डायबिटीज और शराबः शराब का रक्त शर्करा पर प्रभाव – Diabetes Aur Alcohol: Alcohol Ka Blood Sugar Par Prabhav?

diabetes and alcohol

डायबिटीज और शराब – Diabetes Aur Alcohol

diabetes and alcohol

शराब और डायबिटीज दोनों ही सामान्य स्वास्थ्य समस्याएं हैं, जिन्हें उच्च रक्त शर्करा स्तर का प्रमुख कारण माना जाता है। इसके कारण नसों को नुकसान, गुर्दे खराब होना, दिल की बीमारी और स्ट्रोक जैसी अन्य समस्याएं हो सकती हैं। साथ ही शराब के सेवन से लीवर की बीमारी और कैंसर सहित कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का जोखिम भी बढ़ता है। आपके लिए यह जानना बेहद ज़रूरी है कि यह दोनों मुद्दे व्यक्तिगत रूप से उतने ही खतरनाक हैं,  जितने कि एक साथ जोड़े जाने पर।

डायबिटीज क्या है?

डायबिटीज को एक आम अंतःस्रावी बीमारी (एंडोक्राइन डिजीज) कहा जाता है और इलाज नहीं किये जाने पर इसके कारण बड़ी स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। यह खासतौर से तब होता है जब शरीर पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन करना बंद कर देता है। कुछ मामलों में शरीर इंसुलिन का ठीक से इस्तेमाल नहीं कर पाता है। इंसुलिन रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है, जो जीवित रहने के लिए किसी भी व्यक्ति के लिए बहुत ज़रूरी है।

इसके लक्षणों में शामिल हैं-

शराब यानी अल्कोहल को इथेनॉल युक्त किसी भी पेय के तौर पर परिभाषित किया जाता है। यह अक्सर फलों, सब्जियों और अनाज में पाए जाने वाले शर्करा के फर्मेंटेशन से लिया जाता है। कम मात्रा में शराब पीने से कुछ स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं, लेकिन यह ज़रूरी याद रखें कि इसके जुड़े कई जोखिम भी हैं। इनमें लीवर की बीमारी, दिमाग में खराबी और कुछ तरह के कैंसर विकसित होने का जोखिम बढ़ना शामिल है।

शराब का शरीर पर प्रभाव

एक बार पीने के बाद शरीर जल्दी से शराब को रक्तप्रवाह में अवशोषित कर लेता है। इसके बाद इसे लीवर में ले जाया जाता है, जहां इसे मेटाबोलाइज़ किया जाता है। इस प्रक्रिया में पुरुषों के लिए लगभग एक घंटा और महिलाओं या पहली बार शराब पीने वाले लोगों के लिए डेढ़ घंटे का समय लगता है। हालांकि, डायबिटीज वाले लोग अक्सर शराब के प्रभाव को ज़्यादा तेजी से महसूस करते हैं। डायबिटीज के मरीजों में डिहाइड्रोजनेज नाम के एक एंजाइम की पर्याप्त कमी होती है, जो इथेनॉल के मेटाबोलाइज़ में मदद करता है। इस कमी के कारण डायबिटीज से पीड़ित मरीज कम शराब पीने के बाद भी बिना-डायबिटीज वाले मरीजों की तुलना में ज़्यादा समय तक नशे में रहते हैं।

शराब और डायबिटीज के लक्षण

diabetes and alcohol

यह डिहाइड्रेशन, निम्न रक्त शर्करा स्तर और उच्च रक्त ट्राइग्लिसराइड स्तर के कारण डायबिटीज के लक्षणों को खराब कर सकती है, जो अग्नाशयशोथ का कारण भी बन सकती है। भारी मात्रा में शराब का सेवन करने वाले लोगों में टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा काफी हद तक बढ़ जाता है। डॉक्टरों के मुताबिक, हद से ज़्यादा शराब पीने से किसी व्यक्ति को उच्च रक्त शर्करा (हाइपरग्लेसेमिया) या निम्न रक्त शर्करा (हाइपोग्लाइसीमिया) की समस्या भी हो सकती है। उदाहरण के लिए, तीन गिलास वाइन पीने से ब्लड शुगर लेवल उतना ही बढ़ सकता है, जितना कि ब्रेड के चार स्लाइस खाने से। यह आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक होता है, क्योंकि इससे ज़्यादा समय तक रहने वाली स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है।

शराब भी नसों में नुकसान का कारण बनती है, जिससे दृष्टि हानि या अंधापन भी हो सकता है। साथ ही यह संतुलन और समन्वय को प्रभावित कर सकता है, जिससे बिना ठोकर खाए या हाथों और उंगलियों को सामान्य रूप से चलना मुश्किल हो जाता है। इस तरह डायबिटीज वाले मरीजों को बेहोश करने की क्रिया या कम समन्वय से गिरने या कार दुर्घटना जैसी स्थितियों का अनुभव होने की ज़्यादा संभावना रहती है। ऐसे में शराब पीने से जुड़े कई जोखिमों के कारण इसे दैनिक आदत बनाने के बजाय खास मौकों पर शराब की खपत को सीमित करना एक सबसे अच्छा तरीका है।

शराब और संवेदनशीलता

आपको एक बार शराब पीने के बाद होने वाले प्रभावों के लिए डायबिटीज ज़्यादा संवेदनशील बनाने का काम करती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि जब आप शराब का सेवन करते हैं, तो यह रक्तप्रवाह में अवशोषित हो जाती है और लीवर में भेज दी जाती है, जहां इसे संसाधित किया जाता है। डायबिटीज के मरीजों में डिहाइड्रोजनेज नाम के एक एंजाइम की पर्याप्त कमी पाई जाती है, जो इथेनॉल को चयापचय करने में मदद करता है। इसके कारण लोग कम शराब पीने के बाद लंबे समय तक नशा महसूस करते हैं।

डायबिटीज को भी नसों में खराबी का प्रमुख कारण माना जाता है, जो दृष्टि हानि, अंधेपन, संतुलन और समन्वय को बहुत ज़्यादा प्रभावित कर सकती है। इसकी वजह से किसी व्यक्ति के लिए बिना ठोकर खाए या हाथों और उंगलियों को सामान्य रूप से चलाना मुश्किल हो जाता है। इस तरह डायबिटीज से पीड़ित मरीजों को बेहोश करने की क्रिया और कम समन्वय के कारण गिरने या कार दुर्घटना जैसी स्थिति महसूस होने की संभावना ज़्यादा हो सकती है।

डायबिटीज की वजह से शरीर द्वारा पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं किया जाता है। साथ ही कई बार शरीर इंसुलिन को उचित तरीके से इस्तेमाल नहीं कर पाता है और समय पर उपचार नहीं किये जाने से यह गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकता है। ज़्यादा शराब का सेवन लोगों ऐसे लोगों में टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम बढ़ाता है। जबकि, ज़्यादा मात्रा में किये गये शराब के सेवन से किसी व्यक्ति को हाइपरग्लाइसीमिया या हाइपोग्लाइसीमिया की समस्या भी हो सकती है।

शराब और गर्भकालीन (जेस्टेशनल) डायबिटीज

alcohol and gestational diabetesगर्भावस्था के दौरान शराब पीने वाली महिलाओं को गर्भकालीन (जेस्टेशनल) डायबिटीज जैसी कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं होने की संभावना होती है। गर्भपात या मृत जन्म, जन्म के समय कम वजन के शिशु, शारीरिक और मानसिक अक्षमता या एक संभावित गंभीर स्थिति को आमतौर पर फेटल अल्कोहल सिंड्रोम यानी एफएएस के नाम से जाना जाता है। एफएएस अक्सर उन बच्चों में होने की ज़्यादा संभावना होती है, जिनकी माताएं गर्भावस्था के दौरान भारी मात्रा में शराब पीती हैं। ऐसे पांच में से चार बच्चे किसी न किसी तरह की कमी या विकृति के साथ पैदा होते हैं। साथ ही उनके चेहरे की विशेषताएं विकृत होने के साथ ही  सामान्य से छोटी भी होती हैं।

एफएएस पैदा करने के अलावा गर्भावस्था के दौरान ज़्यादा मात्रा में शराब पीने से मानसिक मंदता के अन्य प्रकारों के साथ-साथ बाद में बचपन में विकास संबंधी समस्याएं भी पैदा हो सकती हैं। यही कारण है कि डॉक्टरों द्वारा गर्भवती महिलाओं को कभी भी शराब नहीं पीने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा गर्भवती होने की इच्छा रखने वाली महिलाओं को कम से कम मात्रा में शराब का सेवन करना चाहिए।

शराब और रक्त शर्करा स्तर

alcohol and blood sugar level

शराब और रक्त शर्करा का स्तर एक खतरनाक मिश्रण होता है। बहुत ज़्यादा शराब पीने की वजह से आपके रक्त शर्करा का स्तर बढ़ सकता है, जो किसी व्यक्ति के शरीर में डायबिटीज का कारण बनता है। डायबिटीज वाले लोगों के लिए सबसे आम जटिलताओं में से एक दिल की बीमारी है। यह समस्या किसी व्यक्ति की मौत का प्रमुख कारण बनती है। साथ ही डायबिटीज के कारण नसों में खराबी, गुर्दे का काम नहीं करना अंधेपन का संभावित खतरा भी बढ़ जाता है।

अल्कोहल आपके रक्त शर्करा के स्तर को दो अलग-अलग तरीकों से बढ़ाता है। यह आपके शरीर द्वारा इकट्ठा किए गए ग्लूकोज को छोड़ने के तरीके में रुकावत पैदा कर सकता है। साथ ही साथ यह आपके लीवर की उस जमा की गई ग्लूकोज यानी ग्लाइकोजन का इस्तेमाल करने की क्षमता को भी कम कर सकता है। शराब भी उस तरह से रुकावट पैदा कर सकती है, जिस तरह से इंसुलिन ग्लूकोज को कोशिकाओं तक पहुंचने में मदद करता है। अगर आपको पहले से ही टाइप 2 डायबिटीज है, तो आपको इनमें से कोई भी समस्या हो सकती है। मोटे या ज़्यादा वजन वाले लोगों में डायबिटीज होने का सबसे ज़्यादा खतरा होता है।

कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि अगर आप बिल्कुल शराब का सेवन नहीं करते हैं, तो समय के साथ बहुत ज़्यादा शराब पीने से आपको डायबिटीज होने की संभावना बढ़ जाती है। हालांकि, कुछ अध्ययन हल्की शराब पीने और दिल की बीमारी के कम जोखिम के बीच एक उलटा संबंध दिखाते हैं, जो डायबिटीज से जुड़ा हुआ है। यह जानने के लिए ज़्यादा शोध की ज़रूरत है कि हल्की शराब असल में डायबिटीज से बचाती है या नहीं।

टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों के लिए जोखिम

risk for people with type 2 diabetesटाइप 2 डायबिटीज वाले लोग बहुत ज़्यादा शराब पीने से दिल की बीमारी और अन्य दिल से जुड़ी समस्याओं के विकास के जोखिम से घिरे होते हैं। इसका एक कारण यह है कि शराब की थोड़ी मात्रा भी इंसुलिन के काम में रुकावट पैदा कर सकती है, जिससे आपके लिए सामान्य रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखना कठिन हो सकता है। कई वर्षों के दौरान भारी मात्रा में शराब पीने से मोटापा, उच्च रक्तचाप और दिल की बीमारियों का कारण बनने जैसी समस्याएं हो सकती हैं, जो टाइप 2 डायबिटीज के लिए एक प्रमुख जोखिम कारक हैं। इसके अलावा दिल की बीमारी पैदा करने वाले अन्य कारक इसे बढ़ावा दे सकते हैं। अगर आपको पहले से ही दिल की बीमारी या डायबिटीज से संबंधित गंभीर स्थितियां हैं, तो शराब पीने से ज़्यादा गंभीर समस्याएं विकसित होने का आपका जोखिम बढ़ जाएगा।

शराब से डायबिटीज की संभावना

नियमित रूप से बहुत ज़्यादा शराब पीने वाले लोगों में टाइप 2 डायबिटीज  होने की संभावना ज़्यादा बढ़ जाती है। अध्ययन बताते है कि जो पुरुष एक हफ्ते में 25 या ज़्यादा मादक पेय पीते थे, उनमें शराब नहीं पीने वालों की तुलना में टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना 80 प्रतिशत ज़्यादा थी। हालांकि, अन्य अध्ययनों ने महिलाओं और पुरुषों के लिए एक जैसे नतीजे दिखाए हैं, जो एक हफ्ते में 14 से ज़्यादा पेय पीते हैं। शराब पीने से डायबिटीज मरीजों में उच्च रक्त शर्करा के स्तर को कम करने के लिए डिज़ाइन की गई दवाओं में भी रुकावट पैदा हो सकती है। यह साफतौर इन गंभीर जटिलताओं के होने की संभावना को बढ़ाता है। एक अध्ययन के मुताबिक, शराब नहीं पीने वालों को अपने डायबिटीज के लिए इंसुलिन उपचार की ज़रूरत होने की संभावना चार गुना ज़्यादा थी।

क्या शराब पीना आपके दिल के लिए अच्छा हो सकता है?

डॉक्टरों के मुताबिक, कम मात्रा में शराब आपके दिल के लिए अच्छी हो सकती है। इनमें रेड वाइन में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट की उच्च सामग्री से कुछ फायदे हो सकते हैं। जबकि, कुछ खाद्य और पेय पदार्थों में स्वाभाविक रूप से पाए जाने वाले पदार्थ भी कुछ बीमारियों को रोकने में मदद करते हैं। यह डायबिटीज या अन्य इंसुलिन से संबंधित समस्याओं के विकास में सुधार नहीं करता है। अगर आपको पहले से ही डायबिटीज है, तो शराब इन बीमारियों के जोखिम को कम करने का सबसे अच्छा तरीका नहीं है। धूम्रपान छोड़ने से दोनों स्थितियों में शराब पीने की तुलना में कहीं ज़्यादा फायदा होगा। ध्यान रहे कि डायबिटीज वाले लोगों को अपने रक्त शर्करा के स्तर के बारे में ज़्यादा सावधान रहने की ज़रूरत होती है। इसीलिए पीने का फैसला करते समय आपको अपने पूरे स्वास्थ्य और डायबिटीज मैनेजमेंट पर ध्यान देना होगा।

शराब से डायबिटीज पर नियंत्रण

नहीं, शराब से डायबिटीज को नियंत्रित नहीं किया जा सकता है। इससे भी ज़रूरी बात यह है कि आपका शरीर ज़्यादा मात्रा में शराब पीकर खुद को कैंसर या किसी अन्य गंभीर बीमारी से ठीक करने से ज्यादा डायबिटीज का इलाज नहीं कर सकता है। आपका लीवर अल्कोहल के ज़रिए स्तर को संसाधित करने में सक्षम हो सकता है, लेकिन यह आपके अग्न्याशय को फिर से इंसुलिन का उत्पादन करने में मदद नहीं करेगा। सेलुलर स्तर पर भारी शराब पीने से होने वाले नुकसान को पहले जैसा नहीं किया जा सकता है।

वाइन में कुछ एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो दिल की बीमारी और कुछ तरह के कैंसर से लड़ने के लिए जाने जाते हैं। हालांकि, यह प्रभाव शराब में गैर-अल्कोहल घटकों से प्राप्त होता है। खासतौर से यह रेस्वेराट्रोल अंगूर की खाल में पाया जाता है। बीयर, व्हाइट वाइन और डिस्टिल्ड अल्कोहल में रेस्वेराट्रोल बिल्कुल नहीं होता है। इसके अलावा इनमें से कोई भी फायदा उन व्यक्तियों पर लागू होने की संभावना नहीं है, जो भारी या ज़्यादा मात्रा में शराब पीते हैं। हद से ज़्यादा शराब पीने के बुरे प्रभाव इन मामूली फायदे वाले प्रभावों से कहीं ज़्यादा हैं, जो कई लोगों में औसत होता है।

क्या पूरी तरह शराब छोड़ना सही है?

ज़्यादातर विशेषज्ञ सलाह देते हैं कि अगर आपको लगता है कि आपके शराब पीने की मात्रा नियंत्रण से बाहर है या अस्वास्थ्यकर रूप से ज़्यादा है, तो आप पूरी तरह से शराब पीना बंद कर दें। अगर यह अभी आपके लिए कोई विकल्प नहीं है, तो अपने सेवन को आधा कर देने से भी शराब के सेवन से जुड़ी कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से बचाव में मदद मिल सकती है। याद रखें कि एक बार जब आप पीना शुरू कर देते हैं, तो इसे रोकना बहुत कठिन होता है, समय के साथ धीरे-धीरे अपने सेवन में कटौती करना बेहतर उपाय है। अगर आप पूरी तरह से शराब पीना बंद नहीं कर पा रहे हैं, तो ज़्यादा मात्रा में न लेकर इसे कम से कम मात्रा में लेने की कोशिश करें।

क्या वजन कम करने से शराब का असर कम होगा?

ध्यान रहे कि ज़्यादा मात्रा में वजन कम करने से पहले ही हो चुके सभी नुकसानों को पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता है। ऐसे में जब तक आप शराब पीते रहेंगे, आपके शरीर को पिछले सेवन के असर से उबरने का मौका नहीं मिलेगा। कुछ अध्ययनों से पता चला है कि भारी मात्रा में शराब पीने वाले मोटे लोगों को दिमाग के काम उसी तरह के बदलाव महसूस हो सकते हैं, जैसे अल्जाइमर की बीमारी वाले लोगों द्वारा महसूस किये जाते हैं। यह ज़्यादा शराब के इस्तेमाल से लाए गए वास्तविक जैविक बदलावों के बारे में बताता है।

शराब छोड़ने के फायदे – Alcohol Chhodne Ke Fayde 

शराब छोड़ने से न सिर्फ डायबिटीज का खतरा कम होता है, बल्कि कई स्वास्थ्य फायदे भी मिलते हैं, जैसे-

  • आपका लीवर फिर से सामान्य रूप से काम करना शुरू कर देगा और फालतू वसा को संसाधित करना शुरू कर देगा, जो समय के साथ आपके ज़रूरी अंगों के आसपास जमा हो गया है। इसका मतलब है कि किसी व्यक्ति में फैटी लीवर की बीमारी होने का खतरा कम है। ध्यान नहीं दिये जाने या बहुत लंबे समय तक अनुपचारित छोड़ दिये जाने पर यह सिरोसिस या लीवर कैंसर जैसी अन्य गंभीर समस्याओं को जन्म दे सकती है।
  • शरीर भोजन से ज़्यादा पोषक तत्वों को अवशोषित कर सकता है। इसे पहले अल्कोहल अणुओं को तोड़ने के लिए इतने सारे संसाधन खर्च नहीं करने होंगे और छोड़ने के कारण आपके इम्यून सिस्टम को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी।
  • आपका रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) और दिल की धड़कन सामान्य हो जाएगी। इससे आपके स्ट्रोक या दिल का दौरा पड़ने का जोखिम काफी कम हो जाएगा।
  • खराब का सेवन बंद करने से आपको बहुत थकान, चिड़चिड़ापन और डिहाइड्रेशन बहुत कम महसूस होगा। एक बार छोड़ने के बाद हैंगओवर से जुड़े शरीर पर बुरे प्रभाव लगभग ध्यान देने वाले नहीं होंगे। ऐसा इसलिए है, क्योंकि अब ज़्यादा शराब पीने से आपके लीवर पर गैर ज़रूरी दबाव नहीं डल रहा है।
  • शराब पीना जारी रखने से आपके हमेशा शराब पर निर्भर होने का जोखिम बना रहता है। आमतौर पर आपके दिमाग के केमिकल में बदलाव से लंबे समय तक ज़्यादा शराब पीने की आदत बनी रहती है। एक बार शराबबंदी के बाद शराब को रोकना बहुत मुश्किल हो सकता है। मज़बूत पारिवारिक, सामाजिक या पेशेवर दबाव के बावजूद भी आप जल्दी शराब छोड़कर इस जोखिम से पूरी तरह बच सकते हैं।

क्या शराब तनाव को कम करती है?

ज़्यादा तनाव से समय के साथ शरीर की केमिस्ट्री में कई बदलाव होते हैं। ऐसे में बहुत ज़्यादा तनाव लेने वाले लोगों को शराब के सेवन से कोई राहत नहीं मिलती है। ऐसा करने से आपके लीवर और दिल पर फालतू दबाव डलता है, जिससे स्थिति ज़्यादा खराब हो सकती है। इससे आप अन्य लोगों के साथ ज़्यादा चिड़चिड़ा और उतावला बरताव कर सकते हैं। बहुत ज़्यादा शराब से आपका जीवन समग्र रूप प्रभावित होता है। अगर आपको एक बार शुरू करने के बाद रुकने में परेशानी होती है, तो डॉक्टर से परामर्श करें।

शराब का सेवन करने वाले डायबिटीज के मरीजों को इन स्वास्थ्य समस्याओं के प्रभावों को जानना ज़रूरी है। सबसे ज़रूरी प्रभाव यह है कि इसे पीने से डायबिटीज से पीड़ित मरीजों में रक्त में शर्करा स्तर प्रभावित हो सकता है। अगर सही तरीके से निगरानी नहीं की जाए, तो यह गंभीर हो सकता है। इससे आप जान सकते हैं कि डायबिटीज के साथ शराब आपके शरीर को कैसे प्रभावित करती है या शराब पीने से पहले या बाद में किस तरह का भोजन किया जाना चाहिए और क्यों। खराब के सेवन और डायबिटीज की स्थिति को मैनेज करने के लिए अन्य टिप्स की जानकारी आगे के लेख में दी गई है, जिससे आपको कई समस्याओं से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है।

संतुलन में शराब के लिए टिप्स

डायबिटीज मरीजों के लिए शराब पीने के कुछ सुझाव निम्नलिखित हैं:

  • हाइड्रेटेड रहें- शराब पीने के समय से पहले, पीते वक्त और बाद में अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहें। पीने का पानी आपके रक्तप्रवाह में अल्कोहल की मात्रा को कम करने और पानी की कमी की समस्या को रोकने में मदद कर सकता है।
  • खाली पेट न पिएं- शराब में कैलोरी होती है, जो डायबिटीज वाले लोगों के लिए अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित में परेशानी का कारण बनती है। ऐसे में आपको पहले से ही भोजन कर लेना चाहिए, ताकि आपका शरीर शराब को ज़्यादा तेजी से तोड़ने में सक्षम हो।
  • संयम की कोशिश करें- डायबिटीज वाले लोगों को हर दिन शराब का एक से ज़्यादा पेय नहीं लेने की सलाह दी जाती है, ताकि कैंसर और दिल की बीमारी जैसी लंबे समय तक चलने वाली बीमारियों के उच्च जोखिम से गंभीर स्वास्थ्य जटिलताएं महसूस न हो। डॉक्टर से परामर्श करें, क्योंकि वह आपको दैनिक पेय की सही मात्रा के बारे में ज़्यादा बेहतर जानकारी दे सकते हैं।
  • अपनी सीमाएं जानें- शराब पीने के बाद अगर आपको चक्कर, अस्थिरता या कमजोरी महसूस हो, तो शराब का सेवन बंद कर दें। हालांकि, जब तक आप बेहतर महसूस नहीं करते हैं, तब ऐसा करना अच्छा है। इससे आपको इस बात का बेहतर अंदाजा हो सकता है कि आपके लिए शराब की कितनी मात्रा लेना सुरक्षित है।

मंत्रा केयर – Mantra Care

सामान्य से ज़्यादा शराब पीना आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है, खासकर जब आप डायबिटीज के मरीज हैं। शराब आपके रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाकर डायबिटीज के उपचार में रुकावट पैदा कर सकती है। ऐसे में किसी भी डायबिटीज के मरीज को शराब पीने से परहेज़ करना चाहिए। हालांकि, अगर वह शराब पीते भी हैं, तो इसकी बहुत कम मात्रा लें।

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free