इंसुलिन की मात्रा में रुकावट कर सकते हैं। कुछ सर्जिकल प्रक्रियाएं आपकी छोटी आंतों में भोजन को जल्दी पचा सकती हैं। इसके अलावा कुछ दुर्लभ एंजाइम की कमी कभी-कभी आपके शरीर के लिए स्थिति को कठिन बना देती है।
  • उपवास हाइपोग्लाइसीमिया आमतौर पर एक बीमारी से संबंधित होता है। सैलिसिलेट्स, सल्फा, पेंटामिडाइन ड्रग्स, कुनैन जैसी दवाएं, सभी दर्द निवारक और एंटीबायोटिक्स, निमोनिया या मलेरिया जैसी गंभीर बीमारियों के लिए दवाएं हैं। यह फास्टिंग हाइपोग्लाइसीमिया पैदा करने के लिए उत्तकों को प्रेरित करने का काम कर सकती हैं।

अन्य कारणों में ज़्यादा शराब पीना, लीवर में खराबी, दिल या गुर्दे में कोर्टिसोल की कमी और ग्लूकागन या एपिनेफ्रिन सहित अन्य हार्मोन शामिल हो सकते हैं।

इन्सुलिनोमा

इन्सुलिनोमा एक दुर्लभ प्रकार का ट्यूमर है, जो अग्न्याशय (पैनक्रियाज़) में विकसित होता है। ट्यूमर उसी बीटा आइलेट कोशिकाओं का उत्पाद है, जो इंसुलिन बनाते हैं और आपके रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करते हैं। आमतौर पर आपका अग्न्याशय ज़्यादा इंसुलिन बनाता है, जिससे आपका ग्लूकोज ज़्यादा हो जाता है। इन्सुलिनोमा के मामले में अग्नाशय लगातार इंसुलिन बनाता है, लेकिन इसके बावजूद आपका ग्लूकोज बहुत कम हो जाता है।

 Insulinom-C peptide test

इसे न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि यह आपके शरीर की अलग-अलग कोशिकाओं में विकसित होता है, इसलिए इसे न्यूरोएंडोक्राइन कोशिकाएं भी कहा जाता है। इन्सुलिनोमा में ट्यूमर बढ़ता है और आमतौर पर यह छोटे होते हैं। कभी-कभी यह कैंसरयुक्त नहीं होते हैं, लेकिन फिर भी उपचार के लिए सर्जरी की ज़रूरत होती है।

इसके लक्षणों में शामिल हैं:

  • भ्रम की स्थिति
  • पसीना आना
  • ज़्यादा थकान
  • तेज दिल की धड़कन
  • गंभीर मामलों में कोमा

तथ्यात्मक हाइपोग्लाइसीमिया

तथ्यात्मक हाइपोग्लाइसीमिया इंसुलिन के स्व-प्रशासन और सल्फोनीलूरिया के ज़्यादा अनियंत्रित इस्तेमाल की प्रतिक्रिया है। इसका निदान कम प्लाज्मा सी-पेप्टाइड स्तरों के साथ मदद करने वाले इंसुलिन के प्लाज्मा स्तर की बड़ी मात्रा की मौजूदगी का नतीजा है। कभी-कभी सल्फोनीलूरिया का ज़्यादा सेवन इन्सुलिनोमा के बराबर एक जैव रासायनिक पैटर्न का उत्पादन करती है। यह इंसुलिन और सी पेप्टाइड के प्लाज्मा स्तर की उच्च मात्रा के बारे में बताती है।

इसके लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • झटके
  • चिड़चिड़ापन
  • दौरे
  • बढ़ी हुई भूख
  • परेशान मानसिक स्थिति
  • चक्कर आना
  • गंभीर थकान
  • बेहोशी

सी पेप्टाइड परीक्षण के कार्य – C Peptide Test Ke Work

इस परीक्षण की मदद से आपके रक्त और पेशाब में सी-पेप्टाइड के स्तर की मात्रा को मापा जाता है, जो एक अग्नाशयी उत्पाद है। साथ ही यह परीक्षण शरीर द्वारा उत्पादित इंसुलिन की मात्रा का पता लगा सकता है। इसलिए रक्त में सी-पेप्टाइड की मात्रा को मापना शरीर द्वारा उत्पादित इंसुलिन की मात्रा के लिए एक संकेतक के तौर पर काम करता है। अगर स्तर ज़्यादा है, तो यह इंसुलिनोमा और उच्च इंसुलिन स्तर के बारे में बताता है।

सी पेप्टाइड परीक्षण की तैयारी – C Peptide Test Ki Preparation 

आमतौर पर खून या पेशाब के ज़रिए सी-पेप्टाइड स्तर का पता लगाया जाता है। खून की जांच के दौरान एक मेडिकल केयर प्रैक्टिशनर आपके हाथ में नस से एक छोटी सुई का इस्तेमाल करके खून का सैंपल लेते हैं। सुई डालने के बाद खून की एक मामूली मात्रा को परीक्षण शीशी में लिया जाता है, जिसे बाद में निदान के लिए प्रयोगशाला में भेजा दिया जाता है। पांच मिनट से भी कम मिनट वाली इस जांच प्रक्रिया में सुई अंदर या बाहर जाने पर आपको थोड़ा सा चुभन का अहसास हो सकता है। पेशाब की जांच के अलावा सी-पेप्टाइड परीक्षण को 24 घंटे के यूरिन एनालिसिस के ज़रिए भी समझा जा सकता है।

आपको पूरे दिन में सभी पेशाब के सैंपल को इकट्ठा करना होता है। आपके हेल्थकेयर प्रोवाइडर आपको पेशाब का सैंपल इकट्ठा करने के लिए एक कंटेनर देते हैं, जिसे दिए गए नमूने पर निदान के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाता है। सी-पेप्टाइड परीक्षण के दौरान कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए कि परीक्षण से पहले आपको 8 से 12 घंटे तक उपवास करना पड़ सकता है। 24 घंटे की पेशाब की जांच के साथ आपको मूत्राशय (ब्लैडर) को खाली करने के समय को रिकॉर्ड करना होता है। पेशाब के इस सैंपल को रेफ्रिजरेटर या बर्फ के साथ कूलर में रखना होता है।

सी-पेप्टाइड के अनुप्रयोग – C Peptide Test Applications

आमतौर पर सी-पेप्टाइड को इंसुलिन पर निर्भर हाइपोग्लाइसीमिया के बीच अंतर करने के लिए इंसुलिन और प्रोइन्सुलिन के संयोजन में लिया जा सकता है। यह उच्च सी-पेप्टाइड स्तर और इंसुलिन-इंडिपेंडेट हाइपोग्लाइसीमिया के बारे में बताता है, जो रक्त शर्करा का कम स्तर है। बताए गए परीक्षण के नतीजों की प्रामाणिक व्याख्या के लिए कई चिकित्सा रिपोर्ट मौजूद हैं। इसके अनुसार, खून के सैंपल में कम सीरम वाली रक्त शर्करा का स्तर यानी 55 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर से कम शामिल किया जाना चाहिए। पेशाब की जांच के साथ संयोजन में सी-पेप्टाइड परीक्षण एक्सोजेनस इंसुलिन और सल्फोनीलूरिया इंटॉक्सिकेशन से तथ्यात्मक हाइपोग्लाइसीमिया के बीच अंतर बता सकता है।

यह परीक्षण नीचे दिए काम को भी मॉनिटर करता है, जैसे:

  • अग्नाशय का प्रत्यारोपण (पैनक्रियाटिक ट्रांसप्लांट) करने के बाद अग्नाशय के काम
  • प्री-डायबिटीज या टाइप 1 डायबिटीज मेलिटस के निदान वाले मरीज में बीटा-सेल कामकाज इम्यूनोमॉड्यूलेटरी थेरेपी से गुजर रहा है या नहीं।
  • टाइप 2 डायबिटीज मेलिटस और वयस्कों में गुप्त ऑटोइम्यून डायबिटीज के बीच अंतर।

सी पेप्टाइड परीक्षण के नतीजे – C Peptide Test Ke Results

सी-पेप्टाइड परीक्षण के नतीजे आमतौर पर सैंपल इकट्ठा करने के कुछ दिनों के अंदर मिल जाते हैं। यह नतीजे नैनोग्राम प्रति मिलीलीटर (एनजी/एमएल) के तहत दिए जाते हैं। एसी पेप्टाइड के लिए सामान्य रीडिंग 0.5 से 2.7 एनजी/एमएल की रेंड के अंदर होती हैं। प्रयोगशाला के आधार पर इसमें कई अंतर हो सकते हैं, जिसमें आपके सैंपल की जांच की जाती है।

हालांकि, इस बारे में बहुत ज़्यादा जानकारी नहीं है कि सी-पेप्टाइड उचित तरीके से यह अंदाज़ा लगा सकता है कि मरीजों को इंसुलिन की ज़रूरत है या नहीं। एक शुरुआती अध्ययन से पुष्टि हुई कि 0.6 एनएमओएल/एल के तहत एक उच्च स्तर जीएसटी सी-पेप्टाइड इंसुलिन के साथ बाद के उपचार से संबंधित होता है।

सी-पेप्टाइड के लिए सुझाई गई सीमाएं इस प्रकार हैं:

उपवास के दौरान: 0.78 से 1.89 एनजी/एमएल या 0.26 से 0.62 एनएमओएल/एल (एसआई यूनीट)

ग्लूकोज लेने के 1 घंटे बाद: 5 से 12 एनजी/एमएल

सी-पेप्टाइड का उच्च स्तर

इसके ज़्यादा ऊंचे स्तर को दिल (कार्डियोवैस्कुलर) से संबंधित होने के लिए विश्वसनीय रूप से प्रदर्शित किया गया है, जो बिना डायबिटीज वाले व्यक्तियों में मौत का कारण बनते हैं। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि बढ़ा हुआ सी-पेप्टाइड स्तर इंसुलिन विरोध और सामूहिक चयापचय स्थितियों का एक प्रमुख कारण है।

सी-पेप्टाइड का उच्च स्तर कई समस्याओं के बारे में बताता है, जिसमें शामिल हैंः

  • इंसुलिनोमा
  • सल्फोनीलूरिया इंटॉक्सिकेशन
  • इंसुलिन प्रतिरोध
  • मोटापा
  • पुरानी गुर्दे की बीमारी
  • अंतःस्रावी विकार
  • एनआईपीएचएस

डायबिटीज की कुछ दवाएं उच्च सी-पेप्टाइड स्तर का कारण बनती हैं, जैसे- 

  • एमेरीलिस
  • ग्लूकोट्रोल
  • ग्लूकोट्रोल एक्सएल
  • ग्लाइनेज
  • माइक्रोनेज
  • टॉलब्यूटामाइ़ड

सी-पेप्टाइड का निम्न स्तर

इसके निम्न स्तर बताते हैं कि आपका शरीर पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर रहा है। सी-पेप्टाइड के निचले स्तर और कम बीटा-सेल काम को ग्लूकोज की ज़्यादा ज़रूरी डिग्री से जोड़ा गया है। ग्लूकोज के उतार-चढ़ाव को डायबिटीज के मरीजों में बढ़ी हुई असुविधाओं और मौत से संबंधित माना जाता है। डॉक्टरों के अनुसार, सी-पेप्टाइड एचबीए1सी स्तरों के परिणामों का एक संकेतक हो सकता है।

इसके कई कारण हो सकते हैं, जैसे

  • गंभीर रूप से प्रभावित अग्न्याशय
  • टाइप 1 डायबिटीज मेलिटस
  • टाइप 2 डायबिटीज मेलिटस
  • एक्सोजेनस इंसुलिन इंजेक्शन
  • हाइपोग्लाइसीमिया
  • इंसुलिन इंडेपेंडेट हाइपोग्लाइसीमिया

सी पेप्टाइड परीक्षण के जोखिम – C Peptide Test Ke Risks

खून का सैंपल लेने में थोड़ा खतरा शामिल हो सकता है, क्योंकि नसें आकार में एक व्यक्ति से शुरू होकर दूसरे पर और शरीर के एक तरफ से दूसरे हिस्से में शिफ्ट हो जाती हैं। इसीलिए, कुछ व्यक्तियों से रक्त परीक्षण के लिए सैंपल लेना दूसरों की तुलना में ज़्यादा परेशानी वाला काम सकता है।

रक्त लेने से संबंधित अलग-अलग जोखिम मामूली हैं, जिनमें शामिल हो सकते हैं:

  • काला पड़ना या उबकाई आना
  • नस ढूंढ़ने की कोशिश में जगह-जगह छेद
  • त्वचा के नीचे रक्त का विकास (हेमेटोमा)
  • कोई बीमारी (त्वचा के फटने का खतरा)
  • ज़्यादा रक्तस्राव
  • सैंपल लेने वाली जगह पर इंफेक्श

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free