डायबिटीज के लिए प्राकृतिक उपचार (नेचुरल रेमेडी) के विकल्प – Diabetes Ke Liye Natural Remedies Ke Options

डायबिटीज के लिए प्राकृतिक उपचार

डायबिटीज क्या है? Diabetes Kya Hai?

डायबिटीज

अगर आप डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं, तो डायबिटीज के लिए प्राकृतिक उपचार (नेचुरल रेमेडी) के विकल्प मौजूद हैं। इन विकल्पों की मदद से डायबिटीज को आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है। आमतौर पर इस बीमारी में आपका शरीर इंसुलिन बनाने या इस्तेमाल करने में असमर्थ होता है। इंसुलिन अग्नाशय में बनने वाला एक हार्मोन है, जो भोजन से शर्करा यानी ग्लूकोज को आपकी कोशिकाओं तक पहुंचाने में मदद करता है। कोशिकाएं ग्लूकोज को ऊर्जा में बदलने का काम करती हैं, जिसका इस्तेमाल शरीर द्वारा ईंधन के तौर पर किया जाता है।

पर्याप्त इंसुलिन नहीं होने के कारण आप टाइप 1 डायबिटीज से पीड़ित हो सकते हैं। ऐसे में आपके शरीर में इंसुलिन की कमी हो जाती है, जिससे रक्त में ग्लूकोज की मात्रा बहुत ज़्यादा बढ़ जाती है। इस स्थिति को अक्सर उच्च रक्त शर्करा या हाइपरग्लाइसीमिया के नाम से जाना जाता है। अगर समय पर इलाज नहीं किया जाए या इसे अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो रक्त शर्करा का उच्च स्तर समय के साथ डायबिटीज की जटिलताएं पैदा कर सकता है। लेख में आपको डायबिटीज के लिए प्राकृतिक उपचार से संबंधित कई ज़रूरी जानकारी दी गई है।

डायबिटीज के लक्षण – Diabetes Ke Lakshan

डायबिटीज के लक्षण

डायबिटीज के कई अलग-अलग लक्षण और संकेत हैं, जिनके इस्तेमाल से आपको इस स्थिति को पहचानने में मदद मिल सकती है। इन लक्षणों में शामिल हैं-

  • थकान का अनुभव
  • वजन कम होना या बढ़ना
  • लगातार प्यास लगना
  • बार-बार पेशाब आना
  • धुंधली दृष्टि
  • योनि या लिंग में इंफेक्शन (कैंडिडिआसिस या कैंडिडा इंफेक्शन)
  • देर से ठीक होने वाले घाव
  • पेट में ट्यूब डालने जैसे हिस्सों में त्वचा का टूटना। यह खासतौर से उन डायबिटीज के मरीजों में पोषण (एंटराइटिस) देने के लिए है, जिन्हें इंसुलिन इंजेक्शन थेरेपी की ज़रूरत होती है।

डायबिटीज का निदान – Diabetes Ka Nidan

निदान

ज़्यादातर लोगों को प्रभावित करने वाली डायबिटीज एक पुरानी बीमारी है। इसमें अग्न्याशय द्वारा पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं किया जाता है। कई बार डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति के शरीर की कोशिकाएं इस पर प्रतिक्रिया नहीं करती हैं। इंसुलिन आपकी दैनिक गतिविधियों के लिए ग्लूकोज को ऊर्जा में बदलने में मदद करता है। इससे आपको उच्च रक्त शर्करा के स्तर से पीड़ित होने के बजाय दिनभर काम करने की ऊर्जा मिलती है। आसान परीक्षणों से फास्टिंग प्लाज्मा ग्लूकोज (एफपीजी) स्तर और पोस्टप्रैन्डियल ब्लड ग्लूकोज (पीपीबीजी) की जांच की जाती है, जिससे किसी भी व्यक्ति के लिए डायबिटीज का निदान किया जा सकता है।

अगर यह दोनों 200 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर (एमजी/डीएल) से ज़्यादा हैं, इसका मतलब है कि आप डायबिटीज से पीड़ित हैं। सामान्य व्यक्ति में एफपीजी 100 से 125 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर के बीच और पीपीबीजी भोजन के बाद 180 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर से नीचे होना चाहिए। इसके अलावा हीमोग्लोबिन ए1सी (ग्लाइकेटेड हीमोग्लोबिन) और लिपिड प्रोफाइल आदि अन्य परीक्षण के नतीजे डायबिटीज के प्रकार और गंभीरता को जानने में मदद कर सकते हैं। डायबिटीज का निदान रक्त शर्करा के स्तर को मैनेज करने के लिए पहला कदम है। हालांकि, प्राकृतिक उपचार भी डायबिटीज के निदान में आपकी मदद कर सकते हैं।

प्राकृतिक उपचार के विकल्प – Natural Remedies Ke Vikalp

डायबिटीज वाले ज़्यादातर लोग इलाज के लिए प्राकृतिक उपचार का इस्तेमाल करना पसंद करते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि उनमें रसायन या एडिटिव्स नहीं होते हैं। इसके अलावा यह फार्मास्युटिकल दवाओं की तुलना में ज़्यादा सुरक्षित भी होते हैं। डायबिटीज व्यक्ति में कई गंभीर जटिलताओं का कारण बनती है, जैसे दिल की बीमारी स्ट्रोक। नीचे दिए कुछ बेहतरीन प्राकृतिक उपचार डायबिटीज को नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकते हैं:

बादाम

Almonds as natural remedy for diabetesडायबिटीज से पीड़ित लोगों को रोज़ाना मुट्ठी भर बादाम का सेवन करने की सलाह दी जाती है। बादाम में अच्छी वसा मौजूद होती है, जो आपके शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध और ऊतकों की सूजन को कम करती है। इसमें आपके दिमाग की कोशिकाएं भी शामिल हैं, जो ग्लूकोज के मेटाबॉलिज़्म को नियंत्रित करती हैं। नियमित रूप से बादाम खाने वाले लोग अपने रक्त में शर्करा स्तर (ग्लूकोज लेवल) को आसानी से नियंत्रित कर सकते हैं। विशेषज्ञों की मानें, तो काजू या अखरोट जैसे दूसरे मेवों की तुलना में बादाम ज़्यादा बेहतर होते हैं।

जैतून का तेल

जैतून का तेल

जैतून का तेल डायबिटीज के लिए प्राकृतिक उपचारों में शामिल अन्य बेहतरीन विकल्प है। इसमें ओलिक एसिड की ज़्यादा मात्रा होती है, जो एडिपोनेक्टिन के उत्पादन को बढ़ाता है। यह हार्मोन नियंत्रित करता है कि आपका शरीर ऊर्जा बनाने के लिए ग्लूकोज का इस्तेमाल कैसे करता है। साथ ही यह ग्लूकोज को भविष्य में इस्तेमाल के लिए वसा के रूप में इकट्ठा करता है। आमतौर पर यह तब होता है, जब कोई कार्ब्स मौजूद नहीं होते हैं। उदाहरण के लिए- व्यायाम के दौरान।

अगर आपको इंसुलिन प्रतिरोध की समस्या है, तो जैतून का तेल डायबिटीज की जटिलताएं रोकने में आपकी मदद कर सकता है। इन जटिलताओं में दिल की बीमारी और स्ट्रोक सहित कई दूसरी समस्याएं शामिल हैं। यह स्वाद में मूंगफली के मक्खन की तरह है, जिसे मक्खन और स्प्रेड की जगह खाना बनाने में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि इन दोनों में खराब कार्बोहाइड्रेट होते हैं, जिनसे अक्सर बचने की सलाह दी जाती है। ज़्यादा मात्रा में खाने पर यह रक्त में शर्करा के स्तर को बहुत ज़्यादा बढ़ा सकते हैं।

एलोवेरा

Aloevera as a natural remedy for diabetesदशकों से एलोवेरा का इस्तेमाल डायबिटीज के इलाज में एक प्राकृतिक उपचार के तौर पर किया जाता रहा है। इसमें मौजूद एंजाइम रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रित करते हैं। एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर एलोवेरा इंसुलिन प्रतिरोध में भी मदद करता है, जिसे इस बीमारी का मुख्य कारण माना जाता है।

एवोकाडो का तेल

Avocado Oilडायबिटीज वाले लोगों द्वारा एवोकाडो के तेल का सेवन करना बहुत फायदेमंद हो सकता है। स्वाद में बेहतरीन इस तेल में मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड होता है। यह एसिड प्लाज्मा आपके शरीर में ग्लूकोज का स्तर कम कर सकते हैं। इसके अलावा एवोकाडो में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण और उच्च एंटीऑक्सीडेंट सामग्री मौजूद होती है। डायबिटीज के लक्षणों दूर करने के लिए एवोकाडो का तेल सबसे बेहतर विकल्प हो सकता है।

ओकरा

यह अजीबो-गरीब सब्जी फाइबर, विटामिन बी-12 और अमीनो एसिड से भरपूर होती है, जो बेहतर रक्त शर्करा प्रबंधन और शर्करा के संसाधन में आपकी मदद करते हैं। ओकरा में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण इंसुलिन प्रतिरोध को रोकने में फायदेमंद साबित हो सकते हैं। इंसुलिन प्रतिरोध डायबिटीज के प्रमुख कारणों में से एक है।

अंगूर/नींबू का रस

अंगूर और नींबू का रस बायोफ्लेवोनोइड्स का एक बड़ा स्रोत है, जो आपके स्वास्थ्य को कई तरह के फायदेमंद प्रदान करता है। शोध से पता चला है कि अंगूर और नीबू का रस दोनों ही रक्त शर्करा का स्तर कम कर सकते हैं। साथ ही यह अल्फा-ग्लूकोसिडेस गतिविधियों को भी रोक सकते हैं। इसकी मदद से कोशिकाएं आपके रक्तप्रवाह से इंसुलिन को बेहतर तरीके से अवशोषित कर सकती हैं।

अजवायन का तेल/जैतून की पत्ती का अर्क

Oregano Oil as a natural remedy for diabetesअजवायन का तेल एक अन्य बेहतर एंटीऑक्सिडेंट है। शक्तिशाली एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर इस प्राकृतिक उपचार में कई बायोफ्लेवोनोइड्स भी होते हैं। जैतून की पत्ती का अर्क समय के साथ रक्त शर्करा का स्तर कम करने में आपकी मदद करता है। इसका इस्तेमाल उन लोगों के द्वारा भी किया जा सकता है, जो पहले से डायबिटीज के मरीज हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि इससे जीएलपी-I हार्मोन के उत्पादन को बढ़ाने में मदद मिलती है। आमतौर पर इस हार्मोन का काम किसी व्यक्ति के शरीर में इंसुलिन स्राव को उत्तेजित करता है।

मिर्च

स्वाद में तेज जैलेपीनो या केयेन जैसी मिर्च आपके स्वास्थ्य के लिए बहुद फायदेमंद हैं। इन मिर्चों को एंटीऑक्सिडेंट और कैप्साइसिन में उच्च माना जाता है, जिनसे रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद मिलती हैं। इनके थर्मोजेनिक प्रभाव आपके मेटाबॉलिज़्म को बढ़ावा देते हैं। अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो इनका सेवन करने से आपको कई फायदे हो सकते हैं।

हल्दी

Turmericहल्दी का सक्रिय यौगिक करक्यूमिन प्लाज्मा वसा कोशिकाओं को तोड़कर ट्राइग्लिसराइड्स को कम करता है। ऐसा इसलिए है कि यह धमनी की दीवारों पर एथेरोस्क्लेरोसिस की वजह से जमा नहीं हो सकते हैं। यह स्थिति दिल के दौरे और स्ट्रोक की वजह बनती है। हल्दी से इंसुलिन प्रतिरोध में भी सुधार होता है। यही कारण है कि इसका सेवन डायबिटीज के मरीजों के लिए अच्छा माना जाता  है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह प्राकृतिक औषधि शरीर में ग्लूकोज का उत्पादन कम करती है और रक्त शर्करा का स्तर घटाती है। इस मसाले की थोड़ी मात्रा टोफू या मांसयुक्त व्यंजन में शामिल की जा सकती है। सेवन करने के लिए आपको हल्दी नहीं भूननी चाहिए, क्योंकि गर्मी से इसके सुरक्षात्मक गुण खत्म हो जाते है।

दालचीनी

दालचीनी में मौजूद सिनामाल्डिहाइड आपके मेटाबॉलिज़्म को नियंत्रित करने में मदद करता है। यह आपके रक्त प्रवाह में ज़रूरत के हिसाब से इंसुलिन की ज़रूरत या किसी भी गड़बड़ को ठीक करती है। इससे प्लाज्मा ट्राइग्लिसराइड्स कम होता है, जो एलडीएल यानी खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करके एचडीएल यानी अच्छे कोलेस्ट्रॉल का उत्पादन बढ़ाता है। आपको कैसिया या साइगॉन प्रकार के बजाय सीलोन दालचीनी का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि उनमें कौमरीन की उच्च सामग्री होती है। कौमरीन एक प्राकृतिक यौगिक है, जिसे लीवर को नुकसान पहुंचाने के लिए जाना जाता है।

परिष्कृत कार्बोहाइड्रेट

इसमें सफेद ब्रेड, पास्ता और चावल शामिल हैं, क्योंकि यह रक्त शर्करा के स्तर को जल्दी बढ़ाते हैं। साबुत अनाज में मौजूद कार्बोहाइड्रेट, जैसे ब्राउन राइस या साबुत गेहूं की रोटी का सेवन करना डायिबिटीज वाले व्यक्ति के लिए बेहतर विकल्प है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह आपके रक्तप्रवाह में ग्लूकोज को ज़्यादा धीरे-धीरे छोड़ते हैं, जिससे आप ज़्यादा समय तक भरा हुआ महसूस करते हैं। यह आपको ज़्यादा खाने को रोकते हैं और इंसुलिन प्रतिरोध के जोखिम से आपको दूर रखते हैं। इनमें अच्छा फाइबर भी मौजूद होता है, जो आपके पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। इससे आपको कब्ज और अन्य आंतों से संबंधित समस्याओं से बचने में मदद मिल सकती है। इन समस्याओं में मोटापा भी शामिल है, जो डायबिटीज के विकास में योगदान देता है।

दालचीनी की चाय

Cinnamon Teaरोजाना एक बार दालचीनी की चाय पीने से आपको प्लाज्मा लिपिड सांद्रता को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। इसके सेवन से आपके स्वास्थ्य पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है। दालचीनी में कैटेचिन, पॉलीफेनोल्स और एपिक्टिन जैसे एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो खराब कोलेस्ट्रॉल यानी एलडीएल को कम करने में मदद करते हैं और अच्छे कोलेस्ट्रॉल यानी एचडीएल स्तर को बढ़ाते हैं।

जीनसेंग की चाय 

इसमें जिंटोनिन नाम का फाइटोकेमिकल होता है, जो किसी व्यक्ति के शरीर में इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ावा देता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि ग्लूकोज आपके रक्तप्रवाह में ज़्यादा समय तक रहता है। यह भोजन के बाद निम्न शर्करा स्तर यानी हाइपोग्लाइसीमिया की समस्या को कम करता है। इसके अलावा यह रक्त ग्लूकोज सांद्रता में अचानक होने वाले बदलाव को रोकता है। ओरल एंटीडायबिटिक एजेंटों का इस्तेमाल करने वाले डायबिटीज के मरीजों में यह बदलाव आम हैं।

जिनसेंग सेल को दोबारा बनने के लिए भी उत्तेजित करता है। यह अग्नाशयी आइलेट कोशिकाओं को किसी भी तरह के नुकसान से बचाता है। हालांकि, फ्री रेडिकल्स इस नुकसान का कारण बन सकते हैं। यह दिल से जुड़ी जटिलताओं के जोखिम को कम करता है। एथेरोस्क्लेरोसिस या उच्च रक्तचाप जैसी यह जटिलताएं आमतौर पर डायबिटीज से संबंधित होती हैं और समय पर इलाज नहीं किये जाने या अनुपचारित रहने पर गंभीर रूप ले सकती हैं।

शहद

Honey

अगर आपको टाइप 2 डायबिटीज है, तो यह प्राकृतिक उपचार आपके लिए सबसे ज़्यादा फायदेमंद हो सकता है। अध्ययनों से पता चलता है कि शहद के सेवन से एचडीएल-सी स्तर को प्रभावित किए बिना एलडीएल-कोलेस्ट्रॉल को कम किया जा सकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह एंडोथेलियल कोशिकाओं की गतिविधि को बढ़ाकर नाइट्रिक ऑक्साइड रिलीज़ करता है। यह कोशिकाएं आपकी रक्त वाहिकाओं को स्वस्थ रखती हैं। जबकि, यह यौगिक उन्हें पतला बनाता है। इससे यह लाल रक्त कोशिकाओं से ज़्यादा ऑक्सीजन ले सकते हैं। साथ ही यह सर्कुलेशन में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम करने में मदद करते हैं।

कई अध्ययनों से पता चलता है कि शहद के नियमित सेवन से सूजन, ऑक्सीडेटिव तनाव और इंसुलिन प्रतिरोध को भी कम करता है। यह सभी समस्याएं डायबिटीज के विकास से जुड़ी हैं। यह अल्फा-ग्लूकोसिडेस एंजाइम को रोकता है, जो कोशिका झिल्ली के ज़रिए अवशोषण के लिए बहुत बड़े ग्लूकोज अणुओं में स्टार्च पाचन को ट्रिगर करता है। यह डायबिटीज के मरीजों में देखी जाने वाली समस्या है। रोजाना 25 ग्राम या दो बड़े चम्मच का सेवन करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। आपको इसकी जगह सिंथेटिक स्वीटनर का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए, क्योंकि यह इंसुलिन स्राव को बढ़ाते हैं, जिससे आपके डायबिटीज विकसित करने का जोखिम भी बढ़ सकता है।

स्टिंगिंग बिछुआ

स्टिंगिंग बिछुआ डायबिटीज के प्राकृतिक उपचारों में शामिल अन्य विकल्प है, जिसमें लेक्टिन मौजूद होता है। यह एक प्राकृतिक यौगिक है, जो किसी व्यक्ति के शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकता है। यह अल्फा-ग्लूकोसिडेस एंजाइम को रोकता है। इसके अलावा यह स्टार्च को माल्टोज और डेक्सट्रोज जैसे शर्करा में तोड़ने के लिए भी जिम्मेदार होता है। इससे आपकी आंतों में अवशोषित शुगर की मात्रा को कम किया जा सकता है। यह इंसुलिन उत्पादन में स्पाइक्स को भी रोकता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि कम ग्लूकोज कोशिकाओं में जाता है और इसलिए यह ज़्यादा हार्मोन नहीं छोड़ते हैं।

अगर आप रोजाना दो बार तीन चम्मच ताजी जड़ वाली स्टिंगिंग बिछुआ की एक कप चाय पीते हैं, तो आपको प्लाज्मा ट्राइग्लिसराइड्स को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। यह एचडीएल सांद्रता को प्रभावित किए बिना या गलत प्रभाव डाले बिना एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। यह नकारात्मक प्रभाव आमतौर पर ओरल एंटीडायबिटिक एजेंटों की वजह से हो सकते हैं।

साबुत अनाज

Whole grain as a natural remedy for diabetesइनमें साबुत गेहूं, ब्राउन राइस और ओट्स शामिल हैं, जो आपके रक्तप्रवाह में ग्लूकोज को धीरे-धीरे छोड़ने में मदद करते हैं। इससे आप ज़्यादा समय तक भरा हुआ महसूस करते हैं। यह आपको ज़्यादा भोजन का सेवन करने से रोकता है और शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध का जोखिम कम करता है। इसके अलावा यह डायबिटीज के कारण होने वाली दिल की जटिलताओं को कम करता है, जिनमें एथेरोस्क्लेरोसिस या उच्च रक्तचाप जैसी समस्याएं शामिल हैं। साबुत अनाज में अच्छा फाइबर होता है, जो कब्ज और अन्य आंतों से संबंधित समस्याओं को रोकता है और पाचन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है। इनमें मोटापा भी शामिल है, जो किसी व्यक्ति में डायबिटीज के जोखिम को बढ़ावा देता है।

लहसुन का सूप

लहसून का सूप डायबिटीज का सबसे बेहतरीन प्राकृतिक उपचार है। इसके अलावा यह टाइप 2 डायबिटीज के लिए भी बहुत फायदेमंद है। एलिसिन की मौजूदगी वाला लहसुन सक्रिय तत्वों से भी भरपूर है, जो ट्राइग्लिसराइड्स के प्लाज्मा सांद्रता को कम करने में आपकी मदद करता है। यह एलडीएल-कोलेस्ट्रॉल को प्रभावित किए बिना बुरे प्रभाव को दूर रखता है और एचडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाता है। यह प्रभाव दस्त की तरह हैं, जो आमतौर पर ओरल एंटीडायबिटिक एजेंटों से जुड़े होते हैं।

फाइबर सप्लीमेंट

डायबिटीज के लिए इस्तेमाल होने वाला यह प्राकृतिक उपचार पौधे के अर्क हैं। इनमें ग्लूकोमैनन, ग्वार गम, साइलियम भूसी पाउडर, सेब पेक्टिन फाइबर, इन्यूलिन फाइबर और जाइलिटॉल शामिल हैं। इन सभी का डायबिटीज के मरीजों पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। यह आंतों की कोशिकाओं में ग्लूकोज के अवशोषण को रोककर रक्त से फालतू ग्लूकोज को हटाने में मदद करते हैं। यह दोबारा अवशोषित होने के बजाय डायबिटीज से जुड़ी दिल की जटिलताओं को कम करता है, जिनमें एथेरोस्क्लेरोसिस या उच्च रक्तचाप जैसी समस्याएं शामिल हैं।

रास्पबेरी के पत्ते की चाय

Raspberry Leaf Tea as a natural remedies for diabetesयह डायबिटीज के अन्य बेहतरीन प्राकृतिक उपचारों में से एक है, जो भोजन के बाद रक्त शर्करा का स्तर बढ़ने से रोकती है। यह उस दर को धीमा कर देता है, जिस पर भोजन आपके पाचन तंत्र से होकर गुजरता है। इससे आप लंबे समय तक भरा हुआ महसूस करते हैं, जिससे इंसुलिन प्रतिरोध में भी कमी आती है। अगर आप दिन में दो बार एक कप रास्पबेरी की पत्ती से बनी चाय पीते हैं, तो आपको प्लाज्मा ट्राइग्लिसराइड्स को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

स्टिंगिंग बिछुआ जड़ी बूटी

इसमें मौजूद लेक्टिन एक प्राकृतिक यौगिक है, जो रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में आपकी मद करता है। यह अल्फा-ग्लूकोसिडेस एंजाइम को रोकता है, जो स्टार्च को माल्टोज और डेक्सट्रोज जैसी शर्करा में तोड़ने के लिए जिम्मेदार है। यह आपकी आंतों में अवशोषित शुगर की मात्रा को कम करने में मदद करता है और इंसुलिन उत्पादन में स्पाइक्स को भी रोकता है। इससे कम ग्लूकोज आपकी कोशिकाओं में जाता है, जिससे हार्मोन के उत्पादन में कमी आती है।

डायबिटीज का उपचार – Diabetes Ka Upchar

डायबिटीज का इलाज करने के कई अलग-अलग तरीके हैं, लेकिन कोई मानक उपचार नहीं है। बीमारी का उपचार कई कारकों पर निर्भर करता है, जिनमें उम्र, शारीरिक स्वास्थ्य और आपकी गर्भावती हैं या नहीं, शामिल हैं। टाइप 1 डायबिटीज से पीड़ित लोगों को इंसुलिन इंजेक्शन की ज़रूरत होती है। जबकि, टाइप 2 डायबिटीज लोग आमतौर पर कुछ परहेज़ का पालन करके अपना रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रित कर सकते हैं। नीचे कुछ सामान्य उपचारों के बारे में बताया गया है, जिनका इस्तेमाल डायबिटीज के मरीजों द्वारा किया जा सकता है:

दवाएं

Medications टाइप 1  डायबिटीज वाले लोगों का शरीर इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर सकता है। इस स्थिति में उनके लिए रोज़ाना इंसुलिन के दो या ज़्यादा इंजेक्शन निर्धारित किए जाते हैं। कभी-कभी इंजेक्शन का इस्तेमाल टाइप 2 डायबिटीज वाले लोगों द्वारा रक्त शर्करा का स्तर नियंत्रित रखने के लिए किया जाता है। इससे उन्हें ज़रूरत के हिसाब से इंसुलिन का उचित स्तर बनाए रखने में मदद मिलती है। डायबिटीज के कुछ मरीज आहार और नियमित व्यायाम के साथ ओरल दवाओं का सेवन कर सकते हैं। हालांकि, बीमारी की गंभीरता के आधार पर आपको सर्जरी जैसे अन्य उपचारों की ज़रूरत भी पड़ सकती है।

सर्जरी

Surgery

अगर ओरल दवाओं से मरीज को कोई फायदा नहीं हो रहा है, तो सर्जरी उनके लिए एक अन्य विकल्प हो सकती है। आमतौर पर सर्जरी के कई अलग-अलग प्रकार होते हैं, जिनमें गैस्ट्रिक बाईपास भी शामिल है। इस तरह की सर्जरी से भूख को कम किया जाता है, जिसकी वजह से मरीज कम खाते हैं। सर्जरी की प्रक्रिया में आंतों के ज़रिए भोजन की मात्रा को किया जाता है और गैस्ट्रिक बैंडिंग पेट के आकार को कम करने में मदद करती है।

टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों के लिए सर्जरी हमेशा एक विकल्प नहीं होता है। ऐसा इसलिए है, इससे यह बताना मुश्किल हो सकता है कि आप सर्जरी के बिना बेहतर हैं या नहीं। अगर आपकी बीमारी बहुत ज़्यादा गंभीर है, तो आपको सर्जरी की ज़रूरत हो सकती है।

निष्कर्ष – Nishkarsh

लेख के माध्यम से आप डायबिटीज के लिए प्राकृतिक उपचारों से जुड़ी ज़रूरी बातें जान सकते हैं। इसके लिए आपको ज़्यादा से ज़्यादा सब्जियां और फल खाने की सलाह दी जाती है। यह एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं, जो शरीर में सूजन को कम करने में आपकी मदद करते हैं। कुछ अन्य सुझावों में डिहाइड्रेशन से बचने या पर्याप्त व्यायाम करने के लिए ज़्यादा मात्रा में पानी पीना शामिल है। इससे भोजन सेवन के बाद इंसुलिन का स्तर बहुत ज़्यादा बढ़ने से रोका जा सकता है। विशेषज्ञों द्वारा आपको ज़्यादा शर्करा वाले ठंडे पेय, मिठाई और खाद्य पदार्थों से बचने का सुझाव भी दिया जाता है,

ऐसा इसलिए किया जाता है, क्योंकि इन खाद्य या पेय पदार्थों में शामिल शर्करा के नियमित तौर पर सेवन से समय के साथ आपका डायबिटीज विकसित करने का जोखिम बढ़ सकता है। ऐसे में सुनिश्चित करें कि आप भरपूर नींद लें, ताकि आपके दिमाग को इस सारी जानकारी को पचाने के लिए उचित समय मिल सके। इन बातों को ध्यान में रखने के साथ ही तनाव प्रबंधन से संबंधित तकनीकों का नियमित तौर पर पालन करें। डायबिटीज से जुड़ी समस्याओं या किसी भी जानकारी के लिए मंत्रा केयर के हमारे अनुभवी विशेषज्ञों से संपर्क करना सुनिश्चित करें।

मंत्रा केयर – Mantra Care

अगर आप इस विषय से जुड़ी या डायबिटीज़ उपचारऑनलाइन थेरेपीहाइपटेंशन, पीसीओएस उपचार, वजन घटाने और फिजियोथेरेपी पर ज़्यादा जानकारी चाहते हैं, तो मंत्रा केयर की ऑफिशियल वेबसाइट mantracare.org पर जाएं या हमसे +91-9711118331 पर संपर्क करें। आप हमें [email protected] पर मेल भी कर सकते हैं। आप हमारा फ्री एंड्रॉइड ऐप या आईओएस ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं।

मंत्रा केयर में हमारी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों और कोचों की एक कुशल और अनुभवी टीम है। यह टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने और परेशानी से संबंधित ज़्यादा जानकारी देने के लिए हमेशा तैयार है। इससे आपको अपनी ज़रूरतों के हिसाब से सबसे अच्छे इलाज के बारे में जानने में मदद मिलती है।

Leave a Comment

Try MantraCare Wellness Program free