रक्त शर्करा सारणी (ब्लड शुगर चार्ट) से डायबिटीज प्रबंधन – Blood Sugar Chart Se Diabetes Management

रक्त शर्करा सारणी

रक्त शर्करा सारणी (ब्लड शुगर चार्ट) क्या है? Blood Sugar Chart Kya Hai?

रक्त शर्करा सारणी

डायबिटीज जैसी पुरानी बीमारी को नियंत्रित और प्रबंधित करने में मदद के लिए रक्त शर्करा सारणी (ब्लड शुगर चार्ट) का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि रक्त शर्करा स्तर से संबंधित पूरी जानकारी आपको डायबिटीज की देखभाल करने और स्वस्थ जीवन जीने में मदद करती है।

रक्त शर्करा सारणी आपको बताती है कि रक्त शर्करा के उच्च या निम्न स्तरों का पता चलने पर आपको क्या करना चाहिए। आपके लिए यह बेहद जानना ज़रूरी है कि अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो इसका आपके जीवन पर क्या प्रभाव पड़ सकता है? रक्त शर्करा का स्तर कम या ज़्यादा (उच्च या निम्न) होने पर आपको किस तरह के लक्षण महसूस हो सकते हैं?

डायबिटीज एक पुरानी और गंभीर बीमारी है, जो हमारे शरीर द्वारा इस्तेमाल किये जाने वाले रक्त शर्करा के तरीके को प्रभावित करती है। रक्त शर्करा सारणी समय के साथ रक्त शर्करा के स्तर को ट्रैक करने का एक आसान तरीका है। यह आपको बताता है कि रक्त शर्करा का स्तर कब सबसे ज़्यादा या सबसे नीचा था। एक सामान्य रक्त शर्करा सारणी चार घंटे की होती है, जबकि एक गहन सारणी में आपके रात के घंटे भी शामिल होते हैं।

एक रक्त शर्करा सारणी से आपको यह पता लगाने में मदद मिल सकती है कि आपके उच्च या निम्न मूल्यों को क्या बढ़ाता है। साथ ही उन्हें भोजन, व्यायाम या दवाओं के साथ कैसे ठीक किया जा सकता है। अगर आप इंसुलिन या अन्य दवाएं ले रहे हैं, तो उनकी प्रभावशीलता पर नज़र रखने के लिए इससे काफी फायदा हो सकता है। आपके रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रण में रखने के लिए आपकी जीवन शैली में बदलाव करना ज़रूरी है, जिसके लिए आप रक्त शर्करा सारणी में दी गई जानकारी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

सामान्य रक्त शर्करा स्तर क्या है? Normal Blood Sugar Levels Kya Hai?

कभी-कभी आपके लिए जानना मुश्किल होता है कि सामान्य रक्त शर्करा स्तर क्या है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि असल में इसका कोई सामान्य मूल्य नहीं हैं। रक्त शर्करा स्तर की सीमा देखना और उनके मूल्यों की जानकारी के लिए डॉक्टर से परामर्श करना सबसे बेहतर है।

एक सामान्य खाली पेट रक्त शर्करा स्तर (फास्टिंग ब्लड शुगर लेवल) 70 और 100 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर (एमजी/डीएल) के बीच होता है। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के मुताबिक, किसी का रक्त शर्करा स्तर निम्नलिखित श्रेणियों में आना चाहिए:

सामान्य रक्त शर्करा क्या है

इसका मतलब है कि कम से कम आठ घंटे तक कुछ नहीं खाने के बाद 126 या इससे ज्यादा रक्त शर्करा स्तर डायबिटीज है। इंसुलिन लेने वाले लोगों में यह संख्या बहुत कम होगी, क्योंकि इंसुलिन आपके शरीर को रक्त शर्करा पर नियंत्रण रखने में मदद करता है। फिर भले ही आपने आठ घंटे से कुछ नहीं खाया हो। डायबिटीज का निदान तब तक नहीं किया जा सकता है, जब तक आपका रक्त शर्करा लगातार 126 मिलीग्राम/डीएल से ज़्यादा न हो। तब भी जब आप इसे नियंत्रित करने के लिए इंसुलिन ले रहे हों।

141 से 160 मिलीग्राम/डीएल = उच्च रक्त शर्करा

इस संख्या से ऊपर = बहुत ज़्यादा रक्त शर्करा से कोमा में जाने की संभावना होती है, जिसके लिए तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना ज़रूरी है।

खाने के दो घंटे के बाद रक्त शर्करा स्तर 90 और 130 मिलीग्राम/डीएल के बीच होता है। हालांकि, दोबारा रक्त शर्करा स्तर के सामान्य मूल्य नहीं होते हैं। खाने के बाद आपके फास्टिंग टेस्ट पर प्री-डायबिटीज श्रेणी में आने पर डॉक्टर बता सकते हैं कि अगर आपकी रीडिंग उच्च श्रेणी में रहती है तो आपको प्री-डायबिटीज या डायबिटीज भी है।

रक्त शर्करा सारणी और डायबिटीज – Blood Sugar Chart Aur Diabetes

यह सारणी आपके खाली पेट रक्त शर्करा स्तर यानी फास्टिंग ब्लड शुगर लेवल को रिकॉर्ड करती है। आपको खाने, पीने या व्यायाम से पहले इसे भरना चाहिए। अगर आपको डायबिटीज के लक्षण हैं, तो आप दिन में किसी भी समय रीडिंग ले सकते हैं। एक रक्त शर्करा सारणी नियमित रक्त परीक्षणों में सबसे बेहतर है, जिसे नियमित स्वास्थ्य जांच के हिस्से के तौर पर किया जा सकता है। ब्लड शुगर सारणी बताती है कि आपका डायबिटीज कितनी अच्छी तरह से प्रबंधित है। यह डायबिटीज के प्रबंधन या सामान्य स्वास्थ्य उद्देश्यों के लिए ज़रूरी जानकारी भी देती है। यह एक आसान प्रक्रिया है, जिसके लिए आपको अपने रक्त से एक रीडिंग लेकर एक चार्ट पर रखना होता है।

रक्त शर्करा की निगरानी डायबिटीज से पीड़ित लोगों के साथ ही बीमारी के जोखिम वाले लोगों की व्यक्तिगत जानकारी देती है, जिससे उनकी स्थिति को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। साथ ही आप समझ सकते हैं कि उनके शरीर में अलग-अलग खाद्य पदार्थ कैसे काम करते हैं और कौन-सी गतिविधियां उनके शर्करा स्तर को प्रभावित करती हैं। रक्त शर्करा सारणी से आप जान सकते हैं, कि कुछ खाद्य पदार्थों या गतिविधियों का आपकी शारीरिक प्रतिक्रिया पर क्या असर होता है। यह किसी व्यक्ति में निम्न रक्त शर्करा यानी हाइपोग्लाइसीमिया के बारे में बताता है, जिसके लिए शारीरिक गतिविधि ज़रूरी है।

रक्त शर्करा सारणी आपको उच्च रक्त शर्करा यानी हाइपरग्लेसेमिया से पीड़ित होने की जानकारी देती है, जिसका मतलब है कि आपके डायबिटीज के उपचार में बदलाव की ज़रूरत है। इसके लिए आप ग्लूकोज मीटर का इस्तेमाल कर सकते हैं, जिससे एक खाद्य डायरी रखने से भोजन योजना, भोजन के हिस्से को एडजस्ट करने और रक्त शर्करा स्तर पर भोजन के प्रभाव के बारे में सीखने के लिए ज़रूरी जानकारी मिलती है।

यह डायबिटीज के प्रबंधन में कैसे मदद करता है?

जितना ज़्यादा आप अपने रक्त शर्करा के स्तर के बारे में जानेंगे, आप अपने डायबिटीज की देखभाल करने और स्वस्थ जीवन जीने के लिए उतने ही बेहतर तरीके से तैयार होंगे। इसके लिए आप एक रक्त शर्करा सारणी बना सकते हैं, जिसमें कम से कम दो हफ्ते के लिए हर दिन तीन या चार रक्त शर्करा की रीडिंग शामिल हो। अगर आप इसके लिए मीटर का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो सुबह खाली पेट सबसे पहले परीक्षण करना सबसे अच्छा है। साथ ही उन दिनों में भोजन से पहले और बाद में जब आप कम सक्रिय होते हैं।

आपको उच्च स्तर के समय और निम्न स्तरों के समय को देखकर हर हफ्ते अपने पैटर्न का मूल्यांकन करना चाहिए। कई बार ज़्यादा खाने या व्यायाम की वजह से उच्च मूल्य इंसुलिन के ज़्यादा होने का संकेत दे सकते हैं। जबकि, कम मूल्यों का मतलब पूरे दिन में पर्याप्त भोजन नहीं होना हो सकता है। भोजन के बाद उच्च स्तर का पैटर्न बताता है कि आपकी दवा ठीक से काम नहीं कर रही है।

उच्च रक्त शर्करा स्तर (हाइपरग्लाइसीमिया) – High Blood Sugar Level (Hyperglycemia)

अगर आपके शरीर में रक्त शर्करा का स्तर 240 मिलीग्राम/डीएल से ऊपर है, तो इसका मतलब है कि आपको तुरंत चिकित्सा सहायता लेने की ज़रूरत है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि अनुपचारित रहने पर यह अंगों में खराबी की मुख्य वजह बन सकता है। कई लक्षणों की पहचान करके डायबिटीज का पता लगाया जा सकता है, जिनमें लगातार प्यास लगना, बार-बार पेशाब आना, धुंधली दृष्टि या धुंधली नज़र शामिल हैं। ध्यान रखें कि 40 से ज़्यादा उम्र के वयस्कों को डायबिटीज हो सकता है, जिन्होंने लगभग 230 मिलीग्राम/डीएल पर तेज प्यास लगने जैसे लक्षणों को पहले कभी महसूस नहीं किया है।

अगर रक्त शर्करा का स्तर 180 और 239 के बीच है, तो आप एक साधारण भोजन या पेय के साथ इलाज इसका कर सकते हैं। इसमें 15 ग्राम कार्बोहाइड्रेट और दो से चार औंस रस होता है। अगर आप इंसुलिन लेते हैं, तो सामान्य मात्रा का आधा ही लें। ऐसे लोगों को तब तक कोई अन्य खुराक नहीं लेनी चाहिए, जब तक आप अपने डॉक्टर से बात आगे की प्रक्रिया के बारे में बात नहीं कर लेते हैं।

निम्न रक्त शर्करा स्तर (हाइपोग्लाइसीमिया) – Low Blood Sugar Level (Hypoglycemia) 

what to do when blood sugar levels are low

अगर किसी व्यक्ति के शरीर में रक्त शर्करा का स्तर बहुत कम या 80 मिलीग्राम/डीएल से कम है, तो उसे निम्न रक्त शर्करा यानी हाइपोग्लाइसीमिया के नाम से जाना जाता है। ऐसे व्यक्तियों को किसी तरह के फास्ट-एक्टिंग कार्बोहाइड्रेट भोजन जैसे सोडा क्रैकर्स, ग्लूकोज की गोली, फलों का रस या हार्ड कैंडी खाने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा आप साबुत अनाज की रोटी और जटिल कार्ब्स वाले खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं, क्योंकि यह रक्त शर्करा के स्तर को धीरे-धीरे घंटों तक बढ़ाते हैं।

ऐसी स्थिति में आपके लिए 30 मिनट के अंदर भोजन करना ज़रूरी होता है, जो आपके रक्त शर्करा स्तर को बढ़ाने में मदद करता है। डायबिटीज से मरीजों को एक स्वस्थ और अच्छी तरह से संतुलित आहार खाना चाहिए। इनमें साबुत अनाज, फल, सब्जियां और कम वसा वाले डेयरी उत्पाद शामिल हैं, क्योंकि इनसे पूरे दिन रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में मदद मिलती है। अगर आपने कुछ समय से कुछ नहीं खाया है, तो हाइड्रेटेड रहने के लिए फ्रूट जूस या नॉन-डाइट सोडा पिएं। ऐसे लोगों को बहुत ज़्यादा पानी पीने से बचना चाहिए, क्योंकि इससे समस्याएं हो सकती हैं कि आपकी किडनी कैसे अपशिष्ट को संसाधित करती है।

रक्त शर्करा सारणी कैसे बनाएं? Blood Sugar Chart Kaise Banayein?

check blood sugar chart

डायबिटीज वाले व्यक्ति को स्वस्थ और संतुलित आहार खाने की सलाह दी जाती है। इसमें दिनभर रक्त शर्करा स्तर को बनाए रखने वाले खाद्य पदार्थ शामिल हैं, जैसे साबुत अनाज, फल, सब्जियां और कम वसा वाले डेयरी उत्पाद आदि। इसके अलावा, आपको डायबिटीज विशेषज्ञ डॉक्टर से नियमित जांच करानी चाहिए, क्योंकि इससे डायबिटीज से पीड़ित लोगों को उनकी बीमारी से होने वाली समस्याओं से बचने या देरी करने में मदद मिल सकती है। डायबिटीज वाले किसी भी व्यक्ति के लिए हार्मोन से जुड़ी समस्याओं और बीमारियों के डॉक्टर (एंडोक्रिनोलॉजिस्ट), रक्त वाहिकाओं के काम से जुड़ी बीमारियों में विशेषज्ञता वाले डॉक्टर (वैस्कुलर स्पेशलिस्ट), किडनी डॉक्टर (नेफ्रोलॉजिस्ट) या कई तरह की बीमारियों का इलाज करने वाले डॉक्टर या सामान्य चिकित्सक से देख-रेख ज़रूरी है। यह ऐसी समस्याएं हैं, जिनके लिए व्यक्ति को किसी तरह की सर्जरी ज़रूरत नहीं पड़ती है।

ग्लूकोज मीटर से रक्त शर्करा स्तर की जांच – Glucose Meter Se Blood Sugar Level Test

रक्त शर्करा स्तर का पता लगाने के लिए जांच के कई तरीके हैं, लेकिन सबसे पहले आपको यह जानना चाहिए कि कौन सा मीटर आपको सूट करेगा। कुछ मीटर सटीक रीडिंग देते हैं, लेकिन इन्हें इस्तेमाल करना मुश्किल है। उपकरण की कीमत एक अन्य कारक है, जिसके बारे में सोचने की ज़रूरत है। बाजार में कई अलग-अलग तरह के ग्लूकोज मीटर आसानी से मिल जाते हैं, जिनकी कीमत 20 से 300 डॉलर से ज़्यादा है। इसीलिए, कोई भी सामान खरीदने से पहले इनकी कीमत जान लें।

इसके अलावा आपको ग्लूकोज मीटर का सही तरीके से इस्तेमाल सीखना ज़रूरी है, जिसे आप चुन रहे हैं। इससे बिल्कुल सटीक रीडिंग लेने में मदद मिल सकती है। हालांकि, ग्लूकोज मीटर कीटोन के लिए परीक्षण के बजाय सिर्फ रक्त शर्करा की जांच करते हैं। इसीलिए, अगर डॉक्टर आपको कीटोन्स की जांच करने की सलाह देते हैं, तो उनसे पूछना सुनिश्चित करें कि आपको किस मीटर का इस्तेमाल करना चाहिए। आगे के लेख में आप जानेंगे कि आप रक्त शर्करा सारणी का इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं और इसे भरते समय आपको क्या देखना चाहिए।

अगला कदम आपका डॉक्टर के पास जाना है, जो आपके लिए खास इंसुलिन टेस्टिंग स्ट्रिप्स, एक ग्लूकोमीटर और एक लॉगबुक लिख सकते हैं। यह उपकरण आपको समय के साथ और ज़रूरत के हिसाब से सक्षम बनाता है, जिससे आप घर पर ग्लूकोज़ लेवल की सटीक निगरानी कर सकते हैं। ब्रेड, अनाज, पास्ता, चावल या फलों के रस जैसे कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थ खाने से रक्त शर्करा स्तर (ब्लड ग्लूकोज लेवल) बढ़ जाता है। इसके अलावा बहुत सारे कारक आपके रक्त शर्करा स्तर को बदल सकते हैं, जिसमें खाने की मात्रा, प्रकार और शारीरिक गतिविधि शामिल हैं। रक्त शर्करा सारणी के इस्तेमाल से आप यह देख सकते हैं कि अलग-अलग खाद्य पदार्थ आपके रक्त शर्करा स्तर को कैसे प्रभावित करते हैं।

खाने से पहले और बाद में रक्त शर्करा स्तर – Khane Se Pehle Aur Baad Mein Blood Sugar Level

खाने से पहले और बाद में रक्त शर्करा स्तर

रक्त शर्करा स्तर जांचने से पहले किसी व्यक्ति को कुछ भी खाने से परहेज़ करने की सलाह दी जाती है। हालांकि, ज़रूरत पड़ने पर आप कुछ खाद्य या तरल पदार्थों की कम मात्रा ले सकते हैं, जैसे टोस्ट, क्रैकर्स या फलों का रस। अगर आप सुबह अपना ब्लड शुगर लेवल चेक करते हैं, तो उठने के ठीक बाद जांच करने के बजाय जागने के दो घंटे बाद या नाश्ते के बाद तक इंतज़ार करें। सोते समय रक्त शर्करा स्तर सुबह की तुलना में अलग होता है। सटीक नतीजों के लिए तब ग्लूकोज परीक्षण करें, जब आपका शरीर सामान्य हो।

इसका मतलब है कि आपने परीक्षण के 8 से 12 घंटे पहले कुछ नहीं खाया हो। साथ ही परीक्षण से ठीक पहले डायबिटीज की दवाएं या इंसुलिन शॉट नहीं लिए हैं। टेस्ट स्ट्रिप को शीशी से बाहर निकालने के 20 मिनट के अंदर रक्त शर्करा की जांच करना ज़रूरी है, क्योंकि अगर स्ट्रिप पर बुलबुले बनते हैं, तो यह गलत नतीजे दे सकता है। ऐसे में सुनिश्चित करें कि शीशी खोलने से पहले सारी हवा बाहर निकल जाए। अगर रक्त शर्करा स्तर बहुत कम है, तो भोजन योजना की शुरूआत और दोबारा परीक्षण से पहले आपकी रक्त शर्करा बढ़ने का इंतज़ार करें। ऐसे में डॉक्टर को आपके ए1सी लेवल की जांच करके यह जानना चाहिए कि आपको गुर्दे की बीमारी है या नहीं।

हालांकि, आहार और व्यायाम पर नज़र रखने के लिए आप डॉक्टर की इजाज़त से फूड डायरी या इलेक्ट्रॉनिक कैलोरी काउंटर रख सकते हैं। यह बताता है कि दिन के दौरान आप कितनी गतिविधि कर रहे हैं और इसका आंकलन करने के साथ आप क्या खा रहे हैं। खाद्य रिकॉर्ड जानकारी देते हैं कि कितनी कैलोरी का सेवन किया जा रहा है, जिससे लोगों को ज़रूरत पड़ने पर आहार और व्यायाम में बदलाव करने में मदद मिलती है।

रक्त शर्करा सारणी से आहार योजना में मदद – Blood Sugar Chart Se Diet Plan Mein Help

रक्त शर्करा सारणी यह जानने में मदद करती है कि कौन-से खाद्य पदार्थ आपके लिए फायदेमंद हैं और कौन-से नहीं। डायबिटीज के मरीज इससे तय कर सकते हैं कि किसी खास समय पर उनके लिए सबसे अच्छा क्या है, जैसे- रक्त शर्करा ज़्यादा होने पर आप कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं। ऐसा इसलिए है, क्‍योंकि उचित संतुलित भोजन से रक्त शर्करा को नियंत्रित किया जा सकता है। अगर आपकी रक्त शर्करा का स्तर कम है, तो कार्बोहाइड्रेट से भरपूर स्नैक्स खाना इसे दोबारा सामान्य करने के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

डायबिटीज वाले लोगों में भाग का आकार दुसरे व्यक्तियों की तुलना में अलग होता है। जबकि, एक इलेक्ट्रॉनिक कैलोरी काउंटर इन मात्राओं को माप सकता है। किसी व्यक्ति को दिन में कम से कम चार बार रक्त शर्करा का स्तर मापने की सलाह दी जाती है। अगर किसी व्यक्ति के लिए पहली बार डायबिटीज का निदान किया जा रहा है, तो ज़्यादातर डॉक्टर खाने से पहले, खाने के एक घंटे बाद और रात को सोने से पहले दो घंटे बाद में रीडिंग लेने का सुझाव देते हैं। नतीजों को लिखने से आपको यह जानने में मदद मिलती है कि कौन-से खाद्य पदार्थ आपके रक्त शर्करा को सबसे ज़्यादा प्रभावित करते हैं।

हालांकि, कुछ दवाएं रक्त शर्करा स्तर को प्रभावित करने वाले खाद्य पदार्थों का तरीका बदल सकती हैं। इसीलिए, कुछ भी खाने से पहले डॉक्टर से परामर्श करें। रक्त शर्करा सारणी आपके द्वारा खाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट के बारे में बताती है। कार्बोहाइड्रेट की गिनती डायबिटिक लोगों की बीमारी बेहतर तरीके से नियंत्रित करने में मदद करती है। खासतौर से तब, जब किसी को ज़्यादा गंभीर डायबिटीज हो या कोई इंसुलिन इंजेक्शन ले रहा हो।

निष्कर्ष – Nishkarsh

डायबिटीज में आपका शरीर पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है। ऐसे में यह जानना बहुत ज़रूरी है कि आप कितने कार्ब्स खा रहे हैं। ज़्यादा कार्बोहाइड्रेट ऊर्जा में बदलने से पहले रक्तप्रवाह में रहता है, जिससे रक्तप्रवाह में शर्करा स्तर बढ़ जाता है। इससे रेटिनोपैथी, नेफ्रोपैथी, न्यूरोपैथी, उच्च रक्त वाहिका रोग (हाई ब्लड वेसल डिजीज) और दिल की बीमारी जैसी समस्याएं होती हैं। डायबिटीज से पीड़ित लोगों को अपने रक्त शर्करा पर नियंत्रण रखना ज़रूरी है। इसके लिए सबसे अच्छा तरीका एक नियमित भोजन योजना का पालन करना है, जिसमें आपकी व्यक्तिगत ज़रूरतों और प्राथमिकताओं का पूरा ध्यान रखा जाता है।

लेख में दी गई रक्त शर्करा सारणी आपको बताती है कि अगर आपको टाइप 1 या टाइप 2 डायबिटीज है और आप इंसुलिन का इंजेक्शन नहीं ले रहे हैं, तो आपके द्वारा दिन के दौरान अलग-अलग समय पर कार्बोहाइड्रेट का कितना सेवन किया जा सकता है। आपकी विशेष बीमारी के लिए कौन-से खाद्य पदार्थ अच्छा काम करेंगे, इसके बारे में पेशेवरों से सलाह लेने के लिए आज ही हमसे जुड़ें।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free