डायबिटीज के लिए दालचीनी: फायदे और नुकसान – Diabetes Ke Liye Cinnamon: Fayde Aur Nuksan

डायबिटीज के लिए दालचीनी के फायदे और नुकसान

दालचीनी (सिनेमन) क्या है? Cinnamon Kya Hai?

डायबिटीज के लिए दालचीनी एंटीऑक्सिडेंट का काम करती है, जिसे वर्षों से आपकी बीमारियों के उपचार में इस्तेमाल किया जाता रहा है। दालचीनी एक मसाला है, जिसे आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है। ज़्यादातर लोग इसका इस्तेमाल खाने में स्वाद बढ़ाने वाले एजेंट के तौर पर करते हैं। दालचीनी के पेड़ दक्षिण पूर्व एशिया, भारतीय उपमहाद्वीप और उत्तरी अफ्रीका में पाए जाते हैं, जिसकी छाल से दालचीनी पाउडर या दालचीनी की छड़ियां बनाई जाती हैं। दालचीनी जैसे एंटीऑक्सीडेंट पूरक में शक्तिशाली गुण होते हैं, जो डायबिटीज को सुधारने में आपकी मदद कर सकते हैं। लेख में जानेंगे कि डायबिटीज के लिए दालचीनी कैसे मदद कर सकती है।

दालचीनी से स्वास्थ्य को मिलने वाले कुछ प्रभावशाली फायदे हैं, जैसे रक्त शर्करा का स्तर कम करना और कोलेस्ट्रॉल लेवल को घटाना। यह डायबिटीज वाले लोगों में रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। दालचीनी एक वैकल्पिक उपचार है, जिसे आप मिठाई के मसाले या नाश्ते के भोजन में उपयोग कर सकते हैं और पारंपरिक चिकित्सा और खाद्य संरक्षण में यह हजारों सालों से इस्तेमाल किया जा रहा है। दालचीनी, दालचीनी के पेड़ों की अंदरूनी छाल होती है और सूखने के बाद छाल मुड़ने से दालचीनी की छड़ें बनती है। इसे क्विल्स भी कहते हैं, जिसे पिसी हुई दालचीनी में संसाधित किया जा सकता है।

यूएसए में कई प्रकारों में बिकने वाली दालचीनी को दो श्रेणियों में बांटा गया है: सीलोन और कैसिया।

  • सीलोन: सच्ची दालचीनी सबसे महंगी किस्म है, जिसे ट्रू सिनेमन भी कहते हैं।
  • कैसिया एक बहुत सस्ता मसाला है और इसे अक्सर दालचीनी के साथ खाने में शामिल किया जाता है।

डायबिटिक मरीजों पर उनकी बीमारियों के कारण कुछ प्रतिबंध हो सकते हैं, जैसे खाने और शारीरिक गतिविधि की सीमाएं। लोगों के मुताबिक, डायबिटीज के लिए दालचीनी रक्त शर्करा को मैनेज करती है।

डायबिटीज के लिए दालचीनी – Diabetes Ke Liye Cinnamon

डॉक्टरों का कहना है कि दालचीनी के सेवन से किसी व्यक्ति में डायबिटीज के लक्षण कम करने में मदद मिल सकती है। जबकि, अन्य शोध से साबित होता है कि डायबिटीज की शुरुआती अवस्था में दालचीनी रक्त शर्करा के स्तर पर फायदेमंद प्रभाव डालने का काम करती है। पहले किए अध्ययनों में संभावना जताई गई थी कि दालचीनी के इस्तेमाल से रक्तचाप बढ़ जाता है और रक्त शर्करा का स्तर बाधित हो जाता है, लेकिन दालचीनी से ऐसी समस्याएं होने की कोई संभावना नहीं होती है।

नेशनल सेंटर फॉर कॉम्प्लिमेंटरी एंड इंटीग्रेटिव हेल्थ (एनसीसीआईएच) के अनुसार, दालचीनी किसी भी बीमारी के इलाज में अप्रभावी है। हालांकि, भले ही दालचीनी के फायदों को और प्रमाण की ज़रूरत हो, लेकिन इस बार से इंकार नहीं किया जा सकता है कि यह आपके आहार में चीनी का फायदेमंद और स्वादिष्ट विकल्प हो सकता है।

दालचीनी के फायदे  Cinnamon Ke Fayde Cinnamon for Diabetes - Health Benefits

औषधीय भोजन के जर्नल ने भी यह दस्तावेजीकरण किया है कि दालचीनी किसी व्यक्ति के शरीर में शर्करा का स्तर कम करने की क्षमता रखती है। शोधकर्ताओं ने पिछले आठ शोधों के निष्कर्षों की तुलना की और इन निष्कर्षों में उन्होंने पाया कि रक्त शर्करा के स्तर में औसतन 3 से 5 प्रतिशत की कमी हुई।

अगर शोध डायबिटीज के लिए दालचीनी से होने वाले फायदे की पुष्टि नहीं करते हैं, तो इस बात का भी कोई प्रमाण नहीं है कि दालचीनी रक्त शर्करा के स्तर को नुकसान पहुंचाती है। ज़्यादातर लोगों का मानना है कि यह डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए जोखिम भरे विकल्पों से बचने का एक सुरक्षित उपाय है। इनमें चीनी, नमक और अन्य संभावित हानिकारक स्वाद देने वाले रसायन शामिल हैं।

एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर

अगर इसकी पोषण संबंधी जानकारी के संदर्भ को ध्यान से देखा जाए, तो दालचीनी एक सुपरफूड नहीं लग सकती है, लेकिन डायबिटीज के लिए दालचीनी कई तरह से फायदेमंद हो सकती है, जिसके कुछ फायदे नीचे दिए गए हैंः

  • दालचीनी में बहुत सारे पोषक तत्व या खनिज नहीं होते हैं, लेकिन इसमें ज़रूरी मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट शामिल होते हैं, जो आपके स्वास्थ्य को फायदा पहुंचाने में अहम योगदान करते हैं।
  • शोधकर्ताओं की अन्य टीम के अनुसार, दालचीनी 26 अलग-अलग तरह की जड़ी-बूटियों और मसालों में दूसरी सबसे बड़ी एंटीऑक्सीडेंट सामग्री है।
  • एंटीऑक्सिडेंट सभी व्यक्तियों के लिए फायदेमंद होते हैं, क्योंकि वह ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं। यह ऑक्सीडेटिव तनाव मुक्त कणों की वजह से कोशिकाओं को होने वाला संभावित नुकसान होता है।
  • अगर आप दालचीनी के अर्क का 12 हफ्ते के लिए दैनिक इस्तेमाल करते हैं, तो इससे प्रीडायबिटीज वाले व्यक्तियों में ऑक्सीडेटिव तनाव को 14 प्रतिशत तक कम करने में मदद मिलती है।
  • डॉक्टरों के अनुसार, ऑक्सीडेटिव तनाव टाइप 2 डायबिटीज सहित लगभग हर पुरानी बीमारी के विकास से जुड़ा है, जिसमें दालचीनी के इस्तेमाल आपकी स्थिति को सुधारने में मदद कर सकता है।

इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार

डायबिटीज से पीड़ित व्यक्तियों में आमतौर पर अग्न्याशय पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन करने में असमर्थ होता है। कई बार उनकी शरीर में कोशिकाएं इंसुलिन के लिए उचित प्रतिक्रिया नहीं देती हैं, जिसकी वजह से असामान्य रूप से उच्च रक्त शर्करा का स्तर होता है, जिसे हाइपरग्लाइसीमिया के नाम से भी जाना जाता है। दालचीनी इंसुलिन की नकल करके और कोशिकाओं में ग्लूकोज को बढ़ावा देकर डायबिटीज की रोकथाम और उपचार में मदद करती है।

यह बेकिंग में एक आम स्वीटनर है, जो इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करती है और इससे ग्लूकोज को कोशिकाओं में ज़्यादा प्रभावी ढंग से प्रवेश करने की इजाज़त मिलती है। दालचीनी सिर्फ एक खुराक के बाद पुरुषों में इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करती है। शोध में देखा गया है कि कम से कम 12 घंटे तक चलने वाले फायदे के साथ दो हफ्ते बाद दालचीनी की खुराक ने आठ पुरुषों में इंसुलिन संवेदनशीलता को सुधारने में मदद की।

हीमोग्लोबिन ए1सी कम करना

cinnamon blood sugar level

भोजन से पहले रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करने के लिए दालचीनी कई नियंत्रण परीक्षणों में सफल रही है। एक अध्ययन के अनुसार, इसे टाइप 2 डायबिटीज वाले 543 लोगों में 24 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर यानी 1.33 एमएमओएल/एल से ज़्यादा की कमी के लिए एक कड़ी के रूप में लिया गया था। हालांकि, यह निष्कर्षों में विवाद की कोई वजह नहीं हैं, लेकिन लंबे समय तक रक्त शर्करा नियंत्रण के उपाय, हीमोग्लोबिन ए1सी पर इसके प्रभाव के अध्ययन ने परस्पर विरोधी परिणाम दिए हैं।

कुछ अध्ययनों के अनुसार, हीमोग्लोबिन ए1सी परीक्षण के स्तर में 0.5 प्रतिशत तक कमी देखी गई है, लेकिन अन्य शोधों में किसी अंतर की पुष्टि नहीं की गई। शोधकर्ताओं का कहना है कि दालचीनी की मात्रा और इसका सेवन करने वालों के पिछले रक्त शर्करा नियंत्रण में बदलाव कुछ अंतरों की व्याख्या कर सकती है।

रक्त शर्करा स्तर के कमी

कुछ मामलों में दालचीनी का सेवन करने से रक्त शर्करा का स्तर काफी बढ़ सकता है, लेकिन यह भोजन के आकार और उसमें मौजूद कार्बोहाइड्रेट की संख्या पर निर्भर करता है। चीनी की आदत हमारे शरीर में उच्च रक्तचाप, मोटापा और डायबिटीज सहित कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं का कारण रही है। शरीर की कोशिकाओं पर चीनी के हानिकारक प्रभाव हाल के वर्षों में अच्छी तरह से सामने आए हैं। रक्त शर्करा में यह उतार-चढ़ाव ऑक्सीडेटिव तनाव और सूजन का कारण बन सकता है और इसलिए यह दोनों ही दिल की बीमारी सहित डायबिटीज से संबंधित जटिलताओं की मुख्य वजह माने जाते हैं।

दालचीनी खाने के बाद इन ब्लड शुगर के बढ़ने को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है। डॉक्टरों का कहना है कि यह आपके पेट से भोजन के खाली होने की गति को धीमा करके ऐसा करता है। एक शोध के अनुसार, चावल की खीर परोसने के साथ 1.2 चम्मच (6 ग्राम) दालचीनी का सेवन करने से पेट खाली होना कम हो जाता है। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं, तो दालचीनी के बिना चावल की खीर खाने से आपका ब्लड शुगर ज़्यादा बढ़ जाता है। यह छोटी आंत में कार्बोहाइड्रेट को तोड़ने वाले पाचन एंजाइमों को रोककर भोजन के बाद रक्त में शर्करा का स्तर कम करने में योगदान करता है।

जटिलताओं का कम जोखिम

दालचीनी जैसे एंटीऑक्सीडेंट के कई अन्य फायदे हैं, जिसके तहत यह खाली पेट रक्त शर्करा का स्तर (फास्टिंग ब्लड शुगर लेवल) और भोजन के बाद रक्त शर्करा का स्तर कम करने में मदद कर सकती है। इसके अलावा यह डायबिटीज से संबंधित समस्याओं की रोकथाम भी करती है।

  • डायबिटीज वाले लोगों में दिल की बीमारी होने की संभावना उन लोगों की तुलना में चार गुना ज़्यादा होती है, जिन्हें डायबिटीज नहीं है। दालचीनी दिल की बीमारी के लिए स्थापित जोखिम कारकों, जैसे रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल लेवल में सुधार करके इस जोखिम को कम कर सकती है।
  • टाइप 2 डायबिटीज वाले व्यक्तियों में नियंत्रण परीक्षणों के एक अध्ययन से पता चलता है कि दालचीनी का सेवन खराब एलडीएल कोलेस्ट्रॉल में 9.4 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर यानी 0.24 एमएमओएल/एल की कमी और 29.6 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर यानी 0.33 एमएमओएल/एल की कमी के संबंध में है।
  • अध्ययन के अनुसार, अच्छे एचडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर औसतन 1.7 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर या 0.044 एमएमओएल/एल बढ़ गया। इसके अलावा, एक अन्य शोध में पाया गया है कि 12 हफ्ते तक 2 ग्राम दालचीनी का सेवन करने से सिस्टोलिक और डायस्टोलिक रक्तचाप को कम किया जा सकता है।
  • दूसरी तरफ, टाइप 3 डायबिटीज हाल के वर्षों में अल्जाइमर की बीमारी और अन्य दिमागी बीमारी से जुड़ा है। कई लोग अल्जाइमर की बीमारी को टाइप 3 डायबिटीज के नाम से जानते हैं।
  • अध्ययन बताते हैं कि दालचीनी का अर्क बीटा-एमिलॉइड और ताऊ नाम के दो प्रोटीनों को बानने से रोकता है, जो अल्जाइमर की बीमारी के विकास से जुड़े हैं। हालांकि, यह अध्ययन सिर्फ टेस्ट ट्यूब और जानवरों पर किये गये हैं, लेकिन इन परिणामों की पुष्टि करने के लिए मनुष्यों में ज़्यादा शोध करने की ज़रूरत है।

कौन सी दालचीनी बेहतर है? Koun Si Cinnamon Behtar Hai?

cinnamon ceylon

सीलोन और कैसिया दालचीनी के सबसे जाने-माने प्रकार हैं।

कैसिया दालचीनी अक्सर सिनामोमम पेड़ों की कई प्रजातियों से बनाई जाती है। भोजन में इस्तेमाल की जाने वाली यह दालचीनी आपके स्थानीय सुपरमार्केट में आसानी से मिल जाती है। सिनामोमम वर्म के पेड़ से निकलने वाली सीलोन दालचीनी अलग होती है, जबकि कैसिया दालचीनी का उत्पादन सिनामोमम कैसिया प्रजाति से होता है। सीलोन आमतौर पर कैसिया दालचीनी की तुलना में ज़्यादा महंगी होती है, जिसके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं।

शोध से पता चलता है कि सीलोन दालचीनी में कैसिया दालचीनी के मुकाबले ज़्यादा एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं। खास तरह के एंटीऑक्सिडेंट की उच्च मात्रा से भरपूर सीलोन दालचीनी स्वास्थ्य को संभावित रूप से ज़्यादा फायदे प्रदान कर सकती है। सीलोन दालचीनी के जानवरों और टेस्ट ट्यूबों में स्वास्थ्य फायदे हैं, लेकिन अगर मनुष्यों में स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद दालचीनी की बात करें, तो ज़्यादातर लोग कैसिया दालचीनी का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं

दालचीनी के नुकसान – Cinnamon Ke Nuksan

कैसिया दालचीनी में एक रासायनिक प्रोफ़ाइल होती है, जो अन्य स्रोतों से मिलने वाली दालचीनी से बिल्कुल अलग होती है। यह कौमारिन में भी उच्च है, जो कई पौधों में पाया जाने वाला एक जहरीला कार्बनिक घटक होता है। एगर आप अपने लीवर को किसी भी बीमारी से बचाना चाहते हैं, तो आप भोजन में इसका सेवन सीमित मात्रा में कर सकते हैं। लीवर की समस्या वाले लोगों को इससे ज़्यादा सावधान रहने की ज़रूरत है, क्योंकि ज़्यादा मात्रा किया गया दालचीनी का सेवन आपकी लीवर की समस्याओं को बढ़ा सकता है।

यूरोपीय खाद्य सुरक्षा प्राधिकरण ने किसी व्यक्ति द्वारा इस्तेमाल के लिए सुरक्षित स्तर के तौर पर 0.045 मिलीग्राम प्रति पाउंड (0.1 मिलीग्राम/किलोग्राम) पर कौमारिन का एक अनुमेय दैनिक सेवन स्थापित किया है। उदाहरण के लिए, अगर कैसिया दालचीनी में औसत कौमारिन सामग्री कैसिया के बराबर है, तो यह 165 पाउंड (75 किलोग्राम) व्यक्ति के लिए प्रतिदिन कैसिया दालचीनी का लगभग आधा चम्मच यानी 2.5 ग्राम होगी।

कैसिया दालचीनी में कौमारिन की मात्रा ज़्यादा पाई जाती है, इसीलिए हो सकता है कि पूरक आहार लेने या भोजन में इसकी बड़ी मात्रा में खाने से ज़्यादातार स्तर की तुलना में बहुत ज़्यादा मात्रा में खपत हो। हालांकि, सीलोन दालचीनी में कैसिया दालचीनी की तुलना में बहुत कम मात्रा में कौमारिन होता है, जिससे कौमारिन की सुझाई गई मात्रा से ज़्यादा लेना मुश्किल हो जाता है।

जोखिम – Jokhim

दवाओं या इंसुलिन का इस्तेमाल करने वाले डायबिटिक मरीजों को अपने सामान्य आहार में दालचीनी शामिल करते समय सावधान रहना चाहिए। ऐसा नहीं करने से निम्न रक्त शर्करा की समस्या हो सकती है, जिसे हाइपोग्लाइसीमिया भी कहते हैं और यह दालचीनी से होने वाला एक गंभीर दुष्प्रभाव है।

दालचीनी डायबिटीज प्रबंधन के लिए एक बढ़िया विकल्प है, लेकिन कई बार यह हाइपोग्लाइसीमिया का कारण भी बन सकती है, जो एक गंभीर स्थिति है। आमतौर पर यह सुझाव दिया जाता है कि अगर आपको डायबिटीज है, तो आपको अपने डॉक्टर से दालचीनी के इस्तेमाल के बारे में चर्चा करनी चाहिए। इसके साथ ही बच्चों, गर्भवती महिलाओं और व्यापक चिकित्सा इतिहास वाले व्यक्तियों को दालचीनी का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टरों से परामर्श करना चाहिए।

अगर आप दालचीनी की खुराक लेने के बारे में सोच रहे हैं, तो पहले अपने डॉक्टर से बात करें। ऐसा करना खासतौर से तब ज़्यादा ज़रूरी होता है, जब आप किसी तरह की दवा का सेवन कर रहे हैं। इसके साथ ही, एनएसएफ इंटरनेशनल, यूएस फार्माकोपिया या कंज्यूमरलैब से गुणवत्ता वाले सील ब्रांड का इस्तेमाल करें।

क्या दालचीनी जड़ी-बूटियों या दवाओं के साथ प्रतिक्रिया करती है?

cinnamon and other herbs

कुछ लोग इन दोनों पूरक के साथ अन्य दवाओं का इस्तेमाल भी करते हैं। ऐसे लोगों को ज़्यादा सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इससे रक्त शर्करा के स्तर में कमी हो सकती है। डायबिटीज की दवाएं लेने वाले लोगों के लिए डॉक्टर यह निर्धारित करते हैं कि आपके लिए दालचीनी का इस्तेमाल करना ठीक है या नहीं। इसके लिए आपको रक्त शर्करा के स्तर पर कड़ी नज़र रखनी चाहिए। रक्त शर्करा का स्तर बहुत कम होने पर आपको तुरंत डॉक्टर को सूचित करना चाहिए। दवाओं के साथ लेने से दालचीनी लीवर को नुकसान पहुंचाती हैं और लीवर की यह समस्याएं इसे ज़्यादा खराब कर सकती हैं।

दालचीनी की मात्रा – Cinnamon Ki Quantity

दालचीनी की रक्त शर्करा को कम करने की क्षमता की गहन जांच की गई है। इसके बावजूद भी संभावित खतरों से बचते हुए फायदों लेने के लिए आपको दालचीनी की कितनी मात्रा इस्तेमाल करनी चाहिए, इस पर कोई आम सहमति नहीं है। हालांकि, पिछले अध्ययनों से पता चलता है कि आप हर दिन 1 से 6 ग्राम पूरक के रूप में या भोजन में मिश्रित पाउडर के तौर पर दालचीनी की इस्तेमाल कर सकते हैं।

शोध में पाया गया कि जिन लोगों ने दालचीनी की कम खुराक ली थी, उनके नतीजे दालचीनी की ज़्यादा खुराक लेने वाले लोगों से मिलते जुलते थे। इसलिए, डॉक्टर सलाह देते हैं कि आपको इसकी बड़ी खुराक लेने की कोई ज़रूरत नहीं है। इसके अलावा, कई अध्ययनों से पता चला है कि कैसिया दालचीनी की कौमारिन सामग्री अलग होती है और इसी वजह से हर दिन 0.5 या 1 ग्राम से ज़्यादा सेवन आपको सुरक्षित दैनिक सेवन में डाल सकता है।

यही कारण है कि आपको इसे सावधानी से लेना जरूरी नहीं है। सीलोन दालचीनी में अपने सीलोन-विकसित सामग्री के मुकाबले काफी कम कौमारिन होता है, इसलिए इसको लेकर आपको ज़्यादा परेशान होने की कोई ज़रूरत नहीं है। जब कौमारिन के खतरे का सवाल आता है, तो हर रोज़ 1.2 चम्मच यानी 6 ग्राम तक दालचीनी का सेवन किसी भी व्यक्ति के लिए पूरी तरह से ठीक है।

निष्कर्ष – Nishkarsh

अनुसंधानों की एक बढ़ती हुई श्रृंखला इस धारणा का समर्थन करती है कि दालचीनी का सेवन डायबिटीज से पीड़ित मरीजों में रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। हालांकि, यह अभी तक निश्चित रूप से ज्ञात नहीं है कि इस घटना की व्याख्या करने के लिए कितने सिद्धांत सही हैं। दालचीनी के अर्क की पाचन को धीमा करने की क्षमता सेवन के बाद ग्लूकोज के स्तर में बढ़ोतरी का कारण बन सकती है। ऐसे में यह ध्यान रखना ज़रूरी है कि कुछ अध्ययनों ने इसके मिले जुले नतीजे दिखाए हैं। इससे स्पष्ट हो सकता है कि शुद्ध दालचीनी लेने से डायबिटीज प्रबंधन प्रभावित होता है या नहीं।

हालांकि, अन्य अध्ययनों से पता चलता है कि सीलोन दालचीनी के एक खास प्रकार का इस्तेमाल टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए ज़्यादा फायदेमंद हो सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि इसमें सामान्य कैसिया-आधारित दालचीनी की तुलना में कम कौमारिन होता है। अगर आप भी वर्तमान में दवा के ज़रिए अपनी डायबिटीज की स्थिति का प्रबंधन कर रहे हैं, तो कोई भी बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श ज़रूर करें, क्योंकि इससे आपको डायबिटीज को बेहतर तरीके से प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free